Submit your post

Follow Us

महिला नक्सलियों ने जवानों के गुप्तांग काटे, सुकमा हमले की दिल दहलाने वाली डिटेल्स

छत्तीसगढ़ के सुकमा हमले में शहीद हुए जवानों के बारे में एक जानकारी सामने आई है जो रोंगटे खड़े करती है. जिन 26 जवानों की लाश मिली है, उनमें से 6 जवानों के गुप्तांग कटे थे. दैनिक जागरण के मुताबिक महिला नक्सलियों ने जवानों के गुप्तांग काट दिए.

नक्सलियों का ये हमला सीआरपीएफ की 74वीं बटालियन पर 24 अप्रैल को उस वक़्त हुआ जब वो खाने के लिए बैठे थे. घटना के वक्त मौजूद जवान मनोज कुमार का कहना है कि बुरकापाल कैंप से जवानों की टीम बुरकापाल और चिंतागुफा के बीच बन रही सड़क की निगरानी के लिए निकली थी. रास्ते में लाल साड़ी पहने कुछ ग्रामीण महिलाएं तेंदूपत्ता और आम तोड़ती हुई नजर आईं. महिलाएं गांव की नहीं थीं, इसलिए सिक्योरिटी फ़ोर्स को उन पर शक हुआ था. मनोज के मुताबिक इन्हीं महिलाओं ने जवानों की लोकेशन हमलावरों को दी.

sukma
घायल जवानों की तस्वीरें

दो घंटे तक चलता रहा खूनी खेल

फायरिंग करीब एक बजे शुरू हुई. ये खूनी खेल करीब दो घंटे चला. 300 से ज्यादा नक्सलियों ने जवानों को घेरा था. खबरें हैं कि हमला करने वालों में तकरीबन एक तिहाई महिलाएं थीं.

नक्सली एक हमले में जवानों के सिर भी धड़ से अलग कर चुके हैं

साल 2007 की बात है.  छत्तीसगढ़ के ही बीजापुर जिले के रानीबोदली में पुलिस कैंप पर नक्सलियों ने हमला किया था. इस हमले में 55 जवान और एसपीओ शहीद हुए थे. इस हमले में जवानों की लाश से अमानवीयता हुई थी. नक्सलियों ने कुछ जवानों के सिर धड़ से अलग कर दिए थे.

25 मई 2013 को इसी राज्य के जीरम घाटी में टाहकवाड़ा मुठभेड़ में कई जवान शहीद हुए थे. तब नक्सलियों ने जवानों की लाशों को धारदार हथियारों से गोद दिया था. शहीद जवान के शव में बम लगाने की बात भी सामने आई थी.

पेड़ पर चढ़कर नक्सलियों ने चलाई गोलियां और तीर बम

सुकमा हमले में जवान खाने के लिए ही बैठे थे, तभी नक्सलियों ने धावा बोल दिया. घेरकर तीन तरफ से गोलियां चलनी शुरू हो गईं. जवानों ने जवाब में हाई एक्सप्लोसिव बम भी दागे. पर कई नक्सली पेड़ पर चढ़े हुए थे. 15 फीट की ऊंचाई से जवानों पर गोलियां दागी जा रही थीं. कई जवान ज़ख़्मी भी हुए हैं. इस हमले में 10-12 नक्सली मारे जाने की भी खबर है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जिस जगह हमला हुआ, उस जगह कारतूस के खोखे तो सब जगह बिखरे नजर ही आए. वहां फटे हुए और बिना फटे तीर बम भी मिले हैं. 11 मार्च को कोत्ताचेरू में जब नक्सलियों ने हमला किया था तो उसमें भी तीर बम का इस्तेमाल किया गया था. इस हमले में 12 जवान शहीद हो गए थे. नक्सली तीर बम, तीर के अगले हिस्से में आइईडी लगा कर बनाते हैं. जब तीर चलाया जाता है तो ये लगते ही फट जाता है.

इतने हथियार लूट ले गए कि एक प्लाटून तैयार कर लेंगे

सुकमा हमले में नक्सलवादियों ने यूबीजीएल यानी अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर से 10 हाई एक्सप्लोसिव बम दागे हैं. कहा जा रहा है कि ये यूबीजीएल नक्सलवादियों ने पिछले महीने कोत्ताचेरू में सीआरपीएफ जवानों से ही लूटी थी. इस स्मार्ट और आधुनिक हथियार का इस्तेमाल सिक्योरिटी फ़ोर्स भी करती है.

नक्सलवादी इस हमले में भी हथियार लूट ले गए. नक्सली 13 AK-47 लूट ले गए हैं, इनमें से पांच में यूबीजीएल फिट है. इसके अलावा 4 एकेएम, दो एलएमजी, तीन इन्सास राइफल, 5 वायरलेस सेट, 22 बुलेटप्रूफ जैकेट, दो दूरबीन लूट ले गए हैं. इतना ही नहीं वो लोग AK-47 की 59 मैगजीन, एकेएम की 16, एलएमजी की 16, इन्सास राइफल की 15 गोलियों के अलावा AK-47 और एकेएम के 2820 राउंड, इन्सास के 600 राउंड अपने साथ ले गए. 62 गोलियां ग्रेनेड लॉन्चर की भी लूट ले गए.

