Submit your post

Follow Us

सफ़ेद चमड़ी दिखाने के चक्कर में हिंदुस्तानी टिकटॉक बना रहे थे, दुनिया ने क्लास लगा दी

टिकटॉक ऐप. वीडियो बनाते हैं इसपे लोग. जो लोग वीडियो नहीं बनाते, वो लोग इस पर जोक और मीम बनाते हैं. वैसे कतई पॉपुलर है अपने देश में. कोई एक ट्रेंड चलता है, तो लोग उस पर हचक के वीडियो बनाने लग जाते हैं. इस बार भी वही हुआ है. लेकिन इस बार इस ट्रेंड की वजह से भद पिट गई है वीडियो बनाने वालों की.

क्या है ऐसा वीडियो में?

वो गाना सुना होगा आपने. व्हाई दिस कोलावेरी कोलावेरी कोलावेरी डी. बहुत पॉपुलर हुआ था एक टाइम पर. इसी गाने से धनुष की पॉपुलैरिटी भी काफी बढ़ी. धनुष कौन? अरे वही अपने बनारसिया कुंदन. जो बड़ी-बड़ी आंखों वाली ज़ोया के इश्क में पागल हो गए थे.

खैर, गाने का नॉस्टैल्जिया अपनी जगह. अभी की बात करते हैं. इस गाने में एक लाइन है,

व्हाईट स्किन गर्ल गर्ल, गर्ल हार्ट ब्लैक. आईज आईज मीट मीट, माई फ्यूचर डार्क.

बोले तो लड़की का रंग गोरा है, लेकिन दिल काला है. आंखें मिलती हैं और मुझे अपना फ्यूचर अंधेरा दिखाई देता है. बस, ये एक लाइन पकड़ी गई और लोगों ने छिछिया दिया.

क्या हुआ है?

एक फ़िल्टर आता है. टिकटॉक वीडियो में. उससे स्किन का रंग एकदम काला-धूसर हो जाता है. लेकिन जैसे ही आप चश्मा पहनेंगे, या फ़िल्टर ऑफ करेंगे, तो आपकी स्किन वापस ‘नॉर्मल’ दिखेगी. अब लोगों ने लगाया ये फ़िल्टर और उस पर चला दी ये लाइन. वीडियो के अंत में सबका रंग वापस ‘गोरा’ हो जाता है. यानी इस तरह के वीडियो में लोग दिखाना ये चाह रहे हैं कि स्किन डार्क थी. तो हम कैसे उदास से बैठे थे. अब हमारा रंग हो गया है झक सफ़ेद, तो तुम देखो हमारा स्टाइल. कई तो ‘ब्लैक’ शब्द आने पर अपनी चमड़ी भी दिखाते हैं वीडियो में.

Wtkd 6
ये ट्रेंड सर्च करने पर लगातार कई वीडियो सामने आते हैं. सभी में एक ही साउंड का इस्तेमाल हुआ है. एक ही कॉन्सेप्ट का. (तस्वीर: टिकटॉक स्क्रीनशॉट)

अब टिकटॉक देश से बाहर भी लोग देखते हैं. तो कई लोगों ने देखा. और लथेड़ कर रख दिया. इनमें से कई ऐसे लोग भी हैं जो अश्वेत हैं. जिनको अंग्रेजी में ‘ब्लैक’ कहा जाता है. उन्होंने फटाफट घसीटा ऐसे लोगों को. फिर बाकी लोगों की भी आंखें खुलीं. उन्होंने भी मैसेज डालने शुरू किए. कि भई ऐसे न बोलो. ये रेसिज्म है. यानी नस्लभेद.

@sameer.omarBlack is not something to be ashamed off 😃 ##greenscreenvideo ##fyp ##foryou ##foryoupage ##black ##darkskin♬ original sound – md_maya

वही नस्लभेद, जो अक्सर अखबारों में पढ़ने को और लगभग रोज़ ड्राइंग रूम में सुनने को मिलता है. जिसमें किसी की नस्ल की वजह से उसे ‘नीचा’ मान लिया जाता है. जो ‘चिंकी’, ‘मोमो’, ‘नरभक्षी’ जैसे शब्द इस्तेमाल किए जाते हैं. लेकिन सांवला रंग तो अपने देश में भी होता है. फिर उसे क्या कहेंगे? जब रंग को लेकर एक ही नस्ल के लोगों में भेदभाव हो, तो उसे ‘कलरिज्म’ कहते हैं. यानी चमड़ी के रंग की वजह से किया जाने वाला भेदभाव. वो भेदभाव जो फेयरनेस क्रीम लगाने वाली लड़की को नहीं झेलना पड़ता. जिसे दफ्तर में घुसते ही नौकरी मिल जाती है. जिसे देखकर डायरेक्टर उसे अपनी हीरोइन बना लेता है. जो क्रीम लगाने वाले लड़कों को माचो मैन बना देती है. परदे में रहने दो, पर्दा न उठाओ आप कहेंगे, गाने पर वीडियो ही तो बनाया है. इसको इतना ‘पॉलिटिसाइज’ करने की क्या ज़रूरत है. तो हम आपको बिठा कर रूहअफ़जा पिलाएंगे. बर्फ डाल के. और फिर बताएंगे, कि ये जो वीडियो में गंद मचाया गया है, ये एक बहुत बड़ी बहस का एक हिस्सा है. बहस जो हुई ब्लैकफेस पर.

