Submit your post

Follow Us

कामयाब: मूवी रिव्यू

सपोर्टिंग एक्टर्स. साइड एक्टर्स. कैरेक्टर आर्टिस्ट. सुधीर इनको आलुओं की उपमा देता है. सुधीर दे सकता है. क्यूंकि वो खुद आलू है. आलू, जो हर सब्ज़ी में पड़ जाता है. अब आप कहेंगे ये सुधीर कौन है? सुधीर है इस हफ्ते रिलीज़ हुई फिल्म ‘कामयाब’ का नायक, जो कि हकीकत में नायक है ही नहीं. सुधीर जैसे कई आलू हैं इस फिल्म में, जिन्होंने अपने खुद का कैरेक्टर प्ले किया है. बीरबल, अवतार गिल, विजू खोटे, लिलिपुट…

मूवी की शुरुआत में विजू खोटे को श्रद्धांजली भी दी गई है.

# 99 का फेर 

सुधीर एक कैरेक्टर आर्टिस्ट था. फ़िलहाल बूढा है. इसलिए एक्टिंग छोड़ी हुई है. एक्टिंग छोड़ने का कारण एक स्कैंडल भी है. एक इंटरव्यू के दौरान उसे पता चलता है कि वो आज तक 499 मूवीज़ कर चुका है. यूं वो राउंड फिगर के वास्ते फिर से एक्टिंग में उतरना चाहता है. सुधीर एक लड़की का पिता और एक लड़की का नाना भी है. लेकिन रहता अकेले ही है. बावज़ूद इसके कि बेटी और पोती दोनों ही उसके लिए केयरिंग हैं. प्रेम सुधीर भी उनसे करता है, लेकिन वर्क लाइफ बैलेंस नहीं बना पाता और यूं दोनों को दिक करता आया है. कर रहा है.

499 मूवीज़. 1 बाकी. गौर से देखिए मूवीज़ के नाम. डिटेलिंग की तारीफ़ किए बिना नहीं रह पाएंगे.
499 मूवीज़. 1 बाकी. गौर से देखिए मूवीज़ के नाम. डिटेलिंग की तारीफ़ किए बिना नहीं रह पाएंगे.

क्या सुधीर 99 के फेर से बाहर निकल पाता है? क्या उसकी लाइफ का तराजू, रील और रियल लाइफ के पालों में बैलेंस बना पाता है? उत्तर है, हां भी और नहीं भी. कैसे और क्यूं? उत्तर है, मूवी देखिए.

# एक्टिंग में सब इक्कीस 

सुधीर का किरदार निभाने वाले संजय मिश्रा को एक्टिंग करने की एक्टिंग करनी थी. ये थोड़ा मुश्किल काम है. क्यूंकि आप बुरी एक्टिंग तो खैर कर ही नहीं सकते, लेकिन आपको परफेक्ट एक्टिंग करने से भी बचना है. ये एक तलवार की धार पर चलने सा है, और ये कैसे किया जाता है, जानने के लिए आपको ‘कामयाब’ का वो सीन देखना होगा जिसमें संजय मिश्रा की उंगलियां तलवार की धार पर चल रही हैं. लिटररी. और सीन खत्म होने के बाद उनका कूल होकर कहना- ओके करते हैं.

दीपक डोबरियाल कतई प्रफेशनल लगे हैं. कोई नया कलाकार उनके किरदार को परेशान करता है तो एक बंदा रखा हुआ है. बताने आ जाता है, 'सर आपका कॉल आया है.'
दीपक डोबरियाल कतई प्रफेशनल लगे हैं. कोई नया कलाकार उनके किरदार को परेशान करता है तो एक बंदा रखा हुआ है. बताने आ जाता है, ‘सर आपका कॉल आया है.’

दीपक डोबरियाल, दिनेश गुलाटी बने हैं. कास्टिंग डायरेक्टर. प्रफेशनल नज़र आते हैं. इसलिए कामयाब भी हैं. उनका रोल महत्वपूर्ण था और उनकी एक्टिंग बेहतरीन. मूवी में जब पहली बार सुधीर और दिनेश मिलते हैं, उस सीन को देखकर क्लियर हो जाता है कि लगता है कि दीपक डोबरियाल कितने नेचुरल हैं.

# दर्शकों से कनेक्शन  

मूवी की कुल जमा फील ‘हार्ट ब्रेकिंग’ है. एक पॉज़िटिव सी उदासी सेवेंटी एमएम में छाई रहती है. कई जगह लगता है कि काश मूवी का किरदार ये कर लेता, तो ऐसा नहीं होता. या ये नहीं करता, तो ऐसा हो जाता. और जब किसी मूवी में दर्शकों को ऐसा लगे तो वहीं पर मूवी सफल हो जाती है. क्यूंकि इससे सिद्ध होता है कि दर्शक किरदारों से रिलेट कर पाते हैं.

