Submit your post

Follow Us

ट्विटर, वॉट्सऐप, गूगल मैप जैसे पॉपुलर ऐप के देसी वर्ज़न इनका विकल्प बनने के कितने लायक हैं?

पिछले साल भारत सरकार ने बड़ी संख्या में चाइनीज ऐप्स को बैन किया था. तब से इन ऐप्स के बहुत सारे देसी वर्ज़न मार्केट में आए हैं. टिकटॉक के देसी वर्ज़न की संख्या तो काफी ज्यादा है. चाइनीज ऐप्स के साथ-साथ पॉपुलर अमेरिकी ऐप्स और सर्विस जैसे ट्विटर, गूगल मैप, गूगल ड्राइव, वॉट्सऐप वग़ैरा के भी इंडियन वर्ज़न गूगल प्ले स्टोर और ऐपल ऐप स्टोर पर लॉन्च हुए हैं. हम आपको यहां पर उन देसी ऐप्स के बारे में बताएंगे जिनकी हालिया दिनों में बड़ी चर्चा हुई है.

वॉट्सऐप का देसी विकल्प: Sandes

Sandes Gims
संदेस ऐप को NIC ने बनाया है. (फ़ोटो: Mohammad Faisal/The Lallantop)

भारत सरकार ने संदेस ऐप बनाया है. एंड-टु-एंड एन्क्रिप्शन से लैस ये ऐप वॉट्सऐप का देसी विकल्प बताया जाता है. शुरुआत में इस ऐप को सरकारी कर्मचारी आधिकारिक बातचीत के लिए टेस्ट कर रहे थे. अब ये आम पब्लिक के लिए चालू हो गया है. ये ऐपल ऐप स्टोर पर उपलब्ध है और एंड्रॉयड यूजर इसे gims.gov.in वेबसाइट पर जाकर डाउनलोड कर सकते हैं. वॉट्सऐप की ही तरह संदेस एक इंस्टेंट मैसेजिंग सर्विस है. ऐप पर चैट और ग्रुप चैट के साथ-साथ ऑडियो और वीडियो कॉलिंग की भी सुविधा दी गई है. वॉट्सऐप की तरह यूजर यहां भी फ़ोटो, वीडियो, डॉक्यूमेंट्स, ऑडियो और कॉन्टैक्ट वग़ैरा आपस में साझा कर सकते हैं. संदेस कैसे इंस्टॉल करना है और कैसे अकाउंट बनाना है, ये जानने के लिए यहां पर क्लिक करिए.

गूगल ड्राइव और वीट्रांसफ़र का देसी विकल्प: Digiboxx

Digiboxx
Digiboxx की वेबसाइट का स्क्रीनशॉट.

गूगल ड्राइव का देसी विकल्प डिजीबॉक्स पिछले साल लॉन्च हुआ था. नीति आयोग के CEO अमिताभ कांत ने इसका ऐलान ट्विटर पर किया था. डिजीबॉक्स में आप अपनी फाइल को स्टोर कर सकते हैं, उन्हें सर्च करके ढूंढ सकते हैं और उनको फ़ोल्डर में बांट कर भी रख सकते हैं- ठीक गूगल ड्राइव की तरह. इस ऐप पर फ्री और पेड दोनों तरह के अकाउंट मौजूद हैं. फ्री यूजर को 20GB का स्पेस मिलता है और प्लान की स्टार्टिंग 30 रुपये महीना से शुरू होती है जिसमें बाकी फीचर के साथ 2TB का स्पेस मिलता है. इसके साथ ही डिजीबॉक्स में वीट्रांसफ़र जैसा इंस्टाशेयर नाम का फाइल शेयरिंग सिस्टम भी है. इसकी मदद से आप बिना अकाउंट बनाए हुए ही बड़ी-बड़ी फाइल दूसरों के साथ साझा कर सकते हैं.

क्लबहाउस का देसी विकल्प: Leher

Leher
Leher ऐप का स्क्रीनशॉट.