@africanjawn like why ? ##neverfitin ##bakingrecipe ##fyp ##natureathome ##tiktoktrending ♬ original sound – md_maya

उन्नीसवीं सदी के अंत और बीसवीं सदी की शुरुआत में जब थिएटर वगैरह में अश्वेत लोग भाग नहीं लेते थे, तब उनके किरदार प्ले करने के लिए श्वेत एक्टर अपने चेहरे पर कालिख मल लेते थे. या पेंट लगा लेते थे. ताकि उनकी त्वचा ब्लैक दिखे. फिर वो एक अश्वेत व्यक्ति की नक़ल करते थे. इसे ही ब्लैकफेस कहा गया.

‘वॉक्स’ वेबसाइट के लिए लिखते हुए जेनी हैरिस ने बताया,

‘ब्लैकफेस का इतिहास मिन्स्ट्रेल शोज़ में भी देखा जाता है. ये उन्नीसवीं सदी के आखिर तक काफी पॉपुलर हो गया था. मिन्स्ट्रेल शो खास तौर पर अश्वेत किरदारों पर आधारित एक कॉमिक प्ले होता था. इसमें श्वेत एक्टर एक अश्वेत व्यक्ति को बेवकूफाना, जोकर जैसा किरदार बना कर दिखाते थे. इस तरह अमेरिका में अश्वेत लोगों को इंसान से कमतर, एक कैरिकेचर बनाकर प्रस्तुत किया जाता था. एक श्वेत ऑडियंस के सामने.’

21 वीं सदी तक आते-आते इस तरह के शो पूरी तरह से नकार दिए गए. लेकिन ब्लैकफेस फिर भी बना रहा. अभी भी अगर कोई श्वेत व्यक्ति अपने चेहरे पर गहरे रंग का मेकअप करता है, तो उसे ब्लैकफेस कहते हैं. थोड़ा सांवला करके खुद को दिखाने पर उसे ब्राउनफेस कहा जाता है. जिस तरह की हल्की भूरी त्वचा भारतीयों/पाकिस्तानियों/अरबों की पाई जाती है. ब्लैकफेस को आज बेहद आपत्तिजनक और नस्लभेदी समझा जाता है. इस तरह के आरोप कैनडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो पर भी लग चुके हैं. जब उन्होंने अलादीन जैसा दिखने के लिए अपने चेहरे पर गहरे रंग का मेकअप किया था.

Trudeau Time Magazine Brownface
टाइम मैगजीन में जस्टिन ट्रूडो की ये तस्वीर छपी. इसके बाद काफी बवाल हुआ था. इस तस्वीर में पगड़ी वाला व्यक्ति जिसका रंग बेहद गहरा सांवला दिख रहा है, वही जस्टिन हैं. (तस्वीर: Time magazine)

अब आप सोचिए. जो लोग इस ट्रेंड को लेकर छीछालेदर कर रहे हैं वीडियो बनाने वालों की, वो क्या गलत हैं?


वीडियो: टिक टॉक पर वायरल इस लड़की की हाथ वाली ट्रिक पर जनता क्यों मीम्स बनाए पड़ी है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

जब भीमसेन जोशी के सामने गाने से डर गए थे मन्ना डे

मन्ना डे के जन्मदिन पर पढ़िए, उनसे जुड़ा ये किस्सा.

ऋषि कपूर के ये 13 गीत सुनकर समझ आता है, ये लवर बॉय पर्दे पर कैसे मेच्योर हुआ

'हमको तो तुमसे है, प्यार.'

इरफ़ान की 15 विदेशी फ़िल्में और सीरीज़ जो टाइम निकालकर देखनी चाहिए

जितने वो इंडिया में पॉपुलर थे, उतने ही इंटरनेशनल दर्शकों के बीच भी.

इरफ़ान के वो 10 धांसू सीरियल जो आपको ज़रूर देखने चाहिए

आपने उनको 'चंद्रकांता' में देखा है, लेकिन क्या 'किरदार' सीरीज़ में देखा है?

रोहित शर्मा किसके लिए ट्रेन की पटरी पर दौड़ते हुए वापिस पिछले स्टेशन आए थे

रोहित शर्मा की लाइफ की 5 मज़ेदार कहानियां.

इरफान के अंतिम संस्कार की 8 तस्वीरें

परिवार के अलावा तिग्मांशु धूलिया से लेकर कपिल शर्मा और मीका सिंह भी पहुंचे थे.

ज़ूम के अलावा और कौन से फ्री ऐप हैं, जिनसे आप वीडियो कॉल कर सकते हैं

वर्क फ्रॉम होम में मीटिंग से लेकर रिश्तेदारों से बात तक, सब वीडियो कॉल पर हो रहा है.

12 फनी मीम: 'एक्स्ट्रैक्शन', 'शोले', 'फूल और कांटे' जैसी फिल्मों के जरिए मुंबई पुलिस ने क्या मैसेज दिए

'एक्सट्रैक्शन' फिल्म पर भी नया कोरोना लॉकडाउन मीम आया है

दुनियाभर में जिसकी किस्सागोई मशहूर है, उस राइटर की ये 15 बातें याद रखने लायक़ हैं

अपनी एक किताब से इन्होंने वो कर दिखाया जो राइटर जीवनभर करने की सोचते हैं.

पंकज त्रिपाठी के हिसाब से ये 8 मूवीज़ और बुक ज़रूर आज़मानी चाहिए

हमारी सीरीज़ 'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशन एक्टर पंकज त्रिपाठी की ओर से.