Submit your post

Follow Us

नहीं रहे अजित जोगी, जिन्हें उनके दुश्मन ने ही मुख्यमंत्री बनाया था

मैकेनिकल इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडलिस्ट, जो  IPS बन गया. जिसने दो साल बाद IAS निकाल लिया. जिसने रिकॉर्ड वक्त तक कलेक्टरी की और फिर एक दिन उसके दुश्मन ने ही उसको सीएम की कुर्सी तक पहुंचाया. ये कहानी है छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री अजीत जोगी की. 

कलेक्टर से सूबे के पहले आदिवासी CM तक अजीत जोगी की कहानी

अंक 1 – तुम्हारे पास ढाई घंटे हैं

1985. शहर इंदौर. रात का वक्त. रेसिडेंसी एरिया स्थित कलेक्टर का बंगला. कलेक्टर साहब सो रहे हैं. अचानक फोन बजता है. दौड़कर एक कर्मचारी उठाता है. बताता है – कलेक्टर साहब सो गए हैं. पर फोन की दूसरी तरफ से अधिकार भरे स्वर में आदेश आता है –  कलेक्टर साहब को उठाइये और बात करवाइये. साहब जगाए जाते हैं. फोन पर आते हैं. दूसरी तरफ से आवाज आती है –

तुम्हारे पास ढाई घंटे हैं. सोच लो. राजनीति में आना है या कलेक्टर ही रहना है. दिग्विजय सिंह लेने आएंगेउनको फैसला बता देना.

अजीत जोगी को वी जॉर्ज का फोन आया और कलेक्टर जोगी नेता जोगी बन गए.
अजीत जोगी को वी जॉर्ज का फोन आया और कलेक्टर जोगी नेता जोगी बन गए.

ये फोन था प्रधानमंत्री राजीव गांधी के पीए वी जॉर्ज का. और फोन उठाने वाले थे अजीत जोगी. नेता नहींकलेक्टर अजीत जोगी. पर 2.30 घंटे बाद जब दिग्विजय सिंह कलेक्टर आवास पहुंचे. तो वो नेता जोगी बन चुके थे. कांग्रेस जॉइन कर ली. कुछ ही दिन बाद उनको कांग्रेस की ऑल इंडिया कमिटी फॉर वेलफेयर ऑफ़ शेड्यूल्ड कास्ट एंड ट्राइब्स के मेंबर बना दिया गया. कुछ ही महीनों में राज्यसभा भेज दिए गए.

 अंक 2 – गॉडफादर अर्जुन और दुश्मन दिग्विजय

दोस्त रहे दिग्विजय दुश्मन बन गए और अर्जुन सिंह बने अजीत जोगी के गॉड फादर.

जोगी कांग्रेस में राजीव की पसंद से आए थे. ये वो वक्त था जब राजीव ओल्ड गार्ड्स को ठिकाने लगा नई टीम बना रहे थे. एमपी से दिग्विजय सिंह उनकी लिस्ट में थे. छ्त्तीसगढ़ जैसे आदिवासी इलाके के लिहाज से जरूरत लगी एक नए लड़के की. जो शुक्ला ब्रदर्स को चुनौती दे सके. इस तरह राजीव एंड कंपनी की नजर गई जोगी पर. एक तेज तर्रार आईएएस. जो बोलता भी बहुत था. काम भी करता था. कांग्रेस जॉइन करने के बाद अजीत की गांधी परिवार से नज़दीकियां बढ़ती रहीं. अजीत जोगी सीधी और शहडोल में लंबे समय तक कलेक्टर रहे.  सीधी में पड़ता है चुरहटजहां के अर्जुन सिंह का उस वक़्त मध्यप्रदेश में सिक्का चलता था. 

एक वक्त आया, जब अजीत जोगी खुद को पिछड़ी और अतिपिछड़ी जातियों का नेता मानने लगे थे.

