Submit your post

Follow Us

'भारत' से पहले बनी वो दस हिंदी फ़िल्में, जो कोरियन फिल्मों की हूबहू कॉपी थी

5
शेयर्स

अभी-अभी सलमान खान की फिल्म ‘भारत’ रिलीज़ हुई है. ये 2014 में आई कोरियन फिल्म ‘ओड टू माय फादर’ की ऑफिशियल रीमेक है. ये फिल्म कोरिया में ब्लॉकबस्टर साबित हुई थी. इसलिए इसे उठाकर इंडिया के हिसाब से ढ़ाल दिया गया और नाम दिया गया ‘भारत’. ‘भारत’ इंडिया में भी खूब पसंद की जा रही है. फिल्म ने 9 दिनों में 180 करोड़ रुपए से ज़्यादा का कारोबार कर लिया है. लेकिन ‘भारत’ पहली फिल्म नहीं है, जो किसी कोरियाई फिल्म से प्रेरित है. इससे पहले अमिताभ बच्चन से लेकर अक्षय कुमार, जॉन अब्राहम और खुद सलमान कोरियाई फिल्मों के रीमेक में काम कर चुके हैं. हम आपको ऐसी 10 हिंदी फिल्मों के बारे में बताएंगे, जो किसी न किसी कोरियन फिल्म से प्रेरित हैं.

1) ज़िंदा (2006)- संजय दत्त और जॉन अब्राहम स्टारर ये फिल्म 2003 में आई फिल्म ‘ओल्डबॉय’ की रीमेक थी. दिलचस्प बात ये कि ये फिल्म 1996-98 के बीच छपे जापानी कॉमिक (ग्रैफिक) नॉवल ‘ओल्डबॉय’ पर बेस्ड थी. इसके इंडियन वर्ज़न को संजय गुप्ता ने डायरेक्ट किया था. ये एक बदले की कहानी थी, जो एक्शन और थ्रिल से भरपूर थी. 2013 में इसी कहानी पर ऑस्कर विनर स्पाइक ली ने जोश ब्रोलीन के साथ ‘ओल्डबॉय’ नाम की ही फिल्म बनाई थी.

फिल्म 'ज़िंदा' और ओरिजिनल कोरियन फिल्म 'ओल्डबॉय' के पोस्टर्स.
फिल्म ‘ज़िंदा’ और ओरिजिनल कोरियन फिल्म ‘ओल्डबॉय’ के पोस्टर्स.

2) आवारापन (2007)- मोहित सूरी डायरेक्टेड ये फिल्म इमरान हाशमी के करियर की बेहतरीन फिल्मों में गिनी जाती है. ये 2005 में आई  एक्शन फिल्म ‘अ बिटरस्वीट लाइफ’ से प्रेरित थी लेकिन ओरिजिनल फिल्म को कोई क्रेडिट नहीं दिया गया. इस फिल्म के गाने इंडिया और पाकिस्तान के आर्टिस्टों ने मिलकर बनाए थे, जो बहुत पॉपुलर हुए थे. और ‘आवारापन’ की सफलता के पीछे ये बहुत बड़ी वजह रही थी.

'आवारापन' और कोरियन फिल्म 'अ बिटरस्वीट लाइफ' के पोस्टर्स.
‘आवारापन’ और कोरियन फिल्म ‘अ बिटरस्वीट लाइफ’ के पोस्टर्स.

3) अग्ली और पगली (2008)- रणवीर शौरी और मल्लिका शेरावत को लीड रोल में लेकर बनी ये एक रोमैंटिक कॉमेडी फिल्म थी. 2001 में आई रॉम-कॉम ‘माय सासी गर्ल’ को बिना क्रेडिट दिए बनाई गई रीमेक. ‘माय सासी गर्ल’ असल घटनाओं से प्रेरित थी, जो किम-हो-सिक नाम की एक महिला अपने ब्लॉग सीरीज़ में लिखा करती थी. कोरियन सिनेमा इतिहास में ये सबसे ज़्यादा कमाई करने वाली कॉमेडी फिल्म थी. लेकिन इंडिया में ये कुछ खास पसंद नहीं की गई.

