The Lallantop
Advertisement

10 नौकरियों के लिए पहुंच गए 1800 उम्मीदवार, गिर गई रेलिंग! कांग्रेस बोली - 'गुजरात मॉडल का सच'

Congress ने भाजपा पर निशाना साधा. इस घटना को बढ़ती बेरोज़गारी (Unemployment) और बहुप्रचारित गुजरात मॉडल की विफलता का सबूत बताया. वहीं BJP के एक सांसद ने इसका दोष कंपनी पर मढ़ दिया है.

Advertisement
 Gujarat job interview viral video
सोशल मीडिया पर ये वीडियो वायरल है. (फ़ोटो - सोशल)
font-size
Small
Medium
Large
11 जुलाई 2024 (Updated: 11 जुलाई 2024, 23:43 IST)
Updated: 11 जुलाई 2024 23:43 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

सैकड़ों लोग जुटे. दरवाज़े से अंदर जाने में धक्का-मुक्की हो गई. भीड़ इतनी थी कि सीढ़ी के बग़ल लगा स्टील का बारजा टूट गया. कई लोगों साथ में नीचे गिर गए. और, ये सब एक इंटरव्यू के लिए. एक प्राइवेट कंपनी का इंटरव्यू, जिसमें कुल 10 नौकरियां निकली थीं.

घटना गुजरात के भरूच की है. केमिकल फ़र्म थर्मैक्स ने 10 जगहों पर इंटरव्यू रखे थे. कंपनी को केमिकल इंजीनियरिंग में BE और ITI सर्टिफ़िकेट समेत अलग-अलग योग्यता वाले उम्मीदवार चाहिए थे. शिफ़्ट इंचार्ज और प्लांट ऑपरेटर से लेकर सुपरवाइज़र, मैकेनिकल फ़िल्टर और कार्यकारी पद की ज़रूरत थी. लेकिन उम्मीद से कहीं ज़्यादा उम्मीदवार आ गए.

अंकलेश्वर का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जहां कंपनी ने वॉक-इन इंटरव्यू रखा था. इसमें सैकड़ों लोग दिख रहे हैं, जो होटल के प्रवेश द्वार के दोनों ओर से सीढ़ी चढ़ रहे हैं. दरवाज़े के बाहर भीड़ बढ़ती जाती है और रेलिंग से टकराने लगती है. फिर स्टील की रेलिंग झुकने लगती है. फिर कई लोगों उसी झुकी रेलिंग पर खड़े हो जाते हैं. दो उम्मीदवार समझ जाते हैं कि रेलिंग अब गिरी-तब गिरी. सो वो फटाक से नीचे कूद जाते हैं. उनके पीछे छह लोग रेलिंग लिए-लिए गिर पड़ते हैं. हालांकि, उनमें से किसी को भी गंभीर चोट नहीं आई, क्योंकि रेलिंग ज़मीन से बहुत ऊंची नहीं थी.

स्थानीय मीडिया रपटों में अधिकारियों के बकौल छप रहा है कि 10 रिक्तियों के लिए 1,800 के क़रीब लोग आ गए थे.

सोशल मीडिया पर ये वीडियो वायरल है. लोगों ने ‘गुजरात मॉडल’ की बखिया उधेड़ दी है, और देश के रोज़गार संकट पर चिंता जताई है. 

ये भी पढ़ें - कम पढ़े लिखे युवाओं की टेंशन ये रिपोर्ट दूर कर देगी? भारत में बेरोजगारी पर बड़ी बातें बता दीं

हाल ही में भारत में रोज़गार की स्थिति पर सिटी ग्रुप ने एक शोध रिपोर्ट छापी थी. उनके अनुमान के मुताबिक़, 7 प्रतिशत के विकास दर के साथ भारत पर्याप्त रोज़गार पैदा नहीं कर पाएगा. हालांकि, श्रम मंत्रालय ने इस रिपोर्ट को ख़ारिज कर दिया था. ये कहते हुए कि आधिकारिक स्रोतों का इस्तेमाल नहीं किया गया है.

मंत्रालय ने जो कहा, सो कहा. विपक्षी कांग्रेस ने भाजपा पर निशाना साधा. इस घटना को बढ़ती बेरोज़गारी और बहुप्रचारित गुजरात मॉडल की विफलता का सबूत बताया. वहीं भाजपा के एक सांसद ने इसका दोष कंपनी पर मढ़ दिया है. इस मामले में अभी तक कंपनी की टिप्पणी नहीं आई है. 

वीडियो: GST भारत में कितने लोगों की नौकरियां खा गया?

thumbnail

Advertisement

Advertisement