Submit your post

Follow Us

'लिप्स्टिक अंडर माय बुर्का' रिव्यू : इस फ़िल्म को सिलेबस में डाल देना चाहिए

लिप्स्टिक अंडर माय बुर्का. रत्ना शाह पाठक, कोंकणा सेन शर्मा, अहाना कुमरा और प्लाबिता बोरठाकुर की फ़िल्म. डायरेक्ट किया है अलंकृता श्रीवास्तव ने. चार लड़कियों की कहानी. इन लड़कियों में एक कॉलेज जाते हुए अपने बाप की गुलामी करती है, एक अपने पति की गुलामी करती है, एक दुनिया को गुलाम बनाना चाहती है और चौथी, अधेड़ उम्र की औरत, पानी में बहना चाहती है (एक मर्द के साथ). इन चार मादाओं की कहानी. लिप्स्टिक अंडर माय बुर्का.

बुर्का यानी कपड़े की कतरनों को जोड़कर बनाया गया वो लबादा जो औरत के टन को ऊपर से नीचे तक ढक कर रखता है. आंखें इसलिए खुली छोड़ दी जाती हैं कि कहीं राह चलते किसी गैर-जनाना से न टकरा जाए. वरना वो भी बंद ही कर दी जातीं. उस बुर्के के नीचे एक औरत नहीं, एक अलग दुनिया चल रही होती है. ये बात अगर अप नहीं जानते तो ये फ़िल्म देखकर ज़रूर जान जायेंगे. ये ऐसा है जैसे किताब के कवर पर मैथ्स का स्टीकर लगा हो और अन्दर बायोलॉजी की किताब हो. या फिर वैसा जैसा फ़िल्म में रत्ना पाठक शाह यानी उषा ‘श्लील’ किताब के अन्दर ‘अश्लील’ किताब रखकर पढ़ रही थी. वैसे ही जैसे रेहाना के कमरे की दीवार पर लगे पोस्टर पर लिखा था ‘Education is the key to success’ लेकिन दरवाज़ा बंद हो जाने के बाद उसे पलट कर माइली सायरस  का पोस्टर कर लेती थी. वैसे ही जैसे उसके बुर्के के नीचे घुटने पर फाड़ी हुई जींस और ‘नाइस ड्रेस’ बुलवाने वाले टॉप होते थे. इन लड़कियों के चारों तरफ़ बुर्के ही बुर्के थे. इन बुर्कों से उन्हीं आज़ादी पानी थी और उसके नीचे लगी लिप्स्टिक दुनिया को दिखानी थी. बल्कि दिखानी भी नहीं थी, बस उन लिप्स्टिक लगे होठों को उसी हवा का एक्सपोज़र दिलाना था जो हवा बाकी सभी के नथुने में घुस रही थी.

lipstick all four


बेहतरीन फ़िल्म. ‘लिप्स्टिक अंडर बुर्का’ वही फ़िल्म है जिससे सेंसर बोर्ड को खतरा महसूस हो रहा था. कह रहे थे कि ये फ़िल्म कुछ ज़्यादा ही ‘विमेन सेंट्रिक’ है. फ़िल्म देखने पर मालूम चलता है कि क्यूं सेंसर बोर्ड को चिरी फटी का मनी ऑर्डर आया था. लड़कियों पर बनी फ़िल्म. जिसमें लड़कियां अपनी मर्ज़ी से सब कुछ कर रही हैं. वो अपने पति को ज़लील करती हैं, वो अपनी मर्ज़ी के बगैर हो रही शादी से इनकार करती हैं, वो विधवा होने के बाद अपनी सेक्स की ज़रुरत को किसी के साथ फ़ोन पर पूरा करती हैं और उसके बाद उसे असल ज़िन्दगी में भी उतारना चाहती हैं, वो सिगरेट पीती दिख रही हैं, वो अपनी मर्ज़ी से अपनी सगाई के फंक्शन के दौरान टाइम निकाल के अपने बॉयफ्रेंड के साथ सेक्स कर रही होती हैं, वो अपने उस पति के लिए कंडोम खरीदने जाती है जिसे कंडोम का इस्तेमाल बकवास लगता है, वो अपने पति की इजाज़त के बगैर नौकरी कर रही होती है. ऐसी लड़कियों को एक साथ, एक जगह देखकर सेंसर बोर्ड की बौखलाहट कोई बड़ी बात नहीं है. सेंसर बोर्ड को असल में फ़िल्मी पार्टी सॉंग्स में शो-पीस बनी लड़कियों की आदत है जिनके गर्म वालपेपर मोबाइल पर खूब डाउनलोड किये जाते हैं.


