Submit your post

Follow Us

फिल्मों में महात्मा गांधी बनने वाले इन 16 एक्टर्स में से कौन बेस्ट है!

‘बेंड इट लाइक बेकहम’ (2002) जैसी हंसोड़ और स्मार्ट फिल्म की डायरेक्टर गुरिंदर चड्‌ढा ने हाल ही में एक हिस्टोरिकल ड्रामा रिलीज की – ‘वॉयसरॉयज़ हाउस.’ बीती अगस्त भारत में इसे ‘पार्टिशनः 1947’ नाम से प्रदर्शित किया गया. ये 1947 के बंटवारे के दौरान की कहानी थी जिसमें ब्रिटिश राज के अंतिम प्रतिनिधि वॉयसरॉय लॉर्ड माउंटबेटन पत्नी एडवीना के साथ आते हैं और अपनी सबसे मजबूत कॉलोनी इंडिया की सत्ता उसके नेताओं को सौंपते हैं. पाकिस्तान भी बनता है.

इस मूवी में महात्मा गांधी का रोल नीरज कबी ने किया. जिन्होंने आनंद गांधी की ‘शिप ऑफ थिसीयस’ में ऐसे जैन साधू का रोल किया था जो एनिमल टेस्टिंग से बनी दवा लेने से इनकार कर देता है और तिल-तिल कर कष्ट भोगता जाता है. नीरज ने भूख से सिकुड़ गए जैन साधू का रोल करने के लिए भयंकर शारीरिक तब्दीली की थी. ‘पार्टीशनः 1947’ में भी गांधी बनने के लिए वे अलग ही सांचे में ढले. उन्होंने गांधी जैसा लगने को लेकर बहुत गहनता दिखाई.

फिल्म "द लास्ट वॉयसरॉय / पार्टीशनः 1947" में नीरज कबी.
फिल्म “द लास्ट वॉयसरॉय / पार्टीशनः 1947” में नीरज कबी.

अब तक बहुत बार गांधी को सिनेमाई रूप में प्रस्तुत किया गया है. इनमें सबसे पॉपुलर हैं रिचर्ड एटरनबरो की एपिक ‘गांधी’ (1982) में महात्मा का रोल करने वाले बेन किंग्सले. हर साल दूरदर्शन पर ये फिल्म दिखाई जाती है, इस साल शायद ऐसा नहीं हुआ. ख़ैर देखते हैं फिल्मों में ऐसे 16 एक्टर्स को जो गांधी बने. क्या गांधी के किरदार में नीरज उनके सबसे करीब आ पाए हैं, या किंग्सले या कोई और एक्टर?

#1. बेन किंग्सले
– गांधी (1982)

#2. अन्नू कपूर
– सरदार (1993)

#3. नसीरुद्दीन शाह
– हे राम (2000)

#4. दर्शन ज़रीवाला
– गांधी, माई फादर (2007)

#5. सैम दस्तूर
– लॉर्ड माउंटबेटन: द लास्ट वॉयसरॉय (1986)

#6. दिलीप प्रभावलकर
– लगे रहो मुन्ना भाई (2006)

#7. जे. एस. कश्यप
– नाइन आवर्स टू रामा (1963)

#8. सुरेंद्र राजन
– वीर सावरकर (2001)

#9. रजित कपूर
– द मेकिंग ऑफ द महात्मा (1996)

#10. नीरज कबी
– द लास्ट वॉयसरॉय (2017)

#11. मोहन गोखले
– डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर (2000)

#12. सुरेंद्र राजन
– द लैजेंड ऑफ भगत सिंह (2002)

#13. सुरेंद्र राजन
– गांधी: द साइलेंट गन (2012)

#14. एस. कनगराज
– वेलकम बैक गांधी (2014)

#15. सैम दस्तूर
– जिन्ना (1998)

#16. नीरज कबी
– संविधान (2014)

इनके अलावा भी कई फिल्मों और परफॉर्मिंग आर्ट में गांधी के किरदार रहे हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

बढ़िया परफॉरमेंसेज़ से लैस मजबूत साइबर थ्रिलर,

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

जानिए कैसी है संजय दत्त, आलिया भट्ट स्टारर महेश भट्ट की कमबैक फिल्म.

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

एक बार इस सीरीज़ को देखना शुरू करने के बाद मजबूत क्लिफ हैंगर्स की वजह से इसे एक-दो एपिसोड के बाद बंद कर पाना मुश्किल हो जाता है.

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

एक खतरनाक मगर एंटरटेनिंग कॉप फिल्म.

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.

फिल्म रिव्यू: शकुंतला देवी

फिल्म रिव्यू: शकुंतला देवी

'शकुंतला देवी' को बहुत फिल्मी बता सकते हैं लेकिन ये नहीं कह सकते इसे देखकर एंटरटेन नहीं हुए.

फ़िल्म रिव्यूः रात अकेली है

फ़िल्म रिव्यूः रात अकेली है

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और राधिका आप्टे अभिनीत ये पुलिस इनवेस्टिगेशन ड्रामा आज स्ट्रीम हुई है.