The Lallantop
Advertisement

इन तरीकों से आप भी पा सकते हैं Korean Glass Skin!

कोरियन एक्टर्स और उनके लुक पर पूरी दुनिया फिदा है. लोग उनकी तरह बोलना और दिखना चाहते हैं. तभी तो कोरियन ग्लास स्किन का ट्रेंड आजकल ज़ोरों पर है.

Advertisement
how to get korean glass skin naturally at home
कोरियन ग्लास स्किन पाने के लिए स्किन को खूब हाइड्रेट रखें
23 मई 2024
Updated: 23 मई 2024 18:12 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

आजकल सोशल मीडिया पर हर तरफ़ ‘कोरियन ग्लास स्किन’ (Korean Glass Skin) के चर्चे हैं. सेलेब्स से लेकर आम जनता, इसके पीछे दीवानी है. आपने भी इस ट्रेंड से जुड़े पोस्ट या वीडियो ज़रूर देखें होंगे. जिन्हें नहीं पता, उन्हें बता देते हैं. कोरियन ग्लास स्किन यानी कांच जैसी साफ़ और चमकदार स्किन. इस ट्रेंड को देखने के बाद कई लोग भी ठीक ऐसी ही स्किन चाहते हैं. कंपनियां भी इसका ख़ूब फ़ायदा उठा रही हैं. ग्लास स्किन के नाम पर हर आए दिन कुछ नया बनाकर बेच रही हैं. लोग इन्हें ख़रीद भी रहे हैं. इस्तेमाल कर रहे हैं. बिना ये जाने कि उनका कोई नुकसान तो नहीं.

इसके अलावा लोग तरह-तरह के नुस्खे भी आज़मा रहे हैं. पर सवाल ये है कि क्या हम इंडियंस के लिए कोरियन ग्लास स्किन पाना वाकई प्रैक्टिकली पॉसिबल है? आज हम इसी पर तफ़सील से बात करेंगे. डॉक्टर से जानेंगे कि ग्लास स्किन क्या होती है? क्या भारतीय लोग भी इसे पा सकते हैं? ऐसी स्किन के लिए कोरिया के लोग आखिर क्या करते हैं? और, एक आम इंसान ग्लास स्किन पाने के लिए क्या कर सकता है?

कोरियन ग्लास स्किन क्या होती है?

ये हमें बताया डॉक्टर स्वाति मोहन ने.

डॉ. स्वाति मोहन, सीनियर कंसल्टेंट, डर्मेटोलॉजी, फोर्टिस, फरीदाबाद

‘कोरियन ग्लास स्किन’ यानी ऐसी स्किन जो साफ़ दिखती है. चमकदार और लचीली होती है. हां, भारतीय भी कोरियन ग्लास स्किन पा सकते हैं लेकिन हमें ये समझना ज़रूरी है कि हम दक्षिण कोरियाई लोगों से कैसे अलग हैं. पहला, भारतीयों की स्किन मोटी होती है. वहीं कोरियन लोगों की पतली होती है, इसलिए वो बहुत जल्दी चमक जाती है. दूसरा, हमारे देश में बहुत ज़्यादा धूप होती है. इस वजह से हममें टैनिंग, झाइयों की संभावना ज़्यादा है इसलिए ग्लास स्किन पाने का हमारा तरीका, कोरियन लोगों से अलग होना चाहिए. 

कोरियन ग्लास स्किन कैसे पाएं?

कुछ चीज़ें हैं जो कोरियन लोगों की जीवनशैली में पाई जाती हैं. वो बहुत हेल्दी खाना खाते हैं. अनुशासित जीवन जीते हैं. इसका मतलब कि वो समय पर सोते हैं. सूरज की रोशनी में बहुत ज़्यादा देर तक नहीं रहते. पानी बहुत पीते हैं. स्थानीय और पारंपरिक भोजन को अपनी डाइट में शामिल करते हैं. उनके पास जो खाना होता है, उसका प्रयोग ज़्यादा करते है. जैसे हरी सब्ज़ियां, मछली, चावल, फर्मेंटेड खाना, सोया आदि. 

वहीं भारतीय थोड़ा अलग हैं. हम तला हुआ और नमक वाला खाना खाते हैं. ऐसे में हमारा शरीर विटामिंस, मिनरल्स और एंटीऑक्सीडेंट्स को उस तरह से इस्तेमाल नहीं कर पाता जैसे कोरिया में भाप से पका हुआ खाना खाने के बाद, उनका शरीर करता है. लिहाज़ा हमें कुछ चीज़ों का ध्यान रखना है. तले हुए, नमक वाले, प्रोसेस्ड और पैकेज्ड फूड को नहीं खाना है. हमें कोरियन लोगों की तरह हेल्दी डाइट लेनी है. उसमें प्रोसेस्ड खाने का कम से कम इस्तेमाल होता है. ताज़ा खाना और सब्ज़ियों का इस्तेमाल किया जाता है. इस आदत के साथ हमारी स्किन बहुत अच्छे से ग्लो कर सकती है.

