Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

963
शेयर्स

बिग बॉस का मौसम चल रहा है. और चर्चा का विषय बने हुए हैं श्रीसंत. अब तक जनता उनका गुस्सा देख रही थी, ओरिजनल वाली साइड अब जाकर सामने आ रही है. बिग बॉस के घर में श्रीसंत ने क्रिकेट के दिनों का सचिन से जुड़ा बड़ा दिलचस्प और इमोशनल किस्सा सुनाया. बिग बॉस में आने के बारे में श्रीसंत का कहना था कि उनके साथ जो कुछ भी हुआ है, उसे वो दुनिया के सामने रखना चाहते हैं. और इस काम के लिए बिग बॉस से बेहतर साधन नहीं हो सकता. क्योंकि ये शो आपकी असल पर्सनैलिटी को सामने लाता है. लेकिन शो का पहला एक महीना उन्होंने ये गेम समझने में ही निकाल दिया. एक बार घर से बाहर हुए और वापस भी आए. अपनी कहानी बताने का काम उन्होंने अब शुरू किया है.

बकौल श्रीसंत, ये बात है 2011 वर्ल्ड कप के 1-2 साल बाद की. इंडिया के वर्ल्ड कप जीतने के बाद हर ओर काफी खुशनुमा माहौल था. सभी क्रिकेटर्स यहां-वहां इंटरव्यू दे रहे थे. लेकिन ये किस्सा है सचिन तेडुलकर के एक इंटरव्यू का. सवाल-जवाब के दौर में सचिन का इंटरव्यू ले रहे पत्रकार वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम के सदस्यों बारे में बात कर रहे थे. एक-एक कर उन्होंने सबके बारे में सचिन से बात की. लेकिन श्रीसंत का ज़िक्र कहीं नहीं किया. रिपोर्टर की ये बात सचिन भांप गए. जैसे ही वो इंटरव्यू खत्म करने लगे, तो सचिन ने रिपोर्टर को याद दिलाया कि वो श्रीसंत का नाम भूल रहे हैं. इसके बाद उन्होंने टीम के वर्ल्ड कप जीतने में श्री के योगदान का खास ज़िक्र किया. इसके लिए उन्होंने सचिन को थैंक यू भी कहा. इस वाकये के बाद भी श्रीसंत फूट-फूटकर रोए थे और सीक्रेट रूम में अपने साथी अनूप जलोटा को ये किस्सा सुनाते-सुनाते भी वो रो रहे थे.

किस्सा सुनाने के बाद रोते श्रीसंत को अनूप लगातार संभालने की कोशिश कर रहे थे.
किस्सा सुनाने के बाद रोते श्रीसंत को अनूप संभालने की कोशिश कर रहे थे लेकिन श्री का उस वक्त संभल पाना बहुत मुश्किल था.

श्रीसंत के मुताबिक नेशनल और स्टेट दोनों ही टीमों में उनके बहुत दुश्मन बना लिए थे. इसके पीछे का कारण उन्होंने अपने ऐटिट्यूड को बताया. सबको लगता था कि श्रीसंत बड़ा प्लेयर हैं. ऐसा इसलिए था क्योंकि श्रीसंत दो वर्ल्ड कप (2007 और 11) विनिंग टीम का हिस्सा रह चुके थे और उसी माइंडसेट के साथ किसी से पेश आते थे. उन्हें लगता था कि कोई आपको बड़ा समझे, उसके लिए आपको खुद को बड़ा मानना पड़ता है. और यही चीज़ उनके करियर पर भारी पड़ गई. वो भले ही फिलहाल रियलिटी शोज़ और फिल्मों में काम कर रहे हैं लेकिन उनक पहला प्रेम क्रिकेट ही है. वो अपनी फिटनेस पर काम करेंगे और उन्हें उम्मीद है एक दिन सब तरह की इल्जामों से बाहर निकलकर वो फिर से इंडियन टीम के लिए खेलेंगे. उन्हें मोटिवेट करने और उनकी कहानी पर बिग बॉस के ही उनके साथी सदस्य और म्यूज़िशियन दीपक ठाकुर ने उनके लिए एक गाना बनाया है. ये सुनकर श्रीसंत हर बार इमोशनल हो जाते हैं. घर में उनकी रीएंट्री भी इसी गाने पर हुई.

हमें भी यही उम्मीद है कि श्रीसंत अपनी कहानी दुनिया के सामने रख पाएंगे और एक दिन जरूर हमें इंडियन टीम की नीली जर्सी में दिखाई देंगे.


वीडियो देखें: उमेश यादव ने 19 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा है?

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Sreesanth recalled an interesting anecdote about Sachin Tendulkar and him from the time of 2011 world cup

पॉलिटिकल किस्से

श्यामाचरण शुक्ल : मध्यप्रदेश का वो मुख्यमंत्री, जिसके पिता राज्य के पहले मुख्यमंत्री थे

तीन बार गद्दी पर बैठा, लेकिन कभी कार्यकाल पूरा नहीं कर पाया.

गोविंद नारायण सिंह : वो आदमी जिसने कांग्रेस से बगावत की और मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बन गया

लेकिन लंबे वक्त तक कांग्रेस से दूर नहीं रह पाया. पार्टी में लौटा और करियर खत्म हो गया.

डीपी मिश्र : कहानी उस कांग्रेसी मुख्यमंत्री की, जो बीजेपी का बॉस बनते-बनते रह गया

जिसे इंदिरा का चाणक्य कहा जाता था, लेकिन संजय उससे चिढ़ते थे.

जब अटल ने इंदिरा से कहा, 'पांच मिनट में आप अपने बाल तक ठीक नहीं कर सकतीं'

जब संसद में अटल बिहारी वाजपेयी ने इंदिरा गांधी को बताया कि उनमें पिता नेहरू का कौन सा गुण नहीं है.

भगवंतराव मंडलोई : मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री, जिनके बारे में नेहरू ने पूछा था कि ये 'बटलोई' कौन है?

पहले मुख्यमंत्री रविशंकर शुक्ल की मौत के बाद हुई बैठक में बने एमपी के सीएम.

कैलाश नाथ काटजू : यूपी का वो वकील, जिसे नेहरू ने मध्यप्रदेश का मुख्यमंंत्री बना दिया

जो खुद चुनाव हार गया और फिर वकालत करने लौट गया.

जब एक लोकसभा चुनाव में हार से एन डी तिवारी पीएम बनने से चूक गए

चंद्रशेखर के बाद अगले पीएम बन सकते थे.

जब वो आदमी चीफ जस्टिस बना जिसे पीएम नेहरू कतई नहीं चाहते थे

आज सुप्रीम कोर्ट के नए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने शपथ ली है. जानिए सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस से जुड़े तीन किस्से.

कौन था वो लड़का, जो अटल बिहारी वाजपेयी से बेझिझक ईदी मांग लेता था

और ये हक अटल ने उसे दिया नहीं था, उसने खुद कमाया था.