Submit your post

Follow Us

23 औरतों के बलात्कार की वो चीखें, जो भारत को कभी सोने नहीं देंगी..

क्या कुनन-पाशपोरा आपको याद है?

23 और 24 फरवरी 1991 की रात को कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के कुनन और पाशपोरा दो गांवों में, 23 औरतों के बलात्कार हुए. कुछ लोग इस संख्या को 40 भी बताते हैं. इसका आरोप भारतीय सेना पर लगा. 26 साल बीत चुके हैं, पर इस घटना के दोषी पकड़े नहीं गए. बहुत सालों तक तो इस घटना को स्वीकार ही नहीं किया गया कि ऐसा कुछ हुआ भी है. 24 साल बाद इन औरतों में से 5 ने अपनी बातें बताईं और ये बातें एक किताब के रूप में बाहर आईं. ये किताब उस ओर की घटना है, जिसकी तरफ से सारा देश आंख मूंदे रहता है. हमें ये लगता है कि सेना का ही वर्जन सही है. पाकिस्तान और आतंकवादियों से लड़ाई में कौन असली विक्टिम है, उसे जानना हमारे लिए जरूरी नहीं होता. मैं अक्सर ऐसा सोचता हूं, कि अगर हम वहां होते, तो क्या करते. क्या सोचते. किससे नाराज होते. किसको मारना चाहते. क्या सोचते देश के बारे में.

2015 में ये किताब “Sexual Violence and Impunity in South Asia” प्रोजेक्ट के तहत जुबान पब्लिकेशन की सीरीज में आई थी. ये उस सीरीज की पहली किताब थी. पांच युवा लेखिकाओं एस्सार बतूल, इफरा बट, समरीना मुश्ताक, मुनाजा राशिद और नताशा राथर ने इस किताब को लिखा. सरकारों के खिलाफ आवाज उठाती ये किताब है. ये वो लोग हैं जिनकी आवाज पर 2013 में इस केस को फिर खोला गया था. इन लड़कियों की हिम्मत काबिले तारीफ है. निर्भया बलात्कार कांड के बाद इन लोगों की हिम्मत और बढ़ी. क्योंकि ये बात औरतों की है. जिनके लिए कोई भी दरिंदा बन जाता है.

किताब के मुताबिक 23 और 24 फरवरी 1991 की रात को चौथी राजपूताना राइफल्स के सिपाही कुनन-पाशपोरा गए थे. ये लाइन ऑफ कंट्रोल के पास है. ये कॉर्डन और सर्च ऑपरेशन था. मतलब खाली कराकर आतंकियों की खोज करना.

इस किताब का एक अंश आपको पढ़ा रहे हैं-

Quote 4मैं और मेरी बहन चिपक के खड़े हो गए. हम दरवाजे पर हो रही धपधप से डर गए थे. ऐसा लग रहा था कि कोई हमारे दरवाजे को तोड़ रहा है. मेरे दादाजी उठ गए और उन्होंने दरवाजा खोल दिया. मैंने कुछ शब्द सुने – “कितने आदमी हो घर में”. “कोई नहीं साहिब, बस मैं हूं”. मैंने उठने की कोशिश की. पर किसी ने रोक दिया. ये अमीना थी. उसने मेरा हाथ पकड़ रखा था. कड़ी नजर से मुझे देखा. अब मैंने ध्यान से सुनने की कोशिश की. मैंने देखा कि अमीना और फातिमा भी यही कर रही थीं. इसके बीच में मैंने एक औरत की आवाज सुनी. ये मेरी अम्मी थीं. किसी से गिड़गिड़ा रही थीं. अचानक आवाज आई, “हा ख़ुदा!”.

तुरंत ही एक सिपाही हमारे सामने आ गया. मैं उसकी शराब को सूंघ सकती थी. उसके हाथ में बोतल थी. मेरा गला सूख गया था. मैं चिल्ला भी नहीं पा रही थी. मैं खड़ी भी नहीं हो पा रही थी. मेरे पैर जमीन में सट गए थे. फातिमा और अमीना ने मुझे दोनों तरफ से पकड़ रखा था. उनकी उंगलियां मेरी बांहों में धंस गई थीं.

किताब
किताब (जुबान सीरीज)

तभी मैंने देखा कि सिपाही एक से बढ़कर छह हो गए. मैं चिल्लाना चाहती थी. पर मेरे दादाजी भी कुछ नहीं बोल पा रहे थे. मुझे नहीं पता कि वो मेरी अम्मी को कहां ले गए थे. मुझे बस मेरा गिड़गिड़ाना याद है. ख़ुदा के लिए हमें छोड़ दो, हमने कुछ नहीं किया. मैंने उनके जूतों पर सिर रख दिया. पर वो मुझे किचन में घसीट ले गया. मेरी मां वहीं पर थी. मैंने पूरी ताकत से आवाज दी – “अम्मी, बचा लो”. पर मैं कह नहीं सकती कि मैंने उसे किस हालत में देखा और उसके साथ क्या हो रहा था. मेरा पैरहन फाड़ दिया गया. और उसी के साथ मेरी पूरी जिंदगी भी.

जब मुझे होश आया तो मेरा सिर खाली हो चुका था. मैं सुन्न हो गई थी. मेरा चेहरा भीग गया था. मैं नंगी थी, मेरा शरीर ही नहीं, मेरी आत्मा भी नंगी हो चुकी थी. मेरी मां उसी कमरे में मेरे साथ थी. वो शायद होश खो बैठी थी या फिर जान-बूझ के नहीं देख रही थी. उसने अपना चेहरा मेरी तरफ से घुमा लिया था. तभी मैंने किसी को रोते हुए सुना. वो मेरा भाई था. उसने किसी चीज से मुझे ढंक दिया. मुझे साफ-साफ याद नहीं है कि ये क्या था. मैंने आज तक उससे पूछा नहीं है. उस रात के बारे में हमने कभी बात नहीं की है. पर मुझे याद है कि उसके बाद मैं अपने शरीर के नीचे वाले हिस्से को महसूस नहीं कर सकती थी.

