Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

उसने कहा, 'नवाब तुम्हारी पेंटिग्स कबाड़ हैं'

899
शेयर्स

भारत की पहली बोल्ड, बेबाक, जानदार और  सबसे महंगी पेंटर अमृता शेरगिल की आज बरसी है. उस जमाने में जैसी पेंटिंग्स वो बना गई हैं आज कोई बना दे तो बमचक मच जाए. विरोध उस जमाने में भी हुआ लेकिन वैचारिक रूप से. स्याही व्याही फेंकने का फैशन नहीं था तब. लेकिन अपने तेवर में कभी कमी नहीं लाई वो. जो दिल में आया उसका चित्र उकेर दिया. अमृता के बारे में लल्लन कुछ बताएगा आपको-

1: 30 जनवरी 1913, बुडापेस्ट हंगरी में पैदा हुईं अमृता शेरगिल. पापा उमराव सिंह शेरगिल पैसे वाली फैमिली के सिख थे. उनको पांच भाषाओं पर फुल कंट्रोल था. मम्मी थी एंटोनिएट. इटली की फेमस ओपेरा सिंगर.

Umrao Singh Sher-Gil and Indira, Amrita's sister
Umrao Singh Sher-Gil and Indira, Amrita’s sister

2: यूरोप में शुरुआत का काफी टाइम बीता. 1921 में भारत आईं और शिमला में मूर्ति गढ़ना सीखा. तीन साल बाद इटली गई और पेंटिंग का कोर्स किया. सिर्फ पांच महीने वहां रह कर लौट आईं वापस शिमला.

Brahamacharis 1937
Brahamacharis 1937

3: 1929 तक शिमला में रहीं और पूरा इंडिया घूमती रहीं. जो कुछ सीखा उससे अपनी क्रियेटिविटी को खूब आगे बढ़ाया. 16 साल की थी जब वो और पूरी फैमिली आ गई पेरिस. फैमिली का लक्ष्य था अमृता को पेंटिंग की प्रॉपर ट्रेनिंग दिलाना.

Three girls 1937
Three girls 1937

4: वहां 6 साल खुले माहौल में रहीं और फ्रेंच सीखी. पियानो और वायलिन बजाना सीखा. पेंटिंग जारी रखी. उनके स्वभाव का जो खुलापन था वो पेंटिंग्स में साफ दिखता था. 1930 में उनको ‘पोट्रेट ऑफ ए यंग मैन’ के लिए एकोल अवॉर्ड मिला. नेशनल स्कूल ऑफ फाइन आर्ट्स इन पेरिस से. 1933 में उनको ‘एसोसिएट ऑफ ग्रैंड सैलून’ चुना गया. इतनी कम उम्र में ये जगह पाने वाली पहली एशियाई थी अमृता.

Portrait of a young man 1930
Portrait of a young man 1930

5: उनको पैसा देकर पोट्रेट बनवाने वाले लोगों से खुन्नस थी. जवाहर लाल नेहरू भी थे उनके फैन. लेकिन उनका पोट्रेट नहीं बनाया क्योंकि उनको इत्ता खूबसूरत मानती थीं. जिनका फोटू पेंट किया नहीं जा सकता.

self-portrait
self-portrait

6: 1937 में एग्जिबिशन लगाई हैदराबाद में. इरादा था वहां के नवाब को अपनी पेंटिंग्स दिखाना और बेचना. नवाब ने उनको अपना पहले का कलेक्शन दिखाया और पूछा कैसा है? अम़ता ने कहा करोड़ों रुपए का कबाड़.