अजीत जोगी ने हवा का रुख भांप अर्जुन को अपना गॉडफादर बना लिया. बड़ा हाथ सिर पर आया तो अजीत खुद को पिछड़ी और अतिपिछड़ी जातियों का नेता मानने लगे. इतने बड़े कि जो दिग्विजय सिंह उन्हें राजनीति में लाए थेउनके ही खिलाफ मोर्चा खोल दिया. 1993 में जब दिग्विजय सिंह के सीएम बनने का नंबर आया तो जोगी भी दावेदार थे. दावेदारी चली नहीं. पर दिग्विजय जैसा एक दोस्त दुश्मन जरूर बन गया. इस दुश्मनी को याद रखिएगा. ज़िक्र फिर आएगा.

अंक 3 – दुश्मन फिर बना दोस्त

1999 में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनी और फिर साल 2000 में छोटे राज्यों की मांग पूरी हो गई.
1999 में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनी और फिर साल 2000 में छोटे राज्यों की मांग पूरी हो गई.

1999. केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में एनडीए आई. छोटे राज्यों की मांग ने जोर पकड़ी. बीजेपी खुद छोटे राज्यों की समर्थक. जून 2000 आते-आते तय हो गया कि देश में तीन नए राज्य बनेंगे. इनमें एक था मध्यप्रदेश से अलग होकर बनने वाला छत्तीसगढ़. 1924 में कांग्रेस के त्रिपुरी अधिवेशन में पहली बार इसकी मांग उठी थी. जुलाई2000 में पूरी हो सकी. ये अलग होने की प्रक्रिया 31 अक्टूबर 2000 तक चली. पूरा मध्यप्रदेश बेचैनी में डूबा रहा. बेचैनी स्वाभाविक भी थी. 44 साल से उनसे जुड़ा ज़मीन का एक बड़ा हिस्सा अगल हो रहा था. और ज़मीन के इस टुकड़े के साथ विदाई ले रहे थे 90 विधायक.

जब मध्यप्रदेश से अलग होकर छत्तीसगढ़ राज्य बना तो श्यामाचरण शुक्ल, विद्याचरण शुक्ल और मोतीलाल वोरा छत्तीसगढ़ के नेता हो गए.
जब मध्यप्रदेश से अलग होकर छत्तीसगढ़ राज्य बना तो श्यामाचरण शुक्ल, विद्याचरण शुक्ल और मोतीलाल वोरा छत्तीसगढ़ के नेता हो गए.

श्यामाचरण शुक्लविद्याचरण शुक्लराजेंद्र शुक्लमोतीलाल वोरा. ये सब हो गए छत्तीसगढ़ के. अब इनमें से मुखिया कौन होसबसे आगे थे कांग्रेस नेता विद्याचरण शुक्ला. छत्तीसगढ़ राज्य संघर्ष मोर्चा बना लिया. ताकत दिखाने के लिए12 विधायक समेत पर उतरे. चर्चा यहां तक फैली कि वो मुख्यमंत्री बनने के लिए बीजेपी का सपोर्ट ले सकते हैं. बीजेपी को भी शुक्ल में विभीषण नजर आ रहा था. दूसरी तरफ जोर लगाए थे एमपी के पूर्व सीएम मोतीलाल वोरा.

झगड़ा खत्म करने के लिए कांग्रेस हाइकमान ने कहा – छत्तीसगढ़ की पुरानी मांग पूरी करो – आदिवासी सीएम बनाओ. अब प्रमाणपत्र अजीत के पास अनुसूचित जनजाति वाला है. लेकिन इस पर सालों विवाद चला है. कभी कोर्ट उनके खिलाफ फ़ैसला देतीकभी जाति छानबीन समिति की जांच होती. लेकिन 2018 के सितंबर में सुप्रीम कोर्ट ने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट का फ़ैसला पलट दिया कहाअजीत जोगी आदिवासी ही हैं.

सोनिया गांधी के कहने पर दिग्विजय सिंह अजीत जोगी से अपनी दुश्मनी भूल गए और उनको मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचा दिया.
सोनिया गांधी के कहने पर दिग्विजय सिंह अजीत जोगी से अपनी दुश्मनी भूल गए और उनको मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचा दिया.

