Submit your post

Follow Us

बीच मैदान डेनिस लिली ने मारी जावेद मियांदाद को लात और उठ गया बल्ला!

डेनिस लिली. क्रिकेट इतिहास के महानतम गेंदबाजों में से एक. लिली की गेंदों के साथ उनकी हरकतें भी बल्लेबाजों की मुश्किलें बढ़ाती थीं. अक्सर ही वह मैदान पर भिड़ जाते थे और बवाल खड़ा हो जाता था. उनका हाल हमारी मोहल्ला टीम के उन भैया जैसा था, जिनकी बोलिंग के लिए उन्हें टीम से बाहर नहीं कर सकते, लेकिन बोलिंग के लिए आएं तो तीन नजदीकी फील्डर सिर्फ उन्हें संभालने के लिए लगाने पड़ते थे.

हालांकि कई बार ऐसा भी होता था कि भैया को टक्कर देने वाला कोई मिल जाता था. बस, वहीं मामला गंभीर हो जाता था. इंटरनेशन क्रिकेट में लिली को टक्कर दे सकने वाले चंद लोगों की लिस्ट में पाकिस्तानी लेजेंड जावेद मियांदाद भी शामिल हैं. मियांदाद, जो चेतन शर्मा को लगाए छक्के और किरण मोरे को चिढ़ाने के लिए बराबर फेमस हैं. वही मियांदाद एक बार लिली से भिड़ गए थे.

# मैदान पर चली लात

हुआ ये कि साल 1981 चल रहा था. पाकिस्तान की टीम ऑस्ट्रेलिया टूर पर थी. सीरीज का पहला टेस्ट पर्थ में खेल गया. पाकिस्तान का बुरा हाल था. पहली पारी में सिर्फ 62 रन पर सिमटने वाले पाकिस्तान को चौथी पारी में 543 चेज करने थे. हालात इस पारी में भी बहुत अच्छे नहीं थे. 100 के अंदर ही टॉप के चार बल्लेबाज वापस जा चुके थे. लेकिन कप्तान मियांदाद ने एक छोर पर खूंटा गाड़ रखा था.

इसी दौरान लिली बोलिंग करने आए. पहली पारी में पांच विकेट लेने वाले लिली को दूसरी पारी में अभी तक एक भी विकेट नहीं मिला था. फ्रस्टियाए से लिली के एक ओवर की आखिरी बॉल को ऑन-साइड में खेल मियांदाद सिंगल के लिए भगे. रन पूरा करते-करते लिली से उनकी टक्कर हो गई. वीडियो में मामला साफ था कि लिली जानबूझकर मियांदाद के रास्ते में आए. लेकिन लिली अपनी ग़लती क्यों मानते. अंपायर से अपना स्वेटर वापस लेते-लेते लिली ने मियांदाद को लात मार दी.

खौराए मियांदाद बल्ला लेकर लिली पर कूद पड़े. अंपायर टोनी क्राफ्टर ने बीच में आकर लड़ाई को आगे बढ़ने से रोका. हालांकि अंपायर के बीच में आने के बाद भी दोनों प्लेयर्स का ताव कम नहीं हुआ. ऑस्ट्रेलियन कैप्टन ग्रेग चैपल को भी बीच में आना ही पड़ा. अच्छी बात ये थी कि यह ओवर की आखिरी बॉल थी. चैपल ने तुरंत लिली को बाउंड्री पर भेज दिया. लिली की इस हरकत की चहुंओर आलोचना हुई. लोगों ने इसके लिए उन्हें जमकर लताड़ा.

# क्रिया की प्रतिक्रिया

बाद में लिली पर 200 ऑस्ट्रेलियन डॉलर का जुर्माना लगाया गया. ऑस्ट्रेलियन टीम इस मामले में लिली के साथ खड़ी रही. कप्तान चैपल ने पूरा दोष ही मियांदाद पर डाल दिया. पाकिस्तानी मैनेजमेंट इस बात से भन्नाया लेकिन इससे कुछ बदला नहीं. ऑस्ट्रेलियन टीम मैनेजर जॉन एडवर्ड्स ने बाद में इस फाइन के बारे में कहा,

‘डेनिस ने निश्चित तौर पर प्रतिक्रिया दी. हम इससे इनकार नहीं कर सकते. उन पर 200 डॉलर की फाइन, जो कि कम है, इसलिए लगी क्योंकि ऑस्ट्रेलियन टीम का सोचना है कि पहला फिजिकल कॉन्टैक्ट जावेद ने किया था. मियांदाद ने यह जानबूझकर किया.’

लिली ने बाद में पाकिस्तानी टीम से माफी भी मांगी. हालांकि यहां भी वह अपनी बात पर कायम रहे कि उन्होंने प्रतिक्रिया दी थी. जावेद मियांदाद ने इस बात का ज़िक्र अपनी आत्मकथा में भी किया है. मियांदाद के मुताबिक लिली को धक्का देना उनकी मजबूरी थी, वह जानबूझकर रास्ते में आ खड़े हुए थे.

बाद में पाकिस्तान की टीम चौथी पारी में 256 पर सिमट गई. ऑस्ट्रेलिया ने मैच को 286 रन से जीत सीरीज में 1-0 की लीड ले ली.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

जब चंद्रशेखर सिंह सत्ता गंवाने वाले बिहार के इकलौते मुख्यमंत्री बने थे

9 जुलाई 1986 को इनका निधन हो गया था.

बिहार का वो सीएम, जिसका एक लड़की के किडनैप होने के चलते करियर खत्म हो गया

वो नेता जिनसे नेहरू ने जीवन भर के लिए एक वादा ले लिया.

महात्मा गांधी का 'सरदार,' जो कभी मंत्री नहीं बना, सीधा मुख्यमंत्री बना

सरदार हरिहर सिंह के बिहार के मुख्यमंत्री बनने की कहानी

मजदूर नेता से सीएम बनने का सफर तय करने वाले बिंद्श्वरी दुबे का किस्सा सुनिए

बेंगलुरू की मशहूर नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी इन्हीं की देन है.

बिहार के उस सीएम की कहानी जिसने लालू को नेता बनाया

वो CM जिसे बस कंडक्टर के चक्कर में कुर्सी गंवानी पड़ी.

बिहार का वो सीएम जिसे तीन बार सत्ता मिली, लेकिन कुल मिलाकर एक साल भी कुर्सी पर बैठ न सका

बिहार के पहले दलित सीएम की कहानी.

मुख्यमंत्री: मंडल कमीशन वाले बिहार के मुख्यमंत्री बीपी मंडल की पूरी कहानी

बीपी मंडल, जो लाल बत्ती के लिए लोहिया से भिड़ गए थे.

बिहार का वो मुख्यमंत्री जिसकी मौत के बाद तिजोरी खुली तो सब चौंक गए

वो सीएम जो बाबाधाम की तरफ चला तो देवघर के पंडों में हड़कंप मच गया था.

श्रीकृष्ण सिंह: बिहार का वो मुख्यमंत्री जिसकी कभी डॉ. राजेंद्र प्रसाद तो कभी नेहरू से ठनी

बिहार के पहले मुख्यमंत्री की कहानी.

कहानी तीन दिन के लिए बिहार के सीएम बने सतीश प्रसाद सिंह की

वो सीएम जिसने 'जोगी और जवानी' नाम की फिल्म बनाई.