Bride in wash room 1937
Bride in wash room 1937

7: अमृता की जिंदगी के बारे में कहते हैं कि वो ढेर ढेर सारी लव स्टोरीज का गुच्छा थी. असफल लव स्टोरीज. उनको दूर के रिश्ते से भाई विक्टर से प्यार था. उससे शादी करना चाहती थी. मम्मी ने सगाई कर दी थी एक रईस यूसुफ अली खान से. इससे अनचाही प्रेगनेंसी हो गई. अपने दोस्त डॉक्टर विक्टर की सलाह ली. अबॉर्शन करा लिया. लेकिन उसके बाद उनकी जिंदगी कठिन हो गई. डिप्रेसन और पैसे की कमी से सब गड़बड़ हो गया.

Mother India 1935
Mother India 1935

8: 1938 में वो हंगरी गई. विक्टर से शादी करने. विक्टर वर्ल्ड वार में बिजी था. 1940 में दोनों लाहौर आ गए. 3 दिसंबर 1941 को अमृता की तबियत खराब हो गई. बड़ी कोशिश के बाद भी वो बची नहीं. 28 साल की छोटी सी जिंदगी में उतार चढ़ाव देखा. मिसाल पेश की और लौट गई सितारों की दुनिया में.

Village Scene 1938
Village Group 1938

अमृता की एक पेंटिंग विलेज सीन. सन 2006 में नीलाम हुई. पूरे 6.9 करोड़ रुपए में. ये किसी पेंटिंग के लिए इंडिया में अदा की गई सबसे ज्यादा रकम है.

amrita-shergil


 

ये भी पढ़िए:

“इन्हीं आंखों से जहन्नुम देखा है, खुदा वो वक़्त फिर कभी न दिखाएं”

सत्ता किसी की भी हो इस शख्स़ ने किसी के आगे सरेंडर नहीं किया

उसने ग़ज़ल लिखी तो ग़ालिब को, नज़्म लिखी तो फैज़ को और दोहा लिखा तो कबीर को भुलवा दिया

जगजीत सिंह, जिन्होंने चित्रा से शादी से पहले उनके पति से इजाजत मांगी थी

वो मुस्लिम नौजवान, जो मंदिर में कृष्ण-राधा का विरह सुनकर शायर हो गया

वो ‘औरंगज़ेब’ जिसे सब पसंद करते हैं

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Amrita Shergil birthday: story and facts

पोस्टमॉर्टम हाउस

ठाकरे : मूवी रिव्यू

सिंहासन खाली करो कि जनता आती है...

फिल्म रिव्यू: मणिकर्णिका

यकीन नहीं आता ये वार कंगना ने किया है!

उस कटार की कहानी, जिससे किया हुआ एक ख़ून माफ था

जब गायकी की जंग ने एक गायक को रावण बना दिया.

जॉर्ज ऑरवेल का लिखा क्लासिक 'एनिमल फार्म', जिसने कुछ साल पहले शिल्पा शेट्‌टी की दुर्गति कर दी थी

यहां देखें इस पर बनी दो मजेदार फिल्में. हिंदी वालों के लिए ये कहानी हिंदी में.

सोनी: मूवी रिव्यू

मूवी ढेर सारे सही और हार्ड हिटिंग सवालों को उठाती है. कुछेक के जवाब भी देती है, मगर सबके नहीं. सारे जवाब संभव भी नहीं.

रंगीला राजा: मूवी रिव्यू

इरॉटिक कहानी और शर्माती जवानी!

फिल्म रिव्यू: व्हाई चीट इंडिया

सही सवाल उठाकर ग़लत जवाब देने वाली फिल्म.

क्या कमाल अमरोही से शादी करने के लिए मीना कुमारी को हलाला से गुज़रना पड़ा था?

कहते हैं उनका निकाह ज़ीनत अमान के पिता से करवाया गया था.

परछाईं: वेब सीरीज़ रिव्यू

डरावनी कहानियों की एक प्यारी वेब सीरीज़, जो उंगली पकड़कर हमें अपने बचपन में ले जाती है.

द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर: मूवी रिव्यू

क्या ये फिल्म बीजेपी की एक प्रोपेगेन्डा फिल्म है?