Submit your post

Follow Us

सिल्वर या गोल्ड में बदला बॉक्सर लवलीना बोर्गोहेन का मेडल?

Tokyo Olympics 2020 में भारतीय टीम के नाम एक और मेडल आ गया है. भारतीय विमिन बॉक्सर लवलीना बोर्गोहेन ने अपना सेमीफ़ाइनल मुक़ाबला हारकर ब्रॉन्ज़ मेडल अपने नाम किया. 69kg कैटेगरी के सेमीफाइनल मैच में लवलीना को तुर्की की बुसेनाज़ सुरमेनेली ने 0-5 से हराया.  लवलीना अगर इस मैच में जीत जातीं तो वह फाइनल में पहुंच जातीं.

हालांकि वह सेमीफाइनल से आगे नहीं जा पाईं, जहां 23 वर्षीय लवलीना का मुक़ाबला वर्ल्ड चैंपियन बुसेनाज़ सुरमेनेली से था. बुसेनाज़ मैच में लवलीना से बेहतर साबित हुईं. तीनों ही राउंड में तुर्की की बॉक्सर ज्यादा हावी नजर आईं और इसी के चलते वे जजों के एकतरफा मत से मैच को जीतने में कामयाब रहीं. पांचो जजों ने एकमत होकर सुरमेनेली को ही विजेता घोषित किया.

लवलीना की बात करें तो यह उनका पहला ओलंपिक्स है, और अपने डेब्यू ओलंपिक्स में ही एक मेडल जीत लेना वाकई बहुत बड़ी उपलब्धि है. इस मेडल को जीत लवलीना ओलंपिक्स में भारत के लिए मेडल जीतने वाली तीसरी भारतीय बन गईं है. इससे पहले साल 2008 के ओलंपिक्स में विजेंदर सिंह और 2012 के ओलंपिक्स में मैरी कॉम ने बॉक्सिंग में मेडल जीते हैं.

4 अगस्त को खेले गए इस सेमीफाइनल मैच में लोगों को कड़ी टक्कर की उम्मीद थी. शुरुआत में दोनों बॉक्सर्स बराबर के लगे भी लेकिन पहले राउंड के अंत तक आते-आते बुसेनाज़ ने अपना गियर बदलना शुरू किया. वे आक्रामक अंदाज में खेलने लगीं और भारतीय बॉक्सर पर हावी पड़ने लगीं. उन्होंने बाएं हाथ से कुछ बेहतरीन पंच लवलीना को लगाए और पहले राउंड के बाद सभी पांचों जजों ने फैसला सुरमेनेली के पक्ष में सुना दिया. सुरमेनेली को सभी जजों से 10-10 अंक मिले तो लवलीना को 9-9 अंकों से संतोष करना पड़ा.

दूसरे राउंड में लवलीना थोड़ी और आक्रामक होकर खेलने लगीं लेकिन इसका फायदा भी तुर्की की बॉक्सर ने उठाया. आक्रामक खेलने के चक्कर में लवलीना का डिफेंस थोड़ा कमजोर पड़ा. सुरमेनेली ने सही टाइमिंग के साथ कुछ अच्छे पंच लगाए और दूसरा राउंड भी जजों की सर्वसहमति से जीत लिया.  तीसरा राउंड भी पहले दो की तरह ही रहा और उसमे भी जजों ने सुरमेनेली  विजेता बताया. इस तरह सुरमेनेली ने मैच 5-0 से जीत लिया.


यह स्टोरी हमारे साथ इंटर्नशिप कर रहे प्रवीण नेहरा ने लिखी है.


टोक्यो ओलंपिक्स 2020:हॉकी के अलावा रेसलिंग और जेवलिन थ्रो में क्या हुआ?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

रूस की यूनिवर्सिटी में अंधाधुंध गोलीबारी, 8 की मौत, आरोपी की उम्र हैरान कर देगी

रूस की यूनिवर्सिटी में अंधाधुंध गोलीबारी, 8 की मौत, आरोपी की उम्र हैरान कर देगी

इस यूनिवर्सिटी में भारत के भी कई छात्र पढ़ते हैं.

डेढ़ महीने पहले राजनीति छोड़ने का ऐलान करने वाले बाबुल सुप्रियो ने TMC जॉइन की

डेढ़ महीने पहले राजनीति छोड़ने का ऐलान करने वाले बाबुल सुप्रियो ने TMC जॉइन की

केंद्रीय मंत्री पद से हटाए जाने के बाद भाजपा छोड़ी थी.

मनोज पाटिल सुसाइड अटेम्प्ट केस: साहिल खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, कहा नकली स्टेरॉयड्स का रैकेट

मनोज पाटिल सुसाइड अटेम्प्ट केस: साहिल खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, कहा नकली स्टेरॉयड्स का रैकेट

कहानी में एक और किरदार सामने आया है, राज फौजदार.

राजस्थान में अब सब-इंस्पेक्टर परीक्षा का पेपर लीक, वॉट्सऐप बना जरिया

राजस्थान में अब सब-इंस्पेक्टर परीक्षा का पेपर लीक, वॉट्सऐप बना जरिया

पुलिस ने बीकानेर, जयपुर, पाली और उदयपुर से 17 लोगों को गिरफ्तार किया है.

क्या पाकिस्तान यूपी चुनाव में आतंकी हमले कराने की तैयारी में है?

क्या पाकिस्तान यूपी चुनाव में आतंकी हमले कराने की तैयारी में है?

दिल्ली पुलिस ने 6 संदिग्धों को गिरफ्तार कर कई दावे किए हैं.

नसीरुद्दीन शाह ने योगी आदित्यनाथ के 'अब्बा जान' वाले बयान पर बड़ी बात कह दी है!

नसीरुद्दीन शाह ने योगी आदित्यनाथ के 'अब्बा जान' वाले बयान पर बड़ी बात कह दी है!

नसीर ने ये भी कहा कि कई मुस्लिम अपने पिता को बाबा भी कहते हैं.

AIMIM के पूर्व नेता पर FIR, दोस्त के साथ हलाला कराने की कोशिश का आरोप

AIMIM के पूर्व नेता पर FIR, दोस्त के साथ हलाला कराने की कोशिश का आरोप

पूर्व पत्नी ने लगाया रेप के प्रयास का आरोप, AIMIM नेता ने कहा- बेबुनियाद.

75 साल बाद नर्सिंग के पाठ्यक्रम में किए गए बड़े बदलाव हैं क्या?

75 साल बाद नर्सिंग के पाठ्यक्रम में किए गए बड़े बदलाव हैं क्या?

ये बदलाव जनवरी 2022 से लागू होंगे.

पश्चिम बंगाल के पूर्व CM बुद्धदेव भट्टाचार्य की साली बेघर हैं, फुटपाथ पर सोती हैं

पश्चिम बंगाल के पूर्व CM बुद्धदेव भट्टाचार्य की साली बेघर हैं, फुटपाथ पर सोती हैं

इरा बसु वायरोलॉजी में PhD हैं और 30 साल से भी ज्यादा समय तक पढ़ाया है.

'माओवादी' बताकर CRPF ने 8 आदिवासियों का एनकाउंटर किया था, 8 साल बाद ये 'एक भूल' साबित हुई है

'माओवादी' बताकर CRPF ने 8 आदिवासियों का एनकाउंटर किया था, 8 साल बाद ये 'एक भूल' साबित हुई है

यहां तक कि CRPF कान्स्टेबल की मौत भी फ्रेंडली फायर में हुई थी!