Submit your post

Follow Us

मोदी के चाय बेचने वाली बात पर हमारी पड़ताल क्या कहती है?

प्रवीण तोगड़िया ने हाल ही में कहा था कि उनकी नरेंद्र मोदी से 43 साल की दोस्ती है और नरेंद्र मोदी ने कभी चाय नहीं बेची है. जानिए जब हमने खोजबीन की थी, तो हमें क्या पता चला था…


सोशल मीडिया पर रोज नया रायता आता है. पिछले कुछ दिनों से ये फैल रहा है, जो आपने ऊपर देखा. नीचे उन लोगों की पोस्ट हैं, जिन तक शायद ये फोटो नहीं पहुंची. उनकी समस्या भी सुन लीजिए, फिर आगे बतियाते हैं.

फेसबुक पर कुछ लोग पोस्ट में यही सवाल कर रहे हैं
फेसबुक पर कुछ लोग पोस्ट में यही सवाल कर रहे हैं

अब ये बात तो बड़ी रोचक लगी, लेकिन अपना पेशा कुछ ऐसा है कि किसी भी चीज पर एक बार में यकीन तो करते नहीं हैं. तो सोचा कि पहले ज़रा जांच-पड़ताल कर ली जाए. पहले रेफरेंस मिला अच्युत याग्निक की किताब ‘शेपिंग ऑफ मॉडर्न गुजरात’ (Shaping Of Modern Gujarat) में. 2005 में ये किताब पेंग्विन पब्लिकेशंस ने छापी थी, जिसके पेज नंबर 119 पर लिखा है,

‘इस समृद्धि के बीच संवत 1935 (साल 1879) में अहमदाबाद से पालनपुर के बीच रेलवे लाइन बिछाई गई, जिससे विसनगर का पतन शुरू हुआ. बड़े पड़ोसी शहरों के साथ चल रहा व्यापार कम कर दिया गया और पाटन (Patan) इलाका अपने-आप ऊंझा (Unjha) स्टेशन से जुड़ गया, जिससे ऊंझा में व्यापार बढ़ने लगा. संवत 1943 (साल 1887) में मेहसाणा और रंदाला, विसनगर, वडनगर के बीच रेलवे लाइन बिछाई गई, जिसे संवत 1944 (साल 1888) में खेरालू तक बढ़ाया गया. संवत 1965 (साल 1909) तक इसे तरंगा हिल तक बढ़ा दिया गया. इससे आसपास के इलाकों तक यात्रा की सुविधा तो हो गई, लेकिन विसनगर का व्यापार बर्बाद हो गया.’

अच्युत की किताब का वो हिस्सा, जहां पर 1887 में वडनगर मेंरेलवे लाइन बिछाने का ज़िक्र किया गया है
अच्युत की किताब का वो हिस्सा, जहां पर 1887 में वडनगर मेंरेलवे लाइन बिछाने का ज़िक्र किया गया है

वडनगर गुजरात के मेहसाणा जिले में आता है. अच्युत की किताब से ये साफ हो गया कि वडनगर में रेलवे लाइन 1887 में आ गई थी. तब देश में ब्रिटिश हुकूमत थी. अपनी ज़रूरत पर उन्होंने इमारतें बनवाने से लेकर रेलवे लाइन बिछाने तक सब कुछ किया. ज़ाहिर है कि तब रेलवे लाइन बिछाने की ज़हमत उठाई थी, तो ट्रेनें भी चलाते ही थे. इस बात को और पुख्ता करने के लिए हमने रुख किया वडनगर का, जहां के हाटकेश्वर महादेव मंदिर के पुजारी जयंत भाई 60 बरसों से यहां रह रहे हैं. उनकी बेटी ने फोन उठाया और अच्छी तरह तस्दीक कर लेने के बाद कि फोन के दूसरी तरफ कौन है, फोन अपने पापा को दे दिया. जयंत भाई बताने लगे,

‘हमारा परिवार 100 साल से पहले से यहां रह रहा है. पहले हमारे दादा रहते थे, फिर मामा भी यहीं रहे. यहां बहुत पहले से स्टेशन बना हुआ है. बराबर. मुझे याद है यहां रेलवे का एक गोदाम था. स्टेशन का वेटिंग रूम था और स्टेशन मास्टर का कमरा भी था. थोड़ा आगे जय हाटकेस ट्रांसपोर्ट सर्विस का ऑफिस था. थोड़ा आगे जाने पर तीन दुकानें बनी थीं. सरकारी दुकानें भी थीं. स्टेशन पर तारा भाई के नाम पर एक शेड भी बनाया गया था. उस पर पीले अक्षरों में तारा भाई का नाम लिखा हुआ था. ट्रांसपोर्ट की दुकान रामशंकर भाई जोशी और प्रेमशंकर भाई जोशी चलाते थे.’

