Submit your post

Follow Us

ये है आईफोन के डब्बे से चार्जर गायब होने की वजह; बाकी कंपनियां भी यही कर सकती हैं

ऐपल ने आईफोन के डिब्बे से चार्जर गायब कर दिया. बोले कि ऐसा एनवायरनमेंट को बचाने के लिए किया है. काहे कि लोगों के पास पहले से आईफोन के चार्जर हैं, इसलिए नया मिलने पर पुराना वाला कचरे में जाता है. और कुछ लोगों के पास वायरलेस चार्जर हैं तो तार वाला चार्जर बेकार ही पड़ा रहेगा, फिर कचरा बढ़ाएगा. चार्जर न देकर हम कचरा बढ़ने से रोक लेंगे. इस पर हैदर मूवी का एक डायलॉग याद आता है-

शक पे है यकीन उनको,
यकीन पे है शक मुझे;
रूहदार का अफ़साना सच्चा,
या झूठी कहानी चचा की…
किसका झूठ, झूठ है,
किसके सच में सच नहीं;
है… कि है नहीं,
बस यही सवाल है,
और सवाल का जवाब भी सवाल है;
दिल की गर सुनूं तो है,
दिमाग की, तो है नहीं,
जान लूं कि जान दूं,
मैं रहूं कि मैं नहीं!

एनवायरनमेंट छोड़िए, असल में चार्जर गायब करने के दो बड़े रीज़न हैं ऐपल के पास:

1) पैसा गुरु, पैसा

Akshay Meme Paisa Paisa

ऐपल जो डब्बे में लाइट्निंग टू यूएसबी-C केबल दे रहा है, वो बस आईफोन 11 वालों के काम आएगी, क्योंकि इसी चार्जर में टाइप-C पोर्ट था. इससे पहले के सारे फ़ोन के साथ ऐपल ने टाइप-A पोर्ट वाले चार्जर दिए थे. यानी बाक़ी सारे आईफोन मालिकों को आईफोन 12 खरीदने पर चार्जर खरीदना ही पड़ेगा. और ये बात तो तय है कि ऐपल 12 लेने वाले ज्यादातर वही लोग हैं, जिनके पास ऐपल XR या उससे नीचे वाले फ़ोन हैं.

तो मतलब साफ़ है. “इसमें कस्टमर का घाटा, ऐपल का कुछ नहीं जाता.” बल्कि ऐपल के पास आएगा अब एक्स्ट्रा पैसा. इसके साथ एक और चीज मेन्शन कर देते हैं. ऐपल आईफोन का लाइट्निंग पोर्ट. अगर ऐपल इस पोर्ट की जगह पर यूएसबी टाइप C पोर्ट लगा दे तो एनवायरनमेंट के लिए काफ़ी अच्छा होगा. वो ऐसे कि सबको हर तरह के चार्जर के लिए 75 तरह की केबल रखने के बजाय, बस एक सिंगल टाइप-C टु टाइप-C केबल रखनी होगी. उसी से फ़ोन चार्ज करो, लैपटॉप चार्ज करो, टैब्लेट चार्ज करो, वग़ैरह-वग़ैरह.

Lt Apple Type C
ऐपल मैकबुक प्रो में टाइप C चार्जर लगता है. (फ़ोटो: Mohammad Faisal / The Lallantop)

ऐपल अपने मैकबुक और आईपैड लाइनअप में टाइप-C पोर्ट देता है, मगर पता नहीं आईफोन में टाइप-C पोर्ट देने में क्या दिक्कत है. अगर टाइप-C पोर्ट होगा तो लोग ऐपल से चार्जर खरीदेंगे ही क्यों? घर में पड़े एंड्रॉयड फ़ोन के फ़ास्ट चार्जर से ही फ़ोन चार्ज कर लेंगे सीधे. और ऐसा करके तो एनवायरनमेंट के लिए और भी बढ़िया हो जाएगा.

2) वायरलेस चार्जिंग

फ़ोन के डब्बे से चार्जर गायब करने के पीछे ऐपल का एक और मक़सद है. और वो है वायरलेस चार्जिंग तकनीक को फैलाना. मैगसेफ़ चार्जिंग टेक के अनाउंसमेंट से ये बात और भी क्लियर हो जाती है. ऐपल चाहता है कि आप वायरलेस चार्जर खरीदें, और तार वाले चार्जर को टाटा बाय-बाय कर दें. अभी महंगे फ़ोन में वायरलेस चार्जिंग सपोर्ट तो आ रहा है, मगर इनको इस्तेमाल करने वालों की तादाद बहुत कम है. जब फ़ोन के साथ चार्जर खरीदना मजबूरी बन जाएगी, तब शायद लोग नॉर्मल चार्जर की जगह वायरलेस चार्जर खरीदने की सोचें.

Lt Magsafe Apple
Magsafe टेक पर बना चार्जर.

अब आप पूछेंगे कि हम ऐसा क्यों कह रहे हैं. वजह है ऐपल की पास्ट स्ट्रैटिजी. 2016 में आईफोन 7 के लॉन्च इवेंट पर ऐपल ने ट्रूली वायरलेस एयरपॉड्स (AirPods) भी लॉन्च किए थे. ज़्यादा से ज़्यादा लोग इतने महंगे एयरपॉड्स खरीदें, इसके लिए ऐपल ने क्या किया? आईफोन 7 से ऑडियो जैक निकाल दिया. लोगों के पास ऑप्शन था लाइट्निंग पोर्ट वाले इयरफ़ोन इस्तेमाल करने का, लेकिन देखते ही देखते एयरपॉड्स दुनिया में सबसे ज़्यादा बिकने वाले इयरफ़ोन बन गए.