हालांकि ‘कामयाब’ में दर्शक किरदारों से रिलेट तो कर पाते हैं लेकिन उनके इमोशंस से कम कनेक्ट कर पाते हैं. जैसे वो सीन जब सुधीर अपनी पड़ोस की लड़की के साथ बैठा हुआ अपनी बीवी को मिस कर रहा होता है. या वो सीन जब अपनी 500वीं मूवी के पहले सीन में सुधीर को दो दर्ज़न से ज़्यादा रिटेक देने पड़ते हैं. इन सब सीन्स के इमोशन कोशेंट का घड़ा तो बहुत बड़ा था लेकिन था ये आधा भरा. मतलब ये कि इन सब सीन्स में काफी पोटेंशियल था, पर ये उतने इमोशनल हो न सके.

कुछ सीन जितने इंपेक्टफुल हो सकते थे, नहीं हो पाए. जैसे ये सीन जिसमें सुधीर अपनी बेटी को पान पंसद देता है, पर बेटी नहीं लेती.
कुछ सीन जितने इंपेक्टफुल हो सकते थे, नहीं हो पाए. जैसे ये सीन जिसमें सुधीर अपनी बेटी को पान पंसद देता है, पर बेटी नहीं लेती.

हो सकता है कि दर्शकों को मूवी का क्लाइमेक्स कुछ अधूरा लगे, या लगे उसमें कुछ मिसिंग है. लेकिन इस मूवी पर ऐसा ही क्लाईमैक्स फबता. एक सर्कल पूरा करता हुआ. साथ ही इतनी नेचुरल मूवी की अगर एंडिंग थोड़ा सा हाई हो जाता तो वो एंडिंग ऑर्गनिक नहीं लगती. रियल नहीं लगती.

मूवी की शुरुआत एक टीवी प्रोग्राम से होती है. मूवी स्टार्स की बायोग्राफी पर बेस्ड. इसे देखते हुए आपको वो सारे प्रोग्राम याद आ जाते हैं, जो आपने देखे हैं. किसी एक्टर के बारे में जानने के लिए. ये बहुत रियल लगता है. सुधीर के इंटरव्यू के दौरान कैमरामेन अपने मोबाइल पर लगा रहता है. ये भी बहुत रियल लगता है. हमने देखा है तजुर्बा करके. डायरेक्टर हार्दिक मेहता का मूवी को रियल रखने का आग्रह इसे कलात्मक बना ले गया है. उन्हें इस सबके लिए रिसर्च भी काफी करनी पड़ी होगी. हालांकि ये मूवी, एक सेल्फ रेफरेंस लगती है तो कुछ चीज़ें टेक्निकल स्तर पर आसान हो गई होंगी.

# एक डायलॉग का करियर 

विजू खोटे का एक डायलॉग था- गलती से मिस्टेक हो गया. ऐसे ही ए के हंगल का एक डायलॉग था- इतना सन्नाटा क्यूं है भाई? खुद संजय मिश्रा का एक डायलॉग है- धोंडू जस्ट चिल. अच्छा है कि सिर्फ एक डायलॉग से ये सारे कैरेक्टर आर्टिस्ट पहचान में आ जाते हैं. लेकिन बुरा ये है कि ज्यादातर कैरेक्टर आर्टिस्ट के पास सैकड़ों फ़िल्में कर चुकने के बावज़ूद, एक हिट डायलॉग से ज़्यादा कुछ नहीं होता. याद कीजिए, ‘अतिथि कब जाओगे’ के वो सीन्स, जिसमें विजू खोटे से कई बार, इरिटेशन की हद तक, पूछा जाता है- कितने आदमी थे?

पता नहीं इसने ह्यूमर कितना क्रियेट किया, लेकिन डीप डाउन आपको उदास ज़रूर कर गया. यही हाल ‘कामयाब’ में- एंजॉइंग लाइफ और ऑप्शन क्या है!’ डायलॉग का है.

एंजॉइंग लाइफ और ऑप्शन क्या है! (वो कैरेक्टर आर्टिस्ट्स भी अपने को लकी समझते हैं, जिनका एक सीन, एक डायलॉग हिट हो जाए.)
एंजॉइंग लाइफ और ऑप्शन क्या है! (वो कैरेक्टर आर्टिस्ट्स भी अपने को लकी समझते हैं, जिनका एक सीन, एक डायलॉग हिट हो जाए.)

