Submit your post

Follow Us

फिल्म 'वॉन्टेड' के रोचक किस्से, जिसने इंडस्ट्री में सलमान का पुनर्जन्म करा दिया

साल 2009. शाहरुख खान और आमिर खान, दोनों स्टार्स के सितारे बुलंदियों पर थे. शाहरुख खान की ‘ओम शांति ओम’ और आमिर खान की ‘गजनी’ 2008 में ज़बरदस्त हिट रही थीं. लेकिन खान तिकड़ी के तीसरे खान यानी सलमान के सितारे इस वक़्त तक गर्दिश में चल रहे थे. उनकी फ़िल्में डॉमिनोज़ की तरह एक के बाद एक बॉक्स ऑफिस पर गिरती जा रहीं थी. सब को लगने लगा था सलमान खान के स्टारडम वाले दिन अब फ़िर गए हैं. और वो दिन दूर नहीं जब प्रड्यूसर बड़ी फ़िल्म में उन्हें लेने से कतराते नज़र आएंगे.

ऐसे में 18 सितम्बर को सलमान की एक फ़िल्म रिलीज़ हुई, ‘वॉन्टेड’. अपने स्वभाव से विपरीत सलमान ने इस फ़िल्म का कई महीनों तक जमकर प्रमोशन किया था. लिहाज़ा फ़िल्म का बज़ अच्छा-ख़ासा बन चुका था. एक ज़बरदस्त एक्शन फ़िल्म में सलमान को देखने के लिए जनता उत्साहित थी. खैर मेहनत रंग लाई और प्रमोशन का असर फ़िल्म के पहले ही दिन दिख गया. देशभर के सिनेमाघरों में ‘वॉन्टेड’ हाउसफुल जाने लगी. सलमान का ‘एक बार जो मैंने कमिटमेंट कर दी’ वाला डायलॉग तो बच्चे-बच्चे की ज़ुबान पर चढ़ गया.

ये सलमान के करियर का पुनर्जन्म था. ‘वॉन्टेड’ ने सलमान के करियर को न सिर्फ डूबने से बचाया बल्कि इस फ़िल्म के बाद उनका स्टारडम कई गुना बढ़ गया. वो एक बैंकेबल स्टार बन गए. जिसके नाम से ही फ़िल्म चल जाती है. नई जनरेशन सलमान से कनेक्ट कर चुकी थी. उनकी फिल्मों के सिंपल बट कैची डांस स्टेप्स को बच्चों ने खूब पसंद किया. और कहते हैं न एक बार बच्चों ने किसी को पसंद कर लिया फ़िर उसे रोका नहीं जा सकता. लिहाज़ा आज इतने सालों बाद भी सलमान उसी मजबूती के साथ इंडस्ट्री में पैर गड़ाए हुए हैं.

ऐसी ही ‘वॉन्टेड’ से जुड़ी बातें आगे करते हैं. साथ ही आपको फ़िल्म के कुछ सुने-अनसुने-कमसुने किस्से भी पढ़ाएंगे.


# मुसीबतों से घिरी ‘वॉन्टेड’

‘वॉन्टेड’ जब तक बनकर कम्पलीट हुई, तब तक दुनिया भर में इकोनॉमिक मेल्टडाउन शुरू हो गया था. दुनिया भर में मंदी छाई हुई थी. जिस कारण उस वक़्त कोई पिक्चर खरीदने को तैयार न हो. स्मरण करा दूं कि सलमान उस वक्त तक बैक टू बैक फ्लॉप देने वाले एक्टर थे. खैर जो डिस्ट्रीब्यूटर तैयार हों, वो बहुत कम पैसा दें. डिस्ट्रीब्यूटर रुपये की फ़िल्म पैसे में चाह रहे थे. ऐसे में निर्माता बोनी कपूर ने फ़ैसला लिया कि वो खुद ही फ़िल्म डिस्ट्रीब्यूट करेंगे. ऐसा ही किया. अब फ़िल्म का सारा रिस्क उनका था. एक समस्या टली नहीं थी कि दूसरी सामने थी.

