Submit your post

Follow Us

कैफ ने अपना 16 साल पुराना वीडियो दिखाकर बताया, कोरोना से कैसे लड़ें!

टीम इंडिया के दुबले-पतले फुर्तीले फील्डर मोहम्मद कैफ सभी से कोरोना वायरस से बचने की अपील कर रहे हैं. कैफ ने ट्विटर पर अपने एक पुराने मैच का वीडियो शेयर किया है. जिसमें वो फुर्ती दिखाते हुए बल्लेबाज़ को रन-आउट कर देते हैं. इस वीडियो को पोस्ट करने का उनका मकसद है कि आप सभी लोग लाइन (घर) के अंदर रहें और सुरक्षित रहें.

इस वीडियो के साथ कैफ ने लिखा,

”अंदर रहें, सुरक्षित रहें. #ThrowbackThursday #Lockdown21”

कैफ ने अपने ट्वीट के साथ लोगों से लॉकडाउन की अपील की है. पीएम नरेन्द्र मोदी ने 24 मार्च की रात 12 बजे से अगले 21 दिनों के लिए पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा की थी. लेकिन इस मुश्किल वक्त में जब कैफ ने इस शानदार मैच का वीडियो शेयर किया है. तो हम आपको उस मैच की हाइलाइट्स बता देते हैं कि आखिर कैसे उस शानदार मैच में टीम इंडिया जीती थी.

बात है 5 सितम्बर 2004 की:

साल था 2004 का, इंडियन टीम इंग्लैंड दौरे पर गई हुई थी. दादा इस दौरे पर नेटवेस्ट जीत के विश्वास के साथ गए थे. लेकिन दादा की टीम ये सीरीज़ हार गई. तब तक धोनी की चर्चा तो थी, लेकिन टीम इंडिया में एंट्री नहीं हुई थी. दादा सौरव गांगुली टीम के कप्तान थे. कंधे की चोट की वजह से सचिन टीम से बाहर थे. इंग्लैंड के खिलाफ तीन मैचों की सीरीज़ भारत पहले ही गंवा चुका था. सीरीज़ का तीसरा मैच लॉर्ड्स में खेला जाना था.

सौरव गांगुली टॉस जीतकर पहले खेलने उतरे. दादा के साथ लक्ष्मण पारी शुरू करने आए. लेकिन टीम की बल्लेबाज़ी नहीं चली. एक-एक कर लक्ष्मण (9 रन), कैफ(2 रन), सहवाग (1 रन) सब आउट हो गए.

कप्तान गांगुली (90 रन) और द्रविड़ (52 रन) ने टीम को संभाला और इन दोनों की मदद से जैसे तैसे टीम ने 204 रन बोर्ड पर टांग दिए.

इंग्लैंड के सामने 50 ओवरों में 205 रनों का आसान लक्ष्य था. लेकिन नेहरा (3 विकेट), हरभजन (3 विकेट) और पठान (2 विकेट) ने उस दिन इंग्लैंड टीम की हालत खराब कर दी.

आशीष नेहरा ने 22 के स्कोर तक दोनों इंग्लिश ओपनर्स को वापस पवेलियन भेज दिया था. उसके बाद इरफान पठान ने एंड्र्यू स्ट्रॉस(2 रन) और मैक्ग्रा (2 रन) को 29 के स्कोर पर तक चलता कर दिया. 29 के स्कोर पर इंग्लैंड के चार विकेट गिर गए थे.

2003 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड का विकेट लेने के बाद गांगुली के साथ नेहरा
2003 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड का विकेट लेने के बाद गांगुली के साथ नेहरा

क्रीज़ पर थे पॉल कॉलिंग्वुड और कप्तान माइकल वॉन. मोहम्मद कैफ उस दौर के बेस्ट फील्डर थे. वनडे में भी कप्तान गांगुली, कैफ को शॉर्ट लेग पर लगा देते थे. इंग्लैंड पर दबाव बनाने के लिए दादा ने हरभजन सिंह को ओवर सौंपा. पारी के 16वें ओवर में कॉलिंगवुड ने भज्जी की गेंद पर लेग साइड पर शॉट खेला. शॉट तेज़ था और बल्ला घुमाते ही वो क्रीज़ से बाहर निकल गए. लेकिन वो ये भूल गए थे कि शॉर्ट लेग में मोहम्मद कैफ फील्डिंग कर रहे हैं. शॉर्ट लेग में उनकी फुर्ती बिल्कुल वैसी ही थी, जैसी विकेटों के पीछे धोनी की होती है.

गेंद कैफ के हाथों में चिपक गई और उन्होंने अपने बाएं हाथ से तुरंत थ्रो कार्तिक के हाथों में फेंक दी. विकेटों के पीछे कार्तिक ने बॉल पकड़ी और स्टम्पस उड़ा दिए. कॉलिंगवुड 20 गेंदों में चार रन बनाकर आउट हो गए.

उनके आउट होने के बाद अकेले माइकल वॉन (74 रन) लड़े, लेकिन बाकी टीम एक के बाद एक आती-जाती रही. उस मैच में पूरी इंग्लैंड टीम 181 रन बनाकर ऑल-आउट हो गई. टीम इंडिया ने 23 रनों से मैच जीत लिया था.

16 साल बाद कैफ ने उस मैच का वीडियो शेयर करते हुए फैंस से कोरोना की जंग को जीतने की अपील की है. 


17 साल पहले जब सचिन तेंदुलकर के एक शॉट ने पूरे भारत का सपना तोड़ दिया था 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

सुषमा स्वराज: दो मुख्यमंत्रियों की लड़ाई की वजह से मुख्यमंत्री बनने वाली नेता

कहानी दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री सुषमा स्वराज की.

साहिब सिंह वर्मा: वो मुख्यमंत्री, जिसने इस्तीफा दिया और सामान सहित सरकारी बस से घर गया

कहानी दिल्ली के दूसरे मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा की.

मदन लाल खुराना: जब दिल्ली के CM को एक डायरी में लिखे नाम के चलते इस्तीफा देना पड़ा

जब राष्ट्रपति ने दंगों के बीच सीएम मदन से मदद मांगी.

राहुल गांधी का मोबाइल नंबर

प्राइवेट मीटिंग्स में कैसे होते हैं राहुल गांधी?

भैरो सिंह शेखावत : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री, जिसे वहां के लोग बाबोसा कहते हैं

जो पुलिस में था, नौकरी गई तो राजनीति में आया और फिर तीन बार बना मुख्यमंत्री. आज बड्डे है.

जब बाबरी मस्जिद गिरी और एक दिन के लिए तिहाड़ भेज दिए गए कल्याण सिंह

अब सीबीआई कल्याण सिंह से पूछताछ करना चाहती है

वो नेता जिसने पी चिदंबरम से कई साल पहले जेल में अंग्रेजी टॉयलेट की मांग की थी

हिंट: नेता गुजरात से थे और नाम था मोदी.

बिहार पॉलिटिक्स : बड़े भाई को बम लगा, तो छोटा भाई बम-बम हो गया

कैसे एक हत्याकांड ने बिहार मुख्यमंत्री का करियर ख़त्म कर दिया?

राज्यसभा जा रहे मनमोहन सिंह सिर्फ एक लोकसभा चुनाव लड़े, उसमें क्या हुआ था?

पूर्व प्रधानमंत्री के पहले और आखिरी चुनाव का किस्सा.

सोनिया गांधी ने ऐसा क्या किया जो सुषमा स्वराज बोलीं- मैं अपना सिर मुंडवा लूंगी?

सुषमा का 2004 का ये बयान सोनिया को हमेशा सताएगा.