‘कामयाब’ मूवी में एक और डायलॉग है-

ओम पुरी की जगह खाली है, परेश चले गए पॉलिटिक्स में, नसीर भाई लगे हैं थिएटर में, अनुपम लगे रहते हैं ट्विटर में…

ये जितना चुटिला है उतना ही मूवी को अपनी सेंट्रल थीम पर फोकस्ड रखता है. यूं इस मूवी के डायलॉग्स की अच्छी बात ये है कि वो रियलिस्टिक होते हुए भी हिटिंग हैं. कभी सटायर, कभी इमोशन और कभी ह्यूमर पैदा करते हैं.

‘कामयाब’ मूवी में म्यूज़िक और लिरिक्स अगर वैल्यू एडिशन नहीं करते, तो कहानी की लय में व्यवधान भी नहीं बनते.

मूवी के प्रोडक्शन वाले खाने में रेड चिलीज़ लिखा है. शाहरुख़-गौरी की प्रोडक्शन कंपनी. हालांकि वो इस मूवी में शुरुआत से नहीं जुड़े थे. जैसे ‘पीपली लाइव’ से आमिर खान बाद में जुड़े. छोटे बजट की मूवीज़ का बज़ बनाने के लिए ये एक अच्छी प्रेक्टिस है.

ओम शांति ओम में भी शाहरुख़ के दो किरदारों में से एक चरित्र अभिनेता ही रहता है.
ओम शांति ओम में भी शाहरुख़ के दो किरदारों में से एक चरित्र अभिनेता ही रहता है.

# देखें ही देखें 

इसके पहले भी कैरेक्टर आर्टिस्ट्स को सेंटर में रखकर ‘मैं माधुरी दीक्षित बनना चाहती हूं’ और ‘ओम शांति ओम’ जैसी फ़िल्में बनी हैं. लेकिन ऐसा नहीं था कि वे फ़िल्में सिर्फ कैरेक्टर आर्टिस्ट के स्ट्रगल को ही पोट्रे कर रही हों. ‘कामयाब’ इस मुहाज़ पर एक रेयर फिल्म साबित होती है. इसलिए बिना कोई कन्फ्यूजन पाले देख सकते हैं. देख ही डालिए.


वीडियो देखें:

गिप्पी ग्रेवाल ने बताया कैसे करते हैं, इंटरनेशनल सोशल मीडिया स्टार्स के साथ कोलैबरेशन-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

जब प्रेमचंद रुआंसे होकर बोले, 'मेरी इज्जत करते हो, तो मेरी ये फिल्म कभी न देखना.'

वो 5 मौके जब हिंदी के साहित्यकारों ने हिंदी फिल्मों में अपनी किस्मत आजमाई.

अक्षय ने 1.5 करोड़ डोनेट किए, अब शाहरुख़-सलमान समेत इन 5 एक्टर्स की चैरिटी भी जान लो

कुछ एक्टर्स तो दान-पुण्य करके उसके बारे में बात करना भी पसंद नहीं करते.

पवन सिंह का होली वाला नया गाना 'कमरिया' ऐसा क्या खास है, जो यूट्यूब की ऐसी-तैसी हो गई?

लगे हाथ ये भी जान लीजिए कि कौन-कौन से बॉलीवुड सुपरस्टार्स हैं, जिन्होंने भोजपुरी फिल्मों में काम किया है.

अभिजीत सावंत से सलमान अली तक, अब क्या कर रहे हैं इंडियन आइडल के ये विनर?

कई विनर्स तो म्यूजिक इंडस्ट्री से पूरी तरह से गायब हो चुके हैं.

श्रीदेवी के वो 11 गाने, जो उन्हें हमेशा ज़िंदा रखेंगे

इन गानों ने आज ख़ुशी देने की जगह रुला दिया है.

ट्रंप जिस कार को लेकर भारत आए हैं, उसकी ये 11 खासियतें एकदम बेजोड़ हैं

ट्रंप की इस कार का नाम है- The Beast.

आयुष्मान खुराना और जीतू से पहले ये 14 मशहूर बॉलीवुड एक्टर्स बन चुके हैं समलैंगिक

'शोले' से लेकर 'दोस्ती' मूवी के बारे में कुछ समीक्षक और विचारक जो कहते हैं, वो गे कम्युनिटी को और सक्षम करता है.

कैसा होता है अमेरिकी राष्ट्रपति का विमान 'एयर फोर्स वन', जिसका एक बार उड़ने का खर्चा सवा करोड़ है!

न्यूक्लियर अटैक हुआ, क्या तब भी राष्ट्रपति को बचा ले जाएगा ये विमान?

'उड़ी' बनाने वाले अब कंगना को लेकर धांसू वॉर मूवी 'तेजस' बना रहे हैं

जानिए मूवी से जुड़ी 5 ख़ास बातें.

कौन थे वेंडल रॉड्रिक्स, जिन्होंने दीपिका को रातों-रात मॉडल और फिर स्टार बना दिया?

वेंडल रॉड्रिक्स नहीं रहे.