The Lallantop
Advertisement

क्या राहुल गांधी ने 50 और 15 का जोड़ 73 बता दिया?

जनता कह रही है कि राहुल का गणित कमज़ोर है. सच्चाई क्या है?

Advertisement
rahul gandhi bharat nyay yatra calculation error edited video viral
राहुल गांधी की यात्रा का एक वीडियो वायरल है जिसपर लोग उनका मजाक उड़ा रहे हैं. (तस्वीर:PTI)
12 फ़रवरी 2024 (Updated: 12 फ़रवरी 2024, 23:36 IST)
Updated: 12 फ़रवरी 2024 23:36 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share
दावा:

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की भारत जोड़ो न्याय यात्रा पूर्वोत्तर के राज्यों से होते हुए इस वक्त छत्तीसगढ़ पहुंच चुकी है. जनता से संवाद करते और मंच से भाषण देते राहुल गांधी की कई वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर शेयर हो रही हैं. इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल है जिसमें वे आरक्षण पर जनता को आंकड़ों में कुछ समझाते नज़र आ रहे हैं. वीडियो में राहुल गांधी कहते नज़र आ रहे हैं, 

“पचास और पन्द्रह कितने हुए? तिहत्तर.” 

यूजर्स इस वीडियो को शेयर करते हुए राहुल गांधी की गणित की समझ का मज़ाक उड़ाते हुए तंज कस रहे हैं. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर एक यूजर ने वीडियो को शेयर करते हुए लिखा, 

“50+15=73 ये है पप्पू गणित! और इसी पप्पू गणित के बलबूते आगे चलकर ये देश की अर्थव्यवस्था आगे बढ़ाएंगे! इस पगलेट को कौन वोट देना चाहेगा बताओ!!?”

कई अन्य यूजर्स ने भी राहुल गांधी पर तंज कसते हुए इस क्लिप को शेयर किया है.

पड़ताल

क्या राहुल गांधी ने वायरल वीडियो में 50 और 15 को जोड़कर 73 बताया? क्या उन्होंने वाकई जोड़ घटाव के बेसिक गणित में ‘सिली मिस्टेक’ कर दी? इसकी सच्चाई जानने के लिए हमें ज़्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी. हल्का सा ट्विटर सर्च करने पर कई सारे लोगों के ट्वीट मिले जिन्होंने बताया कि वायरल हो रहा वीडियो एडिटेड है. संदर्भ को गायब करके शेयर किया गया है. इससे मदद लेते हुए हमने थोड़ी और खोजबीन की. 

हमें कांग्रेस पार्टी के आधिकारिक एक्स हैंडल और यूट्यूब चैनल पर 8 फरवरी को अपलोड किया गया वीडियो मिला. इसमें राहुल गांधी के भाषण का पूरा वीडियो है. यहां दी गई जानकारी के मुताबिक, यह छत्तीसगढ़ में पहुंची भारत न्याय यात्रा का वीडियो है. राहुल अपने भाषण में कहते हैं कि उनसे एक पत्रकार ने पूछा कि क्या जाति जनगणना और हक की बात करने से देश नहीं बंट रहा? 

बकौल राहुल, उन्होंने इसका जवाब देने से पहले उस पत्रकार से पूछा कि मीडिया में कितने अखबारों के मालिक दलित,पिछड़े और आदिवासी वर्ग के हैं? राहुल बताते हैं कि इस सवाल पर पत्रकार चुप हो गया. राहुल आगे कहते हैं, 

“देखिए, हमने जो आंकड़े निकले थे उस हिसाब से 50-55 परसेंट पिछड़े वर्ग के लोग हैं. 15 परसेंट दलित हैं. 8 परसेंट आदिवासी हैं. कितने हुए? बताओ 50+15 और 8 कितना हुआ? तिहत्तर. सेवेन्टी थ्री.”

वीडियो को सुनने पर साफ है कि असल वीडियो में से ‘आठ’ वाले हिस्से को गायब करके वायरल किया गया है.

ऐसा नहीं है कि राहुल गांधी ने आरक्षण को लेकर यह गणित पहली बार बताया हो. इससे पहले वे अपनी भारत जोड़ो न्याय यात्रा के दौरान अन्य जगहों पर भी यह बात दोहरा चुके हैं. कि देश की 73 प्रतिशत आबादी दलित, पिछड़े और आदिवासी वर्ग से आती है.

राहुल गांधी का यह पहला वीडियो नहीं है जिसमें बात को अधूरे ढंग से काट-छांट कर चलाया गया हो. इससे पहले भी उनके कई वीडियो को संदर्भ से हटाकर शेयर किया गया था. जिसकी पड़ताल आप ‘द लल्लनटॉप’ की वेबसाइट पर पढ़ सकते हैं.

निष्कर्ष

कुल जमा बात ये है कि राहुल गांधी के आरक्षण पर जातीय समीकरण समझाते हुए बयान में से एक हिस्सा हटाकर अधूरे ढंग से शेयर किया गया है. राहुल ने असल में बोला था कि 50,15 और 8 कितना हुआ? 73.  

पड़ताल की वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.

thumbnail

Advertisement