Submit your post

Follow Us

क्या होती हैं ये एनिमे फ़िल्में या सीरीज़, जिनके पीछे सब बौराए रहते हैं

‘अटैक ऑन टाइटन’ के सीज़न चार का पार्ट टू रिलीज़ हो गया है. इससे पहले कि आप खंगालना शुरू करें कि ये क्या आ गया, जिसके चार सीज़न आ गए और हमें भनक नहीं लगी, हम ही बता देते हैं. ये एक एनिमे सीरीज़ है. हालांकि इंडिया में अभी किसी प्लेटफॉर्म पर लीगली ‘अटैक ऑन टाइटन’ रिलीज़ नहीं हुई है लेकिन जेन ज़ी के बीच इस शो के नए सीज़न को लेकर उत्सुकता चरम पर है. सिर्फ़ ‘अटैक ऑन टाइटन’ ही नहीं, आज बहुत से एनिमे शोज़ यूथ के बीच खासी पॉपुलैरिटी रखते हैं.

तो आखिर ऐसा क्या है इस एनिमे की दुनिया में, जो लोगों को इतना भाता है?  आइए आज आपको इसका पूरा तिया-पांचा समझा देते हैं.

#ये एनिमे क्या होता है?

‘एनिमे’ एक जापानी टर्म है. जिसकी कोई बहुत बड़ी डेफिनेशन नहीं है. एनिमेशन को ही जापानी में एनिमे बोलते हैं. लेकिन मॉडर्न कल्चर में जापानी एनिमेटेड शोज़ और फ़िल्मों की पॉपुलैरिटी के बाद दुनिया में स्पेसिफिकली जापानी एनिमेटेड शोज़ और फ़िल्मों को ‘एनिमे’ की कैटेगरी में डाला जाता है.

कई लोग एनिमे में सभी जापानी एनिमेटेड शोज़ को भी नहीं रखते. वे सेमी-रियलिस्टिक, कॉम्प्लेक्स नेचर, एक्शन, डार्क, थ्रिलिंग शोज़ को ही एनिमे मानते हैं. बाकी लॉजिकली और एनिमे की असल डेफिनेशन के अनुसार बच्चों के बीच पॉपुलर ‘निंजा हथौरी’, ‘शिनचैन’ और ‘पॉकेमोन’ जैसे शोज़ भी ‘एनिमे’ ही कहलाएंगे.

एनिमे की जो आर्ट स्टाइल है, वो बाकी वर्ल्ड के एनिमेटेड कॉन्टेंट से अलग होती है. ‘एनिमे’ शोज़ में दिखने वाले कैरेक्टर के चेहरे ज़्यादा तीखे, बाल फ़ैले हुए और आंखें बड़ी-बड़ी होती हैं.

'ज़ोर्रो' मेरा पहला एनिमे शो.
‘ज़ोर्रो’ मेरा पहला एनिमे शो.

#कहां से हुई शुरुआत?

ज़्यादातर एनिमे शोज़ और फ़िल्में ‘मांगा’ नाम से प्रचलित एक तरीके की कॉमिक्स पर बेस्ड हैं. 60 के दशक में रिलीज़ हुई ‘स्पीड रेसर’ पहली एनिमे फ़िल्म थी, जो अमेरिका में लोकप्रिय हुई थी. 1980 तक एनिमे शोज़ और फ़िल्मों ने वर्ल्ड ऑडियंस के बीच भी अपनी छाप छोड़ दी थी. 2001 में  ‘स्पिरिटेड अवे’ नाम की एनिमे फ़िल्म ने ऑस्कर भी जीता था.

ऑस्कर विनिंग फ़िल्म.
ऑस्कर विनिंग फ़िल्म.

#एनिमे और कार्टून में क्या फर्क होता है?

‘कौन-कौन से कार्टून देखते हो?’

स्कूल टाइम में कई दोस्तियों की शुरुआत इस एक सिंपल सवाल से हो जाती थी. इसी सवाल के जवाब से मालूम पड़ता था कि कौन लाइक माइंडेड है और कौन एकदम अपोज़िट खोपड़ी. खैर, ज्यादातर लोग कार्टून, एनिमे और एनिमेशन को लेकर कंफ्यूज़ रहते हैं. कि क्या अंतर है! बिल्कुल लोड नहीं लेना. आज हम आपके कार्टून और एनिमे से जुड़े सारे डाउट मिटा देंगे.