इस साल ऑडियो सोशल मीडिया प्लैट्फॉर्म क्लबहाउस बहुत चर्चा में रहा है. मगर ऐप के इन्वाइट-ओन्ली फीचर की वजह से हर कोई इस पर अकाउंट नहीं बना पा रहा है. ऐसे में क्लबहाउस का देसी वर्ज़न ‘लहर’ एक ऑप्शन है. क्लबहाउस की तरह यहां भी ऑडियो चैट रूम हैं, जहां आप अपने दोस्तों के साथ बातचीत कर सकते हैं, सेमीनार अटेन्ड कर सकते हैं और अपनी पसंद के टॉपिक के चैटरूम को सुन सकते हैं. लहर और क्लबहाउस में सबसे बड़ा फर्क ये है कि लहर एक ऑडियो सोशल मीडिया प्लैट्फॉर्म न होकर ऑडियो-वीडियो प्लैट्फॉर्म है. क्लबहाउस जहां सिर्फ़ iOS पर मौजूद है, लहर एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए भी मौजूद है. क्लबहाउस के बारे में डीटेल में जानने के लिए यहां पर क्लिक करिए.

ट्विटर के देसी विकल्प: Tooter और Koo

Lt Modi Tooter
मोदी जी का टूटर अकाउंट जो असल में एक बॉट है.

ट्विटर के दो देसी विकल्प इंडिया में मौजूद हैं. पहले आया था टूटर जो Mastadon प्रोजेक्ट से निकला हुआ प्रोडक्ट है. Mastadon क्या है? एक ओपन सोर्स सेल्फ़ होस्टेड सोशल नेटवर्क सर्विस. मतलब कि जहां बाक़ी सोशल नेटवर्क अपनी कंपनी के सर्वर पर होस्ट होते हैं, Mastadon पर लोग अपना खुद का सर्वर जोड़ सकते हैं. या फिर किसी दूसरे बंदे के सर्वर पर अकाउंट बना सकते हैं. टूटर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत बहुत सारे सेलेब्रिटी के अकाउंट होने की वजह से इसने तूल पकड़ा था. मगर ये सब के सब बॉट अकाउंट निकले जो इनके ट्वीट को यहां पर पोस्ट कर रहे थे. इसके बारे में और जानने के लिए यहां पर क्लिक करिए.

What Is Koo App
इंडिया का देसी ट्विटर कहा जाने वाला कू ऐप क्या है?

इसके बाद आया कू ऐप. ये अच्छा खासा सोशल मीडिया प्लैट्फॉर्म है और इसे बीजेपी से जुड़े बड़े-बड़े नेता प्रोमोट कर रहे हैं. इनके असली वाले अकाउंट यहां पर हैं. कू ऐप की थीम और लुक ट्विटर से थोड़ा अलग है मगर काम वही है. यहां पर लोग एक दूसरे को फॉलो कर सकते हैं, पोल कर सकते हैं और फ़ोटो, ऑडियो और वीडियो वग़ैरा शेयर कर सकते हैं. ट्विटर की ही तरह कू ऐप पर भी डायरेक्ट मैसेज का फीचर है. अपनी बात कहने के लिए यूजर्स के पास 400 कैरेक्टर की लिमिट होती है. इसकी खास बात ये है कि यहां पर बहुत सारी भारतीय भाषाओं का सपोर्ट है. इसके बारे में और जानने के लिए यहां पर क्लिक करिए.

गूगल मैप और ऐपल मैप का देसी विकल्प: MapMyIndia

Mapmyindia
Mapmyindia वेबसाइट की वेबसाइट.

