Submit your post

Follow Us

IPL शुरू करने में 'चाय पर चर्चा' का ये योगदान आपको शायद ही पता होगा

इंडियन प्रीमियर लीग. दुनिया की सबसे मशहूर और सबसे बड़ी T20 लीग. इस लीग को पूरी दुनिया में देखा जाता है. लीग की लोकप्रियता का आलम ये है कि लोग इंतजार करते हैं कि ये कब शुरू हो. वैसे इसके शुरू होने का इंतजार तो पूरी दुनिया के क्रिकेटर्स को भी रहता है. वैसे क्रिकेटर्स लीग के अलावा एक और चीज का इंतजार करते हैं- IPL ऑक्शन.

क्रिकेट की दुनिया के सबसे बड़े ऑक्शन में बिकने के लिए दुनियाभर के क्रिकेटर बेकरार रहते हैं. इन ऑक्शन को टूर्नामेंट जितना ही महत्व मिलता है. ऑक्शन के सीधे प्रसारण को सिर्फ भारत में ही लाखों लोग देखते हैं. ऑक्शन में अपना नाम देने वाले क्रिकेटर्स के इंट्रेस्ट को तो पूछिए ही मत. टीवी के आगे चिपके रहकर अपनी बारी का इंतजार करना उनके लिए आसान नहीं होता.

# किसने दिया आइडिया?

तमाम लोग सोचते हैं कि आखिर ये किसका आइडिया था, किसने सोचा होगा कि प्लेयर्स को इस तरह खरीद-बेचा जा सकता है. हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान IPL के पूर्व चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (COO) सुंदर रमन ने इस बात का खुलासा किया है.

रमन ने गौरव कपूर के साथ बातचीत के दौरान कहा,

‘प्लेयर्स ऑक्शन की बात ऐसे ही चाय पर चर्चा के दौरान सामने आई. हमने फ्रेंचाइजी बेच ली थी, वेन्यू कंफर्म कर लिए थे, अब बस प्लेयर्स बांटने का काम बाकी था. सिर्फ मार्की प्लेयर्स तय थे. मुंबई के लिए सचिन तेंडुलकर, दिल्ली के लिए विरेंदर सहवाग, पंजाब के लिए युवराज सिंह, कोलकाता के लिए सौरव गांगुली, लेकिन महेंद्र सिंह धोनी के लिए कोई टीम फिक्स नहीं थी.

इस दौर में होने वाली ऐसी बैठकों के दौरान चर्चा के मुख्य विषयों में यह सवाल भी होता था कि हम प्लेयर्स को फ्रेंचाइजी तक कैसे भेजेंगे? तभी एक फ्रेंचाइजी, जिसका नाम मुझे नहीं याद, उनके किसी बंदे ने कहा- हम उनका ऑक्शन क्यों नहीं करते? दो मिनट तक विचार करने के बाद मैंने कहा- अच्छा आइडिया है, इससे काफी सारा इंट्रेस्ट भी आएगा.’

IPL का 13वां एडिशन इस साल मार्च से मई तक होना था. लेकिन कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते इसे अभी तक शुरू नहीं कराया जा सका है.


T20वर्ल्ड कप की जगह क्या होगा, भारत-पाकिस्तान का मैच या IPL?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोना का ट्रायल वैक्सीन लेने वाले हरियाणा के मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए

कोरोना का ट्रायल वैक्सीन लेने वाले हरियाणा के मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए

कोरोना की वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के दौरान टीका लगाया गया था.

उइगर मुस्लिम ने बताया, 'चीन में हमें ज़बरदस्ती सूअर का मांस खिलाया जाता था'

उइगर मुस्लिम ने बताया, 'चीन में हमें ज़बरदस्ती सूअर का मांस खिलाया जाता था'

नसबंदी न करवाने पर उइगर मुस्लिमों के साथ क्या होता है?

सरकार और किसानों के बीच साढ़े सात घंटे तक चली बैठक में क्या नतीजा निकला, जान लीजिए

सरकार और किसानों के बीच साढ़े सात घंटे तक चली बैठक में क्या नतीजा निकला, जान लीजिए

कृषि मंत्री ने बताया, सरकार किन-किन बातों पर राजी हो गई है

दुनिया को मिली पहली 'भरोसेमंद' कोरोना वैक्सीन, अगले हफ्ते से लगेंगे टीके

दुनिया को मिली पहली 'भरोसेमंद' कोरोना वैक्सीन, अगले हफ्ते से लगेंगे टीके

ब्रिटेन पहला पश्चिमी देश है, जहां कोविड-19 वैक्सीन को हरी झंडी दी गई है

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज लोकुर ने कहा, जबरन धर्मांतरण पर यूपी का क़ानून लोगों की आजादी के खिलाफ़ है

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज लोकुर ने कहा, जबरन धर्मांतरण पर यूपी का क़ानून लोगों की आजादी के खिलाफ़ है

UAPA और दिल्ली दंगों पर जस्टिस लोकुर ने क्या कहा?

वो गेंद स्टंप पर नहीं मारता था, खुद लपक कर स्टंप बिखेर देता था

वो गेंद स्टंप पर नहीं मारता था, खुद लपक कर स्टंप बिखेर देता था

मोहम्मद कैफ़ का आज जन्मदिन है. इस बहाने आज उनकी फील्डिंग के चंद किस्से.

पिता ने चिट्ठी लिखकर गंभीर इल्ज़ाम लगाए तो शेहला राशिद ने क्या कहा?

पिता ने चिट्ठी लिखकर गंभीर इल्ज़ाम लगाए तो शेहला राशिद ने क्या कहा?

चिट्ठी में कहा कि शेहला घर में एंटी-नेशनल काम कर रही हैं.

दिल्ली दंगा : वीडियो सबूत होने के बाद भी पुलिस ने जांच नहीं की, कोर्ट ने दिया FIR का ऑर्डर

दिल्ली दंगा : वीडियो सबूत होने के बाद भी पुलिस ने जांच नहीं की, कोर्ट ने दिया FIR का ऑर्डर

सलीम की शिकायत, 'सुभाष और अशोक ने मेरे घर पर हमला किया'

कृषि बिलों पर वोटिंग के दौरान किसके कहने पर सांसदों के माइक बंद किए गए थे?

कृषि बिलों पर वोटिंग के दौरान किसके कहने पर सांसदों के माइक बंद किए गए थे?

बहुत हंगामा हुआ था, अब कहानी सामने आयी.

देश की आर्थिक सेहत बताने वाले GDP के आंकड़े आ गए हैं. ये डराने वाले हैं और उम्मीद जगाने वाले भी

देश की आर्थिक सेहत बताने वाले GDP के आंकड़े आ गए हैं. ये डराने वाले हैं और उम्मीद जगाने वाले भी

इस वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के जीडीपी आंकड़े क्या बताते हैं, जान लीजिए