फ़िल्म रिलीज़ हुई रमज़ान के आखिरी दिनों में. और ये बात किसी से छुपी नहीं है कि रमज़ान के महीने में ज्यादातर मुस्लिम घरों से लोग फ़िल्में देखने नहीं जाते. कई घरों में तो टीवी भी नहीं देखा जाता है. ट्रेड पंडित भी कहते हैं इस महीने में फ़िल्म इंडस्ट्री को बहुत हानी पहुंचती है. दूसरा ‘वॉन्टेड’ रिलीज़ होने से कुछ वक़्त पहले तक मल्टीप्लेक्स वाले हड़ताल पर चल रहे थे. तो जब हड़ताल टूटी, तब बहुत सी फ़िल्में रिलीज़ होने को तैयार खड़ीं थी. ‘वॉन्टेड’ को सेंसर ने ‘ए’ सर्टीफिकेट दे रखा था. यानी वैसे ही आधे लोग परिवार के साथ फ़िल्म देखने नहीं आने वाले थे. और सबसे बड़ी मुसीबत, सामने यशराज बैनर की फ़िल्म ‘दिल बोले हडिप्पा’ यूथ के बीच पॉपुलर शाहिद कपूर के साथ लगी थी. लेकिन इन सारी मुसीबतों की टेंशन का बोझ ‘वॉन्टेड’ के पहले हाउसफुल शो से ही उतर गया. फ़िल्म चली और ऐसी चली कि आज सालों बाद भी लोग फ़िल्म को याद करते हैं.

'वांटेड' भाई सलमान खान.
‘वांटेड’ भाई सलमान खान.

 #पोक्किरी का रीमेक

‘वॉन्टेड’ 2006 में रिलीज़ हुई महेश बाबू की तेलुगु फ़िल्म ‘पोक्किरी’ का रीमेक थी. इस फ़िल्म को पुरी जगन्नाथ ने बनाया था. ये फ़िल्म वहां खूब चली. जिसके बाद 2007 में प्रभुदेवा ने इस फ़िल्म का तमिल रीमेक बनाया. फ़िल्म में तमिल स्टार विजय ने लीड रोल प्ले किया था. ‘पोक्किरी’ की तरह ही इसका तमिल वर्ज़न भी खूब हिट हुआ. इस सफ़लता के बाद प्रभुदेवा ने इस कहानी को हिंदी में बनाने का भी तय किया. जिसके लिए वो मिलने पहुंचे बोनी कपूर से. बोनी को फ़िल्म की कहानी पसंद आई और वो तुरंत फ़िल्म बनाने को तैयार हो गए. बाद में प्रभुदेवा फ़िल्म की स्क्रिप्ट सुनाने पहुंचे सलमान खान के यहां. सलमान की रोमांटिक फ़िल्में उस वक़्त पिट रहीं थी. वो एक एक्शन फ़िल्म की ही तलाश में थे. तो जैसे ही ‘वॉन्टेड’ की स्क्रिप्ट उनके सामने आई, उन्होंने तुरंत फ़िल्म साइन कर दी.

'पोकरी' फ़िल्म में महेश बाबू.
‘पोकरी’ फ़िल्म में महेश बाबू.

 #जब ओरिजिनल ‘वॉन्टेड’ देखते हुए पूरी फिल्म में सलमान ने आंखें बंद रखी

जैसा कि हमने बताया ‘वॉन्टेड’ असल में महेश बाबू स्टारर फ़िल्म की रीमेक है. इसलिए जब प्रभुदेवा ने फ़िल्म को हिंदी में बनाया तो तैयारी के लिए सलमान को महेश की फ़िल्म दिखाई. सलमान को पता था कि अगर वो महेश बाबू को सीन करते हुए देखेंगे तो उनके अंदर भी उनके अभिनय के कुछ अंश आ जाएंगे. इसलिए उन्होंने अपनी आंखें मूंद ली और पूरी फ़िल्म के दौरान सिर्फ़ डायलॉग सुनते रहे. सलमान का कहना था डायलॉग सुन वो सोचा करते थे कि इस डायलॉग को वो अपने अंदाज में कैसे कहेंगे.


 #रुक रुक के बनी ‘वॉन्टेड’

‘वॉन्टेड’ फ़िल्म की घोषणा डायरेक्टर प्रभुदेवा और निर्माता बोनी कपूर रिलीज़ से सालों पहले कर चुके थे. सलमान के साथ कई हिस्सों की शूटिंग भी हो गई थी. लेकिन फ़िल्म के बाकी एक्टर्स के डेट्स इश्यूज़ के चलते फ़िल्म की शूटिंग महीनों के लिए डिले हो जाती थी. कभी प्रकाश राज की डेट्स नहीं मिलती. तो कभी महेश मांजरेकर की. जिस कारण ‘वॉन्टेड’ बनने में  एक लंबा वक़्त लग गया. इस टाइम गैप का अंदाज़ा आप पूरी फ़िल्म में सलमान के लंबे-छोटे होते बालों से लगा सकते हैं. किसी सीन में उनके बाल लंबे हो जाते हैं, तो उसके अगले ही सीन में फ़िर छोटे.


