Submit your post

Follow Us

फिल्म रिव्यू: गॉन केश

29 मार्च को ‘नोटबुक’ और जंगली के साथ एक और फिल्म रिलीज़ हुई. नाम है ‘ गॉन केश’. गॉन (Gone) अंग्रेज़ी का शब्द है, जिसका मतलब चले जाने से है. केश माने बाल. यानी ये फिल्म गंजेपन के बारे में है. कासिम खालो डायरेक्टेड इस फिल्म की कहानी कुछ ऐसी है-

बंगाल के सिलीगुड़ी में एक ऐवरेज मिडल क्लास फैमिली रहती है. मम्मी-पापा और बेटी. बाप एक लोकल घड़ियों की दुकान लगाता है. मां घर चलाती है. और बेटी इनाक्षी को एलोपीशिया है. एलोपीशिया मतलब वो बीमारी जिसमें सिर के बाल झड़ जाते हैं. इस लड़की को सबसे ज़्यादा डांस करना पसंद है. जिसके लिए वो अपनी नौकरी तक छोड़ देती है. साथ में एक लड़का है, जो इस लड़की को पसंद करता है. तीन लोगों की स्ट्रगल उसी एक लड़की के लिए चल रही है. इस लड़की के मां-बाप का एक 24 साल पुराना सपना है. आगरा जाने का. ताज देखने का. प्लान पहली बार एयरोप्लेन में बैठने का भी है. लेकिन सबसे इंपॉर्टेंट है वो लड़की, जो इस बीमारी जूझ रही है. जो एक समय के बाद वो अपना सारा दुख तज देती है. नीयती मानकर आगे बढ़ जाती है. ये सब इतनी आसानी से हो जाता है कि पचता ही नहीं है.

फिल्म के एक सीन में पिता का रोल कर रहे विपिन शर्मा और मां बनीं दीपिका अमीन के साथ श्वेता त्रिपाठी.
फिल्म के एक सीन में पिता का रोल कर रहे विपिन शर्मा और मां बनीं दीपिका अमीन के साथ श्वेता त्रिपाठी.

एक्टिंग के मामले में ये फिल्म ठीक है लेकिन समस्या ये है कि सिर्फ इसी मामले में ठीक है. श्वेता त्रिपाठी अपने किरदार में दांत गड़ाकर बैठी लगती हैं. लेकिन वो किसी किरदार पर तब फबेगा, जब कहानी आपसे वैसा कुछ करने की मांग करेगी. यहां वो डीमांड नहीं है. इनाक्षी के पापा के रोल में हैं विपिन शर्मा और मां के रोल में हैं दीपिका अमीन. ये वो किरदार हैं, जिनकी वजह से फिल्म की खूबसूरती बढ़ती है. इमोशन स्क्रीन पर दिखता है. विपिन शर्मा शायद पहली बार इतने स्वीट रोल में नज़र आ रहे हैं.

टीवीएफ वाले जीतू इस फिल्म से अपना सिनेमाई करियर शुरू कर रहे हैं.
टी.वी.एफ. वाले जीतू इस फिल्म से अपना सिनेमाई करियर शुरू कर रहे हैं.

फिल्म के डायलॉग्स बिलकुल बोलचाल की भाषा में हैं. और जिस तरह की मिडल क्लास फैमिली दिखाई गई है वो असलियत के बहुत करीब है. जिससे आप फटाक से कनेक्ट कर लेते हैं. शुरुआत से लेकर आखिर तक फिल्म कहीं भी सरप्राइज़ नहीं करती है. एक ही टोन में चलती है रहती है. ऊपर से लंबी बहुत है. इसलिए देखते वक्त कुछ हरारत सी महसूस होने लगती है. गाने भी ठीक-ठाक से हैं. ऐसा कुछ नहीं जो याद रह जाए. सिनेमैटोग्राफी रोड वाले सीन्स में इंट्रेस्टिंग लगती है. जब सड़क पर चल रहे आदमी को दिखाया जाता है, तब ऐसा लगता है जैसे कोई अपने छत पर खड़े होकर ये सब देख रहा है.

ऊपर जिस तरह की सिनेमैटोग्रफी का ज़िक्र हो रहा था, उसका नमूना आप यहां देख सकते हैं.
ऊपर जिस तरह की सिनेमैटोग्रफी का ज़िक्र हो रहा था, उसका एक नमूना आप यहां देख सकते हैं.

