Submit your post

Follow Us

अमृतसर हादसा: लोगों को देखने के बाद ड्राईवर ने क्या किया?

दशहरे के मौके पर अमृतसर में जो हुआ वो दिल दहला देने वाला था. ऐसा कुछ जो सब के लिए अगले कुछ दशहरों की बुरी याद बन गया है, कईयों के लिए आने वाले सभी दशहरों की और कुछ के लिए तो ताउम्र की. एक तेज़ी से आती हुई ट्रेन रावण दहन का कार्यक्रम देख रही भीड़ के ऊपर चढ़ गई. कुल 60 से ज़्यादा लोगों के मारे गए और दुखद बात ये है कि ये आंकड़ा बढ़ भी सकता है.

हमने इससे रिलेटेड कुछ स्टोरीज़ की हैं जो आप नीचे क्लिक करके पढ़ सकते हैं:


अमृतसर हादसाः लोगों के ट्रेन के नीचे आने के बाद ड्राइवर को क्या करना चाहिए था?

सामने भीड़ दिखने पर भी ट्रेन का ड्राइवर गाड़ी क्यों नहीं रोकता?

अमृतसर हादसा: क्या इतने ज्यादा लोगों के मरने की वजह ये दीवार है?

जैसे अमृतसर ट्रेन हादसा दुखी करने के लिए कम रहा हो कि लोग ट्रेन ड्राइवर का नाम खोजने लगे!

अमृतसर हादसा: ठीक पहले गुजरी एक ट्रेन से बचे थे लोग, जो दूसरी की चपेट में आ गए

अमृतसर दशहरा ट्रेन हादसा: दुर्घटना के बाद भागने के आरोप पर नवजोत कौर सिद्धू ने क्या कहा?

अमृतसर: रावण दहन के दौरान बड़ा हादसा, 50 से ज्यादा लोग ट्रेन से कटे


पूरी घटना में एक पक्ष रेल विभाग का भी है. खासतौर पर उस ड्राईवर का जो ट्रेन नंबर 74943 नकोदर-जालंधर डीएमयू चला रहा था.

ताज़ा खबर के अनुसार उसे पुलिस ने डिटेन कर लिया है और उससे पूछताछ कर रही है. उधर रेलवे विभाग ने इस हादसे की जिम्मेवारी लेने से इंकार कर दिया है.

टीवी टुडे ने हादसे के बाद फिरोजपुर डीआरएम विवेक कुमार से बात की. विवेक ने तफसील से रेलवे का और ड्राईवर का पॉइंट ऑफ़ व्यू बताया कि क्या हुआ या क्या किया गया और जो नहीं हुआ या जो नहीं किया गया वो क्यूं नहीं हुआ या क्यूं नहीं किया गया?

# विवेक ने बताया कि ट्रेन की स्पीड कम करना बहुत मुश्किल था क्यूंकि जहां हादसा हुआ है वहां पर अंधेरा था और उस जगह ट्रैक पर थोड़ा घुमाव भी है. घुमाव के कारण ड्राईवर का आगे दूर तक देख पाना मुश्किल है. और घुमाव के चलते ही ट्रेन की लाईट भी ट्रैक पर नहीं पड़ती है.

# ट्रेन में लगे स्पीड रिकॉर्डिंग मशीन से पता चला है कि शुरुआत में ट्रेन की स्पीड करीब 92 किलोमीटर प्रति घंटा थी और घटना होने तक वो 68 तक कर ली गई थी. लेकिन इस स्पीड में भी ट्रेन को स्थिर होते-होते 700 मीटर की दूरी तय कर ही लेती.

# घटना के वक्त स्पीड बेशक 68 थी लेकिन धीरे-धीरे वो 7-10 किलोमीटर प्रति घंटा हो गई थी और बस रुकने ही वाली थी. लेकिन गार्ड ने बताया कि ये सब हो चुकने के बाद बाहर से लोग ट्रेन में पथराव करने लगे थे. और यात्रियों की सुरक्षा के चलते अब ट्रेन को रोकना कतई उचित नहीं था. इसके बाद ट्रेन सीधे अमृतसर जाकर रुकी.

# कई लोग शंका व्यक्त कर रहे हैं कि ड्राईवर ने ट्रेन का हॉर्न नहीं बजाया था, या ट्रेन में हॉर्न था ही नहीं. इन कयासों पर विराम देते हुए फिरोजपुर डीआरएम के जानकारी दी कि ट्रेन में हॉर्न था और हॉर्न ठीक भी था. साथ ही हॉर्न बजाया गया था. वैसे मिड सेक्शन में हॉर्न बजाना जरूर नहीं होता है. पहले गेट पर और बाद में लोगों के पास हॉर्न बजाया था.

# विवेक ने ये भी बताया कि आयोजन की रेलवे को न कोई जानकरी थी न आयोजकों ने ही कोई जानकरी दी थी. साथ ही यह आयोजन रेलवे लाइन में नहीं हो रहा था. यूं आयोजकों ने भी रेलवे से अनुमति लेने की कोई आवश्यकता नहीं समझी.

# विवेक ने गेटमैन को भी इस घटना के लिए जिम्मेवार नहीं माना. उनका कहना था कि हादसा किसी गेट के नज़दीक नहीं मिड-सेक्शन में हुआ है. रेलवे का स्टाफ हर जगह नहीं रह सकता है. वो गेट या स्टेशन पर रहता है और अगर गेट पर कुछ होता है तो गेटमैन उसके बारे में बताता भी है. जहां पर हादसा हुआ वो एरिया गेटमैन के क्षेत्र में नहीं आता है.

# विवेक ने इस मामले में रेलवे द्वारा किसी जांच की संभावना से भी इंकार किया.

अब चलते चलते एक बात जो विवेक ने कही और जो हम सबको गांठ बांधकर रख लेनी चाहिए –

लोगों को ट्रैक पास नहीं करना चाहिए. स्टेशन पर भी लोग फुटओवर ब्रिज के स्थान पर नीचे से ट्रैक कोर्स कर सकते हैं.


वीडियो देखें:

अमृतसर हादसा: रावण दहन के दौरान हुए हादसे का वीडियो –

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.