Submit your post

Follow Us

ट्रंप के घर में घुस कर इसने जो कहा वो आज तक कोई नहीं कह पाया

मिन्हाज़ नाम का लड़का मीडिया में इस समय जितना फुटेज खा रहा है, उतना तो शायद इस समय मोदी और योगी जी भी नहीं खा रहे होंगे. हां वही लड़का अमेरिका वाला. जो डोनाल्ड ट्रंप के पीछे पड़ा हुआ है. जब-जब इसको मौका मिलता है तो बस पिल पड़ता है.

शनिवार रात पहला व्हाइट हाउस एसोसिएशन डिनर ऑर्गेनाइज़ करवाया गया था अमेरिका में. उसमें ट्रंप अंकल नहीं आये तो मिन्हाज ने कहा कि “एलीफैंट इज़ नॉट इन द रूम”.

फ्री स्पीच पर बोलते हुए ट्रंप पर तंज कसा कि प्रेसिडेंट खुद फ्री स्पीच का यूज़ करके हर वो बात ट्वीट करते हैं जो उनके दिमाग़ में आता है, पर वो खुद ही इस प्रोग्राम में नहीं आए. हालांकि व्हाइट हाउस की ओर से ट्रंप का मज़ाक बनाने की मनाही थी.

लेकिन पुश्तैनी रूप से अपने यहां अलीगढ़ के इस लड़के ने अमेरिकी सोसाइटी की तारीफ की. कहा कि सिर्फ अमेरिका में ही ऐसा हो सकता है कि फर्स्ट जेनरेशन इंडियन अमेरिकन मुस्लिम लड़का स्टेज पर आकर अमेरिकन प्रेसिडेंट का मज़ाक बना सकता है.

प्रोग्रैम फ्री स्पीच पर अमेंडमेंट को लेकर था. सारा हॉल मीडिया  से खचाखच भरा हुआ था. सामने बैठे एक पत्रकार से उसने कहा कि ट्रंप को सारी जानकारियां आप लोगों से ही मिलती हैं इसलिए आप को ज़्यादा केयरफुल होना पड़ेगा, क्योंकि आप में से अगर कोई भी गलती करेगा तो आपके पूरे ग्रुप को कोसा जायेगा. फिर आपको समझ आयेगा कि माइनोरिटी होना क्या होता है.

यह पहली बार नहीं है, मिन्हाज इससे पहले भी इस तरह की कॉमेडी करते रहे हैं. साथ ही LGBT के अधिकारों के लिए लड़ते रहे हैं. और मुसलमानों से अपील की कि वे आगे आयें और इसमें उसकी मदद करें.

पर मिन्हाज का इंडिया कनेक्शन भी है. जैसे ही किसी चीज का इंडिया कनेक्शन सामने आता है हम खुश हो जाते हैं. मिन्हाज के मम्मी-पापा इंडिया से गए हैं. वो भी कहां से अलीगढ़ से.

1. अब मिन्हाज को भी थोड़ा जान लेओ. हसन मिन्हाज पॉलिटिकल कॉमेडी में माहिर हैं. कैलीफोर्निया विश्वविद्यालय से लड़के ने प्रोडिकल साइंस की पढ़ाई माफ़ की है. माफ़ कीजिएगा, मैं एन्टायर पॉलिटिकल साइंस लिखना चाहता था, पर उसकी पढ़ाई तो मोदी जी ने की थी. मिन्हाज निचारे ने बस पॉलिटिकल साइंस में डिग्री ली है. क्रिस रॉक का कोई शो देख-देख लड़का बिगड़ गया. कॉमेडी में हाथ आजमाने कूद पड़ा. पढ़ाई के दौरान कॉमेडी के कीड़े ने कभी नहीं काटा. कॉमेडी का शौक चढ़ा, फेमस कॉमेडियन क्रिस रॉक्स को देखकर.

2. मिन्हाज़ ने 2014 में सीनियर पॉलिटिकल कॉरेसपांडेंट के तौर पर ‘द डेली शो’ ज्वाइन किया. वो अक्सर ट्रंप के फैसलों का मज़ाक बनाते रहे हैं. उन्हें पहचान मिली उनके शो में ‘मिन्हाज़ के मुस्लिम मेकओवर’ सेगमेंट से. मिन्हाज़ ने एक बार एक कॉमेडियन को कोट करते हुए कहा था ‘ वही काम करो जिसमें आप असहज हों और उन मसलों पर बात करो जिसके बारे में लोग बात नहीं करना चाहते और अपने शो में वो दिखाओ जो दिखाना ज़रूरी है’. हम बस उसी बात को फॉलो करने की कोशिश कर रहे हैं.