रत्ना पाठक शाह से आप प्यार करने लगेंगे. ‘साराभाई वर्सेज़ साराभाई’ की माया के जैसे ही ये रोल रत्ना पाठक शाह के साथ रहेगा. ‘डेथ इन अ गंज’ के साथ कुछ ही वक़्त पहले डायरेक्टोरियल डेब्यू करने वाली कोंकणा सेन शर्मा के लिए इज्ज़त और बढ़ जाती है. फ़ीमेल ऐक्टर्स में कोंकणा बाकी नामों से मीलों आगे हैं. ओमकारा की बहन, सिड की साथी राइटर, डायन, मिसेज़ तलवार, सभी रोल दिमाग में घुस के बैठे हुए हैं. कोंकणा फ़िल्म-दर-फ़िल्म अपने आप को बीस साबित करती जा रही हैं. इनके अलावा अहाना कुमरा और असम से आईं प्लाबिता ने अपने हिस्से की क्रांतियां की हैं. अहाना को पैसे कमाने हैं, उसके पास कई प्लान्स हैं और उसमें साथ है उसका बॉयफ्रेंड. वहीं प्लाबिता अपने कट्टरपंथी मुस्लिम परिवार से लड़ रही है. वो बुर्के सिलती है, कमरे में पड़ी रहती है, अपना सब कुछ अपने परिवार से छुपाती है. गाना चाहती है, माइली सायरस से इंस्पायर्ड है.

lipstick

फ़िल्म में एकमात्र आज़ादी ही वो मुद्दा नहीं है जिसके बारे में बात की गई है. इसके अलावा और भी बहुत सी चीज़ें हैं जिनपर ध्यान खींचा गया है. पति की मर्ज़ी के ख़िलाफ़ बाहर नौकरी कर रही कोंकणा सेन शर्मा यानी शीरीन प्रेग्नेंसी और अबॉर्शन से परेशान है. वो चाहती है कि पति कंडोम इस्तेमाल करे लेकिन हाय ये ‘मेल ईगो!’. मैरिटल रेप का भयानक चेहरा इस फ़िल्म में देखने को मिलता है. आप शीरीन का दर्द देख रहे होते हैं और उसी वक़्त ये भी सोच रहे होते हैं कि जिस तरह के समाज में हम आज रह रहे हैं, कितनी ही औरतें रोज़ाना ये झेला करती होंगी. और इसी जगह पर ये फ़िल्म अपने होने को जस्टिफाई कर जाती है.

फ़िल्म के लिए अलंकृता श्रीवास्तव को खूब सारा थैंक यू कहा जाना चाहिए. इस बात के लिए भी कि उन्होंने अपनी लड़ाई बीच में नहीं छोड़ी और सेंसर बोर्ड को अपनी मनमानी नहीं करने दी. फ़िल्म रिलीज़ करवाई. पिछले हफ़्ते रिलीज़ हुई जग्गा जासूस के बाद लिप्स्टिक अंडर माय बुर्का के फॉर्म में एक और कमाल की फ़िल्म आई है. ये एक बेहद नई तरह की फ़िल्म है और ये नयापन आते रहना चाहिए. साथ ही इस फ़िल्म को देखने के बाद आप अपने साथ खूब सारी बातें लेकर जाते हैं जिनके बारे में आप बैठ कर कितना ही सोच सकते हैं. उन बातों के बारे में सोचना भी चाहिए. ये फ़िल्म आपकी बुद्धि खोलेगी. ये फ़िल्म आपको इंसान बना सकती है. ऐसी फिल्मों के टिकट खरीदते वक़्त उनपर ‘अडल्ट’ का ठप्पा नहीं बल्कि इन्हें सिलेबस में शामिल करवा दिया जाना चाहिए.