रणवरी शौरी और मल्लिका शेरावत स्टारर फिल्म 'अग्ली और पगली' के साथ 'माय सास्सी गर्ल' का पोस्टर.
रणवरी शौरी और मल्लिका शेरावत स्टारर फिल्म ‘अग्ली और पगली’ के साथ ‘माय सासी गर्ल’ का पोस्टर.

4) रॉक ऑन (2008)- इंडिया की पाथ ब्रेकिंग फिल्मों में शुमार की जाने वाली अभिषेक कपूर डायरेक्टेड ये फिल्म भी एक कोरियन फिल्म से ही इंस्पायर्ड थी. 2007 में आई ‘द हैप्पी लाइफ’ से. ये फिल्म एक कॉलेज म्यूज़िक बैंड के दोबारा से खड़े होने के बारे में थी. फिल्म में फरहान अख्तर, अर्जुन रामपाल, शहाना गोस्वामी और पूरब कोहली ने लीड रोल्स किए थे. लेकिन सबसे ज़्यादा तारीफ मिली अर्जुन रामपाल और म्यूज़िक डायरेक्टर तिकड़ी शंकर-एहसान-लॉय को. टिकट खिड़की पर तो फिल्म चली ही अवॉर्ड्स भी खूब बरसे. अर्जुन को बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर और फिल्म को बेस्ट हिंदी फीचर फिल्म का नेशनल अवॉर्ड मिला.

फरहान अख्तर की एक्टिंग और सिंगिंग डेब्यू वाली फिल्म 'रॉक ऑन' और ओरिजिनल कोरियन फिल्म 'द हैप्पी लाइफ' के पोस्टर्स.
फरहान अख्तर की एक्टिंग और सिंगिंग डेब्यू वाली फिल्म ‘रॉक ऑन’ और ओरिजिनल कोरियन फिल्म ‘द हैप्पी लाइफ’ के पोस्टर्स.

5) मर्डर 2 (2011)- इमरान हाशमी की सबसे सफल फिल्मों में से एक. एक्शन थ्रिलर ‘दी चेज़र’ (2008) की अन-ऑफिशियल रीमेक. क्योंकि क्रेडिट देने की हमें आदत ही नहीं है. ये एक साइको क्रिमिनल की कहानी थी, जो वेश्याओं का कत्ल कर देता है. ये कोरियाई सीरियल किलर यू-यंग-चुल की असल ज़िंदगी से प्रेरित थी. कोरिया में तो पसंद की ही गई, इसके हिंदी रीमेक को इंडिया में भी खूब पसंद किया गया.

'मर्डर 2' और 'द चेज़र' के पोस्टर्स.
‘मर्डर 2’ और ‘द चेज़र’ के पोस्टर्स.

6) एक विलेन (2014)- कोरियाई फिल्म ‘आई सॉ द डेविल’ की चुराई हुई कहानी पर बनी फिल्म. सिद्धार्थ मल्होत्रा, श्रद्धा कपूर और रितेश देशमुख को लेकर इस फिल्म को मोहित सूरी ने डायरेक्ट किया था. ये एक गैंगस्टर और साइकोपैथ के बीच बदले की कहानी पर बेस्ड थी. ओरिजिनल फिल्म तो ठीक-ठाक चली थी लेकिन इसके इंडियन रीमेक ने खूब पैसे बनाए.

'एक विलेन' और 'आई सॉ द डेविल' के तो पोस्टर्स भी तकरीबन सेम हैं.
‘एक विलेन’ और ‘आई सॉ द डेविल’ के तो पोस्टर्स भी तकरीबन सेम हैं.

7) प्रेम रतन धन पायो (2015)- सलमान खान और सूरज बड़जात्या ने मिलकर कोरियन फिल्म ‘मैस्करेड’ (2012) की कहानी को खराब कर ये फैमिली ड्रामा बनाई थी. लेकिन ये ओरिजिनल फिल्म से कई मायनों में अलग थी. ओरिजिनल फिल्म जहां एक पीरियड ड्रामा थी, वहीं इसकी हिंदी रीमेक आज के ही समय में घटती है. इन दोनों फिल्मों में सिर्फ एक चीज़ कॉमन थी. इनकी कमाई. ‘मैस्करेड’ जहां कॉन्टेंट की वजह से खूब चली, तो ‘प्रेम रतन…’ सलमान खान के स्टार पावर की वजह से.