खैर, 2018 से वापस 2000 चलते हैं. आदिवासी सीएम की मांग को पूरा कर कांग्रेस अपने गढ़ को बचाए रखना चाहती थी. ऐसे लॉटरी खुली अजीत जोगी की. अब सीन ये था कि जोगी को विधायक दल का नेता बनाने के लिए चाहिए था दिग्विजय का समर्थन. क्योंकि विधायक उन्हीं के सगे थे. एक वक्त था जब दिग्विजय ने जोगी के सीएम बनने की भविष्यवाणी की थी. लेकिन अब दोनों में 36 का आंकड़ा था. हाइकमान ने इसका ये इलाज निकाला कि दिग्विजय को ही आधिकारिक तौर पर जोगी का नाम आगे बढ़ाने और जिताने का ज़िम्मा दे दिया. दिल्ली में अब तक कांग्रेस हाइकमान का मतलब सोनिया गांधी होने लगा था. और दिग्विजय उन्हें नाराज़ नहीं करना चाहते थे. तो उन्होंने दुश्मनी पोस्टपोन कर दी. 31 अक्टूबर 2000 को अजीत जोगी छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री बन गए.

Ajit Jogi(Portrait)
अजीत जोगी ने अपने बंगले का नाम भी अपनी बेटी के नाम पर रखा है अनुषा विला.

लेकिन सपना पूरा होने पर भी जोगी को दुनिया अधूरी ही लग रही थी. उन्हें अपनी बेटी याद आने लगी. जो कुछ दिन पहले ही दुनिया छोड़ गई थी. नाम था अनुषा. बेटी से बहुत प्यार करते थेरायगढ़ के कुतरा रोड पर उनका जो बंगला है उसका नाम भी बेटी के नाम पर रखा हैअनुषा विला. जोगी तब इंदौर में रहते थे. बताते हैं कि वो किसी से प्यार करती थीशादी करना चाहती थी लेकिन पिता की मर्ज़ी नहीं थी. बिटिया नहीं मानी. 12 मई 2000. बताते हैं उस दिन सोनिया गांधी इंदौर आई थींपिता सोनिया गांधी की अगवानी में लगे थे. घर में बेटी ने जान दे दी. इंदौर के कब्रिस्तान में उसे दफना दिया गया. अजीत बेटी के दफनाए जा चुके शव को पैतृक गांव गौरेला ले जाना चाहते थे. लेकिन कब्र खोदने की अनुमति नहीं मिल रही थी.

अजीत जोगी के पिता ने ईसाई धर्म अपना लिया था. कहा जाता है कि सोनिया गांधी के पास पहुंचने के लिए अजीत जोगी उसी चर्च में जाते थे, जहां सोनिया जाती थीं.
अजीत जोगी के पिता ने ईसाई धर्म अपना लिया था. कहा जाता है कि सोनिया गांधी के पास पहुंचने के लिए अजीत जोगी हर रविवार उसी चर्च में जाते थे, जहां सोनिया जाती थीं.

अजीत सीएम बने तो इंदौर नगर निगम ने अनुमति दे दी. 5 जून 2001 को रातों-रात कब्र खोदकर देह निकाली गई. राजकीय प्लेन से बिलासपुर ले जाई गई. अजीत जोगी दिल्ली में थे. अचानक कलेक्टर से मिलने रायपुर पहुंच गए और बेटी का शव फिर दफना दिया गया.   दफ़न – इसाइयों में अंतिम संस्कार की एक प्रथा. अजीत जोगी के पिता ने ईसाई धर्म अपना लिया था. ये ईसाई धर्म वाली बात यहां तक पहुंचती है कि जब वो राज्यसभा में थे. तब जान-बूझकर हर रविवार उस गिरजे में जाते जहां सोनिया गांधी जाती थीं. इस तरह वो सोनिया गांधी के करीबी बनना चाहते थे.

अंक 4 – जोगी आएकुर्ता फटा

अजीत जोगी के सीएम बनने से विद्याचरण शुक्ल नाराज हो गए. दिग्विजय जब उन्हें मनाने पहुंचे, तो विद्याचरण के समर्थकों ने दिग्विजय का कुर्ता फाड़ दिया.