ये इतना जखीरा है कि इससे एक मज़बूत प्लाटून तैयार की जा सकती है. सबसे ज्यादा खतरनाक यूबीजीएल है. इससे उनकी ताकत बढ़ जाएगी. जिससे वो सिक्योरिटी फ़ोर्स और पुलिस चौकियों को निशाना बना सकते हैं.

पिछले महीने हुए हमले में 12 जवान शहीद हुए थे

सुकमा में ये कोई पहला हमला नहीं था. 11 मार्च 2017 को जब नक्सलियों ने सीआरपीएफ जवानों पर हमला किया था तो उसमें 12 जवान शहीद हो गए थे. ये हमला उस वक़्त हुआ था जब सीआरपीएफ की 219वीं बटालियन के जवान रोड ओपनिंग टास्क के लिए जा रहे थे. इसमें भी उन्होंने काफी हथियार लूटे थे. कुछ दिन पहले नक्सिलयों ने सुकमा में ही एक सरपंच की हत्या की थी. माना जा रहा है कि ये हत्या अगले हमले का हिंट दे रही थी. पर इंटेलिजेंस इसको पकड़ नहीं पाया. इससे पहले जो बड़ा हमला हुआ था वो साल 2010 में दंतेवाड़ा में हुआ था. ये बहुत बड़ा हमला था जिसमें करीब 76 जवान शहीद हो गए थे.


ये भी पढ़िए : 

क्या माओवादियों से सीआरपीएफ ही जूझेगी, सरकार क्यों नहीं ये चीजें बदल रही है

एक और चर्चित एक्टिविस्ट राजनीति का रुख कर रहा है

जब आप चुनाव रुझान देख रहे थे, दो साल में सबसे बड़ा नक्सली हमला हो गया

बस्तर के जंगल में होती हैं सबसे ज्यादा हत्याएं लेकिन असल जंगली शहरों में बसते हैं!

सौ से ज्यादा जवानों को मारने वाले मियां बीवी कर दिए सरेंडर

दो खतरनाक औरतें, जिनके पीछे महीनों से पड़ी थी पुलिस और CRPF

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

बॉलीवुड की 'ट्रेजडी क्वीन' कही जाने वाली एक्ट्रेस पर बनेगी वेब सीरीज़

मीना कुमारी पर लिखी गई बायोग्राफी से प्रेरित होगी ये वेब सीरीज़.

इस तरह साफ होगा, IPL के पहले दिन से वॉर्नर-स्टोक्स जैसे दिग्गजों के खेलने का रास्ता

RCB ने बताया, कब आएंगे डिविलियर्स.

धोनी के हेयरस्टाइल पर क्या बोले पीएम मोदी, क्यों बताया उन्हें 'न्यू इंडिया' की पहचान?

पीएम मोदी ने धोनी को लिखी दो पन्नों की चिट्ठी में क्या कुछ नहीं लिखा.

दबाव पड़ा, तो इंस्टा ने हिंदुस्तानी भाऊ को बोला- 'चल पहली फुर्सत में निकल'

इंस्टाग्राम ने हिंदुस्तानी भाऊ का इंस्टाग्राम अकाउंट सस्पेंड कर दिया है.

प्रशांत के पक्ष में पूर्व जजों का समर्थन गिनाया तो SC ने कहा- प्लीज़, इस पर हमसे कुछ न कहलवाइए

अवमानना मामले में सजा पर सुनवाई के दौरान जस्टिस अरुण मिश्रा और सीनियर एडवोकेट राजीव धवन में कुछ ऐसे हुई तीखी बहस

सुरेश रैना ने धोनी और अपनी दोस्ती पर कमाल की बात कह दी

CSK फैंस तो इस बात से पक्का सहमत होंगे.

जयपुर में मिट्टी खोदने पर गाड़ियां निकल रही हैं, लेकिन ये सरकार की नई स्कीम नहीं है!

सरकार तो इंतज़ार कर रही है ख़रीदार का.

संजय दत्त के लिए इरफान के बेटे ने वो बात कह दी, जो हर फैन कहना चाहता था

संजय दत्त की तबीयत ठीक नहीं है. उन्होंने इलाज के लिए काम से ब्रेक लिया है.

महात्मा गांधी का जिक्र कर प्रशांत भूषण सुप्रीम कोर्ट से बोले- मैं रहम नहीं मांगूंगा

कहा- अदालत ने मुझे गलत समझा, इसका दुख है, लेकिन मैंने अपना कर्तव्य निभाया था.

सोनाक्षी सिन्हा ने कहा, 'ऑनलाइन ट्रोलिंग बढ़ी क्योंकि लॉकडाउन में लोगों के पास करने को कुछ नहीं'

ट्रोलिंग की तगड़ी विक्टिम रह चुकी हैं सोनाक्षी.