The Lallantop
Advertisement

'मैं मलाला नहीं हूं...', कश्मीरी पत्रकार याना मीर का ब्रिटिश संसद में दिया ये भाषण वायरल हो गया

याना मीर को ब्रिटिश संसद की तरफ से आयोजित 'संकल्प दिवस' में सम्मानित करने के लिए बुलाया गया था. इस कार्यक्रम का आयोजन जम्मू-कश्मीर स्टडी सेंटर, UK द्वारा किया गया था.

Advertisement
kashmiri activist yana mir
याना मीर के भाषण का वीडियो वायरल है. (फ़ोटो- सोशल मीडिया)
23 फ़रवरी 2024
Updated: 23 फ़रवरी 2024 22:20 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

“मैं मलाला यूसुफजई नहीं हूं. मैं मलाला यूसुफजई नहीं हूं, क्योंकि मुझे कभी भी अपने देश से भागना नहीं पड़ेगा. मैं आजाद हूं, मैं सुरक्षित हूं, अपने देश भारत में, कश्मीर में, अपने घर में, जो भारत का हिस्सा है.”

ये बात याना मीर ने ब्रिटिश संसद में कही है. वो जम्मू-कश्मीर की पत्रकार और कश्मीर की पहली महिला व्लॉगर भी हैं. याना को UK पार्लियामेंट द्वारा आयोजित 'संकल्प दिवस' में सम्मानित करने के लिए बुलाया गया था. इस कार्यक्रम का आयोजन जम्मू-कश्मीर स्टडी सेंटर, UK द्वारा किया गया था. कार्यक्रम में याना को विविधता राजदूत (डायवर्सिटी एबेंसडर) पुरस्कार भी दिया गया है.

मलाला यूसुफजई कौन हैं?

पाकिस्तान की नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई अक्टूबर 2012 में स्कूल जा रही थी. तभी तालिबान के एक चरमपंथी ने मलाला को गोली मारी थी. तब मलाला सिर्फ 15 साल की थीं. हमले के बाद मलाला UK शिफ्ट हो गईं. बाद में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कीं. साल 2014 में मलाला को नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया. मलाला सबसे कम उम्र की इस पुरस्कार से सम्मानित होने वाली महिला बनी थीं. वो उस वक्त सिर्फ 17 साल की थीं. वो अब मानवाधिकारों और लड़कियों की शिक्षा के मुद्दों पर आवाज उठाती हैं.

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक़, इसी बात पर याना अपने और मलाला के बीच अंतर बताते हुए ब्रिटिश संसद में कहती हैं,

“मुझे मलाला यूसुफ़ज़ई पर आपत्ति है. आप मेरे देश, मेरी मातृभूमि को 'उत्पीड़ित' का नाम देकर बदनाम कर रही हैं. मुझे सोशल मीडिया और विदेशी मीडिया पर ऐसे सभी 'टूलकिट मेंबर्स' पर आपत्ति है. जो कभी भी भारतीय कश्मीर नहीं गए, लेकिन वहां से 'उत्पीड़न' की कहानियां गढ़ी.”

ये भी पढ़ें: मलाला ने अफगानिस्तान और तालिबान पर जो बात लिखी है वो दहलाने वाली है

याना मीर ने आगे कहा,

“मैं आप सभी से आग्रह करती हूं कि धर्म के आधार पर भारतीयों को बांटना बंद कर दें. हम आप सभी को इसकी अनुमति नहीं देंगे. मुझे उम्मीद है कि ब्रिटेन में पाकिस्तान में रहने वाले हमारे 'अपराधी' भारत की छवि ख़राब ना करें.”

याना मीर जम्मू-कश्मीर यूथ सोसाइटी से भी जुड़ी हैं. याना के भाषण के वीडियो वायरल हो गए हैं. लोग उनके भाषण की सराहना कर रहे हैं.

वीडियो: मलाला ने दुनिया को बताया तालिबान का रोंगटे खड़े करने वाला सच

thumbnail

Advertisement

election-iconचुनाव यात्रा
और देखे

Advertisement

Advertisement