Submit your post

Follow Us

'विक्रमारकुडू' के विलेन को बिहार में वोट कटवा कौन बना रहा था?

कुछ दिनों पहले लल्लनटॉप के खास शो ‘बरगद’ में एडिटर सौरभ द्विवेदी के साथ ‘अक्स’, ‘शूल’ और ‘लापतागंज’ जैसी फिल्मों और टीवी शोज़ से फेम हासिल कर चुके एक्टर विनीत कुमार ने बैठक जमाई. जहां विनीत कुमार ने अपने बचपन से लेकर जवानी, राजनीति से लेकर अभिनय और हिंदी सिनेमा से लेकर तमिल सिनेमा तक सब पर खूब तफसील से बात की. बातों के दौरान उन्होंने कई रोचक किस्से साझा किए. उन्हीं किस्सों में एक आपके साथ साझा कर रहे हैं. 


साल 1977. चुनावी वर्ष था. एक दिन अखबार में खबर छपी कि विनीत कुमार चुनाव लड़ेंगे. खबर पढ़ लोगों के विनीत के पास बधाई के फ़ोन पहुंचने लगे. इधर विनीत खुद इस खबर से अनजान थे कि वो चुनाव लड़ने वाले हैं. पता लगवाया आखिर किसने ये खबर छपवा दी. मालूम पड़ा विनीत के पड़ोस में रहने वाले नेता जी ने खबर छपवाई है. मिलने पहुंचे और पूछा भैया काहे अफ़वाह फैला रहे हो. नेता जी बोले “अरे क्या हो गया एक्टिंग वहां करते रहो ,यहां राजनीती कर लो”. विनीत घर गये और अपनी मां से इस बारे में बात की. मां ने कहा कि तुम भावुक और गुस्सैल किस्म के इंसान हो. राजनीति तुम्हारे जैसे इंसान की जगह नहीं है. विनीत को भी मां की बात सही लगी और उन्होंने नेता जी को साफ़ मना कर दिया.

असल में तो विनीत राजनीती से दूर रहे हैं लेकिन कई फिल्मों और सीरियलों में नेता की भूमिका ज़रूर निभाई है.
असल में तो विनीत राजनीति से दूर रहे हैं लेकिन कई फिल्मों और सीरियलों में नेता की भूमिका ज़रूर निभाई है.

साल 2009. पटना से शेखर सुमन और शत्रुघ्न सिन्हा चुनाव लड़ रहे थे. इन दोनों फ़िल्मी हस्तियों के विरूद्ध विनीत को एक बार फ़िर चुनाव लड़ने का प्रस्ताव मिला. पूरा माज़रा विनीत ने हमें इंटरव्यू के दौरान बताया,

“एक तरफ़ शेखर सुमन खड़े थे. एक तरफ़ शत्रु जी खड़े थे. तब हमसे भी कहा गया चुनाव लड़ने को. हम बोले बड़े-बड़े लोग हैं यार ये, हम क्या करेंगे. तो वो बोला वोट काटेगा ना रे तुम. तो वोट कटवा बनाने का विचार था. पॉपुलर तो हम भी हैं उस इलाके में. तो सत्ता में पहुंच ऐसे ही होती है. कि आपको इशारा होता है, आप लपक लेते हो. तो वो लपकना जो है, मेरे लिए संभव नहीं था. हमने कहा नहीं भाई, हम नहीं लपक सकते हैं. जो कर रहे हैं वहीं करें. और मां जो बोलती  हैं, ठीक ही बोलती हैं कि कभी तुम भावुक हो जाते हो, कभी तुम गुस्से में आ जाते हो. तो अपना एक काम करो, सही से करोगे.”


ये स्टोरी दी लल्लनटॉप में इंटर्नशिप कर रहे शुभम ने लिखी है.


विडियो: विक्रमारकुडू विलेन को बिहार में वोट कटवा कौन बना रहा था ?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

टाइगर पटौदी के कहने पर, इस लड़के ने डेब्यू में शतक ठोक दिया था!

पाकिस्तानियों ने भी इसके कद का खूब मज़ाक बनाया.

पाकिस्तान के खिलाफ कुंबले के 'परफेक्ट 10' रिकॉर्ड की असल वजह क्या जवागल श्रीनाथ थे?

22 साल पहले आज ही के दिन दिल्ली में ये करिश्मा शुरू हुआ था.

50 साल पहले बारिश न होती तो शायद वनडे क्रिकेट का नामोनिशान न होता!

वनडे क्रिकेट की कैसे शुरुआत हुई थी, जान लीजिए

गावस्कर ने क्या वाकई कोलकाता में कभी न खेलने की कसम खा ली थी?

क्या गावस्कर की वजह से कपिल देव रिकॉर्ड बनाने से चूक गए थे, सच जान लीजिए

तुम्हारा स्कोर अब भी ज़ीरो है, रिचर्ड्स के इस कमेंट पर गावस्कर ने बल्ले से सबकी बोलती बंद कर दी थी

ठीक 37 साल पहले गावस्कर ने तोड़ा था ब्रेडमैन का सबसे बड़ा रिकॉर्ड.

वो भारतीय क्रिकेटर, जिसने टूटे पांव पर बिजली के झटके सहकर ऑस्ट्रेलिया को मेलबर्न में हराया

दिलीप दोषी, जो गावस्कर को 'कपटी' मानते थे.

जब हाथ में चोट लेकर अमरनाथ ने ऑस्ट्रेलिया को पहला ज़ख्म दिया!

अगर वो 47 रन बनते, तो भारत 40 साल लेट ना होता.

'क्रिकेट के भगवान' सचिन तेंदुलकर के साथ पहले वनडे में जो हुआ, उस पर आपको विश्वास नहीं होगा

31 साल पहले आज ही के दिन सचिन पहला वनडे इंटरनैशनल खेलने उतरे थे

जब कंगारुओं को एडिलेड में दिखा ईडन का भूत और पूरी हो गई द्रविड़ की यात्रा

साल 2003 के एडिलेड टेस्ट का क़िस्सा.

कौन सा गाना लगातार पांच दिन सुनकर सचिन ने सिडनी में 241 कूट दिए थे?

सचिन की महानतम पारी का कमाल क़िस्सा.