The Lallantop
Advertisement

सरकार नया मेडल लेकर आई है, किसे मिलेगा 'केंद्रीय गृह मंत्री दक्षता पदक'?

इस मेडल पर सरदार पटेल की तस्वीर होगी. ऊपरी हिस्से में लिखा होगा - ‘राष्ट्र प्रहरी’ और नीचे - ‘जय भारत’.

Advertisement
Union Ministry of Home Affairs has introduced a new medal
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 4 पदकों का विलय किया (फोटो- इंडिया टुडे)
2 फ़रवरी 2024 (Updated: 2 फ़रवरी 2024, 23:18 IST)
Updated: 2 फ़रवरी 2024 23:18 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

भारत सरकार ने पुलिस बलों, सुरक्षा संगठनों, इंटेलिजेंस और फॉरेंसिंक साइंस में काम करने वालों के लिए एक नए मेडल का एलान किया है. इस मेडल को 'केंद्रीय गृहमंत्री दक्षता पदक' (Kendriya Grihmantri Dakshata Padak) के नाम से जाना जाएगा. दरअसल, मंत्रालय ने सराहनीय काम के लिए दिए जाने वाले मौजूदा 4 मेडल का विलय कर दिया है. एक फरवरी को गृह मंत्रालय ने अधिसूचना जारी कर इसकी जानकारी दी. इस मेडल पर सरदार पटेल की तस्वीर होगी. ऊपरी हिस्से में लिखा होगा - ‘राष्ट्र प्रहरी’ और नीचे - ‘जय भारत’.

पहले जानते हैं कि वे कौन से चार पदक हैं, जिनको सरकार ने विलय करके एक कर दिया है.

गृह मंत्रालय के चार मौजूदा पदक -  

स्पेशल ऑपरेशन मेडल (Union Home Minister’s Special Operation Medal)- केंद्रीय गृह मंत्रालय के ‘स्पेशल ऑपरेशन मेडल’ की शुरुआत साल 2018 में की गई थी. देश की सुरक्षा में उच्च स्तरीय योजना बनाने और उसकी अहमियत के आधार पर ये मेडल दिए जाते थे.

मेडल फॉर एक्सीलेंस इन इन्वेस्टिगेशन (Union Home Minister’s Medal for Excellence in Investigation)- इसकी शुरुआत भी साल 2018 में ही की गई थी. ये पदक जांच के क्षेत्र में बेहतरीन काम करने वाले लोगों को दिया जाता है.

असाधारण आसूचना कुशलता पदक (Asadharan Aasuchana Kushalata Padak)- खुफिया सेवाओं में बेहतरीन काम के लिए साल 2018 से असाधारण आसूचना कुशलता पदक दिया जा रहा है.

यूनियन होम मिनिस्टर अवार्ड फॉर मेरीटोरियस सर्विस (Union Home Minister’s Awards for Meritorious Service in Forensic Science)- यूनियन होम मिनिस्टर अवार्ड फॉर मेरिटोरियस सर्विस इन फॉरेंसिक साइंस को साल 2010 में शुरू किया गया था. फॉरेंसिक साइंस में सराहनीय काम के लिए ये पदक दिया जाता रहा है.

किसे मिलेगा 'केंद्रीय गृहमंत्री दक्षता पदक' पदक ?

1 फरवरी को जारी की गई अधिसूचना के मुताबिक, पुलिस सेवा, केंद्रीय बलों, सुरक्षा संगठन, खुफिया विभाग, स्पेशल ब्रांच और फॉरेंसिक साइंस में सराहनीय काम करने वालों को दक्षता पदक से सम्मानित किया जाएगा. आतंकवाद रोकने से जुड़े अभियान, सीमा सुरक्षा, हथियार नियंत्रण, वामपंथी उग्रवाद के खिलाफ, नारकोटिक्स, तस्करी और बचाव कार्यों में बेहतर काम करने वाले लोग भी इस पदक के उम्मीदवार होंगे.

नए मेडल की तस्वीर (क्रेडिट- गृह मंत्रालय)

साथ ही केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) के कर्मियों को 'नारकोटिक्स तस्करी' की रोकथाम के लिए इस मेडल से सम्मानित किया जा सकता है. 

कैसा दिखेगा 'केंद्रीय गृहमंत्री दक्षता पदक'?

पदक आकार में गोलाकार और सोने-चांदी के गिल्ट से बना होगा. सामने के हिस्से में सरदार पटेल के चेहरे का प्रतीक होगा. नीचे 'जय भारत' लिखा होगा. ऊपरी किनारे पर 'राष्ट्र प्रहरी' (हिंदी में) और निचले किनारे पर 'सेंटिनल ऑफ द नेशन' (अंग्रेजी में) लिखे होंगे .अधिसूचना में कहा गया है कि इसके पीछे की तरफ बीच में अशोक चक्र उभरा होगा और नीचे 'सत्य सेवा सुरक्षा' लिखा होगा.

ये भी पढ़ें- ममता बनर्जी ने कांग्रेस को बहुत बुरा सुनाया, सीट जीतने की क्षमता पर ही सवाल उठा दिया

अधिसूचना के मुताबिक अगर पदक विजेता को बर्खास्तगी, निष्कासन, बड़ा दंड, अपराध या अशोभनीय आचरण में लिप्त पाया जाता है तो केंद्रीय गृह मंत्रालय पदक वापस ले सकता है.

एक साल में कितने पदक दिए जाएंगे?

मंत्रालय का कहना है कि एक साल में स्पेशल ऑपरेशन के लिए सिर्फ तीन मेडल दिए जाएंगे. हालांकि असाधारण परिस्थियों में सिर्फ राज्य/केंद्रशासित प्रदेश की पुलिस को प्रोत्साहित करने के लिए अधिकतम 5 स्पेशल ऑपरेशन तक मेडल दिए जा सकते हैं. वहीं इन्वेस्टिगेशन में अधिकतम 162 कर्मचारियों को पुरस्कृत किया जाएगा. इंटेलिजेंस के क्षेत्र में मेडल की कोई संख्या निर्धारित नहीं की गई है. और फॉरेंसिक साइंस क्षेत्र के लिए एक साल में अधिकतम 9 मेडल दिए जाएंगे.

वीडियो: 'असम पुलिस मूक दर्शक बनी रही', खरगे ने अमित शाह से क्या-क्या शिकायत की?

thumbnail

Advertisement