Submit your post

Follow Us

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

963
शेयर्स

बिग बॉस का मौसम चल रहा है. और चर्चा का विषय बने हुए हैं श्रीसंत. अब तक जनता उनका गुस्सा देख रही थी, ओरिजनल वाली साइड अब जाकर सामने आ रही है. बिग बॉस के घर में श्रीसंत ने क्रिकेट के दिनों का सचिन से जुड़ा बड़ा दिलचस्प और इमोशनल किस्सा सुनाया. बिग बॉस में आने के बारे में श्रीसंत का कहना था कि उनके साथ जो कुछ भी हुआ है, उसे वो दुनिया के सामने रखना चाहते हैं. और इस काम के लिए बिग बॉस से बेहतर साधन नहीं हो सकता. क्योंकि ये शो आपकी असल पर्सनैलिटी को सामने लाता है. लेकिन शो का पहला एक महीना उन्होंने ये गेम समझने में ही निकाल दिया. एक बार घर से बाहर हुए और वापस भी आए. अपनी कहानी बताने का काम उन्होंने अब शुरू किया है.

बकौल श्रीसंत, ये बात है 2011 वर्ल्ड कप के 1-2 साल बाद की. इंडिया के वर्ल्ड कप जीतने के बाद हर ओर काफी खुशनुमा माहौल था. सभी क्रिकेटर्स यहां-वहां इंटरव्यू दे रहे थे. लेकिन ये किस्सा है सचिन तेडुलकर के एक इंटरव्यू का. सवाल-जवाब के दौर में सचिन का इंटरव्यू ले रहे पत्रकार वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम के सदस्यों बारे में बात कर रहे थे. एक-एक कर उन्होंने सबके बारे में सचिन से बात की. लेकिन श्रीसंत का ज़िक्र कहीं नहीं किया. रिपोर्टर की ये बात सचिन भांप गए. जैसे ही वो इंटरव्यू खत्म करने लगे, तो सचिन ने रिपोर्टर को याद दिलाया कि वो श्रीसंत का नाम भूल रहे हैं. इसके बाद उन्होंने टीम के वर्ल्ड कप जीतने में श्री के योगदान का खास ज़िक्र किया. इसके लिए उन्होंने सचिन को थैंक यू भी कहा. इस वाकये के बाद भी श्रीसंत फूट-फूटकर रोए थे और सीक्रेट रूम में अपने साथी अनूप जलोटा को ये किस्सा सुनाते-सुनाते भी वो रो रहे थे.

किस्सा सुनाने के बाद रोते श्रीसंत को अनूप लगातार संभालने की कोशिश कर रहे थे.
किस्सा सुनाने के बाद रोते श्रीसंत को अनूप संभालने की कोशिश कर रहे थे लेकिन श्री का उस वक्त संभल पाना बहुत मुश्किल था.

श्रीसंत के मुताबिक नेशनल और स्टेट दोनों ही टीमों में उनके बहुत दुश्मन बना लिए थे. इसके पीछे का कारण उन्होंने अपने ऐटिट्यूड को बताया. सबको लगता था कि श्रीसंत बड़ा प्लेयर हैं. ऐसा इसलिए था क्योंकि श्रीसंत दो वर्ल्ड कप (2007 और 11) विनिंग टीम का हिस्सा रह चुके थे और उसी माइंडसेट के साथ किसी से पेश आते थे. उन्हें लगता था कि कोई आपको बड़ा समझे, उसके लिए आपको खुद को बड़ा मानना पड़ता है. और यही चीज़ उनके करियर पर भारी पड़ गई. वो भले ही फिलहाल रियलिटी शोज़ और फिल्मों में काम कर रहे हैं लेकिन उनक पहला प्रेम क्रिकेट ही है. वो अपनी फिटनेस पर काम करेंगे और उन्हें उम्मीद है एक दिन सब तरह की इल्जामों से बाहर निकलकर वो फिर से इंडियन टीम के लिए खेलेंगे. उन्हें मोटिवेट करने और उनकी कहानी पर बिग बॉस के ही उनके साथी सदस्य और म्यूज़िशियन दीपक ठाकुर ने उनके लिए एक गाना बनाया है. ये सुनकर श्रीसंत हर बार इमोशनल हो जाते हैं. घर में उनकी रीएंट्री भी इसी गाने पर हुई.

हमें भी यही उम्मीद है कि श्रीसंत अपनी कहानी दुनिया के सामने रख पाएंगे और एक दिन जरूर हमें इंडियन टीम की नीली जर्सी में दिखाई देंगे.


वीडियो देखें: उमेश यादव ने 19 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

वो नेता जिसने पी चिदंबरम से कई साल पहले जेल में अंग्रेजी टॉयलेट की मांग की थी

हिंट: नेता गुजरात से थे और नाम था मोदी.

बिहार पॉलिटिक्स : बड़े भाई को बम लगा, तो छोटा भाई बम-बम हो गया

कैसे एक हत्याकांड ने बिहार मुख्यमंत्री का करियर ख़त्म कर दिया?

राज्यसभा जा रहे मनमोहन सिंह सिर्फ एक लोकसभा चुनाव लड़े, उसमें क्या हुआ था?

पूर्व प्रधानमंत्री के पहले और आखिरी चुनाव का किस्सा.

सोनिया गांधी ने ऐसा क्या किया जो सुषमा स्वराज बोलीं- मैं अपना सिर मुंडवा लूंगी?

सुषमा का 2004 का ये बयान सोनिया को हमेशा सताएगा.

हाथ में एक नेता की तस्वीर लेकर मुजफ्फरपुर की गलियों में क्यों भटकी थीं सुषमा स्वराज?

जब सब डर से कांप रहे थे, 24 साल की सुषमा ने इंदिरा गांधी के खिलाफ मोर्चा लिया था.

जब सुषमा स्वराज ने सोनिया गांधी को लोहे के चने चबाने पर मजबूर कर दिया था

रात दो बजे फोन की घंटी बजी और तड़के पांच बजे सुषमा बेल्लारी के लिए निकल चुकी थीं.

सुषमा स्वराज कैसे भारत की प्रधानमंत्री होते-होते रह गयीं?

और उनके साथ आडवाणी का भी पत्ता कट गया था.

अटल सरकार के बारे में दो चौंकाने वाले खुलासे

अटल सरकार का एक मंत्री जो फिर चर्चा में है, लेकिन उसे ही पता नहीं है.

आज़म खान : यूपी का वो बड़बोला मंत्री जो 'मिक्की मियां का दीवाना' बोलने पर गुस्सा जाता है

जिसने पहला चुनाव जिताया, उसकी ही मुखालफ़त में रामपुर की शक्ल बदल दी.

जब बम धमाके में बाल-बाल बचीं थीं शीला दीक्षित!

धमाका इताना जोरदार था कि कार के परखच्चे उड़ गए.