Submit your post

Follow Us

मनोज कुमार के इस एक सीन पर अवॉर्ड्स की बारिश होनी चाहिए थी!

5
शेयर्स

मनोज कुमार यानी भारत कुमार. भारत कुमार नाम इनकी देशभक्ति वाली फिल्मों का इतिहास देखते हुए पड़ा. जनता के साथ नेताओं के भी फेवरेट अभिनेता थे. लाल बहादुर शास्त्री के ब्लैक एंड व्हाइट जमाने से अटल बिहारी के कलरफुल जमाने तक सबके फेवरेट रहे. अब 80 साल के हो चले हैं. जैसे ही इनका हैप्पी बड्डे आता है, सारे लोग आपको इनकी देशभक्ति से लबरेज फिल्मों के बारे में ज्ञान देने लगते हैं. वो वाला गाना सारे दिन बजता है- हो ओ हो ओ..हो ओ हो ओ..है प्रीत जहां की रीत सदा मैं गीत वहां के गाता हूं..भारत का रहने वाला हूं भारत की बात सुनाता हूं. देशभक्ति का ओवरडोज झेलने वाले हम लोग उनकी इस ट्रिविया को एंजॉय भी करते हैं. लेकिन गुरू बात ये है कि किसी को ऐसे इमेज में नहीं बांधना चाहिए. उन्होंने कित्ता और काम किया, कित्ते रोमांटिक रोल किए, सब देशभक्ति के नीचे दब गया. देशभक्ति अपनी जगह सही है लेकिन बाकी चीजें भी बतानी चाहिए. है कि नहीं?

तो मनोज कुमार ने देशभक्ति के अलावा जो काम किया वो ये है.

गोल्ड प्लेटेड हनुमान चालीसा यंत्र का ऐड

hanuman

तीन चार साल पहले मार्केट में एक कमाल की चीज आई थी. ये इंसानी जिंदगी में आने वाली सारी मुश्किलें एक झटके में खत्म कर देता था. तकरीबन 5 हजार की कीमत वाली इस चीज का नाम था “गोल्ड प्लेटेड हनुमान चालीसा यंत्र.” लोगों के अंधविश्वास और बजरंगबली के नाम का इस्तेमाल करके इसको धकापेल बेचा गया. इससे किसी की मुश्किल खत्म हुई हो या नहीं, उस दौर में कुछ एक्टर्स की मुश्किलें जरूर कम की थीं. आलोकनाथ से लेकर रोनित राय, शिवाजी साटम, मुकेश खन्ना और ढेर सारे लोग इसका ऐड करते थे. इसके पोस्टर में मनोज कुमार की तस्वीर थी और वो ऐड भी करते दिखे थे. उनका सबसे फेमस गाना “जब ज़ीरो दिया मेरे भारत ने तब दुनिया को गिनती आई” से शुरू होता है. यानी उसमें मैथ और साइंस की बात की गई थी. वो आगे जाकर अंधविश्वास वाले आइटम का प्रचार करेंगे ऐसा मालूम नहीं था.

mano

शाहरुख खान को धर लपेटा

man

मनोज कुमार बहुत गुस्सहिल आदमी हैं. साल 2008 में शाहरुख खान की फिल्म ओम शांति ओम आई थी. दीपिका पादुकोण की ये पहली फिल्म थी. इस फिल्म में शाहरुख खान ने चेहरे पर मनोज कुमार की स्टाइल में हाथ रखा हुआ था. मनोज को ये मजाक पसंद नहीं आया. शाहरुख खान के खिलाफ मानहानि का केस कर दिया. पूरे 100 करोड़ की डिमांड कर डाली. केस चलता रहा. 2013 में केस वापस ले लिया.

क्लर्क कम डॉक्टर वाला रोल

ये भारतीय फिल्मों के इतिहास का सबसे आइकनिक सीन है. इसको टक्कर देने के लिए बाद में साउथ इंडियन फिल्मकारों ने बड़ी कोशिश की लेकिन कामयाब नहीं हो पाए. 1989 में क्लर्क फिल्म आई थी. मनोज कुमार उसमें एक ईमानदार क्लर्क बने हुए थे. जो कि गरीबी के कारण थोड़े समय के लिए करप्ट और फिर ईमानदार बन जाते हैं. अशोक कुमार उनके बापू बने थे. बीमार थे तो डॉक्टर नहीं आया. उसको पैसा चाहिए था. तब देखिए कैसे मनोज कुमार ने उनको ठीक किया.

इतना सारा काम करने के बाद भी मनोज कुमार को सिर्फ देशभक्ति के लिए याद किया जाता है तो ये गलत बात है. उनको हैप्पी बड्डे. जियें हजारों साल.


ये भी पढ़ें:

अज़ान पर फतवा सुचित्रा या सोनू की जगह किसी मौलाना ने दिया होता तो क्या करते?

इस सुपरहिट गाने को अपनी आवाज देकर मीका सिंह ने बेमौत मार दिया

राजेश खन्ना ने किस नेता के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

हिंदुस्तान में सिर्फ दो बापू हुए हैं, एक गांधी और दूसरे आलोक नाथ

क्यों अनुराग कश्यप ने इसे 2017 की सबसे खतरनाक फिल्म कहा है!

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?