Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

6.37 K
शेयर्स

साल 2006. और तारीख 12 मार्च. यानी 13 साल पहले आज का ही दिन. वांडरर्स का मैदान और ऑस्ट्रेलिया-साऊथ अफ़्रीका आमने-सामने थीं. मैच शुरू हुआ तो किसी को ये इल्म भी नहीं था कि ये मैच किस कदर इतिहास बदलने वाला था. ऑस्ट्रेलिया ने पहले बैटिंग की और कप्तान रिकी पोंटिंग ने 105 गेंदों में 164 रन बनाए. इसे रन बनाना नहीं बल्कि फोड़ना कहते हैं. ऑस्ट्रेलिया के टॉप चार बल्लेबाज़ों ने शानदार बैटिंग की. गिलक्रिस्ट ने 44 गेंद पर 55 रन बनाए, कैटिच ने 90 गेंद पर 79 रन और हसी ने 51 गेंद पर 81 रन मारे. कैटिच की स्लो बैटिंग के बावजूद ऑस्ट्रलिया ने 50 ओवर में 434 रन बनाए. ये पहला मौका था जब वन-डे इंटरनेशनल क्रिकेट के इतिहास में किसी टीम ने 400 रनों का आंकड़ा पार किया था.

रिसीविंग एंड पर साउथ अफ़्रीका थी. उसे इस इतिहास में कोई इन्ट्रेस्ट नहीं था. साउथ अफ़्रीका का ड्रेसिंग रूम उस वक़्त धरती का सबसे आरामदायक हिस्सा था. उन्हें मालूम था कि अव्वल तो 400 रन बन नहीं सकते. और जब बन ही गए हैं तो कम से कम 434 रनों का पीछा नहीं ही किया जा सकता. लेकिन टीम अभी भी थिंकिंग मोड में थी. मिकी आर्थर आज पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कोच हैं और उस वक़्त साउथ अफ़्रीका के कोच थे. पूरी टीम उनका मुंह ताक रही थी. उनसे पूछा गया कि टार्गेट का पीछा कैसे करना है. उन्होंने कहा, “हां. मुझसे ऐसे पूछ रहे हो जैसे 434 रनों का पीछा करने का प्लान मैं रोज़ बनाता हूं.” पूरी टीम हंस रही थी लेकिन उस हंसी में एक अजीब ठंड थी. वो बहुत हद तक अपने ऊपर ही हंस रहे थे. लेकिन इतने में ही अनुभवी जैक्स कालिस कॉफ़ी का कप हाथ में लेकर खड़े हुए और बोले, “मुझे लगता है कि बॉलर्स ने अच्छा काम किया. ऑस्ट्रेलिया ने 15 रन कम बनाए हैं. ये विकेट ऐसा है कि इस पर साढ़े चार सौ रन बनाए जा सकते थे. चेज़ करने की सारी ज़िम्मेदारी अब हमारे बल्लेबाज़ों पर है.” ये बातें जिस मुंह से कही जा रही थीं, उसने कितनी ही इनिंग्स खेली हुई थीं. साउथ अफ़्रीका की टीम में उनसे बड़ा अनुभवी और कोई नहीं था. कालिस ने माहौल को हल्का करने के लिए ये सब कुछ कहा था. लेकिन बातें काम की थीं.

मैच जीतने के बाद मखाया एंटिनी के साथ हर्शेल गिब्स
मैच जीतने के बाद मखाया एंटिनी के साथ हर्शेल गिब्स

299 लीगल डिलीवरीज़ के बाद साउथ अफ़्रीका मैच जीत चुका था. क्रिकेट के इतिहास में सबसे बड़ा स्कोर और सबसे बड़े स्कोर को चेज़ करने का रिकॉर्ड एक ही दिन बन चुका था. शराब के नशे में मैच खेलने उतरे हर्शेल गिब्स ने 111 गेंदों पर 175 रन बना डाले. रिकी पोंटिंग की शानदार बैटिंग एक किस्सा मात्र बन कर रह गई थी. हर्शेल गिब्स इतिहास बना चुके थे. गिब्स ने पिछली रात पार्टी करने में गुज़ार दी थी. वो अपनी टीम के कुछ दोस्तों के साथ बियर पीने गए थे. अगले दिन मैच होने की वजह से सभी लोग जल्दी ही अपने कमरों में वापस लौट आये. गिब्स नहीं लौटे. वो होटल के एक कोने में जमे थे और शराब पिए जा रहे थे. माइकल हसी ने अपनी आत्मकथा में लिखा था कि देर रात सोने से पहले उन्होंने अपने कमरे की खिड़की से देखा कि गिब्स जमे हुए हैं और जाम के मज़े ले रहे हैं. उन्होंने सोचा कि कल इसका विकेट तो बहुत ही आसानी से मिल जायेगा. लेकिन एकदम उल्टा ही हुआ. गिब्स अपने कमरे में सुबह के नाश्ते से एक-डेढ़ घंटा पहले ही घुसे थे. उनके कप्तान ग्रीम स्मिथ उनसे बहुत नाराज़ थे. लेकिन जब मैच ख़तम हुआ तो ड्रेसिंग रूम में स्मिथ ही गिब्स को बियर परोस रहे थे.

