Submit your post

Follow Us

ये कौन सी कंपनी है, जो ऑक्सीजन कन्संट्रेटर के नाम पर धड़ल्ले से लोगों को ठग रही है?

कोरोना (corona) ने जीना मुहाल कर रखा है, लेकिन कुछ लोग हैं जो इस महामारी में भी ठगी का मौका नहीं छोड़ रहे हैं. ऑक्सीजन को लेकर हाहाकार मचा हुआ है. इसी का फायदा उठाकर यूपी में ऑक्सीजन कन्संट्रेटर (oxygen concentrator) के नाम पर हजारों रुपये ठगे जा रहे हैं. ऐसे ही एक पीड़ित ने लल्लनटॉप से संपर्क करके इस गोरखधंधे के बारे में बताया. आइए बताते हैं, Mediflex engineering कंपनी के नाम पर किस तरह लोगों को ठगा जा रहा है.

पहले पीड़ित की दास्तां सुनिए

यूपी के अमेठी के रहने वाले आशीष सिंह की मां की तबियत 27 अप्रैल को काफी खराब हो गई. वह कोरोना संक्रमित थीं. कुछ दिन बाद उन्हें सांस लेने में दिक्कत होने लगी. उन्हें अस्पताल ले जाया गया. लेकिन वहां ऑक्सीजन की सीमित सप्लाई और मरीजों की भीड़भाड़ की वजह से दिक्कत आ रही थी. ऐसे में आशीष ने घर पर ही ऑक्सीजन कन्संट्रेटर मंगाने के बारे में सोचा. बस यहीं से फ्रॉड की कहानी शुरू होती है. आशीष ने द लल्लनटॉप के बताया,

ऑक्सीजन कन्संट्रेटर खरीदने के लिए मैंने अपने आसपास पता किया तो लोगों ने बताया कि लखनऊ में मिल जाएगा. मैंने लखनऊ में कुछ दुकानदारों को फोन किया. उन्होंने कहा कि डिलीवरी में 10 दिन तक का वक्त लगेगा, वो भी अडवांस पैसे देने पर. मां की तबियत बिगड़ते देख मुझे यह जल्दी चाहिए था. मैंने इंटरनेट पर सर्च करना शुरू किया. मेरे एक दोस्त ने बताया कि इंडिया मार्ट पर देख सकते हो. वहां कई वेंडर मिल जाते हैं.

मैंने इंडिया मार्ट पर संपर्क किया तो पूना की एक कंपनी Mediflex engineering का एग्जिक्यूटिव बताकर एक शख्स से मेरा संपर्क कराया गया. मैंने उसके नंबर पर फोन करके मॉडल वगैरह के बारे में पूछा. उसने 2 दिन में ऑक्सीजन कन्संट्रेटर घर पहुंचाने का वादा किया. अडवांस 46,500 रुपए पेमेंट करने के लिए भी कहा. मैं मां की बीमारी को लेकर पहले ही परेशान चल रहा था. बाकी जगहों पर ऑक्सीजन कन्संट्रेटर खोज-खोज कर थक चुका था. मैंने आनन-फानन में एग्जिक्यूटिव के बताए अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर दिए.

उसके बाद 2 दिन बीत गए, लेकिन ऑक्सीजन कन्संट्रेटर नहीं आया. मैंने जब एग्जिक्यूटिव को फोन लगाया तो वह स्विच ऑफ आया. अब वॉट्सऐप पर लगातार मेसेज करने के बाद भी कोई जवाब नहीं आ रहा है. 7 दिन से ज्यादा हो चुके हैं. न तो वह शख्स फोन पर बात कर रहा है और न ही मेरे मेसेज के जवाब दे रहा है.

होता क्या है ऑक्सीजन कन्संट्रेटर?

हवा में 21% ऑक्सीजन, 78% नाइट्रोजन और 1% में बाक़ी दूसरी गैस होती हैं. ऑक्सीजन कन्संट्रेटर इस हवा में से ऑक्सीजन को फ़िल्टर करके निकालता है. आपको ऑक्सीजन सिलिंडर की तरह बार-बार इसे भराना नहीं पड़ता. ये खुद से एक तरफ़ ऑक्सीजन बनाता रहता है, और दूसरी तरफ़ मरीज़ तक पहुंचाता रहता है. ऑक्सीजन की कमी की वजह से इन दिनों ऑक्सीजन सिलिंडर भरवाना मुश्किल हो रहा है. ब्लैक में ऑक्सीजन रीफिल करने वाले 30,000 रुपए तक लोगों से लूट रहे हैं.

Concentrator 1
ऑक्सीजन कन्संट्रेटर की जरूरत कोरोना पीड़ित मरीजों को होती है. (बाईं फ़ोटो: Inogen, दाईं फ़ोटो: PTI)

हमने फोन किया तो क्या हुआ?