लेकिन दिग्विजय को अपने इस कदम की कीमत अपने कुर्ते के रूप में चुकानी पड़ी. सीएम ऑफ रायपुर विद्याचरण शुक्ल बिफर गए. क्योंकि उनकी योजना फ्लॉप हो गई थी. वो शपथ ग्रहण के दिन दिग्विजय और जोगी को गच्चा देने के मूड में थे. 16 विधायक उनके फॉर्म हाउस पर थे भी. मगर दिग्विजय ने पासा फेंका और इसमें 8 जोगी समर्थक हो गए. शुक्ल अपने फॉर्म हाउस में ही बैठे रह गए. उन्हें कोपभवन से बाहर लाने की ज़िम्मेदारी भी दिग्विजय को मिली. गुलाम नबी आजाद के साथ फॉर्म हाउस पर पहुंचे तो शुक्ल के लोगों ने झूमा-झटकी कर दी. दिग्विजय जब मुलाकात करके बाहर आए तो उनके कुर्ते की जेब फटी हुई थी. लेकिन दिग्विजय सिंह ने सिर्फ इतना कहा-

‘राजनीति में ये सब चलते रहता है.’

अंक 5 – मुख्यमंत्री विधायक खरीद रहे हैं

Sonia Gandhi, Shivraj Patil, Ajit Jogi (Group Picture)
2003 में चुनाव के बाद एक स्टिंग सामने आया. अजीत जोगी को पार्टी से बाहर निकालने की सिफारिश हुई, लेकिन सोनिया ने उन्हें नहीं निकाला.

2003. छत्तीसगढ़ में पहले चुनाव की घड़ी आ गई. चुनाव हुए तो कांग्रेस के पास सीटों की संख्या कम थी. बीजेपी को50 सीटें मिली थींजबकि अजित जोगी को सिर्फ 37 सीटें मिली थीं. उस वक्त एक स्टिंग ऑपरेशन में दावा किया गया कि अजित जोगी ने पैसे देकर बीजेपी के विधायकों को खरीदने की कोशिश की है. टेप के सामने आने के बाद अजित जोगी को कांग्रेस से पांच साल के लिए बाहर करने की सिफारिश की गई. हालांकि सोनिया गांधी ने उन्हें निकाला नहीं. जनवरी 2017 में सीबीआई ने इस मामले में अजित जोगी को क्लीन चिट दे दी.

अंक 6 – मुझपर जादू-टोना करवाया

2004 में एक हादसे के बाद अजीत जोगी के पैर को लकवा मार गया और उसके बाद वो फिर कभी बिना वील चेयर के खड़े नहीं हो पाए.
2004 में एक हादसे के बाद अजीत जोगी के पैर को लकवा मार गया और उसके बाद वो फिर कभी बिना वील चेयर के खड़े नहीं हो पाए.

20 अप्रैल, 2004. अजित महासमुद लोकसभा सीट से सांसदी के उम्मीदवार हुए. सामने भारतीय जनता पार्टी के हो चुके विद्याचरण शुक्ल. अजित कांग्रेस महासचिव मेहतर लाल साहू के साथ कार से जा रहे थे. गरियाबंद के पास उनकी कार एक पेड़ से टकरा गई. जोगी के पैर को लकवा मार गया. उसके बाद जोगी कभी व्हील चेयर से उठ नहीं पाए. बाद में उन्होंने कहा था,मेरे ऊपर जादू-टोना किया था किसी ने. इसीलिए गाड़ी भिड़ी.

अंक 7 – जोगी ने मरवाया मेरे बाप को

अजीत जोगी और उनके बेटे अमित जोगी को सीबीआई ने हत्या के मामले में गिरफ्तार किया था.
अजीत जोगी और उनके बेटे अमित जोगी को सीबीआई ने हत्या के मामले में गिरफ्तार किया था.