मैच जीतने के बाद खुश कप्तान स्मिथ.
मैच जीतने के बाद खुश कप्तान स्मिथ.

साउथ अफ़्रीका के विकेटकीपर बैट्समैन मार्क बाउचर गिब्स के आउट होने पर बैटिंग करने पहुंचे थे. मार्क ने ही मैच में आख़िरी रन बनाया था. वो रन जिसने साऊथ अफ़्रीका को जीत दिलाई थी. दूसरे छोर पर मखाया एंटिनी खड़े थे. बाउचर ने मैच के बारे में अपनी ऑटोबायोग्राफ़ी में लिखा था – “बैटिंग पे जाने से ठीक पहले मैंने सोचा था कि मुझे इस काम के लिए 100% कमिट करना होगा. क्यूंकि कमज़ोर दिल वाले कभी भी कुछ हासिल नहीं कर सकते.” (“Commit to it 100 per cent because the faint-hearted never fucked a fair maiden’. That was my final thought.”)


वीडियो- क्रिकेट में मारे गए छक्कों का इतिहास कहां से शुरू होता है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Herschelle Gibbs was drunk before hitting 175 in SA win vs Aus ODI Match

पॉलिटिकल किस्से

इस मोदी को जानो, हंसते-हंसते समझ बढ़ जाएगी

किस्से पीलू मोदी के, जो संसद में पीएम को भी नहीं बख्शते थे.

शिवराज सिंह चौहान : एमपी का वो मुख्यमंत्री जिसने उमा और कैलाश विजयवर्गीय को किनारे लगा दिया

दिग्विजय सिंह ने शिवराज को बंगला दिया और फिर शिवराज को कोई हिला नहीं पाया.

शिवराज सिंह चौहान : ABVP का वो नेता जो एमपी से दिल्ली गया और लौटा तो मुख्यमंत्री बन गया

कहानी शिवराज सिंह चौहान की, जिन्होंने हर तरह की क्राइसिस को मैनेज कर लिया.

मोहन लाल सुखाड़िया : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री जिसकी ताजपोशी से पहले जयपुर में कर्फ्यू लगा

और जिसकी गांधी-नेहरू परिवार की तीन पीढ़ियों से अनबन रही. आज पुण्यतिथि है.

मोहन लाल सुखाड़िया : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री जिसकी शादी के विरोध में बाजार बंद हो गए थे

जिसने नेहरू के खास रहे मुख्यमंत्री जयनारायण व्यास का तख्तापलट कर दिया. आज पुण्यतिथि है.

पिता की मौत के बाद प्रियंका ने राहुल से क्या कहा?

प्रियंका गांधी वो कहानी जो आपको गूगल पर भी नहीं मिलेगी.

बाबूलाल गौर : मध्यप्रदेश का वो मुख्यमंत्री, जो पैदा यूपी में हुआ और शराब बेचने एमपी आ गया

आज बाबूलाल की बात इसलिए क्यूंकि आज इन्होंने ऐसी बात कही है कि अब यूपी के बाद मध्यप्रदेश को लेकर भी भाजपा की नींदें उड़ सकती हैं!

जब बम धमाके में बाल-बाल बचीं शीला दीक्षित!

धमाका इताना जोरदार था कि कार के परखच्चे उड़ गए.

अशोक गहलोत : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री जो हारने के बाद केंद्र में आया और अब राहुल के बाद नंबर दो है

जिसने जादू दिखाया, जीत-हार का स्वाद चखा और दो बार मुख्यमंत्री बना.

अशोक गहलोत : एक जादूगर जिसने बाइक बेचकर चुनाव लड़ा और बना राजस्थान का मुख्यमंत्री

जिसकी गांधी परिवार से नज़दीकी ने कई बड़े नेताओं का पत्ता काट दिया.