Submit your post

Follow Us

कोई निर्मला सीतारमण को बताए कि ओला-ऊबर की खुद की दुकान नहीं चल रही

5
शेयर्स

निर्मला सीतारमण. वित्त मंत्री हैं. उनका एक बयान मीडिया और सोशल मीडिया में तैर रहा है. 10 सिंतबर को वित्त मंत्री ने कहा,

ऑटोमोबाइल सेक्टर की हालत के लिए कई फैक्टर जिम्मेदार हैं. इनमें बीएस-6, रजिस्ट्रेशन फीस और लोगों का माइंडसेट शामिल है. लोग अब गाड़ी खरीद कर ईएमआई भरने की बजाय मेट्रो में सफर करना या ओला-ऊबर का उपयोग करना पसंद करते हैं.

बता दें कि अगस्त में लगातार 10वें महीने कारों की बिक्री में गिरावट आई है. लगभग सभी कंपनियों की गाड़ियों की बिक्री कम होती जा रही है. ऑटो निर्माता कंपनी सिऐम (SIAM) के मुताबिक़, घरेलू बाज़ार में इस महीने कारों की बिक्री में 41 फीसदी से ज़्यादा गिरावट दर्ज की गई.

OLA UBER_RIDENew

तो क्या वाकई में ऐसा है कि ओला-ऊबर की वजह से कारों की बिक्री घटी है? वित्त मंत्री के कहने का मतलब तो यही था, लेकिन ओला-ऊबर के बिजनेस के आंकड़े कुछ और ही कहते हैं.  दरअसल 2016 में ओला और ऊबर की ग्रोथ रेट 90 प्रतिशत की दर से बढ़ रही थी. लेकिन तीन सालों में यह बहुत तेजी से घटी है. 2019 की बात करें तो यह 4.5 प्रतिशत पर आ गई है. कहने का मतलब है कि ओला और ऊबर का बिजनेस जिस तेज रफ्तार से 2016 में बढ़ रहा था, 2019 आते आते एकदम घट गया है. ग्रोथ रेट सिंगल डिजिट में आ गई है. अगर वित्त मंत्री की बात सही होती तो ओला और ऊबर का बिजनेस और तेजी से बढ़ता, जबकि ऐसा है नहीं. इंडिया टुडे डेटा इंटेलिजेंस यूनिट (DIU) के ये आंकड़े देखिए.

साल                        राइड पर डे (मिलियन में)                       Ola, Uber Ride Growth
2015                               1                                                           NA
2016                               1.8-1.9                                                90%
2017                            2.8-3.0                                                   57%
2018                             3.5                                                          20%
2019                           3.65                                                         4.50%

इन आंकड़ों से आप अंदाजा लगा सकते हैं. ओला और ऊबर ने जिस तेजी से 2016 में ग्रोथ किया वह अगले साल ही घट कर 57 प्रतिशत पर आ गया. इसके अगले साल 20 और इस साल 4.5 प्रतिशत पर आ गया.

#यात्री वाहनों की बिक्री में  भी आई गिरावट

देश में जितने यात्री वाहन बिकते हैं, उनमें कैब कंपनियों की हिस्सेदारी ज्यादा से ज्यादा 8 से 10 प्रतिशत होती है. मारुति. भारत की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी है. इसकी टैक्सी की बिक्री 5-6 प्रतिशत के बीच है. बीते एक साल में इसमें कोई बदलाव नहीं आया है.

ये सिर्फ मारुति की बात हुई. लेकिन सभी कंपनियों की बात करें तो इस वित्त वर्ष में यात्री वाहनों की बिक्री में एक साल पहले की तुलना में लगभग एक चौथाई की गिरावट आई है. बिक्री में लगातार 10 महीनों तक गिरावट दर्ज की गई है. संकट से निपटने के लिए ऑटो सेक्टर मांग कर रहा है कि जीएसटी में 10 प्रतिशत की कटौती की जाए लेकिन बात बन नहीं रही है.

बिजनेस टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक़, सड़क पर कैब और रेडियो टैक्सियों की संख्या बढ़ी है. इस रिपोर्ट में ओला का उदाहरण दिया गया है, जिसके पास एक साल पहले तक सड़क पर 850,000 कारें थीं. इनमें से 50,000 कारें लीज पर थीं. जो कि बढ़कर 15 लाख और एक लाख हो गई हैं. यानी ओला की ऑन रोड गाड़ियों में 8 लाख का इज़ाफा हुआ है. हालांकि, इसका मतलब यह नहीं निकाला जा सकता है कि ये सभी नई कारें  हैं. ओला और ऊबर वाहनों के नंबर पहले से ही प्राइवेट कारों के रूप में रजिस्टर्ड थे, जिन्हें बाद में कमर्शियल के तौर पर रजिस्टर किया गया.

ola

तो क्या अपनी कार की तुलना में फायदेमंद है ओला-ऊबर से चलना?