#कार्टून है क्या?

कार्टून टर्म ज़्यादातर कॉमिकल, नॉन रियलिस्टिक, लाइट हार्टेड, छोटे बच्चों को टारगेट कर रहे एनिमेटेड शोज़ और फ़िल्मों के लिए इस्तेमाल किया जाता है. उदाहरण के तौर पर ‘स्कूबी डू’, ‘ टॉम एंड जैरी’, ‘छोटा भीम’. इस आर्ट फॉर्म की शुरुआत अमेरिका में हुई थी. आज दुनिया का लगभग हर देश कार्टून शोज़ और फ़िल्में बनाता है.

हमारी सोसाइटी में एक मिथ है कि ये एनिमेटेड शोज़ या फ़िल्में, सिर्फ़ बच्चों के देखने के मकसद से होती हैं. तो भाईसाब ऐसा बिल्कुल नहीं है. जिस तरीके से लाइव एक्शन फ़िल्में हर उम्र, हर वर्ग और अलग-अलग जॉनर के हिसाब से बनती हैं, उसी तरह एनिमेटेड शोज़ और फ़िल्में भी हर उम्र की ऑडियंस के लिए बनती हैं. कई एनीमेशन फ़िल्में तो रेटेड R कैटेगरी यानी सिर्फ़ एडल्ट्स के लिए भी होती हैं.

पॉपुलर कार्टून शो 'रीसेस'.
पॉपुलर कार्टून शो ‘रीसेस’.

वैसे आजकल जेन ज़ी में एनिमे को लेकर क्रेज़ काफी बढ़ा हुआ है. लेकिन मिलेनियल प्रजाति भी ‘पॉकेमोन’, ‘ड्रैगन बॉलज़ी’, ‘ज़ोरो’ देखते हुए बड़ी हुई है. यानी पूरे चौड़े में ‘बीन देयर, डन दैट’ कर सकते हैं भाई लोग. वी होप एनिमे को लेकर आपके सारे डाउट क्लियर हो गए होंगे. तो चलिए अब चलते चलते आपको ‘एनिमे’ के मस्टवॉच शोज़ भी रिकमेंड करते जाते हैं. एन्जॉय.


1. डेथनोट (सीरीज़)

Maxresdefault (39)

कहानी है एक हाईस्कूल में पढ़ रहे बच्चे की. जिसे एक दिन ऐसी नोटबुक मिलती है, जिस पर वो जिसका भी नाम लिखता है, उस पर मौत मंडराने लगती है. ‘एनिमे’ देखने की शुरुआत इस शो से करें तो उत्तम.


2. वन पंच मैन (सीरीज़)

 One Punch Man Tv Anime Key Visual

ये स्टोरी है साइतामा की. साइतामा सुपरहीरो है, जो एक ही मुक्के में बड़े से बड़े विलन को चित कर देता है. लेकिन धीरे-धीरे इस तरीके की बिना किसी चैलेंजिंग फाइट के वो बोर हो जाता है. आगे क्या होता है, देखकर जानिए.


3. अटैक ऑन टाइटन (सीरीज़)

P10701949 B V9 Ah

इंसानों को चबा जाने वाले टाइटंस से बचने के लिए इंसानों ने मिलकर एक दीवार खड़ी की थी. लेकिन सालों बाद टाइटन वो दीवार तोड़ देते हैं. इंसानों की बस्ती में भारी संख्या में घुसकर इंसानों को खाने लगते हैं. एक टाइटन एरन जागर नाम के सिपाही के सामने उसकी मां को खा जाता है. उस दिन एरन प्रण लेता है. टाइटंस का नामो-निशान मिटा देने का. वो एक टीम तैयार कर टाइटंस से लोहा लेने निकल पड़ता है.


