Submit your post

Follow Us

जब सुनील शेट्टी ने अकेले 128 सेक्स वर्कर्स की मदद की

5 फरवरी, 1996 को बंबई के मशहूर रेड लाइट एरिया कमाठीपुरा में पुलिस ने रेड डाल दी. वजह- एड्स महामारी से बचाव. दुनियाभर से होती हुई ये बीमारी भारत पहुंच चुकी थी. और वेश्यालयों के लिए इससे मुफीद जगह और क्या हो सकती थी. अगर रिपोर्ट्स की मानें, तो सिर्फ बंबई में ही एक लाख से ज़्यादा सेक्स वर्कर्स थीं. कमाठीपुरा रेड में कुल 456 सेक्स वर्कर्स को वहां से निकाला गया. इसमें से 218 महिलाएं नेपाल की थीं. इन नेपाली महिलाओं की मदद बॉलीवुड सुपरस्टार सुनील शेट्टी ने की.

इसकी नौबत क्यों आई?

इस रेड के बाद भारत के अलग-अलग गांवों-शहरों से आईं महिलाओं को एड्स के लिए काम करने वाली संस्थाओं की मदद से उनके शहर वापस भेज दिया गया. नेपाली महिलाओं को कुछ दिन प्रोटेक्टिव कस्टडी में रखकर उनकी एड्स की जांच वगैरह की गई. इंटर प्रेस सर्विस न्यूज़ एजेंसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक इनमें से दो सेक्स वर्कर्स की एड्स संबंधी दिक्कतों की वजह से मौत हो गई. हालांकि ये पता नहीं चल सका कि उनमें से कितनी महिलाएं एआईवी पॉज़िटिव थीं. खैर, इन सेक्स वर्कर्स को नेपाल सरकार वापस लेना नहीं चाहती थी और भारत सरकार इन्हें वेश्यावृत्ति के दलदल में जाने से रोकना चाहती थी. नेपाल सरकार उन्हें कथित तौर पर इसलिए नहीं लेना चाहती थी क्योंकि इन महिलाओं के पास बर्थ सर्टिफिकेट या नेपाली सिटिज़नशिप नहीं थी. लेकिन नेपाली सोशल एक्टिविस्ट अनुराधा कोईराला की मानें, तो भारत सरकार इन एड्स पीड़ित महिलाओं से छुटकारा पाने के लिए इन्हें नेपाल भेजना चाहती थी. मतलब दोनों ओर दिक्कत एड्स को लेकर ही थी. इसी सरकारी दांव-पेच में वो मामला अटका हुआ था.

1996 कमाठीपुरा रेड की तस्वीरें. यहां जितनी महिलाएं पाई गईं उनमें से अधिकतर बड़े शहर में नौकरी का झांसा देकर या जोर-जबरदस्ती से उठाकर वहां ले जाई गई थीं. इनकी उम्र 14 से 30 से साल तक की थी. (फोटो- एपी)
1996 कमाठीपुरा रेड की तस्वीरें. यहां जितनी महिलाएं पाई गईं उनमें से अधिकतर बड़े शहर में नौकरी का झांसा देकर या जोर-जबरदस्ती से उठाकर वहां ले जाई गई थीं. इनकी उम्र 14 से 30 से साल तक की थी. (फोटो- एपी)

सुनील शेट्टी ने कैसे मदद की?

इन दिनों सोशल मीडिया पर पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. इसमें डिजिटल मीडिया वाइस से जुड़ीं एक करेसपॉन्डेंट 1996 में कमाठीपुरा से रेस्क्यू की गईं एक नेपाली महिला से बात कर रही हैं. इस बातचीत में वो महिला बताती है कि जब नेपाली सरकार ने उन लोगों को वापस बुलाने से इन्कार कर दिया, तब सुनील शेट्टी ने इन महिलाओं को नेपाल पहुंचाया. उन्होंने उनमें से 128 महिलाओं को फ्लाइट से नेपाल पहुंचवाया. और इसका पूरा खर्च भी उन्होंने खुद वहन किया.

इन दिनों में ऐसा ही कुछ एक्टर सोनू सूद कर रहे हैं. कोरानावायरस की वजह से लगे लॉकडाउन में प्रवासी मजदूरों का जीवन काफी मुश्किल हो गया है. उनकी रोज़ी-रोटी हर दिन काम करने से आने वाली कमाई से चलती थी. लेकिन लॉकडाउन के दौरान पूरा देश बंद है. उनके पास कोई काम नहीं है. कमाई का कोई जरिया नहीं है. ऐसे में वो लोग अपने-अपने घर वापस जाना चाहते हैं. लेकिन सरकार ने उनके लिए शुरुआत में कोई इंतज़ाम नहीं किया. कई मज़दूर परिवार समेत पैदल ही घर जाने के लिए निकल पड़े. कुछ गिने-चुने लोग पहुंच पाए. कई मजदूरों की रास्ते में मौत हो गई. ऐसे में सोनू ने मुंबई से 10 बसों में 350 प्रवासी मजदूरों को उनके घर कर्नाटक भिजवाया. और आने वाले दिनों में वो बिहार, झारखंड, यूपी और ओड़िशा के प्रवासी मजदूरों के लिए भी ऐसा करने वाले हैं.


वीडियो देखें: सोनू सूद ने प्रवासी मजदूरों के लिए वह काम किया, जो सरकार को करना चाहिए था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

नौशाद ने शकील बदायूंनी को कमरे में बंद कर लिया, तब जाकर 'टाइमलेस' गीत जन्मा

नन्हा मुन्ना राही हूं, मन तड़पत हरि दर्शन को, जैसे कई गीत रचने वाले बदायूंनी का आज जन्मदिन है.

वो गाना जिसे गाते हुए रफी साहब के गले से खून आ गया

मोहम्मद रफी के कुछ रोचक मगर कम चर्चित किस्से.

रफाल तो अब आया, इससे पहले भारत किन-किन फाइटर प्लेन से दुश्मनों का दिल दहलाता था

'इंडियन एयरफोर्स कोई चुन्नु-मुन्नु की सेना नहीं है.'

टेलीग्राम ने 2GB फ़ाइल शेयर करने का ऑप्शन शुरू किया, साथ में वॉट्सऐप के मज़े भी ले लिए

वॉट्सऐप तो बस 16MB की फ़ाइल पर सरेंडर कर देता है

15,000 रुपए के अंदर 32 इंची स्मार्ट टीवी के कितने बेहतर ऑप्शन मौजूद हैं

अब तो टीवी भी बहुत स्मार्ट हो चला है.

कोरोना काल में भी रेलवे ने ये 'तीसमार खां' टाइप काम कर डाले

क्या रेलवे के दिन फिर जाएंगे?

विकास दुबे एनकाउंटर मामले की जांच करने वाले पैनल के तीन सदस्य कौन हैं?

योगी सरकार में एनकाउंटर की जांच को लेकर सवाल उठते रहे हैं.

'इक कुड़ी जिदा नां मुहब्बत' वाले शिव बटालवी ने बताया कि हम सब 'स्लो सुसाइड' के प्रोसेस में हैं

इन्होंने अपनी प्रेमिका के लिए जो 'इश्तेहार' लिखा, वो आज दुनिया गाती है

इस महीने कौन-कौन से फोन लॉन्च हुए, क्या-क्या नया आने वाला है

जुलाई में फ़ोन तो बरसाती मेढक की तरह फुदक रहे हैं!

वो इंडियन फिल्म स्टार्स, जो एक्टर से पहले डॉक्टर हैं

पीएचडी वाले डॉक्टर नहीं, प्रॉपर इलाज करने वाले डॉक्टर.