Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

सत्यजीत राय ने जब वहीदा रहमान को अपनी फिल्म ऑफर की तो उनका जवाब क्या था?

138
शेयर्स

बंगाल मूल के सत्यजीत राय विश्व के महान फिल्मकारों में निर्विवाद रूप से गिने जाते हैं. उन्होंने जिंदगी में अधिकतर बंगाली भाषा में ही फिल्में बनाईं लेकिन प्रतिष्ठा के मामले में उनकी फिल्में हिंदी भाषा की कमर्शियल बॉलीवुड फिल्मों से बहुत ऊपर रखी जाती थीं. जानते हैं वो किस्सा जब बॉलीवुड की सुपरस्टार एक्ट्रेस वहीदा रहमान को जब बंगाल के इस ‘क्षेत्रीय’ डायरेक्टर ने अपनी छोटी सी फिल्म करने के लिए विनम्र होकर फोन किया, तो वहीदा का क्या जवाब था.

दरअसल, 1962 में रिलीज हुई सत्यजीत राय की फ़िल्म ‘अभिजान’ में वहीदा रहमान ने गुलाबी का रोल किया था. ये फ़िल्म वहीदा ने तब चुनी जब वो ‘प्यासा’ (1957), ‘काग़ज के फूल’ (1959)और ‘चौदहवीं का चांद’ (1960) जैसी फ़िल्मों से बहुत बड़ी स्टार बन चुकी थीं. इसमें उनकी कास्टिंग यूं हुई, कि सत्यजीत राय ने किसी के ज़रिए वहीदा के घर पत्र भिजवाया जिसमें लिखा था,

”मेरे लीडिंग मैन सौमित्र चैटर्जी और मेरी यूनिट का मानना है कि मेरी अगली फ़िल्म की हीरोइन गुलाबी के रोल में आप सबसे उपयुक्त हैं. अगर आप ये रोल करने को हां कहती हैं तो मुझे बड़ी खुशी होगी.”

फिल्म 'अभिजान' की शूटिंग के दौरान डायरेक्टर सत्यजीत राय और वहीदा रहमान.
फिल्म ‘अभिजान’ की शूटिंग के दौरान डायरेक्टर सत्यजीत राय और वहीदा रहमान.

वहीदा बहुत खुश हुईं कि सत्यजीत राय जैसे फ़िल्मकार ने उन्हें इस रोल में सोचा. कुछ दिन बाद वहीदा ने राय को फोन किया जो सामने से बोले, ”वहीदा, आप हिंदी फ़िल्मों में बहुत सारा पैसा कमाती हो. मैं छोटे बजट वाली छोटी फ़िल्में बनाता हूं.” इस पर वहीदा ने जवाब दिया, ”साहब, मुझे क्यों लज्जित कर रहे हैं? मेरे लिए ये गर्व की बात है. आपने अपने साथ काम करने की बात करके मुझे इतना सम्मान दिया है. पैसे की कोई समस्या नहीं है. आप आगे से इसका ज़िक्र नहीं करना.”


ये भी पढ़ें:

अजय देवगन को स्टार बनाने के लिए उनके पिता ने क्या-क्या किया?
डेविड धवन FTII में ओम पुरी के पहले रूममेट थे, फिर उन्होंने उनसे कमरा बदलने को क्यों कहा?
कर्मचारी बीमा निगम में काम करने वाले अमरीश पुरी फिल्मों में कैसे आए?
क्या तुमने शोले को भोगा है?


वीडियो देखें: जब मुमताज को अपनी फिल्म में लेने के लिए पूरे बॉलीवुड से भिड़ गए थे देवानंद

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
When Satyajit Ray called Wheeda Rehman to cast in his film Abhijan released in 1962

क्रिकेट के किस्से

टीम इंडिया 245 नहीं बना पाई चौथी पारी में, 1979 में गावस्कर ने अकेले 221 बना दिए थे

आज के दिन ही ये कारनामा हुआ था इंग्लैंड में. 438 का टार्गेट था और गजब का मैच हुआ.

जब 1 गेंद पर 286 रन बन गए, 6 किलोमीटर दौड़ते रहे बल्लेबाज

खुद सोचिए, ऐसा कैसे हुआ होगा.

जब अकेले माइकल होल्डिंग ने इंग्लैंड से बेइज्जती का बदला ले लिया था

आज ही के दिन लिए थे 14 विकेट.

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.