Submit your post

Follow Us

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

9.49 K
शेयर्स

22 साल पहले 1996 में भारत में तीन देशों (भारत, दक्षिण अफ्रीका एवं आस्ट्रेलिया) के बीच टाइटन कप के नाम से एक ट्रायंगुलर टूर्नामेंट खेला जा रहा था. इस टूर्नामेंट का एक लीग मैच जवागल श्रीनाथ द्वारा बल्ले से दिखाए गए पराक्रम की वजह से खासा चर्चित हुआ था. अब उस रोमांचक मैच की कहानी.

दशहरा का दिन. तारीख थी 21 अक्तूबर. बैंगलोर का चिन्नास्वामी स्टेडियम खचाखच भरा हुआ था. टाइटन कप के एक लीग मैच में सचिन तेंदुलकर की कप्तानी में टीम इंडिया और मार्क टेलर की कप्तानी में आस्ट्रेलियाई टीम डे-नाइट मुकाबले में आमने-सामने थी. मार्क टेलर ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. श्रीनाथ और वेंकटेश प्रसाद की जोड़ी ने बेहतरीन शुरूआत की. प्रसाद ने जल्दी ही मार्क वा को आउट कर कंगारुओं को पहला झटका दिया. उसके बाद नियमित अंतराल पर विकेट गिरते रहे. कप्तान और खब्बु ओपनर मार्क टेलर एक छोर पर जमे रहे एवं पुरी आस्ट्रेलियाई पारी में वे 40 पार करने वाले इकलौते बल्लेबाज रहे एवं अपने वनडे करियर का इकलौता शतक (105 रन) बनाया. टेलर के अलावा सिर्फ माइकल बेवन ने 36 रनों का योगदान दिया. कंगारू टीम निर्धारित 50 ओवरों में 7 विकेट पर 215 रन हीं बना सकी.

भारतीय पारी की शुरूआत सुजीत सोमसुन्दर एवं कप्तान सचिन तेंदुलकर ने की. लेकिन सुजीत केवल 7 रन बनाकर चलते बने. इसके बाद एक छोर पर कप्तान तेंदुलकर जमे रहे जबकि दूसरे छोर पर आयाराम-गयाराम का सिलसिला चलता रहा. बीच में अजय जडेजा ने तेंदुलकर के साथ साझेदारी जमाने की कोशिश की लेकिन ‘रनिंग बिटवीन द विकेट’ में तेंदुलकर के साथ थोड़ी गलतफहमी हो गई और विकेटों के बीच तेज दौड़ के लिए विख्यात जडेजा भी 27 रन बनाकर रन आउट हो गए. इसके बाद भारत की उम्मीद तब पूरी तरह खत्म मान ली गई जब तेंदुलकर (88 रन) के रूप में भारत का आठवां विकेट 164 रन पर गिर गया.

Match image
जवागल श्रीनाथ और अनिल कुंबले की जोड़ी ने 52 रन जोड़ लिए.

दर्शकों ने मान लिया कि भारत अब मैच हार चुका है और अब सिर्फ़ औपचारिकता ही शेष है क्योंकि लक्ष्य अभी भी 52 रन दूर था. ऐसे मौके पर जवागल श्रीनाथ ने अनिल कुम्बले के साथ मोर्चा संभाला. दोनों ने संभल कर खेलते हुए स्कोर बोर्ड को फिर से चलाना शुरू किया तब लोगों को एक महीन आशा की किरण दिखाई देने लगी. इस बीच स्कोर बोर्ड पर टारगेट दिखने लगा – 31 बॉल पर 36 रन. यहीं जवागल श्रीनाथ ने बिल्कुल स्ट्रेट छक्का मारकर रन और बॉल बराबर कर दिए. इसके बाद कंगारुओं के हौसले पस्त हो गए एवं भारत ने 216 रन का लक्ष्य 49वें ओवर में ही प्राप्त कर लिया. जवागल श्रीनाथ 23 बॉल में 30 रन एवं अनिल कुम्बले 19 बॉल में 16 रन बनाकर नाबाद रहे. इस मैच में जब स्थानीय खिलाड़ी श्रीनाथ-कुम्बले की जोड़ी बल्लेबाजी कर रही थी तब टीवी कैमरा बार-बार दर्शक दीर्घा में एक साथ बैठी दोनों खिलाडियों की मांओं को दिखा रहा था जो भारतीय खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन करने के लिए स्टेडियम में मौजूद थीं.

वीडियो भी देखिए-


ये किस्सा दी लल्लनटॉप के लिए अभिषेक ने लिखा है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

भैरो सिंह शेखावत : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री, जिसे वहां के लोग बाबोसा कहते हैं

जो पुलिस में था, नौकरी गई तो राजनीति में आया और फिर तीन बार बना मुख्यमंत्री. आज बड्डे है.

जब बाबरी मस्जिद गिरी और एक दिन के लिए तिहाड़ भेज दिए गए कल्याण सिंह

अब सीबीआई कल्याण सिंह से पूछताछ करना चाहती है

वो नेता जिसने पी चिदंबरम से कई साल पहले जेल में अंग्रेजी टॉयलेट की मांग की थी

हिंट: नेता गुजरात से थे और नाम था मोदी.

बिहार पॉलिटिक्स : बड़े भाई को बम लगा, तो छोटा भाई बम-बम हो गया

कैसे एक हत्याकांड ने बिहार मुख्यमंत्री का करियर ख़त्म कर दिया?

राज्यसभा जा रहे मनमोहन सिंह सिर्फ एक लोकसभा चुनाव लड़े, उसमें क्या हुआ था?

पूर्व प्रधानमंत्री के पहले और आखिरी चुनाव का किस्सा.

सोनिया गांधी ने ऐसा क्या किया जो सुषमा स्वराज बोलीं- मैं अपना सिर मुंडवा लूंगी?

सुषमा का 2004 का ये बयान सोनिया को हमेशा सताएगा.

हाथ में एक नेता की तस्वीर लेकर मुजफ्फरपुर की गलियों में क्यों भटकी थीं सुषमा स्वराज?

जब सब डर से कांप रहे थे, 24 साल की सुषमा ने इंदिरा गांधी के खिलाफ मोर्चा लिया था.

जब सुषमा स्वराज ने सोनिया गांधी को लोहे के चने चबाने पर मजबूर कर दिया था

रात दो बजे फोन की घंटी बजी और तड़के पांच बजे सुषमा बेल्लारी के लिए निकल चुकी थीं.

सुषमा स्वराज कैसे भारत की प्रधानमंत्री होते-होते रह गयीं?

और उनके साथ आडवाणी का भी पत्ता कट गया था.

अटल सरकार के बारे में दो चौंकाने वाले खुलासे

अटल सरकार का एक मंत्री जो फिर चर्चा में है, लेकिन उसे ही पता नहीं है.