'प्रेम रतन धन पायो' और 'मैस्करेड' के पोस्टर्स.
‘प्रेम रतन धन पायो’ और ‘मैस्करेड’ के पोस्टर्स. जितना इनके पोस्टर्स में फर्क है, उससे कहीं ज़्यादा अंतर ट्रीटमेंट में हैं.

8) सिंह इज़ ब्लिंग (2015)- अक्षय कुमार की इस फिल्म को कोरियन कॉमेडी ‘माय वाइफ इज़ अ गैंगस्टर 3’ का पार्शियल यानी आंशिक रीमेक बताया गया था. अक्षय ने फिल्म में एक निठल्ले और फट्टू टाइप लड़के का किरदार निभाया था, जो उनकी स्क्रीन इमेज से बहुत अलग है. उनके अपोज़िट एमी जैक्सन ने काम किया था, जिनके हिस्से काफी एक्शन करने का मौका आया था. बाकी कॉमेडी थी. टिकट खिड़की पर पैसे बनाए और काम खत्म.

'सिंह इज़ ब्लिंग' और 'माय वाइफ इज़ अ गैंगस्टर 3' के पोस्टर्स.
‘सिंह इज़ ब्लिंग’ और ‘माय वाइफ इज़ अ गैंगस्टर 3’ के पोस्टर्स.

9) रॉकी हैंडसम (2016)- निशिकांत कामत की जॉन अब्राहम स्टारर एक्शन थ्रिलर. 2010 में आई फिल्म ‘द मैन फ्रॉम नोवेयर’ की ऑफिशियल रीमेक. ड्रग्स से जुड़ी रिवेंज थ्रिलर. जहां कोरियन वर्ज़न रिलीज़ के बाद साल की सबसे सफल फिल्म बनी वहीं इसके हिंदी रीमेक को दर्शकों ने नकार दिया. और सिर्फ दर्शकों ने ही नहीं क्रिटिक्स ने भी फिल्म को काफी झाड़ा.

'रॉकी हैंडसम' और 'अ मैन फ्रॉम नोव्हेयर' के पोस्टर्स में भी वो समानताएं हैं, जिसे अनकैनी रिजेमब्लेंस कहते हैं.
‘रॉकी हैंडसम’ और ‘अ मैन फ्रॉम नोव्हेयर’ के पोस्टर्स में भी वो समानताएं हैं, जिसे अनकैनी रिजेमब्लेंस कहते हैं.

10) तीन (2016)- अमिताभ बच्चन, नवाजुद्दीन सिद्दीकी और विद्या बालन की ये फिल्म कोरियन फिल्म ‘मोन्टाज’ (2013) की ऑफिशियल रीमेक थी. ये फिल्म किडनैपिंग केस की इंवेस्टिगेशन के बारे में थी. ‘मोन्टाज’ जहां काफी सफल रही थी, वहीं ‘तीन’ टिकट के पैसों से अपनी प्रोडक्शन कॉस्ट भी नहीं निकाल पाई.

फिल्म 'तीन' और 'मोन्टाज' के पोस्टर्स.
फिल्म ‘तीन’ और ‘मोन्टाज’ के पोस्टर्स.

वीडियो देखें: कैसे दीपिका, कंगना, सोनम, ऐश्वर्या समेत ये एक्ट्रेस Cannes 2019 में घूमकर खूब पैसे कमा रही हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Before Salman Khan’s Bharat here’s the list of 10 Hindi films inspired from Korean films

पोस्टमॉर्टम हाउस

मूवी रिव्यू: गेम ओवर

थ्रिल, सस्पेंस, ड्रामा, मिस्ट्री, हॉरर का ज़बरदस्त कॉकटेल है ये फिल्म.

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E6- नौ साल लंबे सफर की मंज़िल कितना सेटिस्फाई करती है?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के चाहने वालों के लिए आगे ताउम्र की तन्हाई है!

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

जानिए ये बात आखिर शुरू कहां से हुई.

मूवी रिव्यू: दे दे प्यार दे

ट्रेलर देखा, फिल्म देखी, एक ही बात है.