इस फिल्म में एक बाल झड़ जाने जैसे बहुत ही आम समस्या को उठाया गया है. लेकिन उसे किसी लड़के पर सेट करने के बदले एक लड़की को कहानी में बुनना फिल्म को एक एक्स्ट्रा पॉइंट दिलवाता है. फिल्म में एकदम नैचुलर और सिचुएशनल कॉमेडी है. जो फर्जी के बजाए फनी लगता है. फिल्म को देखते हुए कुछ बातें खलती हैं. जैसे इनाक्षी को शहर का बेस्ट डांसर बताया जाता है. लेकिन एक ड्रीम सीक्वेंस को छोड़कर उसे कहीं भी डांस करते नहीं दिखाया गया है.

श्वेता त्रिपाठी का किरदार फिल्म में एक स्कूल जाने वाली बच्ची से लेकर एक एडल्ट होने तक का सफर तय करता है.
श्वेता त्रिपाठी का किरदार फिल्म में एक स्कूल जाने वाली बच्ची से लेकर एक एडल्ट होने तक का सफर तय करता है.

‘गॉन केश’ में एक अच्छी मोटिवेशनल फिल्म बनने के साले गुण है, बावजूद इसके वो प्रभाव नहीं डाल पाती. फिल्म देखते वक्त कहीं भी ऐसा कोई भी मौका नहीं आता है, जब स्क्रीनप्ले की ताजगी आपको वापस कहानी की ओर ले जाए. एकाध जगह आपका इंट्रेस्ट जगता है लेकिन इसकी रफ्तार सारा गुड़ गोबर करने का काम करती है. ‘गॉन केश’ एक अहम और आम मसले पर बनी एवरेज लेकिन स्वीट फिल्म है. फिल्मों में ऐसे मां-बाप शायद ही आपने पहले कभी देखे होंगे. फिल्म कमज़ोर होते हुए भी ताजी है. लेकिन इन सभी चीज़ों को मिलाकर भी ‘गॉन केश’ इतनी अट्रैक्टिव नहीं हो पाती, कि आम जनता को अपनी ओर खींच पाए. या खिंची हुई जनता को लंबे समय तक एंटरटेन कर पाए.

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

फिल्म '83' से क्रिकेटर्स के रोल में इन 15 एक्टर्स का लुक देखकर माथा ठीक हो जाएगा

रणवीर सिंह से लेकर हार्डी संधू और एमी विर्क समेत इन 15 एक्टर्स को आप पहचान ही नहीं पाएंगे.

शाहरुख खान से कार्तिक आर्यन तक इन सुपरस्टार्स के स्ट्रगल के किस्से हैरान कर देंगे

किसी ने भूखे पेट दिन गुजारे तो किसी ने मक्खी वाली लस्सी तक पी.

जब रमेश सिप्पी की 'शक्ति' देखकर कहा गया,'दिलीप कुमार अमिताभ बच्चन को नाश्ते में खा गए'

जानिए जावेद अख्तर ने क्यों कहा, 'शक्ति में अगर अमिताभ की जगह कोई और हीरो होता, तो फिल्म ज़्यादा पैसे कमाती?'

जब देव आनंद के भाई अपना चोगा उतारकर फ्लश में बहाते हुए बोले,'ओशो फ्रॉड हैं'

गाइड के डायरेक्टर के 3 किस्से, जिनकी मौत पर देव आनंद बोले- रोऊंगा नहीं.

2020 में एमेज़ॉन प्राइम लाएगा ये 14 धाकड़ वेब सीरीज़, जो मस्ट वॉच हैं

इन सीरीज़ों में सैफ अली खान से लेकर अभिषेक बच्चन और मनोज बाजपेयी काम कर रहे हैं.

क्यों अमिताभ बच्चन की इस फिल्म को लेकर आपको भयानक एक्साइटेड होना चाहिए?

ये फिल्म वो आदमी डायरेक्ट कर रहा है जिसकी फिल्में दर्शकों की हालत खराब कर देती हैं.

सआदत हसन मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

जानिए मंटो को कैसे जाना जाए.

नेटफ्लिक्स ने इस साल इंडियन दर्शकों के लिए कुछ भयानक प्लान किया है

1 साल, 18 एक्टर्स और 4 धांसू फिल्में.

'एवेंजर्स' बनाने वालों के साथ काम करेंगी प्रियंका, साथ में 'द फैमिली मैन' के डायरेक्टर भी गए

एक ही प्रोजेक्ट पर काम करने के बावजूद राज एंड डीके के साथ काम नहीं कर पाएंगी प्रियंका चोपड़ा.

पेप्सी को टैगलाइन देने वाले शहीद विक्रम बत्रा की बायोपिक की 9 शानदार बातें

सिद्धार्थ मल्होत्रा अपने करियर में डबल रोल और बायोपिक दोनों पहली बार कर रहे हैं.