वो एक रात मेरी जिंदगी बन गई. मैं कुछ भी कर लूं, कहीं चली जाऊं, कुछ भी सोच लूं वो रात मेरा पीछा नहीं छोड़ती. ये मेरे साथ हर वक्त रहती है. चाहे मैं नमाज पढ़ूं, खाना बनाऊं, या खुद को खूब साफ करूं. मैं सिपाहियों को बद्दुआएं देती हूं. हर वक्त. पूरी जिंदगी देती रहूंगी. लोग मुझे धीरज बंधाते हैं. कहते हैं कि तुम्हें सब भूल जाना चाहिए और जिंदगी में आगे बढ़ना चाहिए. पर वो कहना आसान है. करना नहीं. बहुत मुश्किल है. जैसे कि कोई अपनी आंखें खो दे और लोग भरोसा दिलाएं कि तुम्हारे पास आंखें थी ही नहीं.

मैंने पुलिस को कोई स्टेटमेंट नहीं दिया. मेरे परिवार को डर था कि कोई मुझसे शादी नहीं करेगा. पर मैंने कभी शादी नहीं की. ऐसा नहीं है कि मैं करना नहीं चाहती, मेरी हेल्थ मुझे अनुमति नहीं देती. मैं शादी करने लायक नहीं हूं. मैं किसी की जिंदगी बर्बाद नहीं करना चाहती. इसके अलावा जब मैं ये देखती हूं कि मेरे गांव की लड़कियों को उनके ससुराल वाले कैसे लेते हैं, तो मेरा और मन नहीं करता. हम लोगों ने मेरी दोस्त अमीना के रेप के बारे में कभी नहीं बोला. उसके बाद मैं जब भी उससे मिली, हम लोग खूब रोए. हम अभी भी दोस्त हैं, पर हमारे बीच एक अनकहा नियम है. उस रात के बारे में बात नहीं करनी है. मैं कुनन-पाशपोरा की रेप सर्वाइवर हूं. मैं सांस ले रही हूं, पर जिंदा नहीं हूं.”

ये घटना उस वक्त हुई थी जब कश्मीर में आतंकवाद चरम पर पहुंचा था. पर हमने इन चीजों को सिर्फ एक नजर से देखा था. वहां नजर आने वाला हर इंसान हमें आतंकी नजर आ रहा था. हम अपनी गलतियां देख ही नहीं पा रहे थे. भरोसा जीतने के लिए अपने इरादों को साबित करना पड़ता है. हम वो नहीं कर रहे थे. हम ताकत के दम पर सब सही करना चाहते थे. शायद हम अपनी कमजोरियों को स्वीकार नहीं कर पा रहे थे. इसलिए डरा रहे थे. इसका नतीजा भोगा उन लोगों ने, जिनका इसमें कोई रोल नहीं था. हम इसको मानने के लिए भी तैयार नहीं थे. हम कभी ये नहीं सोच पाए कि अगर हम वहां होते तो क्या करते. अगर समझना ही है तो इस किताब को एक बार जरूर पढ़ा जाना चाहिए. नहीं तो हम सिर्फ गोलियों की गूंज सुनकर ही किसी को सही डिक्लेयर करते रहेंगे. यही वजह है कि सैनिकों के कश्मीर में विशेष अधिकारों पर जरूर बात होनी चाहिए. वही अधिकार जिनके खिलाफ मणिपुर में इरोम शर्मिला लड़ाई लड़ती रही हैं. ध्यान से देखें तो देश में असली लड़ाई औरतों की ही है. हर राज्य में. प्रूफ चाहिए तो हर राज्य के अखबार पढ़ लेने की जरूरत है. एक दिन का ही. इसके सबूत हमें यूएन की तरफ से गई पीसकीपिंग फोर्सेज के कामों में भी मिलते हैं. कई देशों में सैनिकों द्वारा रेप किए जाने के आरोप लगे थे. यूएन के पूर्व चीफ कोफी अन्नान ने इस बात पर कई देशों को फटकार लगाई थी.

सच छुपेगा नहीं.

ये भी पढ़ें:

तो थर्ड जेंडर वाले पेशाब करने कहां जाएं?

मायावती खुद एजेंडा हैं, संविधान का घोषणापत्र हैं और एक परफेक्ट औरत!

पॉर्न देखना आपका अधिकार है, मगर ये बातें भी पढ़ लें

दुनिया की सबसे पहली पॉर्न स्टार की डरा देने वाली कहानी

रेप करने के पहले वो औरत को पॉर्न क्यों दिखाते हैं?

तीन मर्द, एक मासूम बच्ची और मुंह में ठुंसी हुई चीखें

एक रेपिस्ट और उसकी शिकार जब स्टेज पर आमने-सामने आए तो कुछ अच्छा हुआ

1000 से ऊपर मुसलमान मार दिए गए हैं और कहीं ये खबर नहीं बताई गई

’12 साल की थी जब सबकी नजरों में रोल मॉडल मेरे भाई ने मुझे गलत जगह छुआ था’

आलिया भट्ट ने अपनी फेवरेट सेक्स पोजीशन बताई तो वो हमारे लिए खबर क्यों है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मेरा बाएं-हत्था होना लोगों को चौंकाता है. और उनका सवाल मुझे चौंकाता है.

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.