कोरियाई लोग तीन नियमों पर अपना स्किन केयर करते हैं. पहला, स्किन को हाइड्रेट करते हैं यानी स्किन में पानी की कमी नहीं होने देते. दूसरा, एक्सफोलिएट करते हैं. इससे चेहरे पर जमी डेड स्किन निकल जाती है. तीसरा, अपनी स्किन के लिए पौष्टिक चीज़ों का इस्तेमाल करते हैं. स्किन को धोने के बाद हमें उसे नमी देने वाली चीज़ें इस्तेमाल करनी चाहिए यानी पानी बहुत पीना है. स्किन पर अच्छा मॉइस्चराइज़र लगाना है. शरीर में पर्याप्त पानी होना ग्लास स्किन पाने का मूलमंत्र है. अगर आपकी स्किन पर एक्ने बहुत जल्दी हो जाता है, तो भी मॉइस्चराइज़र प्रयोग करें. आपको कोमल, हल्के और नॉन कॉमेडोजेनिक मॉइस्चराइज़र इस्तेमाल करने चाहिए यानी जो स्किन के छेदों को बंद न करें. स्किन को एजिंग से बचाने के लिए हमें मॉइस्चराइज़र का उपयोग करना चाहिए. मॉइस्चराइज़र में हाइल्यूरोनिक एसिड या सेरामाइड होना चाहिए.

कोरियाई लोग चावल के पानी का खूब इस्तेमाल करते हैं

कोरिया में स्नेल काफ़ी पाए जाते हैं. स्नेल से निकलने वाले पदार्थ को स्नेल म्यूसिन कहते हैं. इसे कई तरह के मॉइस्चराइज़र में इस्तेमाल किया जाता है. कोरिया के लोग स्नेल म्यूसिन का बहुत प्रयोग करते हैं इसलिए उनकी स्किन बहुत चमकदार होती है. 

वो राइस वॉटर यानी चावल के पानी का भी बहुत इस्तेमाल करते हैं. इसको इस्तेमाल करने के तीन तरीके हैं. पहला, चावल को पानी में दो-तीन घंटे तक भिगोते हैं. फिर राइस वॉटर को फ्रिज में रखकर ठंडा करते हैं और उसे स्किन पर लगाते हैं. 

दूसरा, दो-तीन दिन रखने के बाद जब राइस वॉटर अच्छे से फर्मेंट हो जाता है, तब उसे छानने के बाद इस्तेमाल करते हैं. 

तीसरा, राइस वॉटर को उबालने के बाद जो बर्तन में नीचे बचता है, उसे इस्तेमाल करते हैं. पहला, उसका स्प्रे बनाते हैं. दूसरा, उसका मास्क तैयार करते हैं. तीसरा, उस राइस वॉटर को जमा कर जो स्प्रे बनाया है, उसे दिन में दो-तीन बार चेहरे पर छिड़कते हैं. फिर फेस मास्क रातभर लगाए रखते हैं. आइस क्यूब्स की तरह चेहरे पर लगाते हैं. ऐसा तीन से सात दिनों के बीच किया जाता है.

खाने की क्या चीज़ें अच्छी स्किन दे सकती हैं?

हमें ताज़ा खाना और सब्ज़ियां खानी हैं. किमची लोकल कोरियाई खाना है, उसके जैसा फर्मेंटेड फूड खाना है. ऐसा खाना खाएं जिनमें ओमेगा-3 फैटी एसिड हो. जैसे ब्रॉकली, कीवी, पपीता. कोरियाई लोग इन्हें बहुत खाते हैं लेकिन फ्राई करके नहीं, भाप से तैयार करके यानी स्टीम.

कोरियन ग्लास स्किन पाने के लिए हमें अच्छी डाइट लेनी है. अच्छा स्किन केयर करना है. अपनी स्किन को अच्छे से हाइड्रेट करना है यानी पानी की कमी नहीं होने देनी है. हफ्ते में एक से दो बार एक्सफोलिएट (स्क्रब) करना है. सूरज की किरणों से बचना है.

देखिए, सबसे ज़रूरी है स्किन का हेल्दी होना. स्किन हेल्दी होगी. तो वो चमकेगी भी. दाने और बाकी दिक्कतें भी नहीं होगी. इसलिए सोशल मीडिया के किसी ट्रेंड के चक्कर में मत पड़िए. अपनी स्किन का ध्यान रखिए. उसकी ज़रूरतों के हिसाब से प्रोडक्ट इस्तेमाल करिए. अच्छी डाइट लीजिए. एक्सरसाइज करिए. और अगर किसी कंडीशन या बीमारी की वजह से स्किन पर असर पड़ रहा है तो सही इलाज लीजिए. इसके बाद आपकी स्किन अपने आप दमकेगी.

(यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछें. दी लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.)

वीडियो: सेहत: चेरोफोबिया, एक ऐसी स्थिति जिसमें इंसान खुश होने से डरने लगता है

thumbnail

Advertisement

Advertisement