#शाहरुख खान थे पहली पसंद

प्रभुदेवा ‘वॉन्टेड’ के लिए सलमान से पहले शाहरुख खान से मिले थे. उनके लिए बाकायदा महेश वाली ‘पोक्किरी’ की स्पेशल स्क्रीनिंग भी रखवाई थी. शाहरुख ने प्रभु के साथ बैठकर फ़िल्म देखी भी और फ़िल्म उन्हें बहुत पसंद भी आई. लेकिन शाहरुख ने फिर भी फ़िल्म करने से इनकार कर दिया. प्रभुदेवा ने जब कारण पूछा, तो उन्होंने जवाब दिया. ‘ये फ़िल्म महेश बाबू से अच्छे तरीके से कोई नहीं कर सकता. वो महेश बाबू के कैलिबर को मैच नहीं कर पाएंगे’. शाहरुख के इनकार के बाद प्रभुदेवा सलमान के यहां गए. और आगे क्या हुआ आपको पता ही है.


#फ़िल्म की हीरोइन ने बीच फ़िल्म में की शादी

आयशा टाकिया ने वैसे तो अपने करियर में कई फ़िल्में की हैं. लेकिन उनकी दो ही फ़िल्में ऐसी रही, जो जनता के बीच आज भी याद की जाती हैं. पहली उनकी डेब्यू फ़िल्म ‘टार्ज़न : द वंडर कार’ और दूसरी ‘वॉन्टेड’. आयशा की शादी ‘वॉन्टेड’ की शूटिंग के दौरान हुई थी. ये फ़िल्म हमारे ख्याल से वो भी बहुत याद करती होंगी. क्यूंकि इस फ़िल्म की शूटिंग के बीच में ही 1 मार्च 2009 को आयशा ने समाजवादी पार्टी के नेता अबू आज़मी के बेटे फ़रहान आज़मी से शादी की थी. शादी के बाद आयशा ने फिल्मों में इंटरेस्ट लेना बंद कर दिया. इसलिए दो और फ़िल्में (‘पाठशाला’, ‘मोड़’) कर उन्होंने अपने फ़िल्मी करियर पर विराम लगा दिया.

'वांटेड' फ़िल्म का फ़ोटोशूट. सलमान खान संग आयशा टाकिया.
‘वॉन्टेड’ फ़िल्म का फ़ोटोशूट. सलमान खान संग आयशा टाकिया.

#कमिटमेंट कर दी

2009 में ज़ी टीवी पर ‘डांस इंडिया डांस’ का पहला सीज़न लॉन्च हुआ. और ये सीज़न भयंकर पॉपुलर हुआ. जिसका अंदाज़ा आप इस बात से लगा सकते हैं कि शो के ज्यादातर डांसर्स आज कई डांसिंग रियलिटी शोज़ को जज करते हैं. इस सीज़न में मिथुन चक्रवती शो के ग्रैंड मास्टर थे. और उनका ‘ग्रैंड सलूट’ तो पॉप कल्चर में अलग ही पॉपुलर हो गया था. तो जब सलमान इस शो पर अपनी फ़िल्म प्रमोट करने गए, तब उन्होंने ऐलान कर दिया कि जो भी ये शो जीतेगा उसे वो अपनी फ़िल्म ‘वॉन्टेड’ में डांस करने का मौक़ा देंगे. सबको लगा रियलिटी शोज़ में एक्टर्स अक्सर ऐसी बड़ी बातें बोल जाते हैं. लेकिन फ़िर याद नहीं रखते. लेकिन सलमान ने अपनी कमिटमेंट पूरी की और शो के विजेता सलमान युसुफ खान को ‘वॉन्टेड’ के गाने में डांस का मौक़ा दिया. वाकई में भाई ने कमिटमेंट कर दी तो कर दी.

सलमान खान 'डांस इंडिया डांस' के विनर सलमान युसुफ़ खान के साथ.
सलमान खान ‘डांस इंडिया डांस’ के विनर सलमान युसुफ़ खान के साथ.

#ईद ट्रेंड

‘वॉन्टेड’ ईद के मौके पर रिलीज़ हुई थी. जिसने सलमान के करियर को दूसरी लाइफ दी. वो ‘ईद सलमान के लिए एक्स्ट्रा मुबारक रही. लिहाज़ा इस फ़िल्म से सलमान खान की फ़िल्म का ईद पर आने का ट्रेंड बन गया. 2009 के बाद से सलमान की ज्यादातर फ़िल्में ईद पर रिलीज़ होती आ रही हैं. सलमान के फैन्स कहते हैं कि सलमान की फ़िल्म हमारे लिए उनकी तरफ़ से ईदी होती है.