3. ‘द डेली शो’ के अलावा वो 2012 से 2013 तक वेब सीरीज़ ‘द ट्रुथ विद हसन मिन्हाज़’ भी होस्ट कर चुके हैं. इस सीरीज़ में वो सोशल और पॉलिटिकल मुद्दों पर अपने अंदाज़ में कॉमेडी मिक्स कर पब्लिक को हंसाते भी थे और जागरूक भी करते थे.

4. मिन्हाज़ सिर्फ अपने शो में मज़ाक करने के लिए ही नहीं जाने जाते. उन्होंने कई बड़ी पॉलिटिकल हस्तियों के इंटरव्यू भी किए हैं. इसमें उनका सबसे फेमस इंटरव्यू रहा है कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो के साथ.

5. मिन्हाज़ बड़े-बड़े लीडर्स पर कमेंट्स करते हुए शर्माने वालों में से नहीं हैं. चाहे वो हिलेरी क्लिंटन हो या डॉनल्ड ट्रम्प. 2016 में रेडियो एंड टेलीविज़न कॉरसपोंडेंट डिनर के दौरान उन्होंने डॉनल्ड को ‘रेसिस्ट चीटो’ और ‘वाइट ISIS’ कह दिया था. वहीँ हिलेरी को ब्रोकली कहा था.

6. 31 साल के मिन्हाज़ एक मुस्लिम हैं. हिन्दुस्तानी मुस्लिम परिवार में कैलिफोर्निया में पैदा हुए. ऐसे लोगों से ही न ट्रंप अंकिल चिढ़ते हैं? अपने आने वाले शो ‘होमकमिंग किंग’ में वो इमिग्रेंट परिवार से होने के कारण अपने एक्स्पीरियंस को दिखाएंगे. ये शो इस साल के आखिर तक नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ होगा.

'Homecoming King' key art by Sam Spratt| Source - facebook
‘Homecoming King’ key art by Sam Spratt| Source – facebook

7. मिन्हाज़ ट्रंप की ट्रैवल बैन पॉलिसी का विरोध भी करते रहे हैं. अपने शो में उन्होंने मजाकिया लहजे में कहा ‘एयरपोर्ट पर मुस्लिम होना भी बेकार है, लेकिन इस वीकेंड मुझे लगा शायद मैं ही वीकेंड हूं. तीन गोरे मेरी और भागते आए और मुझे मुस्लिम होने पर थैंक्स कहा’. असल में मिन्हाज़ ट्रैवल बैन से उपजी नेगेटेविटी पर बात कर रहे थे.

8. मिन्हाज LGBT अधिकारों के लिए भी लड़ते रहे हैं. 2015 में उन्होंने ईरान के अमेरिकन लेखक और स्कॉलर रेज़ा असलान के साथ मिलकर एक ओपन लेटर भी लिखा. जिसमें वो मुसलमानों को सेम-सेक्स वाले लोगों की शादी को सपोर्ट करने को कह रहे हैं.

9. मिन्हाज अपने एक बयान में पहले ही डोनाल्ड ट्रंप की सलीके से बटोर चुके हैं.  उनने ट्रंप के ट्विटर टोन की दुखी टोन में नकल कर दी. कहिन ‘मेरे लिए बहुत सम्मान की बात है कि मुझे इतने बड़े इवेंट का हिस्सा बनने का मौका मिला. ये और बात है कि राष्ट्रपति इस साल मौजूद नहीं होंगे. थोड़ा सा दुखी हूं. अब पहले से ज्यादा ज़रूरी हो गया है कि हमें पहले संशोधन और प्रेस की फ्रीडम का सम्मान करना चाहिए’.

Source- Hasan Minhaj facebook
Source- Hasan Minhaj facebook

10. 29 अप्रैल को D.C. में वाइट हाउस का कॉरसपोंडेंट डिनर ही अकेली इवेंट नहीं होगा. एक और इवेंट होगा ‘नोट फॉर वाइट हाउस कॉरसपोंडेंट डिनर’. दूसरा इवेंट उनके लिए होगा जो वाइट हाउस के इवेंट में नहीं जाना चाहते. इस इवेंट को मिन्हाज की पुरानी कलीग समान्था बे होस्ट करेंगी. सामन्था दी डेली शो में मिन्हाज की को-होस्ट थीं.


 

इस खबर में इनपुट्स हैं, भूपेन्द्र के.  


ये भी पढ़ें:

मित्र बराक का जमाना गया, अब पीएम मोदी को नया दोस्त मिल गया है

जिस कब्र में ये इंसान दफनाया गया, 11 साल पहले उसने खुद खोदी थी

वो 5 हथियार, जो अमेरिका ने चुने दुश्मनों को निपटाने के लिए

क्या आपने किसी जापानी शायर से उर्दू ग़ज़ल सुनी है?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.