Submit your post

Follow Us

नेशनल हेराल्ड ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले की आलोचना के बाद माफी मांग ली

9 नवंबर, 2019. सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की पीठ ने अयोध्या विवाद पर अंतिम फैसला सुनाया. पहले तो कोर्ट ने अपने विवादित भूमि पर सुन्नी वक्फ बोर्ड का दावा खारिज किया और कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ ज़मीन कहीं और दी जाए. सुप्रीम कोर्ट ने निर्मोही अखाड़े का दावा भी खारिज किया और कहा कि ज़मीन पर निर्मोही अखाड़े का कोई हक नहीं बनता है. इसी के साथ अदालत ने विवादित ज़मीन पर रामलला विराजमान का दावा मान लिया. कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया कि सरकार तीन महीने के अंदर एक ट्रस्ट बनाए और मंदिर बनाने की योजना तैयार करें.

इस फैसले के बाद नेशनल हेराल्ड अखबार की तरफ से एक लेख ट्वीट किया गया. ये न्यूजपेपर में नहीं था. ऑनलाइन आया था. इसमें उन्होंने एक कार्टून बनाया था. जिसमें एक लाइन लिखी थी- ‘जिसकी लाठी उसकी भैंस’. और आर्टिकल के कैप्शन में लिखा था-

ताकत, हिंसा और रक्तपात के बूते बनाए गए मंदिर में भगवान रह सकते हैं? अगर भगवान वहां रहने का फैसला करते भी हैं, तब क्या ऐसे मंदिर में प्रार्थना हो सकती है?

नेशनल हेराल्ड ने ये आर्टिकल लिखा और बाद में बवाल होने पर डिलीट कर दिया.
नेशनल हेराल्ड ने ये आर्टिकल ट्वीट किया और बाद में बवाल होने पर डिलीट कर दिया.

जब लोगों ने नेशनल हेराल्ड को ट्रोल करना शुरू किया, तो अखबार ने माफी मांग ली. अखबार का कहना है कि अगर लेख से किसी व्यक्ति या समूह की भावनाओं को ठेस पहुंची हो तो उसके लिए माफी. उनकी किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाने की मंशा नहीं थी. बल्कि लेख में लेखक ने अपने निजी विचार लिखे थे. बता दें कि नेशनल हेराल्ड ने लेख को हटा दिया है.

10 नवंबर को भाजपा ने नेशनल हेराल्ड के लेख और करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के वक्त सिद्धू के वक्तव्य पर प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसमें भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने भारतीय के उच्च न्यायालय की पाकिस्तान के उच्च न्यायालय से तुलना की निंदा की.


वीडियो देखें : अरविंद केजरीवाल, मायावती, कांग्रेस सहित विपक्ष के लोगों ने अयोध्या फैसले पर क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोना को हलके में लेने वालो, इटली के इस बंदे की बात सुन लो, अकल ठिकाने आ जाएगी

कोरोना पर इटली की गलतियों से भारत को ये सीखना चाहिए.

देश में कोरोना वायरस से मौत का एक और केस, इस बार नया राज्य शिकार हुआ

जिनकी मौत हुई, उन्होंने हाल ही में कतर और कोलकाता ट्रैवल किया था.

कनिका कोरोना से और डॉक्टर कनिका से परेशान!

लखनऊ PGI डॉयरेक्टर ने कहा- नखरे दिखा रही हैं, कनिका बोली- ढंग का खाना नहीं मिल रहा

कोरोना वायरस की वजह से कई जगहों पर लॉकडाउन, पर ये है क्या और इस दौरान क्या करना चाहिए?

चीन ने तो लॉकडाउन करके कोरोना को हरा दिया.

कोरोना से निपटने की तैयारी: 35 लाख मजदूरों के खाते में पैसा डालेगी योगी सरकार

सीएम योगी ने मनरेगा, पेंशन और अनाज से जुड़े ऐलान किए गए हैं.

निर्भया के चारों दोषियों को फांसी हुई, फिर मां आशा देवी ने क्यों कहा कि लड़ाई जारी रहेगी?

तिहाड़ जेल के इतिहास में पहली बार एकसाथ चार को फांसी.

कोरोना वायरस : प्रधानमंत्री मोदी ने देशवासियों से एक दिन के लिए 'जनता कर्फ्यू' की अपील की

देश के नाम संबोधन में पीएम ने और क्या-क्या कहा?

बिहार में अब तक कोरोना वायरस का एक भी केस क्यों नहीं मिला?

क्या लेट से टेस्ट होना इसका प्रमुख कारण है?

नेता जी जीते कांग्रेस से, मंत्री बने बीजेपी से, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- अइसे कइसे!

मणिपुर के टी श्यामकुमार की पालाबदल पॉलिटिक्स.

निर्भया गैंगरेप: पवन ने फांसी की सज़ा को उम्रकैद में बदलने की मांग की थी, सुप्रीम कोर्ट ने 'ना' बोल दिया

पवन ने याचिका में कहा था कि गैंगरेप की घटना के वक्त वो नाबालिग था.