Submit your post

Follow Us

कुंबले ने 10 विकेट लिए और फिर उस शाम मालूम पड़ा कि द्रविड़ कितने बेहतरीन इंसान हैं

साल 1999. पाकिस्तान की टीम भारत की ज़मीन पर खेलने आ चुकी थी. इस दफ़ा वो 9 सालों बाद टूर कर रही थी. कहा जा रहा था कि दोनों देशों के इतिहास में इससे ज़्यादा झन्नाटेदार सीरीज़ नहीं हो सकती. वो अलग बात है कि दोनों देशों के बीच लगभग हर सीरीज़ के लिए यही कहा जाता रहा है. ये सीरीज़ द्विपक्षीय नहीं थी. तीन टीमें खेल रही थीं. इंडिया-पाकिस्तान-शिवसेना.

इंडिया को पाकिस्तान के ख़िलाफ़ खेलना था और शिवसेना इस खेलने के ख़िलाफ़ खेल रही थी. 90 के दशक में पाकिस्तान की टीम इसी शिवसेना नामक टीम की वजह से भारत नहीं आ सकी थी. दशक भर में 3 दफ़ा सीरीज़ का प्लान बना लेकिन राइट-विंग ‘नेशनलिस्ट’ ग्रुप्स के लगातार विरोध के चलते सीरीज़ नहीं हो पाई. 1998 में दोनों देशों ने न्यूक्लियर टेस्ट किये थे और हवा में एक अलग ही गर्मी थी. इस सब के बीच पाकिस्तान की टीम इंडिया आई हुई थी. शिवसेना ने ये चेतावनी जारी कर दी थी कि अगर मैच हुआ तो उनके कार्यकर्ता स्टैंड्स में घुसकर ज़िन्दा सांप छोड़ देंगे.

6 जनवरी की रात तकरीबन 25 आदमी राज घाट के पास ही बने फ़िरोज़ शाह कोटला स्टेडियम में जबरन घुस गए. घुसते ही वो मैदान के बीचों-बीच पहुंचे जहां पिच बनी हुई थी. 22 दिनों में ही 22 गज के उस टुकड़े पर 5 दिनों तक एक मैच खेला जाना था जिसपर सिर्फ़ खेल प्रेमियों की ही नहीं बल्कि राजनीतिक खेल पर नज़र रखने वालों की भी बाकायदे नज़र थी. इस भीड़ ने पिच को खोद डाला. शिवसेना ने अगले रोज़ इस काम की ज़िम्मेदारी ली और कहा – “खेल दोस्तों के बीच खेला जाता है, दुश्मनों के बीच नहीं.”

शेड्यूल बदला. पहला टेस्ट मैच चेन्नई में खेला गया. सचिन तेंदुलकर ने क्रैम्प्स से जूझते हुए शानदार इनिंग्स खेली लेकिन पाकिस्तान ने बाज़ी पलटते हुए मैच जीत लिया. चेन्नई के दर्शकों ने इस मैच के बाद जो किया वो ऐतिहासिक था और कट्टरपंथियों के मुंह पर सबसे ज़ोरदार तमाचा था. मैच ख़त्म होने के बाद पाकिस्तान की टीम ने मैदान में विक्ट्री लैप लिया और चेन्नई की जनता ने खड़े होकर तालियां बजाईं.

अगला मैच दिल्ली में. नई पिच बनाई जा चुकी थी. भारी पुलिस बल के साथ फ़िरोज़ शाह कोटला मैदान को किले में तब्दील कर दिया गया था. मैच खेला गया और मामला आख़िरी इनिंग्स पर आया. इंडिया ने पाकिस्तान के सामने 420 रनों का टार्गेट रखा था. लंच तक इंडिया को कोई भी विकेट नहीं मिला. पाकिस्तान गेम में आगे था. 101 रनों पर कोई विकेट नहीं. लेकिन फिर लंच के बाद कुंबले आये और अपने अगले साढ़े 26 ओवरों में 74 रन देकर 10 विकेट्स ले लिए. सारे के सारे दस विकेट. शाहिद अफरीदी से लेकर वसीम अकरम तक. कुंबले ने इतिहास बना दिया था. सीरीज़ 1-1 पर रुक गई थी.

उस रोज़ पत्रकार राजदीप सरदेसाई शाम को एक स्पेशल शो करने वाले थे. प्रोग्राम में राहुल द्रविड़ बतौर गेस्ट एक्सपर्ट आने वाले थे. होटल के बाहर एक कार लगी हुई थी जिसमें राहुल द्रविड़ को न्यूज़ स्टूडियो आना था. कार इंतज़ार कर रही थी और राजदीप सरदेसाई के लिए एक फ़ोन आया. राजदीप ने बात की तो मालूम चला लाइन के दूसरे छोर पर राहुल द्रविड़ थे.

राजदीप ने पूछा कि वो अभी तक निकले क्यों नहीं तो राहुल ने बड़ी सादगी से कहा,

“आज के दिन मैं कैसे किसी प्रोग्राम में गेस्ट हो सकता हूं. आज कुंबले का दिन है. आप उन्हें क्यूं नहीं बुला रहे हैं?”

राजदीप ने कहा कि कुंबले काफ़ी व्यस्त होंगे. और उनसे पहले से कोई बातचीत भी नहीं की है. ऐसे में इतनी शॉर्ट नोटिस पर किसी को कैसे बुलाया जाए. राहुल द्रविड़ ने बेहद तसल्ली भरी आवाज़ में कहा,

“मैं कुछ करता हूं.”

इसके बाद द्रविड़ ने कुंबले से बात की. स्टूडियो में गेस्ट का इंतज़ार किया जा रहा था. उस रोज़ जब शो शुरू हुआ तो स्टूडियो में राजदीप के साथ सामने अनिल कुंबले बैठे हुए थे. राहुल द्रविड़ ने उनसे बात कर के उन्हें शो में जाने के लिए राज़ी कर लिया था. दोनों कर्नाटक के साथी थे और अच्छे दोस्त भी.

10 विकेट्स लेने के बाद दिल्ली में केक काटते अनिल कुंबले.
10 विकेट्स लेने के बाद दिल्ली में केक काटते अनिल कुंबले.

कुंबले के लिए बने उस दिन पर राहुल द्रविड़ अपने लिए कुछ भी नहीं रखना चाहते थे. एक शो में आना भी उन्हें गवारा नहीं था. राहुल द्रविड़ के बारे में ये बहुत कुछ कहता है. उनमें खेल और साथी खिलाड़ियों के प्रति भरे सम्मान के बारे में मालूम पड़ता है. और इसके साथ ही ये भी कि एक इंसान के रूप में वो बुद्ध हो चुके हैं जो अपना वट वृक्ष अपने साथ लेकर चलते हैं.


पीयूष चावला: जिसने हर बार लोगों को चौंकाया लेकिन अब अपने टैलेंट से माफी मांग रहे होंगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.