Submit your post

Follow Us

'मैं लेस्बियन हूं'

129
शेयर्स

‘मैं लेस्बियन हूं.’

टेकनीकली ये वाक्य निरापद है. एक इंसान कह रहा है कि वो दूसरे से प्यार करता है. लेस्बियन शब्द से बस इतना पता चलता है कि ये दोनों इंसान लड़कियां हैं. ये कोई अपराध नहीं है. बावजूद इसके, लोगों की नज़रें ये शब्द सुनके तिरछी हो जाती हैं. लोग इसे शर्म से जोड़ते हैं. कितनी शर्म, ये बताने की ज़रूरत नहीं है. और इस माहौल में कोलकाता के एक स्कूल में 10 लड़कियों से लिखित में ये ‘कंफेशन’ मांगा गया कि वो लेस्बियन हैं. कारण ये बताया गया कि ये इन लड़कियों को ‘सही राह पर’ लाने की कोशिश थी.

इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक खबर के मुताबिक स्कूल से जुड़े एक अधिकारी ने ये कहा कि ये लड़कियों क्लास में ‘नॉटी’ हो रही थीं तो उन्हें स्कूल की हेडमिस्ट्रेस ने ऑफिस बुला लिया और कंफेशन लिखवाया. ये उन्हें अनुशासित करने की एक ‘सामान्य’ सी कोशिश थी. इन लड़कियों के माता-पिता को भी चर्चा के लिए बुलाया गया था. विवाद होने पर ये लिखित कंफेशन लड़कियों के मां-बाप को लौटा भी दिए गए थे.

भारत में एलजीबीटी अधिकारों के लिए आज भी सही माहौल तैयार नहीं हो पाया है. (फोटोः रॉयटर्स)
भारत में एलजीबीटी अधिकारों के लिए आज भी सही माहौल तैयार नहीं हो पाया है. (फोटोः रॉयटर्स)

लेकिन समाचार एजेंसी IANS को दिए अपने बयान में हेडमिस्ट्रेस शिखा सरकार ने ऐसा कुछ नहीं कहा जिससे ये प्रतीत हो कि उनसे कुछ गलत हुआ है. वो लड़कियों को ‘सही रास्ते’ पर लाने वाले अपने बयान पर टिकी हुई हैं.

लेस्बियन होने या इस बात को स्वीकारने में कुछ गलत नहीं है. लेकिन किसी की ओर झुकाव या प्यार एक बेहद निजी मसला होता है. इससे जुड़ी बातें जब सार्वजनिक रूप से उछाली जाती हैं तो आहत होना लाज़मी है. स्कूल एक ऐसा समय होता है जब बच्चों का मन गीली मिट्टी की तरह होता है. उसपर आसानी से छाप पड़ जाती है. वो लड़कियां पहले ही अपने इर्द-गिर्द फैली भ्रांतियों के चलते किसी अपराधबोध में होंगी. अब जब उनसे एक कंफेशन लिखवा लिया गया है उनके मन पर ये पूरा अनुभव एक ट्रॉमा बनकर दर्ज हो गया होगा और एक बिलकुल सामान्य चीज़ उन्हें अब गंदी लगने लगी होगी.

इस पूरे वाकये में सिर्फ एक चीज़ कुछ राहत देने वाली थी. वो ये कि इन लड़कियों के माता-पिता हैरेसमेंट की इस घटना पर चुप नहीं बैठे. वो स्कूल गए और इस बात पर विरोध जताया. कोलकाता का एक एनजीओ भी स्कूल के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कर रहा है.


ये भी पढ़ेंः

गे सेक्स को अप्राकृतिक कहने वालों को इन बंदरों के बारे में पढ़ लेना चाहिए

LGBTQ के खून देने पर लगाया बैन NACO की बीमारी की ओर इशारा करता है

समलैंगिक प्रोफेसर को ये कहकर निकाल दिया गया कि स्टूडेंट्स ‘विचलित’ हो रहे थे

12 साल का बच्चा सैकड़ों LGBT-विरोधियों के सामने अड़ गया

LGBTQ 1: अब दोस्त को ‘गां*’ नहीं कहता

 वीडियोः’गेट आउट’: शॉकिंग, विषैली और भयानक फिल्म जो बहुत सही समय पर आई है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ

दफ़्तर में घुसकर महिला तहसीलदार पर पेट्रोल छिड़का, फिर आग लगाकर ज़िंदा जला दिया

इस सबके पीछे एक ज़मीन विवाद की वजह बताई जा रही है. जिसने आग लगाई, वो ख़ुद भी झुलसा.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

पुलिस और वकील इस झड़प की अलग-अलग कहानी बता रहे हैं.

US ने जारी किया विडियो, देखिए कैसे लादेन स्टाइल में किया गया बगदादी वाला ऑपरेशन

अमेरिका ने इस ऑपरेशन से जुड़े तीन विडियो जारी किए हैं.

लल्लनटॉप कहानी लिखिए और एक लाख रुपये का इनाम जीतिए

लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन लौट आया है. आपका लल्लनटॉप अड्डे पर पहुंचने का वक्त आ गया है.

अमेठी: पुलिस हिरासत में आरोपी की मौत, 15 पुलिसवालों के खिलाफ केस दर्ज

मौत कैसे हुई? मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं.

PMC खाताधारकों ने बीजेपी नेता को घेरा, तो पुलिस ने उन्हें बचाकर निकाला

RBI के साथ मीटिंग करने पहुंचे थे.

इस विदेशी सांसद को कश्मीर आने का न्योता दिया फिर कैंसल कर दिया, वजह हैरान करने वाली है

सांसद ने ऐसी शर्त रख दी थी कि विदेशी डेलिगेशन का हिस्सा नहीं बन पाए.

आज ही के दिन यूरोपियन यूनियन के सांसद कश्मीर क्यों पहुंचे? महबूबा मुफ्ती की बेटी ने बताया

आर्टिकल 370 में बदलाव के बाद कश्मीर के हालात का जायजा लेने पहुंचा है 27 सांसदों का दल

BJP नेता से स्कूल ड्रेस ना लेने पर स्कूल टीचर की नौकरी चली गयी!

और बच्चे टीचर को वापिस बुलाने के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं.