Submit your post

Follow Us

रघुबर दास ही नहीं, BJP के ये नेता भी मुख्यमंत्री रहते हुए चुनाव हार चुके हैं

1971 का लोकसभा चुनाव ‘इंदिरा हटाओ’ बनाम ‘गरीबी हटाओ’ का चुनाव था. 1989 के चुनाव में वीपी सिंह के लिए ‘राजा नहीं से फ़कीर है देश की तकदीर है’ नारा चला था . 2014 का लोकसभा चुनाव ‘अबकी बार मोदी सरकार’ के नारे पर लड़ा गया. 2019 का झारखंड विधानसभा चुनाव ‘घर-घर रघुवर’ पर लड़ा जा रहा था. लेकिन जनता ने मुख्यमंत्री रघुवर दास को घर से बाहर कर दिया. वो जमशेदपुर पूर्व से पिछले 25 साल से विधायक थे. लेकिन इस बार उन्हें हार का सामना करना पड़ा. वो भी अपनी ही कैबिनेट में मंत्री रहे सरयू राय के खिलाफ.

झारखंड में सरयू राय की छवि भ्रष्टाचार के खिलाफ खड़े नेता की रही है. संयुक्त बिहार में उनकी गिनती चारा घोटाला को उजागर करने वाले नेता के तौर पर रही थी. झारखंड में उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा के कार्यकाल में हुए घोटालों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था. आखिरकार मधु कोड़ा को जेल जाना पड़ा. सरयू राय 2005 में जमशेदपुर (पश्चिम) सीट से पहली दफा विधायक बने थे. रघुवर दास जमशेदपुर (पूर्व) सीट से लगातार 25 साल विधायक रहे हैं. एक ही जिले का होने के बावजूद दोनों नेताओं के बीच बहुत कम बातचीत रही है. ऐसे में जब रघुवर दास को मुख्यमंत्री बनाया गया तो सरयू राय इसे निगल नहीं पा रहे थे.

रघुबर दास
रघुबर दास

19 अक्टूबर, 2017. झारखंड के सिमडेगा में 11 साल की बच्ची संतोषी ने भूख की वजह से दम तोड़ दिया. इस घटना ने पूरे देश को हिलाकार रख दिया. मीडिया में छपी खबरों के मुताबिक, संतोषी के परिवार को पिछले आठ महीने से राशन नहीं मिल रहा था क्योंकि उनका राशन और आधार कार्ड लिंक्ड नहीं था. रांची के एक पत्रकार का कहना है कि यह घटना रघुवर दास और सरयू राय के बीच तनातनी की पहली वजह बनी. जब कैबिनेट में आधार कार्ड और राशन कार्ड लिंक करवाने का प्रस्ताव सामने आया तो सरयू राय ने इसका जमकर विरोध किया था. लेकिन मुख्य सचिव राजबाला बर्मा इस प्रस्ताव के पक्ष में अड़ी हुई थीं. राजबाला और सरयू राय के रिश्ते बहुत अच्छे नहीं थे. राजबाला किसी दौर में लालू प्रसाद यादव की चहेती आईएएस रही थीं. उन पर चारा घोटाले में लापरवाही बरतने का आरोप था. दोनों के बीच तब से रिश्ते अच्छे नहीं थे. आखिरकार मुख्यमंत्री के कहने पर इस कानून को मंजूरी दे दी गई. लेकिन सिमडेगा का मामला सामने आने के बाद सरयू राय ने राजबाला को मुख्य सचिव के पद से हटाने की मांग की थी. जिसे अनसुना करते हुए रघुवर दास ने राजबाला को एक अतिरिक्त कार्यकाल दे दिया था.

दूसरी तनातनी मोरहदा जलापूर्ति योजना को लेकर था. इस योजना के तहत जमशेदपुर (पूर्व) विधानसभा के एक बड़े हिस्से में पानी सप्लाई शुरू होने वाली थी. 2006 में विश्व बैंक अपने खर्च पर इस योजना का बना रहा था. 2018 में राज्य सरकार के 58 करोड़ रुपए लगने के बावजूद यह योजना एक बूंद पानी नहीं सप्लाई कर पाई थी. सरयू राय ने एक कैबिनेट मीटिंग में मुख्यमंत्री को चेतावनी देते हुए कहा कि जिस रस्ते पर आप चल रहे हैं वो आपको मधु कोड़ा तक ले जाएगा. इसके बाद से दोनों के बीच तल्खी बहुत बढ़ गई.

सरयु राय
सरयु राय

सरयू राय 1967 में संघ से जुड़े थे. 1977 उन्हें संघ से राजनीति में भेजा गया था. संगठन के लिहाज से वो रघुवर दास से काफी सीनियर थे. इस चुनाव में रघुवर दास ने अपने तरीके से सरयू राय के साथ स्कोर बराबर करने की ठानी. सरयू का टिकट काट दिया गया. वो मुख्यमंत्री के खिलाफ निर्दलीय मैदान में उतर गए. नतीजा? रघुवर दास को हार का सामना करना पड़ा. झारखण्ड में मुख्यमंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री के हारने की पुरानी परम्परा रही है. हेमंत सोरेन और मधु कोड़ा मुख्यमंत्री रहते हुए हारे थे. अर्जुन मुंडा और शिबू सोरेन को भी चुनावी समर में हार का मुंह देखना पड़ा है. रघुवर इस सिलसिले की नई कड़ी हैं. लेकिन रघुबर ने झारखंड की परंपरा को ही नहीं बढ़ाया. उनकी पार्टी में उनसे पहले दो और मुख्यमंत्री थे जो मुख्यमंत्री रहते हुए विधानसभा का चुनाव हारे थे.

बीसी खंडूरी: बीजेपी जरूरी बताती रही और निशंक मनाने को तैयार नहीं हुए

30 जनवरी 2012. उत्तराखंड में निर्वाचन का दिन था. जब मुख्यमंत्री भुवन चंद्र खंडूरी अपने निर्वाचन क्षेत्र में पहुंचे. पोलिंग बूथ पर बीजेपी के कार्यकर्ता नदारद थे. जब उन्होंने  पूछताछ की तो पता चला कि कार्यकर्ता खाना खाने गए हुए हैं. लेकिन जब उन्हें कई पोलिंग बूथ पर वही नजारा दिखाई दिया तो उन्हें समझ में आ गया कि बाजी उनके हाथ से फिसल चुकी है. नतीजे उनकी आशंका की पुष्टि भर थे. वो कांग्रेस के सुरेंद्र सिंह नेगी से 4,623 वोट से चुनाव हार चुके थे.

कहानी की शुरुआत होती है 2009 से. सूबे में बीजेपी की सरकार होने के बावजूद पार्टी को सूबे में लोकसभा चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा था. सभी पांचों सीटें कांग्रेस के खाते में गई थी. गाज गिरी खंडूरी पर. मुख्यमंत्री की कुर्सी गंवानी पड़ी. उनकी जगह लाए गए रमेश पोखरियाल ‘निशंक’. 2011 तक निशंक मुख्यमंत्री रहे. लेकिन बीजेपी आलाकमान को समझ में आने लगा, ‘खंडूरी जरूरी है.’ लिहाजा नवंबर 2011 में खंडूरी को फिर से मुख्यमंत्री की कुर्सी दी गई और खंडूरी जरूरी है के नारे के साथ चुनाव की तैयारी शुरू हो गई है.

बीसी खंडूरी
बीसी खंडूरी

मुख्यमंत्री बनने से पहले खंडूरी गढ़वाल से सांसद हुआ करते थे. उन्हें कोटद्वार विधानसभा से अच्छी बढ़त मिलती थी. लिहाज़ा उन्होंने अपने लिए यही विधानसभा सीट चुनी. इस दौरान यह तथ्य दरकिनार कर दिया गया कि इस सीट पर ठाकुर वोटों की निर्णायक भूमिका थी. 2007 में यहां से शैलेंद्र सिंह राणा बीजेपी के टिकट पर चुनाव जीते थे. 8 जनवरी को खंडूरी ने कोटद्वार से अपनी उम्मीदवारी घोषित की. 11 तारीख को त्रिवेंद्र सिंह रावत अपने कार्यकर्ताओं के साथ देहरादून पहुंच गए. बीजेपी दफ्तर घेर लिया. काफी बवाल के बाद रावत शांत हुए. लेकिन देखते ही देखते उन्होंने पाला बदल लिया.