ऐसा नहीं है कि खुद की कार की तुलना में ओला या ऊबर से चलना फायदे का सौदा है. यह तभी फायदेमंद है जब आप छोटी दूरी की यात्रा करते हैं. हर दिन 40 किलोमीटर या महीने में एक हजार किलोमीटर से कम यात्रा करने पर ही टैक्सी से चलना आपके लिए ज्यादा फायदेमंद होगा.  मेंटेनेंस खर्च, ड्राइवर और फ्यूल के खर्च को ध्यान में रखते हुए, हर दिन 20 किलोमीटर की यात्रा के लिए एक निजी कार में लगभग 740 रुपये खर्च होंगे. जबकि कैब में करीब 540 रुपये का खर्च आएगा.

कोई व्यक्ति अगर कैब से हर दिन 100 किलोमीटर या महीने में 2500 किलोमीटर की यात्रा  करता है तो  महीने में उसे करीब 44,000 रुपये का खर्च आएगा. इसमें अगर सर्ज प्राइजिंग को जोड़ लिया जाए तो यह 55,000 रुपये बनता है. जबकि खुद की गाड़ी में मोटा-मोटी 26,802 रुपए का खर्च ही आएगा.

#चिट भी अपनी, पट भी अपनी

यह पहली बार नहीं है कि सरकार खुद की नाकामियों को छिपाने के लिए ओला और ऊबर को ढाल बना रही है. इस साल फरवरी में भारत की बेरोजगारी दर को उजागर करने वाली एनएसएसओ की एक रिपोर्ट लीक हो गई थी. इस रिपोर्ट में बताया गया कि देश में बेरोजगारी दर 45 साल में सबसे ज्यादा है. नीति अयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा था कि ओला और ऊबर ने लगभग 2.2 मिलियन यानी 22 लाख नौकरियां पैदा की हैं. हालांकि यह बात प्रमाणित नहीं हो पाई.

ओला और ऊबर की वजह से लोग कार नहीं खरीद रहे हैं ऐसा सोचने वाली सीतारमण अकेली नहीं हैं. सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स कॉन्क्लेव में, भारत के शीर्ष निजी क्षेत्र के बैंकरों में से एक, उदय कोटक ने भी कहा था कि कारों ने अपना स्टेटस सिंबल खो दिया है. युवा अब इसे आकर्षक नहीं मानते हैं. उन्होंने कहा, “जब मैंने अपना करियर शुरू किया, तब कार एक स्टेटस सिंबल थी. लेकिन मेरा बेटा ओला और ऊबर के साथ ज्यादा सहज है, जो क्षमता उपयोग का एक उत्कृष्ट उदाहरण है.”


iPhone भारत वालों के लिए सस्ते क्यूं पड़ने वाले हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

इंग्लैंड के सबसे बड़े पादरी ने कहा वो शर्मिंदा हैं. जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

आज से KBC ग्यारहवां सीज़न शुरू हो रहा है. अगर इन सारे सवालों के जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

क्विज: अरविंद केजरीवाल के बारे में कितना जानते हैं आप?

अरविंद केजरीवाल के बारे में जानते हो, तो ये क्विज खेलो.

क्विज: कौन था वह इकलौता पाकिस्तानी जिसे भारत रत्न मिला?

प्रणब मुखर्जी को मिला भारत रत्न, ये क्विज जीत गए तो आपके क्विज रत्न बन जाने की गारंटी है.

ये क्विज़ बताएगा कि संसद में जो भी होता है, उसके कितने जानकार हैं आप?

लोकसभा और राज्यसभा के बारे में अपनी जानकारी चेक कर लीजिए.

संजय दत्त के बारे में पता न हो, तो इस क्विज पर क्लिक न करना

बाबा के न सही मुन्ना भाई के तो फैन जरूर होगे. क्विज खेलो और स्कोर करो.

बजट के ऊपर ज्ञान बघारने का इससे चौंचक मौका और कहीं न मिलेगा!

Quiz खेलो, यहां बजट की स्पेलिंग में 'J' आता है या 'Z' जैसे सवाल नहीं हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?