#शकीरा कनेक्शन

‘यहां भी होगा, वहां भी होगा
अब तो सारे जहां में होगा, मेरा ही जलवा’

‘वॉन्टेड’ फ़िल्म में सलमान खान का ये इंट्रोडक्शन सॉन्ग उनके करियर की भविष्यवाणी साबित हुआ. फ़िल्म के साथ-साथ ‘वॉन्टेड’ में साजिद-वाजिद का म्यूजिक और ख़ासतौर से ये गाना ज़बरदस्त पॉपुलर हुआ. इस गाने में अनिल कपूर और गोविंदा भी सलमान के साथ नज़र आए थे. लेकिन ये बात बहुत कम जानते हैं कि इस गाने का एक शकीरा कनेक्शन भी है. बात ये है कि ‘मेरा ही जलवा’ गाने में ड्रम का खूब इस्तेमाल है. जिसके लिए साजिद-वाजिद ने शकीरा की टीम के ड्रमर आर्ची पैना को हायर किया था. जिसके बाद आर्ची भारत आए और इस गाने को एक अलग ही लेवल पर लेकर चले गए.


#हीरो तो हीरो, विलन भी हिट

‘वॉन्टेड’ से सिर्फ सलमान खान का करियर बूस्ट नहीं हुआ. फ़िल्म के मेन विलन गनी भाई यानी प्रकाश राज भी नार्थ बेल्ट में ज़बरदस्त लोकप्रिय हो गए. हालांकि ‘वॉन्टेड’ से पहले भी प्रकाश जी ‘ख़ाकी’, शक्ति: द पावर’ जैसी फिल्मों में नज़र आ चुके थे. लेकिन ‘वॉन्टेड’ के कॉमिक ईविल गनी भाई का किरदार तो अलग ही बूम कर गया. जिसके बाद प्रकाश राज इसी तरीके के किरदारों में ‘सिंघम’, ‘एंटरटेनमेंट’, ‘दबंग 2′,’ गोलमाल अगेन’ जैसी अनेकों फिल्मों में नज़र आए.


वीडियो: जब ‘ज़रा ज़रा बहकता है’ के लिरिक्स सुनकर दिया मिर्जा घिना गईं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब रवि शास्त्री ने जावेद मियांदाद को जूता लेकर दौड़ा लिया

जब रवि शास्त्री ने जावेद मियांदाद को जूता लेकर दौड़ा लिया

इमरान बीच में ना आते तो...

क़िस्से उस दिग्गज के, जिसकी एक लाइन ने 16 साल के सचिन को पाकिस्तान टूर करा दिया!

क़िस्से उस दिग्गज के, जिसकी एक लाइन ने 16 साल के सचिन को पाकिस्तान टूर करा दिया!

वासू परांजपे, जिन्होंने कहा था- ये लगने वाला प्लेयर नहीं, लगाने वाला प्लेयर है.

इंग्लिश कप्तान ने कहा, इनसे तो नाक रगड़वाउंगा, और फिर इतिहास लिखा गया

इंग्लिश कप्तान ने कहा, इनसे तो नाक रगड़वाउंगा, और फिर इतिहास लिखा गया

विवियन ने डिक्शनरी में 'ग्रॉवल' का मतलब खोजा और 829 रन ठोक दिए.

अंग्रेज़ों ने पास देने से इन्कार क्या किया राजीव गांधी का मंत्री वर्ल्डकप टूर्नामेंट छीन लाया!

अंग्रेज़ों ने पास देने से इन्कार क्या किया राजीव गांधी का मंत्री वर्ल्डकप टूर्नामेंट छीन लाया!

इसमें धीरूभाई अंबानी ने भी मदद की थी.

जब क्रिकेट मैदान के बाद पोस्टर्स में भी जयसूर्या से पिछड़े सचिन-गांगुली!

जब क्रिकेट मैदान के बाद पोस्टर्स में भी जयसूर्या से पिछड़े सचिन-गांगुली!

अमिताभ को भी था जयसूर्या पर ज्यादा भरोसा.

ब्रिटिश अखबारों से खौराकर कैसे वर्ल्ड कप जीत गई टीम इंडिया?

ब्रिटिश अखबारों से खौराकर कैसे वर्ल्ड कप जीत गई टीम इंडिया?

क़िस्सा 1983 वर्ल्ड कप का.

धक्के, गाली और डंडे खाकर किसे खेलते देखने जाते थे कपिल देव?

धक्के, गाली और डंडे खाकर किसे खेलते देखने जाते थे कपिल देव?

कौन थे 1983 वर्ल्ड कप विनर के हीरो?

जब किरमानी ने कपिल से कहा- कप्तान, हमको मार के मरना है!

जब किरमानी ने कपिल से कहा- कप्तान, हमको मार के मरना है!

क़िस्सा वर्ल्ड कप की सबसे 'महान' पारी का.

83 वर्ल्ड कप में किसी टीम से ज्यादा कपिल की अंग्रेजी से डरती थी टीम इंडिया!

83 वर्ल्ड कप में किसी टीम से ज्यादा कपिल की अंग्रेजी से डरती थी टीम इंडिया!

सोचो कुछ, कहो कुछ, समझो कुछ.

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

जानें क्या थी वो भविष्यवाणी.