Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

तिरंगा लेकर जामा मस्जिद पहुंचे मूर्खों का सामना उतने ही बड़े बेवकूफों से हो गया

1.42 K
शेयर्स

जब 15 अगस्त को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी दिल्ली में ज़िंदगी की जंग लड़ रहे थे, उसी वक़्त उसी दिल्ली में कुछ लोगों में मूर्खता का कम्पटीशन हो रहा था. पूरी घटना बता देते हैं शॉर्ट में. कुछ लोग तिरंगा लेकर जामा मस्जिद पहुंचे. वहां जाकर नारेबाज़ी की. वहां खड़े मुस्लिम समुदाय के लोगों को कहा कि ये झंडा पकड़िए. आगे से जवाब आया, “ज़रूर पकड़ेंगे, हमारे बड़े पकड़ते आए हैं और हमारे बच्चे भी पकड़ेंगे.” अच्छा जवाब. लगा कि मूर्खों की मूर्खता का तोड़ निकाल लिया गया है. लेकिन नहीं जनाब. ईंट का जवाब पत्थर से आया. ‘भारत माता की जय’ के नारे का जवाब ‘शाही इमाम ज़िंदाबाद’ के नारे से दिया गया. इधर से भारत माता, उधर से शाही इमाम. जामा मस्जिद की ऐतिहासिक सीढ़ियों पर जहालत की ऐसी बरसात हुई कि सारा भाईचारा बह गया. पीछे बचे दो समुदायों के रंग उतरे चेहरे, जिनसे डर लगता है.

देखिए वो वीडियो:

कितना दुर्भाग्य है सभी भारतीयों के लिए की जिस तिरंगे के ख़ातिर सैंकड़ों स्वतंत्रता सेनानियों ने जान की बाज़ी लगा दी थी, आज उसी तिरंगे को भारत की राजधानी में स्तिथ देश की सबसे बड़ी मस्जिद “जामा मस्जिद”में फहराने के लिए मुझे और मेरी पूरी टीम को कड़ा संघर्ष करना पड़ा। मैं पूछना चाहता हूँ कि क्या जाम मस्जिद भारत का हिस्सा नही है? क्या स्वतंत्रता सेनानियों ने जाम मस्जिद के लिए लड़ाई नही लड़ी थी?? ये सवाल मैं इसलिए उठा रहा हूँ क्योंकि भारत को आज़ादी मिले 72 साल हो गए पर जामा मस्जिद पर तिरंगा नही फहराया जाता । पर हम भी भारत माता के सच्चे सपूत हैं ,तिरंगा फहरा कर ही माने भले कुछ देश के गद्दारों ने हमें धमकाने की कोशिश की हो ।

आप ही बताइए कि क्या जामा मस्जिद में तिरंगा फहराने चाहिये या नही ??

Posted by IP Singh on Wednesday, 15 August 2018

पहले बात तिरंगा लेकर पहुंचे भाइयों की. भई किसी मस्जिद में तिरंगा फहराना आपके लिए इतना ज़रूरी क्यों हो गया? क्या मुल्क की हर इमारत पर तिरंगा फहराना अनिवार्य हो गया है? क्या संविधान में ऐसा लिखा है या कोई क़ानून पास हो गया है? आप होते कौन हैं ये तय करने वाले कि कौन कहां क्या करेगा? तिरंगे से प्रेम सभी को है. लेकिन आप ज़बरदस्ती करोगे तो कोई भी विरोध ही करेगा. क्या देश के सभी मंदिरों, गिरजाघरों में तिरंगा फहराया जाता है? मस्जिद नमाज़ पढ़ने के लिए है. राष्ट्रभक्ति का लिटमस टेस्ट देने के लिए नहीं. ये कैसी गुंडागर्दी है जिसमें झंडे की आड़ में आतंक फैलाया जा रहा है. देश के लिए, तिरंगे के लिए प्रेम अंदर से आता है. किसी के कहे से नहीं.