इस बार तो पूरा का पूरा चार्जर ही गायब है. तो इस बात की पूरी उम्मीद है कि लोग मैगसेफ़ वाले वायरलेस चार्जर खरीदेंगे. ऐपल का टाइप-C पोर्ट वाला 20 W चार्जर 1,900 रुपए का है. वैसे तो डब्बे में केबल मिल रही है, लेकिन अगर केबल के 1,800 रुपए इसमें जोड़ लें तो चार्जर की टोटल क़ीमत 3,700 रुपए बैठेगी. उधर मैगसेफ़ चार्जिंग पैड 4,500 रुपए का है. इसमें अडैप्टर का 1,900 रुपया जोड़ें तो ये वायरलेस चार्जिंग सॉल्यूशन टोटल 6,400 रुपए का पड़ेगा. जो लोग 80,000 रुपए का आईफोन खरीदेंगे, वो 2-3 हज़ार रुपए का मुंह तो नहीं ही देखेंगे.

मज़ाक उड़ाने वाले बाद में खुद चार्जर उड़ाएंगे

Lt Charger Free
वनप्लस 8T के लॉन्च इवेंट का स्क्रीनग्रैब, जहां इन्होंने फ्री चार्जर को हाईलाइट किया था.

ऐपल के चार्जर गायब करने के कांड के बाद, वनप्लस ने अपने 8T स्मार्टफ़ोन के इवेंट पर चार्जर का खास मेन्शन किया. स्क्रीन पर बड़ा-बड़ा लिख दिया कि ये फ़ास्ट चार्जर फ़ोन के साथ फ्री आएगा. सैमसंग ने तो सोशल मीडिया पर ऐपल की तफ़री उड़ा ली, और शाओमी भी पीछे नहीं रहा. मगर अपने को पूरी फीलिंग है कि भय्या ये सारी कंपनियां भी आने वाले टाइम में डब्बे से चार्जर गायब कर देंगी.

आपके मन में जो “क्यों” खटका है न, इसका जवाब इतिहास में छिपा है. ज़्यादा पुराना नहीं, बस 2016 में. हां वही साल, जब बिना हेडफ़ोन जैक वाला आईफोन 7 आया था और साथ में एयरपॉड्स लाया था.

हेडफ़ोन जैक हटाने के लिए लगभग हर कंपनी ने ऐपल का और इसके आईफोन 7 का मज़ाक उड़ाया था. मगर फिर हुआ क्या? एयरपॉड्स झारों-झार बिकने लग गया. पैसे की ऐसी बारिश देखकर बाक़ी कंपनियों ने सोचा, “अरे ये आइडिया हमको पहले काहे नहीं आया.” फ़िर गिरगिट की तरह रंग बदलकर इन्होंने अपने फ़ोन से ऑडियो जैक गायब किए और वायरलेस इयरबड्स की झड़ी लगा दी.

Lt Airpods
ऐपल एयरपॉड्स 2016 में लॉन्च हुए थे.

तो अब अगर चार्जर गायब करने के बाद ऐपल वायरलेस चार्जिंग टेक बेचता है तो बाक़ी कंपनियां इस मौक़े को किसी क़ीमत पर नहीं छोड़ेंगी. वो दिन भी दूर नहीं, जब सबके डब्बे से चार्जर गायब हो सकता है.

सिल्वर लाइनिंग

ये सब सुनकर या पढ़कर आपको लग रहा होगा कि ये सब कंपनियां बस कस्टमर को काटने के लिए बैठी हैं. खैर पैसे बनाने तो हर कोई बैठा है, मगर इस सबमें एक सिल्वर लाइनिंग है. वो ये कि आने वाले दिनों में वायरलेस चार्जिंग तकनीक सस्ती हो जाएगी.

PlayGo T44
PlayGo T44 TWS इयरफ़ोन. (फ़ोटो: Mohammad Faisal / The Lallantop)

शुरुआत में वायरलेस इयरफ़ोन बहुत महंगे हुआ करते थे. मगर आज के टाइम में 1000-2000 रुपए में बढ़िया-बढ़िया ऑप्शन मौजूद हैं. क्यों? क्योंकि हर कोई वायरलेस इयरफ़ोन बना रहा है. टेक्नॉलजी के सस्ते होने और कॉम्पिटिशन बढ़ने के चलते दाम नीचे आ गए हैं. जब सारी कंपनियां वायरलेस चार्जिंग सॉल्यूशन पर नज़र टिकाएंगी तो ये टेक्नॉलजी भी सस्ती होगी ही.


वीडियो: शाओमी मी 10T और वनप्लस 8T में से बेस्ट सेलेक्ट करना हो, तो कौन-सा सही है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

आज बड्डे है.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का हैपी बड्डे है.

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

आज यानी 28 सितंबर को उनका जन्मदिन होता है. खेलिए क्विज.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

करोड़पति बनने का हुनर चेक कल्लो.

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!