The Lallantop
Advertisement

PM मोदी ने हाथ में ली ये गन, दुश्मनों के ड्रोन को ये मार गिराता है, जानिए सारी ख़ास बातें!

क्या है DRONAAM की खूबी?

Advertisement
PM Narendra Modi holding anti-drone gun Dronaam in Defence expo 2022
पीएम मोदी के हाथे में एंटी-ड्रोन गन Dronaam (फोटोः ट्विटर/@DefenceDecode)
21 अक्तूबर 2022 (Updated: 21 अक्तूबर 2022, 09:53 IST)
Updated: 21 अक्तूबर 2022 09:53 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 19 अक्टूबर को डिफेंस एक्सपो 2022 का उद्घाटन करने पहुंचे थे. गुजरात के गांधीनगर में आयोजित डिफेंस एक्सपो 2022 में पीएम मोदी ने एक खास तरह का हथियार देखने के लिए उठाया था. इसका नाम है, DRONAAM, जिसे भारतीय फर्म गुरुत्व सिस्टम्स (Gurutvaa Systems) ने बनाया है. स्वेदशी रूप से विकसित DRONAAM का पहला सेट भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) को सौंप दिया गया है. आखिर, क्या है ये DRONAAM और ये क्यों खास है?

DRONAAM की खासियत

DRONAAM एक काउंटर अनमैन्ड एयरक्राफ्ट सिस्टम (Counter-unmanned aircraft systems) है. ऐसा लेटेस्ट मॉड्यूरल सिस्टम, जिसे खासकर अवैध अनमैन्ड एयरक्राफ्ट सिस्टम यानी मानव रहित विमान प्रणाली के खिलाफ फुल प्रूफ प्रोटेक्शन के लिए डिजाइन किया गया है. आसान भाषा में इसे एंटी-ड्रोन गन कह सकते हैं. इसका मतलब है कि ये घुसपैठ करने वाले ड्रोन्स को मार गिराने में सक्षम है.

indigenously developed 'Dronaam'
एंटी-ड्रोन गन. (फोटोः IADN/Twitter)

ये सिस्टम डायरेक्शनल या ओमनी-डारेक्शनल (Omni-directional) कवरेज की सुविधा देता है. ओमनी-डारेक्शनल कवरेज का मतलब है कि ये सभी दिशाओं से सिग्नल का आदान-प्रदान कर सकता है. इस सिस्टम को पूरी तरह से इंटीग्रेटेड राइफल स्टाइल में कॉन्फ़िगर किया जा सकता है. मतलब एक बंदूक़ टाइप की चीज़ इससे जुड़ी हुई है, उससे ही फ़ायर और कंट्रोल किया जा सकता है.

यह सिस्टम ग्लोबल नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम, कंट्रोल, वीडियो और टेलिमेट्री सिग्नल जैमिंग को एक्टिवेट करता है. मतलब ड्रोन का सैटेलाइट कनेक्शन, कंट्रोल, ड्रोन अगर वीडियो उतार रहा है तो वो और साथ ही कुछ और जानकारी इकट्ठा कर रहा है तो उसको, सबको जाम कर देता है.

डिफेंस एक्सपो 2022 की थीम- 'पाथ टू प्राइड' 

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO-Defence Research and Development Organisation) की ओर से 18 से 22 अक्टूबर 2022 तक गुजरात के गांधीनगर में डिफेंस एक्‍सपो 2022 (Defence Expo 2022) का आयोजन किया गया है. एशिया के इस सबसे बड़े रक्षा आयोजन के 12वें संस्करण की थीम 'पाथ टू प्राइड' है, जो 'इंडिया एट 75' और 'आत्‍मनिर्भर भारत' से जुड़ा है.

बता दें कि DRDO भारत की रक्षा से जुड़े रिसर्च और डेवलपमेंट के लिये देश की अग्रणी संस्था है. डिफेंस एक्‍सपो रक्षा मंत्रालय का एक प्रमुख कार्यक्रम है. इसमें हथियारों, रक्षा उपकरणों और तकनीकों का प्रदर्शन होता है.

वीडियो- क्या है स्वदेशी ATAGS होवित्जर की खासियत, जिससे दी गई लाल किला पर सलामी- जानिए पूरी कहानी

thumbnail

Advertisement