Submit your post

Follow Us

बचपन का 15 अगस्त ज्यादा एक्साइटिंग होता था! नहीं?

15 अगस्त के कई मतलब हैं. लाल किले से प्रधानमंत्री का भाषण. छुट्टी. पतंगें. लेकिन मैं सोचना शुरू करता हूं तो यादें ले जाकर अपने गांव छोड़ देती हैं.

रैली, पीटी-परेड, इनाम, मिठाई और इस्तरी की हुई नई चमकती ड्रेस और फोटो खिंचवाने वाला 15 अगस्त. हाथों में केसरिया मिठाई लिए, सफेद बादलों के साए में, हरी जमीन पर फहराते थे साड्डा तिरंगा .

DSC_0482

हल्की-हल्की बूंदाबादी. हवा में खुनक. बच्चे के सिर में कंघी फिरा रही मां. बच्चा कहता है, मां जल्दी कपड़े पहनाओ. देखो सब चले गए. प्रभात फेरी निकल जाएगी. फिर मैं अकेला पीछे-पीछे भागता रहूंगा. इतनी जोर से गांव का स्कूल कभी याद नहीं आता, जितना 15 अगस्त को आता है. कुछ ही तो ऐसे दिन होते थे जब खुद से मन करता था, स्कूल जाने का.

Photo: Sumer Singh Rathore
Photo: Sumer Singh Rathore

सुबह जल्दी से स्कूल पहुंचकर माड़साब्ब को माइक, स्पीकर और गाने लगाने में हेल्प करते थे. फिर शुरू हो जाते थे सुबह-सुबह, ‘मेरे देश की धरती सोना उगले, उगले हीरे मोती’ जैसे देशभक्ति गाने.

मिठाई के पैकेट बनाने के लिए सारे लड़के तैयार रहते थे. वो भी जो हर काम में इधर-उधर बहाना बनाकर गायब हो जाते थे. पर ये काम मिलता माड़साब्ब के कुछ लाडले बच्चों को. जिनको अंदर नहीं घुसने दिया गया उनको लगता था कि ये अंदर सारी मिठाई खा जाएंगे. वो बाहर से बार-बार झांककर देख जाते थे. या फिर माड़साब्ब से बार-बार बोलते, हम भी पैकेट बनवाने में हेल्प करें क्या.

Photo: Sumer Singh Rathore
Photo: Sumer Singh Rathore

स्कूल के गेट से शुरू होती थी प्रभात फेरी. नारे लगाते हुए पूरे गांव का चक्कर लगा आते थे. अपने घर के आगे से गुजरते समय एक दम तनकर चलते थे. और थोड़ा जोर से नारे लगाने लगते. दूध मांगोगे तो खीर देंगे, कश्मीर मांगोगे तो चीर देंगे टाइप के.

प्रभात फेरी के बाद होता था झंडारोहण. उस वक्त जब राष्ट्रगान बजता था तो लगता था कि जो सबसे बड़ी तोप है, वो यही है. रोंगटे खड़े हो जाते थे भाईसाब. उसके बाद होती पीटी परेड. माड़साब्ब की बहुत डांट पड़ती थी. आज किसी ने गड़बड़ कर दी ना तो मिठाई का पैकेट नहीं मिलेगा. पर फिर भी गड़बड़ तो हो ही जाती थी. ना हाथ मिलते थे, ना पैर. पीटी में आधे लड़कों के सिर ऊपर होते तो आधों के नीचे. आधे दाएं घूमते आधे बाएं. गांव के लोग देखकर खूब हंसते थे.

Photo: Sumer Singh Rathore
Photo: Sumer Singh Rathore

बहुत सारी प्रतियोगिताएं भी होती थी. दौड़, चम्मच दौड़, बोरा दौड़, जलेबी खाने वाली, सुई डोरा, आटे में से सिक्का खाने वाली दौड़. बोरा दौड़ में आधे बच्चे बीच में ही गिर जाते थे. चम्मच वाली में सबके कंचे गिर जाते थे. आटे में से सिक्का खाने वाली दौड़ में सब आटे में मुंह डालकर भागते थे तो उनका आटे से सना मुुंह देखकर हंस-हंस कर पेट दर्द हो जाता था. सुई डोरा में जीतने के लिए कुछ लड़कियां कई दिन पहले से प्रैक्टिस शुरू कर देती थी.

Photo: Sumer Singh Rathore
Photo: Sumer Singh Rathore

इस दिन का सबसे रंगीन हिस्सा थे सांस्कृतिक प्रोग्राम. अलग-अलग वेशभूषा, डांस, नाटक, गीत. कई बार इतने लोग देखकर दिमाग खाली हो जाता था. गीत गाने मंच पर चढ़ते थे और एक लाइन बोल के चुप हो जाते थे. कुछ याद ही नहीं आता. फिर माड़साब्ब बोलते कोई बात नहीं बेटा शाबास, बैठ जाओ. दूसरे दिन क्लास में खूब डांट पड़ती थी. सबसे अच्छा सीन होता था. जब कुछ बच्चे तुतलाती आवाज में लोक-गीत सुनाते थे.

फिर शुरू हो जाते भाषण. दस दिन पहले ही अच्छे से लिखवा लिया जाता बड़े भाई या चाचा से. पहले अंग्रेजी में होता और फिर हिंदी में. कई दिन पहले से रटना शुरू करते थे, फिर भी भूल जाते थे. उसके बाद प्रोग्राम के चीफ गेस्ट भाषण देते. बच्चों देश का भविष्य हो, देश का नाम रोशन करोगे टाइप के डायलाॅग वाले भाषण. पर बच्चों को इससे क्या मतलब, उन्हें तो  इंतजार रहता कब इनके भाषण खत्म हों और मिठाई के पैकेट मिलें. कुछ बच्चे पीटी वाले माड़साब्ब से छिपकर गांव के दूसरे लड़कों के साथ बीच में तालियां बजाते थे. चीफ गेस्ट 1100 रुपए स्कूल को देने की घोषणा के साथ  भाषण खत्म करते.

Photo: Sumer Singh Rathore

फिर शुरू होता था इनाम वितरण. सारी प्रतियोगिताओं में जीतने वालों को सम्मानित किया जाता. कुछ को तीन-तीन, चार-चार इनाम मिल जाते थे. उनके भाई-बहन चौड़ में उनके साथ इनाम पकड़े घूमते रहते. सबसे मजे लेते हुए पूछते तुम्हें भी कुछ मिला कि नहीं. इनाम में मिलते थे प्लेट, पेन और गिलास.

DSC_0576

और आखिर में आता था वो मौका जिसका सुबह से इंतजार रहता था. मिठाई बंटनी शुरू होती थी. मम्मी की, छोटे भाई की, बुआ की ना जाने किस-किस की मिठाई मांगते थे बच्चे. फिर पैकेट लेकर भागते हरे-भरे खेत की ओर जल्दी से फोटो खिंचवाने. जल्दी से इसलिए कि घर भी तो पहुंचना होता था. 12 बजे डीडी नेशनल पर देशभक्ति फिल्म आती थी ना. क्यों याद आया न बचपन वाला 15 अगस्त?

आजादी मुबारक!

Photo: Sumer Singh Rathore
Photo: Sumer Singh Rathore

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.