The Lallantop
Logo
लल्लनटॉप का चैनलJOINकरें

दक्षिण एशिया का 'पहला' समलैंगिक विवाह रजिस्टर हुआ, भारत के पड़ोसी नेपाल में

नेपाल में यौन अल्पसंख्यकों के अधिकारों और कल्याण के लिए काम करने वाले एक संगठन ने दावा किया है कि दक्षिण एशिया में पहली बार किसी समलैंगिक विवाह को रजिस्टर किया गया है.

post-main-image
5 साल की ट्रांस-महिला माया गुरुंग और 27 साल के समलैंगिक सुरेंद्र पांडे ने कानूनी रूप से शादी कर ली है. (फ़ोटो/PTI)

नेपाल में 29 नवंबर को पहला समलैंगिक विवाह आधिकारिक रूप से रजिस्टर हुआ है. कहा जा रहा है कि दक्षिण एशिया में ‘पहली बार’ किसी समलैंगिक विवाह का रजिस्ट्रेशन किया गया है. नेपाल के सुप्रीम कोर्ट ने पांच महीने पहले ही समलैंगिक विवाह को मान्यता देने का अंतरिम आदेश दिया था.

नेपाल में समलैंगिक विवाह का रजिस्ट्रेशन हुआ

न्यूज़ एजेंसी PTI की रिपोर्ट के मुताबिक़ 35 साल की ट्रांस-महिला माया गुरुंग और 27 साल के समलैंगिक सुरेंद्र पांडे ने कानूनी रूप से शादी कर ली. ये शादी पश्चिमी नेपाल के लामजंग जिले के डोरडी ग्रामीण नगर पालिका में रजिस्टर की गई है.

नेपाल में यौन अल्पसंख्यकों के अधिकारों और कल्याण के लिए काम करने वाला एक संगठन है ‘ब्लू डायमंड सोसाइटी’. इस संगठन की अध्यक्ष संजीब गुरुंग (पिंकी) ने PTI से कहा, 

''इसके बारे में जानकर बहुत खुशी हुई, यह हमारे (नेपाल) के थर्ड जेंडर कम्युनिटी के लिए एक बड़ी उपलब्धि है. यह न केवल नेपाल में बल्कि पूरे साउथ एशिया में पहला मामला है और हम इस फैसले का स्वागत करते हैं. इस कपल की वजह से जो लोग अपनी पहचान और अधिकारों के बिना रह रहे हैं, उन्हें बहुत मदद मिलेगी. और इस समुदाय के अन्य लोग भी शादी को रजिस्टर करने के बारे में सोचेंगे."

उन्होंने आगे बताया कि सुरेंद्र नवलपरासी ज़िले के रहने वाले हैं. और वो अपने परिवार की सहमति से माया के साथ पिछले छह साल से रहते हैं. माया लामजंग जिले की रहने वाली हैं. संजीब गुरुंग ने आगे कहा,

"अभी इनकी शादी को टेंपरेरी तरीके से रजिस्टर कर दिया गया है और आवश्यक कानून बनने के बाद इसे परमानेंट मान्यता मिल जाएगी." 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ 2007 में ही नेपाल के सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिक विवाह की अनुमति दे दी थी. यहां तक ​​कि 2015 में अपनाए गए नेपाल के संविधान में भी कहा गया है कि लिंग के आधार पर कोई भेदभाव नहीं किया जा सकता है. 27 जून, 2023 को सुप्रीम कोर्ट ने गुरुंग सहित कई लोगों द्वारा दायर एक रिट याचिका में नेपाल में समलैंगिक विवाह को मान्यता देने के लिए एक अंतरिम आदेश जारी किया था, लेकिन काठमांडू डिस्ट्रीक्ट कोर्ट ने चार महीने पहले आवश्यक कानूनों की कमी का हवाला देते हुए इस कदम को ख़ारिज कर दिया था. सुरेंद्र पांडे और माया की शादी की अर्ज़ी उस समय ख़ारिज कर दी गई थी.

ये भी पढ़ें: समलैंगिक शादी की कानूनी लड़ाई लड़ने वालों ने सुप्रीम कोर्ट परिसर में कर ली सगाई

वीडियो: चीफ जस्टिस चंद्रचूड़ ने अमेरिका जाकर कॉलेजियम और समलैंगिक शादी से जुड़े मामले पर बड़ी बात कह दी