अशीष सिंह ने हमें कंपनी के एग्जिक्यूटिव बताए गए व्यक्ति का नंबर दिया. हमने उसे काफी फोन लगाए, लेकिन फोन बिजी या स्विच ऑफ ही आया. जब हमने ऑक्सीजन कन्संट्रेटर खरीदने के लिए उसे मेसेज किए तो उसका जवाब आ गया. उसने हमें बताया कि 2 दिन के भीतर ऑक्सीजन कन्संट्रेटर घर पहुंच जाएगा. जब हमने कीमत पूछी तो उसने 53,400 रुपए बताई. उसने हमसे पूरा अडवांस पेमेंट करने के लिए कहा. हमने उससे बार-बार उस सेंटर का नाम पूछा, जहां जाकर खुद कन्संट्रेटर रिसीव किया जा सके. लेकिन उसने इसका सवाल का कोई जवाब नहीं दिया.

सोशल मीडिया पर लोग कर रहे हैं शिकायत

आशीष सिंह पहले ऐसे शख्स नहीं हैं, जिसे इस कंपनी का नाम लेकर ठगा गया हो. इसकी ठगी के शिकार कुछ लोग हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी मिले. लोगों ने वहां भी शिकायत कर रखी है कि उनसे अडवांस पैसे लेकर फ्रॉड किया गया है. ऐसी ही एक श्रुति पांडे ने फेसबुक पर लिखा-

मैं सबको एक फ्रॉड के बारे में जानकारी देना चाहती हूं. मेडिफ्लेक्स इंजीनियरिंग पूना नाम की एक कंपनी ऑक्सीजन कन्संट्रेटर के नाम पर ठगी कर रही है. इस नाम की कोई कंपनी नहीं है. ये लोग फर्जी डॉक्युमेंट्स जैसे फेक GSTN नंबर और इनवॉयस दिखाकर लोगों को ठग रहे हैं. इन्होंने मुझे कई तरह के ऑक्सीजन कन्संट्रेटर की तस्वीरें दिखाईं, और 46,500 रुपए अडवांस मांगे. मैंने पैसे भेज दिए और ठगी गई. 

Facebook Twitter Fraud
फेसबुक और ट्विटर पर भी मेडिफ्लेक्स इंजीनियरिंग कंपनी का नाम लेकर की गई ठगी की लोग शिकायत कर रहे हैं.

इस वजह से फंसते हैं लोग

Mediflex engineering का नाम लेकर ठगी करने वालों का तरीका बेहद शातिराना है. खुद को कंपनी का एग्जिक्यूटिव बताने वाला बंदा कुछ ऐसे डॉक्युमेंट्स भेजता है कि लोगों को भरोसा हो जाता है. ये डॉक्युमेंट हैं-

# कंपनी का GST नंबर

# पैसे भेजने के बाद कंपनी के कैशमेमो पर बना बिल

#कंपनी का गूगल सर्च पर नजर आना, क्योंकि इस नाम की बड़ी कंपनी न्यू यॉर्क में है.

# पेमेंट करने के लिए दिया गया करंट अकाउंट नंबर और कंपनी के नाम का अकाउंट

साइबर सेल क्या कर रहा है?

ऐसा नहीं है कि इस तरह के फ्रॉड को लेकर साइबर सेल एक्टिव नहीं है. गृह मंत्रालय की साइबर सिक्योरिटी यूनिट ने 2 मई को ही इस तरह के फ्रॉड को लेकर आगाह किया है. उसने ट्वीट करके बताया-

ऑक्सीजन फ्रॉड से सतर्क रहें!

मजे की बात ये है कि इस ट्वीट के नीचे ही लोगों ने फ्रॉड करने वालों के ढेरों नंबर दे दिए हैं. लेकिन इस बारे में साइबर सेल की तरफ से कोई जवाब नहीं दिया गया है कि उन पर कोई एक्शन लिया गया या नहीं. दिल्ली पुलिस में साइबर सेल से जुड़े एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि ऐसे फ्रॉड को रिपोर्ट न करने की वजह से ही धोखेबाजों के हौसले बुलंद रहते हैं. किसी के साथ इस तरह का फ्रॉड हो तो नजदीकी साइबर क्राइम यूनिट में रिपोर्ट करें. ये तो हुई जागरुक नागरिक की जिम्मेदारी की बात, लेकिन फिलहाल आपाधापी के माहौल में फ्रॉड करने वाले चांदी काट रहे हैं. इनकी हरकतों का बड़ा अड्डा साइबर वर्ल्ड बना हुआ है. इसलिए आपदा के वक्त ऐसे किसी जरूरत के सामान को खरीदने से पहले अच्छी तरह जांच पड़ताल जरूर कर लें.


वीडियो – दिल्ली पुलिस की नई साइबर हेल्पलाइन ऑनलाइन फ्रॉड होने पर पैसा वापस दिलवाएगी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.