4 जून 2003 को छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एनसीपी नेता रामअवतार जग्गी की हत्या हो गई. रामअवतार जग्गी के बेटे सतीश जग्गी ने सीएम अजित जोगी और उनके बेटे अमित जोगी का नाम लिया. जोगी सत्ता से बाहर हुए तो रमन सिंह ने मामला सीबीआई को दिया. 2005 में अमित जोगी गिरफ्तार हुए और 2007 में अजित जोगी. केंद्र में सरकार थी कांग्रेस की. अजित ने गिरफ्तारी का ज़िम्मेदार माना कांग्रेस हाइकमान को. हालांकि 2009 में बाप-बेटे दोनों ही निचली अदालत से बरी हुए. ये मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है.

महेंद्र कर्मा के बेटे छविंद्र कर्मा ने भी अजीत जोगी पर संगीन आरोप लगाए थे.

इससे भी संगीन इल्ज़ाम लगाया था छविंद्र कर्मा ने. उनके पिता महेंद्र कर्मा दरभा के झीरम घाटी हमले में मारे गए थे. साथ में मारे गए थे 31 और कांग्रेसी जिनमें विद्याचरण शुक्लनंद कुमार पटेलऔर उदय मुदलियार जैसे नाम थे. छविंद्र ने हमले के तीन साल बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि कांग्रेस नेताओं पर हमला अजित जोगी और अमित जोगी के कहने पर हुआ था. छविंद्र ने कहा था कि उनके पिता भी राज्य के मुख्यमंत्री बनने के दावेदार थे. लेकिन महेंद्र कर्मा को हमेशा डर लगा रहता था कि अजित जोगी के शूटर उन्हें गोली मार देंगे और ऐसा ही हुआ. हालांकि झीरम हमले की जांच पहले एनआईए और फिर सीबीआई ने की और अब भी इस मामले की जांच चल ही रही है.

अंक 8 – एक और खरीद की बातएक और निलंबन की सिफारिश और जनता कांग्रेस बनती है

Untitled
मंतूराम पवार ने नाम वापस ले लिया. कहा गया कि खरीद-फरोख्त हुई है. एक ऑडियो वायरल हुआ और उसमें कहा गया कि आवाज अजीत जोगी, अमित जोगी और रमन सिंह के दामाद पुनीत गुप्ता की है.

2014 में छत्तीसगढ़ के अंतागढ़ में उपचुनाव होना था. कांग्रेस की ओर से मंतूराम पंवार प्रत्याशी थे. उन्होंने नामांकन दाखिल कर दिया. जब नाम वापस लेने के आखिरी दिन मंतूराम ने पार्टी को बिना बताए नाम वापस ले लिया. 2015 के आखिर में एक ऑडियो टेप सामने आयाजिसमें खरीद-फरोख्त की बात थी. आरोप लगे कि टेप में अजित जोगीउनके बेटे अमित जोगी और मुख्यमंत्री रमन सिंह के दामाद पुनीत गुप्ता की आवाज थी. ये बातचीत मंतूराम पंवार के नाम वापस लेने के बारे में थी. इस टेप कांड के सामने आने के बाद छह जनवरी को छत्तीसगढ़ की प्रदेश कांग्रेस कमिटी ने बेटे अमित जोगी को छह साल के लिए पार्टी से निकाल दिया. इसके साथ ही अजित जोगी को भी पार्टी से निकालने की सिफारिश कर दी.

कांग्रेस से अलग होकर अजीत जोगी ने नई पार्टी बना ली छत्तीसगढ़ कांग्रेस.
कांग्रेस से अलग होकर अजीत जोगी ने नई पार्टी बना ली छत्तीसगढ़ कांग्रेस.

आलाकमान इस सिफारिश पर कोई फैसला कर पाताउससे पहले ही 6 जून 2016 को अजित जोगी ने कांग्रेस से अलग होने का फैसला कर लिया. अपने विधानसभा क्षेत्र मरवाही के कोटमी में हजारों लोगों के बीच पत्नी और बेटे के साथ मौजूद अजित जोगी ने कहा कि वो कांग्रेस से अलग होकर नई पार्टी बना रहे हैं. 23 जून 2016 को अजित जोगी ने अपनी नई पार्टी बना ली और इसका नाम रखा छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस .

अंक 9 – आखिरी जीत की आस, जो पूरी नहीं हुई

अजीत जोगी ने मायावती से गठबंधन किया है. मायावती ने भी कहा है कि अगर पार्टी जीतती है तो मुख्यमंत्री अजीत सिंह ही बनेंगे.
अजीत जोगी ने मायावती से गठबंधन किया है. मायावती ने भी कहा है कि अगर पार्टी जीतती है तो मुख्यमंत्री अजीत सिंह ही बनेंगे.

अपने पार्टी बनाने के बाद जोगी वही करने लगे, जो वो हमेशा से चाहते थे. राजनीति. अपने दम पर. 2018 के विधानसभा चुनाव के लिए मायावती और वाम दलों के साथ गठबंधन किया. पूरी उम्मीद थी कि गठबंधन जीता तो जोगी ही सीएम होंगे. लेकिन जीत और सीएम बनने की वो आखिरी आस उनकी पूरी नहीं हो सकी.

29 मई, 2020 को रायपुर के नारायणा अस्पताल में अजीत जोगी की मौत हो गई. जोगी करीब 20 दिन से अस्पताल में भर्ती थे. कार्डियेक अरेस्ट के बाद कोमा में थे. उन्हें होश में लाने के लिए डॉक्टरों ने साउंड थैरेपी भी की लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका.


मुख्यमंत्री: उमा भारती की कुर्सी क्यों गई और कैसे मोहन भागवत ने उनकी वापसी करवाई?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

नमाज़ के कारण मिस्बाह उल हक़ को टीम में नहीं आने देना चाहते थे इंज़माम

क्या है मिस्बाह उल हक़ का अताउल्लाह खान कनेक्शन?

क्या आप जानते हैं शरलॉक होम्स के 'पापा' सर आर्थर कॉनन डॉयल का क्रिकेट कनेक्शन?

कॉनन डॉयल ने झटका था क्रिकेट के भीष्म पितामह का विकेट.

जब कैंसर से जूझ रही मैक्ग्रा की पत्नी के बारे में सरवन ने भद्दी बात कही, वो बोले: गला चीर दूंगा

बीच मैदान में बवाल हो गया.

जब पस्त वेस्ट-इंडीज़ ने शक्तिशाली ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट का सबसे बड़ा कारनामा कर डाला

1644 टेस्ट मैचों के बाद हुआ था यह कमाल, जब एंटीगा में ज़िंदा हो गई 'मुर्दा रबर'.

जब नंबर 10 और 11 के बल्लेबाजों ने सेंचुरी ठोकी और पूरी टीम से ज़्यादा रन बना डाले

भारतीय थे. न उनसे पहले, न उनके बाद ये कारनामा कोई और कर पाया है.

ड्रग्स और गैंगवॉर वाली जगह से निकलकर दुनिया का सबसे बड़ा T20 क्रिकेटर बनने की कहानी!

आईपीएल जैसी लीग में खेलने के लिए अपने बोर्ड से लड़ गया था ये खिलाड़ी.

किस्सा ख़तरनाक थ्रिलर मैच का, जब टीम जीतते-जीतते रह गई और बल्लेबाज़ फूट-फूटकर रोने लगा

रणजी के इतिहास का ये बेस्ट फाइनल मैच था.

जब एक अंग्रेज़ ने चेन्नई में मनाया पोंगल और गावस्कर की टीम को रौंद डाला

रिचर्ड्स और मियांदाद को ज़ीरो पर आउट करने वाला इकलौता बोलर.

विवियन रिचर्ड्स की फैन, वो महिला क्रिकेटर, जो पुरुषों से तेज रन बनाती हैं

कई गोल्ड मेडल जीतने वाली एथलीट, जिन्हें क्रिकेट पसंद नहीं था.

जिस विकेट पर दो दिन में 20 विकेट गिरे, उस पर 226 रन बनाने वाले बल्लेबाज़ की कहानी

जिस बल्लेबाज़ ने अंग्रेज़ों के खिलाफ 'ब्लैकवॉश' करवा दिया.