चुनाव से ठीक पहले रावत ने अपने कार्यकर्ताओं को बूथ से हटा लिया. खंडूरी के समर्थकों ने आरोप लगाया कि यह निशंक के इशारे पर हुआ. कहा गया कि कोटद्वार में निशंक के करीबी भाजपाइयों ने खंडूरी के खिलाफ काम किया. 70 सीटों वाली विधानसभा में बीजेपी की गिनती 31 पर रुक गई. कांग्रेस को मिली 32 सीट. 3 बसपा और 4 निर्दलीय. सबसे बड़ी पार्टी होने की वजह से कांग्रेस को सरकार बनाने का न्यौता मिला. इस तरह खंडूड़ी के ममेरे भाई विजय बहुगुणा कांग्रेस के बैनर पर सूबे के मुख्यमंत्री बने.

शांता कुमार: राम मंदिर के दौर में हारने वाला मुख्यमंत्री

हिमाचल प्रदेश. 1990 में शांता कुमार ऐतिहासिक जनादेश के साथ सत्ता में आए थे. 68 सीटों वाली विधानसभा में बीजेपी और जनता दल के गठबंधन को 57 सीट हासिल हुई थी. सत्ता में आते ही शांता ने तेज गति से सुधार करने शुरू किए. इसमें दो निर्णय महत्वपूर्ण थे. पहला हाइड्रो पावर प्लांट से रॉयल्टी वसूलना और दूसरा हाइड्रो पावर प्लांट को निजी कंपनियों के लिए खोलना. हाइड्रो पावर प्लांट के निजीकरण की शुरुआत ने हिमाचल बिजली विभाग के कर्मचारियों को ख़ासा नाराज़ कर दिया. हड़ताल हो गई. एक महीने लम्बी हड़ताल. शांता ने इससे निपटने के लिए सख्ती से काम लिया. नई व्यवस्था लेकर आए. ‘नो वर्क,नो पेमेंट’ की नीति. इससे दूसरे सरकारी कर्मचारी भी नाराज़ हो गए. यह वो दौर था जब हिमाचल में कर्मचारी यूनियन बहुत मजबूत हुआ करती थीं. दी लल्लनटॉप से बातचीत में शांता कहते हैं,

“उस वक़्त हिमाचल प्रदेश हड़तालों का प्रदेश हुआ करता था. कई सरकारी कमर्चारियों के सेब के बागीचे हुआ करते थे. हालत यह थी कि सेब के बागीचे में काम निपटाने के लिए हड़ताल कर दी जाती थी. हमने तय किया कि कर्मचारी को तनख्वाह काम करने के लिए मिलती है, हड़ताल करने के लिए नहीं. हमने कहा कि अगर हड़ताल करोगे तो तनख्वाह कटेगी. इसके बाद उन्हें समझौता करना पड़ा. हड़ताल होना बंद हो गई.”

शांता कुमार
शांता कुमार

लेकिन शांता को इसकी कीमत चुकानी पड़ी. 1992 में बाबरी मस्जिद तोड़े जाने के बाद केंद्र सरकार ने बीजेपी शासित 4 राज्यों की सरकार बर्खास्त कर दी. दिसम्बर, 1993 में फिर से चुनाव हुए. राम मंदिर आंदोलन के बावजूद हिमाचल में बीजेपी को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा. 68 सीटों वाली विधानसभा में बीजेपी 8 सीटों पर सिमट गई. खुद शांता को हार का सामना करना पड़ा. कांगड़ा की सुलाह सीट से. 3,267 के मार्जिन से.

ये तो हुई मुख्यमंत्रियों की बात. बीजेपी ने चुनावी समर में अपने और भी कई सेनापतियों की शहादत देखी है. किरण बेदी 2015 में दिल्ली में मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार थीं. कृष्ण नगर विधानसभा से हार आम आदमी पार्टी के एसके बग्गा के खिलाफ का सामना करना पड़ा.


वीडियो – पीएम नरेंद्र मोदी ने धनबाद रैली में अयोध्या, एनआरसी, CAB और ट्रिपल तलाक का ज़िक्र किया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.