ये भी पढ़ें:

6 विवादित फिल्में जिनमें धाकड़ औरतें देख घबरा गया सेंसर बोर्ड

जब ‘शोले’ ने तोड़ा आनंद बख्शी का सिंगर बनने का सपना

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

कहानी उस एक्टर की, जिसकी एक साथ 6 फ़िल्में 25 हफ्ते तक सिनेमा घरों में चलती रहती थीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

सलमान के पड़ोसी का आरोप, उनके फार्महाउस में गड़ी हैं स्टार्स की लाशें

सलमान के पड़ोसी का आरोप, उनके फार्महाउस में गड़ी हैं स्टार्स की लाशें

सलमान खान ने उन्हीं के खिलाफ डिफेमेशन केस किया था, अब जवाब दिया है.

सुशांत सिंह राजपूत की फिल्मों के 16 बेहतरीन डायलॉग्स, जो ज़िंदगी जीने का तरीका समझाते हैं

सुशांत सिंह राजपूत की फिल्मों के 16 बेहतरीन डायलॉग्स, जो ज़िंदगी जीने का तरीका समझाते हैं

कुछ ऐसे हैं, जिन्हें सुनकर आपको लगेगा जैसे ये आपके लिए ही लिखे गए हों.

22 बातों में जानिए 'पुष्पा' वाले सुपरस्टार अल्लू अर्जुन की पूरी कहानी

22 बातों में जानिए 'पुष्पा' वाले सुपरस्टार अल्लू अर्जुन की पूरी कहानी

वो सुपरस्टार, जिसकी फैमिली में पहले ही 12 स्टार्स हैं.

'सर' वाली एक्ट्रेस ने अंडर आर्म के बाल वाली फोटो डाली, लोग हल्ला करने लगे

'सर' वाली एक्ट्रेस ने अंडर आर्म के बाल वाली फोटो डाली, लोग हल्ला करने लगे

कुछ लोग उनका मैसेज समझ रहे हैं, तो कुछ 'महिला के बदन पर बाल कैसे' वाले थॉट से ग्रसित कमेंट्स कर रहे हैं.

परवीन बाबी के किस्से, जिन्हें डर था कि अमिताभ बच्चन उन्हें मरवा देंगे

परवीन बाबी के किस्से, जिन्हें डर था कि अमिताभ बच्चन उन्हें मरवा देंगे

जिन्होंने हिंदुस्तान को बताया कि एक औरत किसी के साथ रह भी सकती है. खुलेआम. बिना शादी के.

CID के ACP प्रद्युम्न ने बताया, काम नहीं मिल रहा, घर बैठकर थक गए

CID के ACP प्रद्युम्न ने बताया, काम नहीं मिल रहा, घर बैठकर थक गए

'मैं ये नहीं कहूंगा कि मुझे बहुत ऑफर्स मिल रहे हैं. नहीं है, तो नहीं है.'

सलमान से भिड़ने के बाद अब उन्हें बड़ा भाई क्यों बता रहे KRK?

सलमान से भिड़ने के बाद अब उन्हें बड़ा भाई क्यों बता रहे KRK?

KRK के इस ह्रदय परिवर्तन का राज़ क्या है?

2022 में आने वाली 14 एक्शन फिल्में, जिन्हें देखकर आपका माइंडइच ब्लो हो जाएगा

2022 में आने वाली 14 एक्शन फिल्में, जिन्हें देखकर आपका माइंडइच ब्लो हो जाएगा

इस तरह का एक्शन आपने इससे पहले इंडियन सिनेमा में नहीं देखा होगा.

कौन है केतन, जिसके खिलाफ सलमान खान ने डिफेमेशन केस कर दिया है?

कौन है केतन, जिसके खिलाफ सलमान खान ने डिफेमेशन केस कर दिया है?

पड़ोसी केतन ने सलमान के पनवेल वाले फार्महाउस के बारे में कुछ ऐसा बोल दिया, जो उन्हें ठीक नहीं लगा.

अल्लू अर्जुन की 'अला वैकुंठपुरमुलो' को टीवी पर आने से रोकने के लिए किसने खर्चे 8 करोड़?

अल्लू अर्जुन की 'अला वैकुंठपुरमुलो' को टीवी पर आने से रोकने के लिए किसने खर्चे 8 करोड़?

'अला वैकुंठपुरमुलो' के हिंदी रीमेक 'शहज़ादा' में कार्तिक आर्यन और कृति सैनन लीड रोल्स कर रहे हैं.