Submit your post

Follow Us

101 साल के देश के पहले वोटर का इंटरव्यू

44
शेयर्स

वोटिंग का दिन हो तो लोग चार घंटे ज्यादा सो लेने को सोचते हैं. ज्यादातर लोग तो इस दिन छुट्टी मोड में रहते हैं. और ऐसे लोगों को तो विलुप्त ही मानिए जो वोट डालने के लिए छुट्टी लें. मगर आजाद भारत के पहले वोटर माने जाने वाले श्यामसरण नेगी ने वोट डालने के लिए छुट्टी ली थी. और इसी में छिपी है उनके पहले वोटर बनने की कहानी. दरअसल देश के पहले चुनाव जनवरी-फरवरी 1952 में हुए थे. मगर हिमाचल प्रदेश में उस वक्त बर्फबारी की आशंका के चलते अक्टूबर में ही चुनाव करवा लिए गए थे. श्यामसरण उस वक्त सरकारी स्कूल में टीचर थे. उनका वोट काल्पी में था, मगर उनकी ड्यूटी कहीं और लगी थी. उन्होंने वोट डालने के लिए अपने प्रिसाइडिंग अफसर से एक दिन पहले छुट्टी ली. अगले दिन सुबह 6:30 बजे ही वो बूथ पर वोट डालने पहुंच गए और बन गए आजाद भारत के सबसे पहले वोटर. वोटिंग के तुरंत बाद वो उस जगह भी गए जहां उनकी ड्यूटी थी. यह बात दि लल्लनटॉप को खुद श्यामसरण नेगी ने बताई है. हिमाचल प्रदेश की चुनावी कवरेज के दौरान देश के पहले वोटर से लल्लनटॉप टीम के प्रवीन डोगरा ने खास बातचीत की. वो भी उनके घर जाकर. उनसे बातचीत हुई तो कई दिलचस्प किस्से निकलकर आए. पढ़िए-

दि लल्लनटॉप की दो टीमों हीरा और मोती यूपी चुनाव की तरह ही हिमाचल चुनाव की कवरेज पर निकली हैं.
दि लल्लनटॉप की दो टीम हीरा और मोती यूपी चुनाव की तरह ही हिमाचल चुनाव की कवरेज पर निकली हैं.

प्राइमरी स्कूल में टीचर रहे श्यामसरण नेगी फिलहाल 101 साल के हैं. 1 जुलाई 1916 की उनकी पैदाइश है. मगर उनके जोश, बातचीत का अंदाज और याद्दाश्त के आगे कोई गबरू जवान क्या ठहरेगा. अपनी जिंदगी के सफर के शुरुआती पन्ने पलटते हुए उन्होंने बताया कि देश आजाद होने से पहले वो फॉरेस्ट गार्ड थे. मगर आजादी के बाद उनको प्राइमरी स्कूल में टीचर की नौकरी मिल गई. वोटिंग के लिए उनका लगाव ऐसे समझिए कि चाहे पंचायत चुनाव हो, विधानसभा चुनाव हो या लोकसभा चुनाव, उन्होंने वोट हर बार डाला.

कांग्रेस गड़बड़ियां करने लगी इसलिए हारी

कांग्रेस पर बात आई तो उन्होंने पहले तो उसे आजादी दिलाने का क्रेडिट दिया. फिर बताया कि इसी के बिना पर वो लगातार कई चुनाव जीती. फिर जनता पार्टी की सरकार आई. कांग्रेस क्यों सत्ता से गई, ये पूछने पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस का पहले तो अच्छा नाम था, मगर बाद में गड़बड़ियां होने लगीं. गड़बड़ियां पूछने पर कहा कि सरकारी फंड से जो पैसा आता था वो कांग्रेस वाले गलत तरीके से खर्च करने लगे. अपनी जेब भरने लगे और ये बात लीक हो गई, जिसके बाद पूरे देश में कांग्रेस जाने लगी.

नरेंद्र मोदी से खुश दिखे, बोले- उनके भाषण सुनता हूं

श्यामसरण नेगी पीएम नरेंद्र मोदी से खुश दिखे. बताया कि वो उनके भाषण भी सुनते हैं. कहा कि मोदी कहते हैं वो देश को 2022 तक अच्छा बनाएंगे. वो मन की बात भी अपने रेडियो पर जरूर सुनते हैं. नोटबंदी से दिक्कत होने पर बोले कि मुझे कोई दिक्कत नहीं हुई. मोदी पर लगते विपक्ष के आरोपों का जिक्र किया तो बोले- किसी भी अच्छे काम को करने में वक्त लगता है.

वो किसे वोट देने वाले हैं, ये वीडियो देखकर समझ आता है

वीरभद्र ठीक पर आसपास वाले सही नहीं

हिमाचल प्रदेश के सीएम वीरभद्र सिंह के बारे में पूछा तो कहा कि उन्होंने घोटाले किए हैं. आगे बोले कि वीरभद्र तो ठीक हैं. मगर उनके आसपास वाले लोग ठीक नहीं हैं. वीरभद्र के राजा होने पर कहा कि वो राजा नहीं हैं. उनके पिता राजा थे. लोग उनको राजा-राजा पता नहीं क्यों बोलते हैं. राजशाही तो खत्म हो चुकी है. प्रेम कुमार धूमल के बारे में उनका रुख नर्म दिखा. हिमाचल की टोपियों की राजनीति पर वो बोले कि पहले यहां ऐसा कुछ नहीं था. ये तो अब होने लगा है.

सबसे बढ़िया प्रधानमंत्री कौन रहे?

इस सवाल पर श्यामसरण बोले कि जवाहरलाल नेहरू अच्छे थे. लाल बहादुर शास्त्री भी अच्छे थे. मगर इंदिरा गांधी के नाम पर वो नाराज दिखे. इमरजेंसी की उन्होंने आलोचना की. बोले- उनका कामकाज करने का तरीका मुझे नहीं पसंद आया. अटल बिहारी बाजपेयी की उन्होंने खुलकर प्रशंसा की. बोले- वो ईमानदार थे और उनका सभी सम्मान करते थे. मनमोहन सिंह का नाम आया तो बोले- ना सांप मरे ना लाठी टूटे. कहा कि वो राजनीति में ज्यादा नहीं फंसे. नरेंद्र मोदी के काम पर बोले कि तीन साल से काम ठीक कर रहे हैं.

सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर ये बोले

सोनिया गांधी पर बोले कि उन्होंने तो कुछ खास नहीं किया है. राहुल गांधी पर बोले कि वो तो अभी सीख ही रहे हैं. अभी नए हैं. अब तक कुछ ऐसा नहीं किया है कि हम पर प्रभाव पड़े. राजीव गांधी का जिक्र आया तो बोले- वही न जिन्हें फूल देने के बहाने एक लड़की ने मार दिया था. माने उन्हें ये तक याद था. एक बात जो उन्होंने बोली वो ये बताती है कि अफवाहों का कितना जोर रहता है. संजय गांधी के बारे में बोले- कहते हैं कि देश को एक अच्छा नेता मिलने वाला था, पर इंदिरा गांधी ने उसे मरवा दिया.

सबको वोट जरूर देना चाहिए

लोगों के वोट ना देने पर श्यामसरण ने कहा कि ये तो बहुत गलत बात है. युवाओं को वोट जरूर देना चाहिए. हो सकता है कि लोगों को नेताओं का काम नहीं सही लगता हो, इसलिए वोट ना देते हों. मगर फिर भी वो बोले कि लोगों को वोट जरूर देना चाहिए. अगर लोग वोट नहीं देंगे तो नेता का आत्मविश्वास कैसे बढ़ेगा. वो काम कैसे करेगा. जो भी पसंद हो, उसे वोट जरूर दें.


लल्लनटॉप वीडियो देखें- 

ये भी पढ़ें:

हिमाचल में जो हो रहा है, मैं नहीं मानता कि इसे चुनाव कहते हैं

हिमाचल की इस सीट पर मोदी के मंत्री अपनी कॉलेज की लड़ाई निपटा रहे हैं

कांग्रेस विधायक ने बगल की सीट के कांग्रेसी कैंडिडेट को कोसा

जब एक निर्दलीय विधायक ने बीजेपी-कांग्रेस दोनों को रुलाया

जिस जिले से हिमाचल का निर्माता निकला, वही विकास में पीछे क्यों रह गया?

हिमाचल चुनाव: बड़ा अनोखा है इस कांग्रेसी बाप-बेटे की उम्र का गणित

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Himachal Pradesh Elections : Interview of the first voter of free India Shyam Sharan Negi

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.