Submit your post

Follow Us

वायरल MMS वाले नेता का झारखंड चुनाव में क्या हुआ?

बोकारो. गूगल पर स्टील सिटी ऑफ इंडिया सर्च करें तो यही नाम सामने आता है. 1955 में तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू सोवियत रूस की यात्रा पर गए थे. सोवियत सरकार से उन्होंने देश की स्टील जरूरतों को पूरा करने में सहयोग की बात कही. प्रधानमंत्री नेहरू वापस आए तो साथ में दो स्टील प्लांट भी साथ लाए. ये स्टील प्लांट थे भिलाई और बोकारो. खैर, ये तो हो गई इतिहास की बात. अब वर्तमान में आते हैं. हुआ ये है कि झारखंड में विधानसभा चुनाव के नतीजे आ चुके हैं. और बात बोकारो से शुरू हुई तो आप समझ ही गए होंगे कि हम बोकारो विधानसभा सीट की बात करने वाले हैं.

2014 में बनाया था रिकॉर्ड

2014 में हुए विधानसभा चुनाव में बोकारो सीट चर्चा में रही थी. वजह थे भाजपा उम्मीदवार बिरंची नारायण. बिरंची नारायण 72,643 वोटों से चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे थे. ये झारखंड विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ी जीत थी. सूबे में भाजपा की सरकार बनी. रघुबर दास मुख्यमंत्री बने और 5 साल सरकार चली.

2019 में बीजेपी के बिरंची नारायण के मुकाबले कांग्रेस ने श्वेता सिंह को मैदान में उतारा था.
2019 में बीजेपी के बिरंची नारायण के मुकाबले कांग्रेस ने श्वेता सिंह को मैदान में उतारा था.

2019 में फिर से चुनाव हुए. टिकट बंटवारे के बात आई तो विधायक होने के कारण बिरंची नारायण प्रबल दावेदार थे. लेकिन उम्मीदवारी घोषित होने से एक दिन पहले ही खेल हो गया. बिरंची नारायण का अश्लील वीडियो. बिरंची नारायण को टिकट तो मिल गया लेकिन पार्टी के लोग उनसे से दूरी बनाने लगे. नामांकन के समय भी उनके साथ स्थानीय सांसद भर मौजूद थे. इसके अलावा उनकी सीट पर प्रचार करने भी कोई बड़ा नेता नहीं आया था. बिरंची नारायण ने वीडियो को फर्जी बताते हुए पुलिस के पास प्राथमिकी भी दर्ज कराई थी. उन्होंने आरोप लगाया था कि उनकी छवि खराब करने के लिए ऐसा किया गया है. पुलिस ने खोजबीन की तो पता चला कि वीडियो वायरल करने वाला शख्स बिरंची नारायण का पूर्व पीए था. उसे नौकरी से निकाल दिया गया था. वीडियो वायरल इसलिए किया गया था ताकि बिरंची नारायण को टिकट न मिले.

बोकारो सीट का फाइनल रिजल्ट (लाल घेरे में)
बोकारो सीट का फाइनल रिजल्ट (लाल घेरे में)

2019 में क्या रहा परिणाम? 

हालांकि बिरंची नारायण को टिकट भी मिला और वे दोबारा बोकारो के विधायक भी बने. 2019 के विधानसभा चुनाव में उनका मुकाबला कांग्रेस की उम्मीदवार और पूर्व मंत्री समरेश सिंह की बहू श्वेता सिंह से था. बिरंची नारायण ने 13,313 वोटों से श्वेता सिंह को हरा दिया. 2014 में जब बिरंची नारायण ने रिकॉर्ड जीत दर्ज की थी तब उन्होंने निर्दलीय समरेश सिंह को हराया था और इस बार उनकी बहू श्वेता सिंह को. जीत का मार्जिन भले ही पहले जैसा न रहा हो लेकिन बिरंची नारायण की ये जीत उनके लिए बहुत मायने रखती है. एमएमएस वायरल होने और बड़े नेताओं के दूरी बनाने के बावजूद जीत दर्ज कर बिरंची नारायण ने हाईकमान को एक तगड़ा संदेश दिया है.


वीडियो: झारखंड चुनाव: दुमका में पोस्टमॉर्टम करने वाला व्यक्ति ने जो बताया वो हैरान करने वाला है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.