4. फुलमेटल एल्केमिस्ट: ब्रदरहुड (सीरीज़)

8y879t7t9tr97

ये एडवर्ड और एल्फोन्स नाम के दो भाइयों की कहानी है, जो अपनी मरी हुई मां को एल्केमी के ज़रिए ज़िंदा करने की कोशिश करते हैं. लेकिन इस प्रक्रिया में कुछ ऐसा हो जाता है कि एडवर्ड अपना एक हाथ और पैर गंवा देता है. वहीं एडवर्ड का पूरा शरीर ही गायब हो जाता है. उसकी आत्मा एक सैनिक के कवच में जाकर बस जाती है. इन दो भाइयों की अपने शरीर को वापस पाने की मशक्कत आप शो में देखते हो.


5. कैसलवेनिया (सीरीज़)

Castlevania Season 4 Official Poster Art

वैम्पायर और ड्रैकुला मिलकर दुनिया से इंसानों और इंसानियत का नामो निशान मिटाने में लगे हैं. ऐसे में बेलमोंट क्लैन नाम का योद्धा टीम बनाकर इनका खात्मा करने लगता है.


वीडियो: Zee5 पर 2021 में ये फिल्में और शो रहे खास, देखिए लिस्ट

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

वेब सीरीज़ रिव्यू- ये काली काली आंखें

वेब सीरीज़ रिव्यू- ये काली काली आंखें

'ये काली काली आंखें' में आपको बहुत सी ऐसी चीज़ें दिखेंगी, जो आप पहले देख चुके हैं. बस उन चीज़ों के मायने, यहां थोड़ा हटके हैं.

वेब सीरीज रिव्यू: ह्यूमन

वेब सीरीज रिव्यू: ह्यूमन

न ही इसे सिरे से खारिज किया जा सकता है, न ही इसे मस्ट वॉच की कैटेगरी में रखा जा सकता है

साउथ इंडिया के 8 कमाल एक्टर्स, जो हिंदी सिनेमा में डेब्यू करने वाले हैं

साउथ इंडिया के 8 कमाल एक्टर्स, जो हिंदी सिनेमा में डेब्यू करने वाले हैं

अब इनकी हिंदी डब फिल्में खोजने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी.

वेब सीरीज़ रिव्यू: हम्बल पॉलिटिशियन नोगराज

वेब सीरीज़ रिव्यू: हम्बल पॉलिटिशियन नोगराज

अगर पॉलिटिकल कॉमेडी से ऑफेंड होते हैं, तो दूर ही रहिए.

वेब सीरीज़ रिव्यू: कौन बनेगी शिखरवटी

वेब सीरीज़ रिव्यू: कौन बनेगी शिखरवटी

नसीरुद्दीन शाह, रघुबीर यादव और लारा दत्ता जैसे एक्टर्स लिए लेकिन....

वेब सीरीज़ रिव्यू- क्यूबिकल्स 2

वेब सीरीज़ रिव्यू- क्यूबिकल्स 2

Cubicles 2 एक सपने के साथ शुरू होती है. और इसका एंड भी बिल्कुल ड्रीमी होता है. एक ऐसा सपना, जिसके पूरे होने की सिर्फ उम्मीद और इंतज़ार किया जा सकता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: कैंपस डायरीज़

वेब सीरीज़ रिव्यू: कैंपस डायरीज़

कैसा है यूट्यूब स्टार्स हर्ष बेनीवाल और सलोनी गौर का ये नया शो?

वेब सीरीज़ रिव्यू: ब्लैक माफिया फैमिली

वेब सीरीज़ रिव्यू: ब्लैक माफिया फैमिली

'नार्कोस' और 'ब्रेकिंग बैड' जैसे शोज़ पसंद हैं, तो ये शो आपके लिए ही है.

फिल्म रिव्यू: मिन्नल मुरली

फिल्म रिव्यू: मिन्नल मुरली

ये देसी सुपरहीरो फिल्म कभी नहीं भूलती कि सुपरहीरो का कॉन्सेप्ट ही विदेशी है.

फिल्म रिव्यू- अतरंगी रे

फिल्म रिव्यू- अतरंगी रे

'अतरंगी रे' बोरिंग फिल्म नहीं है. इसे देखते हुए आपको फन फील होगा. मगर फन के अलावा इसमें कुछ भी नहीं है.