Submit your post

Follow Us

अनुराग कश्यप के डायलॉग्स वाली ये एक्शन थ्रिलर क्यों बनी मामी 2019 की ओपनिंग फिल्म?

133
शेयर्स

इस साल 21वां मामी मुंबई फिल्म फेस्टिवल होने जा रहा है. 17 लेकर से 21 अक्टूबर तक. इसकी ओपनिंग फिल्म की घोषणा हो गई है. फिल्म है – मूथॉन (बड़ा भाई). मलयाली और हिंदी भाषा में बनी है. इसे डायरेक्ट किया है गीतू मोहनदास ने. मामी फिल्म फेस्ट ने सोमवार को ट्वीट के जरिए बताया कि गीतू की फिल्म से उनका फेस्ट खुलेगा. पिछले साल वासन बाला की ‘मर्द को दर्द नहीं होता’ यहां ओपनिंग फिल्म थी. उससे पिछले साल अनुराग कश्यप की ‘मुक्काबाज़.’

कौन गीतू मोहनदास?
वो राइटर-डायरेक्टर जिन्होंने 2013 की चर्चित इंडी फिल्म ‘लायर्स डाइस’ बनाई थी. कहानी एक ऐसी औरत (गीतांजलि थापा) की जो अपनी 3 साल की बेटी के साथ अपने पति को ढूंढ़ने निकलती है और एक अनजान आदमी (नवाजुद्दीन सिद्दीकी) उसका साथ देता है. इस मूवी को दो नेशनल अवॉर्ड मिले थे और ऑस्कर में इंडिया की ओफिशियल एंट्री के तौर पर भेजा गया था. हालांकि वहां वो शॉर्टलिस्ट नहीं हुई. गीतू इससे पहले मलयालम फिल्मों की एक्ट्रेस रही हैं. लेकिन उन्हें हमेशा से फिल्ममेकर बनना था.

मूथॉन की कहानी
ये कहानी भी कुछ ‘लायर्स डाइस’ जैसी ही लगती है. एक यंग लड़के के बारे में है जो अपने खोए हुए बड़े भाई को ढूंढते हुए लक्षद्वीप के टापू से मुंबई शहर तक जाता है. जनवरी में आए फिल्म के टीज़र में (संभवतः) विलेन का पात्र नाटकीय ढंग से कहता है – “बहुत पहले, अनगिनत वर्षों पहले, उस द्वीप से एक सूअर यहां आया. मैंने उसे यहां स्ट्रगल करते और हर तरह के काम-रोजगार करते देखा. उसके पूरे शरीर पर दाग़ ही दाग़ थे. जब किस्मत ने उसकी ओर से अपना नज़रें फेर लीं तो जिंदा बचे रहने के लिए वो कुछ भी करने लगा जो वो कर सकता था. पुलिसवाले उसे बार-बार पकड़ते रहते थे. और आखिरकार वो मेरे पास आया. एक हारे हुए इंसान की तरह. और मैंने उसे अपने हाथों से, मार दिया.” ये छोटा सा नरेशन रहस्य पैदा करता है कि किसने किसे मार दिया और क्या ये सब बोलने वाला ही मूथॉन है जिसकी तलाश हो रही है. लग रहा है कि फिल्म में मुंबई की अपराध की दुनिया दिखेगी. साउथ इंडिया से रोजगार या अन्य वजहों से आए लोगों की विवेचना होगी.

अनुराग कश्यप का कनेक्शन
कई कनेक्शन हैं. पहला ये कि अनुराग ने इस फिल्म के हिंदी डायलॉग लिखे हैं. दूसरा ये कि डायरेक्टर गीतू उन्हें अपना मूथॉन (बड़ा भाई) पुकारती हैं. वे उन्हें अपना मेंटर भी कहती हैं. गीतू के पति राजीव रवि हैं जो जाने-माने सिनेमैटोग्राफर और डायरेक्टर हैं. राजीव और अनुराग का अटूट रिश्ता है. पारिवारिक. दोनों शुरू से साथ काम कर रहे हैं. राजीव ने चांदनी बार (2001) से सिनेमैटोग्राफी शुरू की थी. अनुराग की नो स्मोकिंग, देव डी, गुलाल, दैट गर्ल इन यैलो बूट्स, गैंग्स ऑफ वासेपुर-1, गैंग्स ऑफ वासेपुर-2, बॉम्बे वेलवेट, मुक्काबाज़ सबके डीओपी राजीव ही रहे हैं. ख़ुद उन्होंने अन्यम रसूलम और कम्माटीपाडम जैसी चर्चित मलयाली फिल्में डायरेक्ट की हैं. अनुराग कश्यप इसके साथ-साथ ‘मूथॉन’ के एक प्रोड्यूसर भी हैं.

राजीव रवि.
राजीव रवि.