अपने घर, अपने मुल्क, अपने झंडे से सबको प्यार होता है. सहज स्वाभाविक है ये. आप पहले से दिमाग में शक लेकर पहुंचो और ज़बरदस्ती कुछ करवाने लगे तो प्रतिरोध होगा ही. आप को कोई हक़ नहीं कि इस मुल्क के किसी भी आज़ाद नागरिक का देशभक्ति टेस्ट लो. अपनी श्रद्धा से कोई जहां मर्ज़ी झंडा फहरा लें, लेकिन आप जबरन नहीं करवा सकते.

पिछले साल राजस्थान के भीलवाडा में मुसलमानों ने पूरी मस्जिद तिरंगे की थीम से रंग दी थी. खुद की मर्ज़ी से. वहां कोई उन्हें समझाने नहीं गया था.

तिरंगे में रंगी भीलवाडा की मस्जिद.
तिरंगे में रंगी भीलवाडा की मस्जिद.

हालांकि मुझे यकीन है कि कोई उनसे जबरन ये करवाना चाहे तो वो मना ही कर देंगे. यही स्वाभाविक प्रतिक्रिया है. जामा मस्जिद में यही हुआ.

लेकिन….

प्रतिक्रिया अलग चीज़ है और मूर्खता का जवाब उससे बड़ी मूर्खता से देना अलग चीज़. आतताइयों की हरकत का जवाब ‘शाही इमाम ज़िंदाबाद’ का नारा कैसे हो सकता है? कौन हैं शाही इमाम? उन्हें मुल्क के बनाम कैसे खड़ा किया जा सकता है? मने अगले स्वघोषित राष्ट्रभक्ति का चरस नशा करके आए थे तो तुमने मज़हबी भांग खा ली? कितनी आसानी से अगलों की बुरी नीयत को जस्टिफाई कर डाला. माना कि सिचुएशन अजीब थी लेकिन कितने ही तरीके थे जिनसे इन हालात में मिसाल कायम की जा सकती थी. वो झंडा जबरन दे रहे थे, आप बढ़ के ले लेते. सामने वालों का बवाल का मकसद ही पिट जाता. लेकिन आपने क्या किया? आपने शाही इमाम का रुतबा बुलंद किया. और बदले में बेसिक समझदारी की ऐसी-तैसी फेर दी. अब हो रहा है वो वीडियो हज़ारों में शेयर. लाखों लोग देख चुके हैं. अब मुस्लिम समुदाय की ब्रांडिंग होगी कि ये तो तिरंगे को चाहते ही नहीं. यही इनका मकसद था जिसपर आपने अपनी मूर्खता से मुहर लगा दी.

कुल मिलाकर दोनों तरफ के जाहिलों ने एक और सीन कर दिया है जिसका खामियाज़ा इस मुल्क के वो लोग भुगतेंगे जिनका इस सारे सर्कस से कोई लेना देना नहीं है. पता नहीं ये नफरत हमें कहां ले जाकर छोड़ेगी!


ये भी पढ़ें:

देखिए ‘देशद्रोही’ मुसलमानों का एक और कारनामा

आप राक्षस हैं, आम मुसलमान से चिढ़ते हैं, उससे डरते हैं आप

भारत का मुसलमान क्यों दुनिया के मुसलमानों से ज्यादा समझदार है!

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
People went to Jama Masjid with Indian flag on 15th August, video went viral

कौन हो तुम

कंट्रोवर्शियल पेंटर एम एफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एम.एफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद तो गूगल कर आपने खूब समझ लिया. अब जरा यहां कलाकारी दिखाइए

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

अगर सारे जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

QUIZ: आएगा मजा अब सवालात का, प्रियंका चोपड़ा से मुलाकात का

प्रियंका की पहली हिंदी फिल्म कौन सी थी?

कौन है जो राहुल गांधी से जुड़े हर सवाल का जवाब जानता है?

क्विज है राहुल गांधी पर. आगे कुछ न बताएंगे. खेलो तो बताएं.

Quiz: संजय दत्त के कान उमेठने वाले सुनील दत्त के बारे में कितना जानते हो?

जिन्होंने अपनी फ़िल्मी मां से रियल लाइफ में शादी कर ली.

क्विज़: योगी आदित्यनाथ के पास कितने लाइसेंसी असलहे हैं?

योगी आदित्यनाथ के बारे में जानते हो, तो आओ ये क्विज़ खेलो.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 31 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.