अगर आपको मैप का देसी विकल्प चाहिए तो मैप-माई-इंडिया एक अच्छा ऑप्शन है. मगर यहां पर सिर्फ़ और सिर्फ़ इंडिया का ही मैप मौजूद है. इसके साथ ही गूगल मैप और ऐपल मैप के बहुत सारे ज़रूरी फीचर यहां पर मौजूद नहीं हैं. मैप-माई-इंडिया ने ISRO के साथ मिलकर भारत का नक्शा तैयार किया है. कंपनी के CEO रोहन वर्मा के मुताबिक, इनके प्लैट्फॉर्म पर मैप-माई-इंडिया के डिजिटल मैप और ISRO की सैटेलाइट इमेज और प्लैनेट के डेटा का संगम मिलता है. अभी के लिए आप एक डिजिटल मैप पर इस्तेमाल की जाने वाली बेसिक चीज़ें जैसे किसी जगह को ढूंढना और दो जगह के बीच की दूरी नापने जैसे काम यहां पर कर सकते हैं.

इन ऐप के अलावा और भी बहुत से भारतीय ऐप हैं जो चाइनीज या अमेरिकी ऐप के देसी विकल्प हैं. इनमें FAU-G गेम शामिल है, जिसके PUBG मोबाइल गेम का विकल्प होने का दावा किया जा रहा था. हालांकि इसने सभी को निराश किया. इसके अलावा CamScanner ऐप की जगह पर Carbon Scanner ऐप मौजूद है, ShareIt की जगह पर ZShare जैसे बहुत से ऐप हैं, फ़ेसबुक और इंस्टाग्राम की जगह पर Elyments ऐप है. मगर ये ऐप इतना ज़्यादा फ़र्क नहीं पैदा कर पाए.

वीडियो: मोदी सरकार वॉट्सऐप का जो देसी विकल्प लाई है, उसके फीचर्स के बारे में जानिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

Realme X7 Pro: ये तो वनप्लस नॉर्ड का बड़ा भाई लगता है!

पहली नज़र में कैसा लगा Realme X7 Pro स्मार्टफोन, आइए बताते हैं.

फिल्म रिव्यू- डूब: नो बेड ऑफ रोजेज़

इरफान के गुज़रने के बाद उनकी पहली फिल्म रिलीज़ हुई है. और 'डूब' का अर्थ वही है, जो आप समझ रहे हैं.

मूवी रिव्यू: मास्साब

नेक कोशिश वाली जो मुट्ठीभर फ़िल्में बनती हैं, उनमें इस फिल्म का नाम लिख लीजिए.

आयरन मैन, स्पाइडर मैन छोड़िए, बचपन में टीवी पर आने वाले ये 5 देसी सुपरहीरो याद हैं आपको?

उस वक़्त का टीवी आज से ज़्यादा स्मार्ट था. आज के मुकाबले कंटेंट कम था लेकिन जितना था, लाजवाब था.

'ओ बेटा जी' वाले भगवान दादा की 34 बातें: जिन्हें देख अमिताभ, गोविंदा, ऋषि कपूर नाचना सीखे!

हिंदी सिनेमा के इन बड़े विरले एक्टर को याद कर रहे हैं.

FAU-G गेम रिव्यू : एक ही बटन पीटते-पीटते थक गया हूं ब्रो!

अच्छे मौक़े को गंवाना कोई इनसे सीखे.

मूवी रिव्यू: दी व्हाइट टाइगर

कई पीढ़ियों में एक बार पैदा होता है व्हाइट टाइगर, इसलिए खास है. पर क्या फिल्म के बारे में भी ये कहा जा सकता है?

फिल्म रिव्यू- मैडम चीफ मिनिस्टर

मैडम चीफ मिनिस्टर जिस ताबड़तोड़ तरीके से शुरू होती है, वो खत्म होते-होते वापस उतनी ही दिलचस्प और मज़ेदार हो जाती है. मगर दिक्कत का सबब है वो सब, जो शुरुआत और अंत के बीच घटता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू- तांडव

'तांडव' बड़े प्रोडक्शन लेवल पर बनी एक छिछली पॉलिटिकल थ्रिलर है, जिसे लगता है कि वो बहुत डीप है.

मूवी रिव्यू: त्रिभंग

कैसा रहा काजोल का डिजिटल डेब्यू?