The Lallantop
Advertisement

फैटी लिवर के लिए Vitamin E बड़े काम का, इन चीज़ों को डायट में शामिल करिए, बड़ा फायदा होगा!

विटामिन A, B, C की तरह ही विटामिन E भी फैट सॉल्युबल है. यह हमारे शरीर के लिए बहुत ज़रूरी होता है. इसे खाने से कई फायदे मिलते हैं.

Advertisement
vitamin e benefits for health why we should eat it
स्किन के लिए बड़ा लाभकारी है विटामिन E.
14 जून 2024
Updated: 14 जून 2024 18:22 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

आपने कभी पीले या हरे रंग वाले विटामिन ई के कैप्सूल खाएं हैं? ये कैप्सूल आसानी से मार्केट में मिल जाते हैं. इन्हें हमारी स्किन, बाल, और आंखों के लिए बहुत फ़ायदेमंद माना जाता है.  दरअसल विटामिन ई शरीर के लिए एक बहुत ही ज़रूरी पोषक तत्व है. ये स्किन में पर्याप्त नमी बनाए रखता है. इससे स्किन निखरती है. न सिर्फ स्किन, ये बालों, आंखों और शरीर के दूसरे अंगों के लिए भी बहुत फायदेमंद है. 

ऐसे में आज विटामिन ई पर बात करेंगे. डॉक्टर से समझेंगे कि विटामिन ई शरीर के लिए क्यों ज़रूरी है? इसकी कमी से क्या दिक्कतें होती हैं? क्या विटामिन ई के कैप्सूल लेने से वाकई स्किन, बाल और आंखों को फ़ायदा होता है?  साथ ही जानेंगे कि शरीर में विटामिन ई की कमी पूरी करने के लिए आप क्या-क्या खा सकते हैं? 

शरीर के लिए विटामिन ई क्यों ज़रूरी है?
डॉ. तुषार तायल, सीनियर कंसल्टेंट, इंटरनल मेडिसिन, सीके बिड़ला हॉस्पिटल, गुरुग्राम

विटामिन ई (Vitamin E) वसा में घुलनशील विटामिन है यानी फैट सॉल्युबल. विटामिन ए, बी, सी की तरह ही. विटामिन ई हमारे शरीर के लिए बहुत ज़रूरी है क्योंकि यह एक एंटीऑक्सिडेंट की तरह काम करता है. ये शरीर में होने वाली किसी भी तरह की इंफ्लेमेशन यानी सूजन को कम करता है. जब हम तनाव में होते हैं, तब शरीर में बहुत सारे स्ट्रेस पार्टिकल बन जाते हैं, जिन्हें रिएक्टिव ऑक्सीजन स्पीशीज कहते हैं. इन्हें विटामिन ई नष्ट करता है. दूसरा, विटामिन ई फैटी लिवर में बहुत ज़्यादा फायदेमंद है. इसे कम करने में भी विटामिन ई मदद करता है. तीसरा, सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर को कम करने में भी विटामिन ई मदद करता है. चौथा, अगर आपके शरीर में LDL यानी बैड कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड ज़्यादा हैं तो खाने में ओमेगा-3 फैटी एसिड की मात्रा को अच्छा रखें और साथ में विटामिन ई दें. इससे LDL कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड की मात्रा को कम रखने में मदद मिलती है. ये भी पाया गया है कि विटामिन ई, अर्थराइटिस और अस्थमा के मरीज़ों के लिए भी फायदेमंद है. कुछ महिलाओं को पीरियड्स के दौरान बहुत ज़्यादा दर्द होता है. इस दर्द को कम करने में भी विटामिन ई मदद करता है. विटामिन ई हमारे शरीर की इम्यूनिटी को भी बढ़ाता है ताकि हम किसी भी इंफेक्शन से आराम से लड़ पाएं. 

विटामिन ई की कमी से शरीर में क्या होता है?

विटामिन ई की कमी से शरीर को कई सारे नुकसान होते हैं. शरीर की इंफेक्शन या बीमारी से लड़ने की क्षमता बहुत ज़्यादा कम हो जाती है. शरीर में फ्री रेडिकल्स और रिएक्टिव ऑक्सीजन स्पीशीज की मात्रा बहुत ज़्यादा बढ़ जाती है. ये हमारे विभिन्न अंगों पर असर करती है. चाहे वो हमारा दिल हो, लिवर हो, दिमाग हो, फेफड़े हों, ज्वाइंट्स हों या आंतें हों. विटामिन ई की कमी से हमारे शरीर के हर अंग पर असर पड़ता है. इसलिए हमारे शरीर में विटामिन-ई की मात्रा ठीक होनी चाहिए. 

विटामिन ई वाली चीज़ें खाने से स्किन और बाल सुधरते हैं
क्या विटामिन ई के कैप्सूल लेने से स्किन, बाल और आंखों को फ़ायदा होता है?

ऐसा देखा गया है कि विटामिन ई के सप्लीमेंट लेने से हमारी स्किन सुधरती है. घाव भरने की क्षमता बेहतर हो जाती है. जिन्हें एक्जिमा की दिक्कत है, उन्हें भी विटामिन ई से फायदा पहुंचता है. बालों की ग्रोथ में भी विटामिन ई कुछ हद तक मदद कर सकता है. साथ ही, विटामिन ई आंखों में कैटरेक्ट यानी मोतियाबिंद और मैक्यूलर डिजनरेशन होने से रोकता है. मैक्यूलर डिजनरेशन आंखों के पर्दे से जुड़ी बीमारी है जिसमें धुंधला दिखता है.

विटामिन ई की कमी पूरी करने के लिए क्या खा सकते हैं?

शरीर में विटामिन ई की मात्रा पूरी करने के लिए ज़रूरी है कि विटामिन ई के सप्लीमेंट से पहले खाद्य पदार्थों से इसे लिया जाए. विटामिन ई के सबसे मुख्य स्रोत सीड्स और नट्स हैं. जैसे अखरोट, बादाम, मूंगफली, अलसी के बीज, चिया सीड्स और कद्दू के बीज. इनमें विटामिन ई भरपूर मात्रा में पाया जाता है. फलों की बात करें तो आम और कीवी में बहुत अच्छी मात्रा में विटामिन ई होता है. हरी सब्ज़ियां, जैसे ब्रॉकली और पालक में विटामिन ई काफी पाया जाता है. तेल, जैसे तिल के तेल, एवोकाडो ऑयल, मस्टर्ड ऑयल में भी विटामिन ई की काफी अच्छी मात्रा में पाया जाता है.

(यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर पूछें. दी लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.)

 

 


 

वीडियो: सेहत: दांत टेढ़े क्यों निकलते हैं और टेढ़े दांत बिना ब्रेसेस कैसे ठीक करें?

thumbnail

Advertisement

Advertisement