फिल्म की जर्नी
बीते साल मई में मूथॉन की शूटिंग खत्म हो गई थी. तब डायरेक्टर गीतू ने बताया कि इस जर्नी की शुरुआत ‘मूथॉन’ की स्क्रिप्ट लिखने से हुई थी. पूरी हो गई तो स्क्रिप्ट सनडांस लैब में जमा करवानी थी. जहां इंडी और नए फिल्ममेकर अपनी पटकथाएं सबमिट करवाते हैं और जिसकी अच्छी होती है उसे विशेष गाइडेंस मिलता है और मदद भी. फिल्ममेकर्स का सपना होता है सनडांस में उनकी स्क्रिप्ट का चुना जाना. गीतू के पिता की तबीयत ज्यादा खराब थी, वे अपने अंतिम दिनों में थे इसलिए वे ध्यान केंद्रित नहीं कर पा रही थीं. कमज़ोर पड़ गईं और स्क्रिप्ट सनडांस नहीं भेजी. लेकिन उनके पिता ने भेज दी. गीतू कहती हैं – “ये एक अधपकी स्क्रिप्ट थी लेकिन वहां स्वीकृत हो गई क्योंकि मेरे मैंटर पॉल फेडरबुश (सनडांस संस्थान के फीचर फिल्म प्रोग्राम के डायरेक्टर) ने मुझमें हिम्मत नहीं हारी.” एक हफ्ते बाद उनके पिता गुज़र गए. उसके बाद गीतू सनडांस लैब गईं. यहां पर अपनी स्क्रिप्ट पॉलिश करने में मदद मिली. फिर ऐसे प्रोड्यूसर्स मिले जिन्होंने कमर्शियल बाध्यताएं नहीं थोपी. बिना शर्त सपोर्ट दिया. फिर गीतू के पति राजीव ने फिल्म की सिनेमैटोग्राफी करने की रज़ामंदी दी जिन्हें वो अपना गुरु भी मानती हैं. अनुराग ने उन्हें डायलॉग्स लिखने के पूरे प्रोसेस में मदद की. एक स्टूडेंट की तरह उन्हें देखकर सीखा. एडिटिंग, कॉस्ट्यूम, प्रोडक्शन के लिए काबिल लोग मिले. अतुल मोंगिया ने एक्टर्स की वर्कशॉप करवाईं. फिर मुंबई और लक्षद्वीप में शूटिंग की गई. अब ये फिल्म फेस्टिवल सर्किट में घूमना चालू करेगी जिसकी शुरुआत मामी मुंबई फिल्म फेस्ट से हो चुकी है.

गीतू मोहनदास.
गीतू मोहनदास.

कौन-कौन आर्टिस्ट दिखेंगे?
‘मूथॉन’ में मलयाली फिल्मों के स्टार निवीन पॉली लीड रोल में हैं. संभवतः नेगेटिव रोल में. शशांक अरोड़ा (तितली) भी विलेन नुमा रोल में हैं. सोभिता धूलिपाला (रमन राघव 2.0, मेड इन हैवन) भी हैं. मलयाली एक्टर रोशन मैथ्यू भी एक अहम रोल में हैं जिन्होंने अनुराग कश्यप की अगली फिल्म में लीड रोल किया है. एक्टर और बढ़िया डायरेक्टर दिलीश पोथान ( दो फिल्में बनाईं – महेशिंते प्रथीकारम, थोंडीमुथलम द्रिकसाक्षीयम. दोनों को बेस्ट मलयालम फिल्मों के नेशनल अवॉर्ड मिले.) भी इसमें अभिनय कर रहे हैं.

अनुमान से कहें तो ‘मूथॉन’ 2020 के शुरू में रिलीज हो सकती है.

*** *** ***

Video: अनुराग कश्यप का दी लल्लनटॉप इंटरव्यू

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कांग्रेस और सपा छोड़कर भाजपा में आए नेताओं ने मोदी के बारे में क्या कहा?

वो भी कल लखनऊ में...

कश्मीर में बैन के बाद भी किसकी मेहरबानी से गिलानी इस्तेमाल कर रहे थे फोन-इंटरनेट?

बैन के चार दिन बाद तक गिलानी के पास इंटरनेट और फोन था. प्रशासन को इसकी भनक भी नहीं थी.

पीएम मोदी ने छठवीं बार लाल किले पर फहराया तिरंगा, 92 मिनट के भाषण में नया क्या था?

पीएम मोदी ने अपने कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाई.

बीफ़-पोर्क के नाम पर ज़ोमैटो कर्मचारियों को भड़काने वाले लोकल भाजपा नेता निकले!

और एक नहीं, कई हैं ऐसे. देखिए तो...

यूपी के एक और अस्पताल में 32 बच्चों की मौत, डॉक्टरों को कारण का पता नहीं

किसी ने कहा था, "अगस्त में तो बच्चे मरते ही हैं"

भगवान राम के इतने वंशज निकल आए हैं कि आप भी माथा पकड़ लेंगे

अभी राम पर खानदानी बहस हो रही है. खुद ही देखिए...

उन्नाव मामले में भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर अब लंबा फंस गए हैं

सीबीआई ने केस में रोचक खुलासे किए हैं

राष्ट्र के नाम संबोधन में पीएम मोदी ने बताया क्या है उनका 'मिशन कश्मीर'

पीएम मोदी ने लगभग 40 मिनट तक अपनी बात रखी.

जम्मू-कश्मीर के मामले में आत्माओं का भी प्रवेश हो गया है

और एक समय एक "आत्मा" बहुत दुखी हुई थी

मायावती का ऐसा हृदय परिवर्तन कैसे हुआ कि कश्मीर पर सरकार के साथ हो गयीं?

धारा 370 हटवाना चाहती थीं या वजह कुछ और है?