गुजरात टूरिज़्म की वेबसाइट पर हाटकेश्वर मंदिर की तस्वीर (बाएं) और मंदिर के अंदर पूजा करते पीएम मोदी (दाएं)
गुजरात टूरिज़्म की वेबसाइट पर हाटकेश्वर मंदिर की तस्वीर (बाएं) और मंदिर के अंदर पूजा करते पीएम मोदी (दाएं)

अब यही बचा था कि रेलवे अधिकारी भी ये कन्फर्म कर दें. तो हमने फोन लगाया रेलवे के पब्लिक रिलेशन ऑफिसर (PRO) प्रदीप शर्मा को. उन्होंने बताया कि 1887 में रेलवे लाइन बिछाने वाली बात सही है, लेकिन तब वहां बड़ा स्टेशन नहीं था. हाल्ट था. हाल्ट यानी स्टेशन का सबसे छोटा भाई, जहां बहुत ही कम ट्रेनें रुकती थीं. प्लेटफॉर्म के नाम पर एक-दो कमरे, टीन शेड और एकाध बेंच वगैरह होती है. हाल्ट सिर्फ पैसेंजर ट्रेनों का मुंह देखते हैं, वो भी हफ्ते में दो-तीन बार. वडनगर में मेन स्टेशन बना साल 1973 में. हालांकि, अब भी वहां एक ही प्लेटफॉर्म है.

तो प्रदीप शर्मा ने बताया कि 2003 से पहले वडनगर राजकोट डिविजन में आता था और अब ये अहमदाबाद डिविजन में आता है. अधिक जानकारी के लिए उन्होंने हमें वेस्टर्न रेलवे के हेडक्वॉर्टर में बैठने वाले चीफ PRO रवींद्र भाखड़ को रेफर किया. रवींद्र ने बताया कि 21 मार्च 1887 को हाल्ट बना था, लेकिन आज़ादी के बाद से वडनगर में कोई नई रेलवे लाइन नहीं बिछाई गई है. पहले नैरोगेज यानी छोटी लाइन का काम हुआ और अभी ब्रॉडगेज का काम चल रहा है.

अभी ऐसी है वडनगर रेलवे स्टेशन की सूरत
अभी ऐसी है वडनगर रेलवे स्टेशन की सूरत

यहां कब से ट्रेनें चलती हैं और कितनी चलती हैं, इस सवाल पर पुजारी जयंत भाई बताते हैं कि पहले यहां हफ्ते में एक-दो ट्रेनें ही रुकती थीं, लेकिन निकलती कई थीं. रवींद्र ने बताया कि पहले की ट्रेनों की डीटेल याद नहीं है, लेकिन ढूंढेंगे, तो मिल जाएगी. रेलवे के पास और भी बहुत काम है, तो हमने दोबारा रवींद्र को परेशान नहीं किया.

तो कार्टून आपके सामने है, असल जानकारी आपके सामने है. नरेंद्र मोदी 1950 में पैदा हुए थे. वडनगर में स्टेशन भले 1973 में बना हो, लेकिन रेलवे लाइन और हाल्ट पहले से था. ट्रेनें रुकती भी थीं. अब उन्होंने वहां चाय बेची या नहीं बेची, ये राम जाने.


लल्लनटॉप आपको लगातार सोशल मीडिया की अफवाहों का सच बताता रहता है, पढ़ लीजिए:

हिंदू पुजारी को नंगा कर पीटने का आधा सच ही दिखाता है ये वीडियो

Oppo और Vivo के ब्लड डोनेशन कैंप की वो सच्चाई, जो कोई और नहीं बताएगा

महिला का गैंग रेप कर नग्न अवस्था में सड़क पर फेंका, क्या है खबर का सच?

500 के नोटों में सिल्वर स्ट्रिप अलग-अलग जगह है, जानिए कौन सा असली है

अमरनाथ यात्रा हमले के वक्त बस सलीम चला रहे थे या हर्ष, सच्चाई यहां जानिए

जुनैद की लाश का बताया जा रहा ये वीडियो कहां से आया है!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.