Submit your post

Follow Us

अटल बिहारी के घर जाने से क्यों डरते थे उनके दोस्त?

अटल बिहारी और उनके पिता कृष्ण बिहारी वाजपेयी कानपुर में एक ही कॉलेज में थे. डीएवी कॉलेज में. लॉ की पढ़ाई कर रहे थे. एक ही क्लास और एक ही हॉस्टल में रहे. दोनों साथ ही खाना बनाते और खाते. मगर एक और चीज थी जो अटल के लिए कंपल्सरी थी. रोज रात एक गिलास भर के गरमा-गरम दूध पीना. दूध के लिए बाप-बेटे का ये प्रेम भी कॉलेज के लड़कों में चर्चा का विषय बना हुआ था. और यही दूध का शौक ही अटल के दोस्तों के लिए मुसीबत था.

दीनदयाल उपाध्याय पहुंचे थे ग्वालियर स्थित अटल के घर.
दीनदयाल उपाध्याय पहुंचे थे ग्वालियर स्थित अटल के घर.

अटल खुद एक किस्सा बताते थे कि जब जनसंध के नेता दीनदयाल उपाध्याय एक बार उनके ग्वालियर स्थित घर पहुंचे. उस वक्त अटल घर पर नहीं थे तो उनके पिता ने दीनदयाल का स्वागत किया. रात में भी दीनदयाल को उन्हीं के घर पर रुकना था. सो जब सोने का वक्त आया तो उनके पिता आदतानुसार गरम दूध से भरा गिलास लेकर दीनदयाल के पास पहुंचे. अब दीनदयाल गए फंस. पीते तो नहीं थे मगर सम्मान देने के चक्कर में गिलास ले लिए. दूध पीना पड़ा. उन्होंने लौटकर ये किस्सा सबको सुनाया. इसका असर ये हुआ कि अटल के जिन दोस्तों को दूध से परहेज था वो उनके घर जाने से डरते थे.


ये भी पढ़ें –

कानपुर के डीएवी कॉलेज में क्यों बच्चा-बच्चा अटल और उनके पिता का नाम जप रहा था?

नेहरू ने कभी नहीं कहा कि अटल प्रधानमंत्री बनेंगे

जब चुनाव हारने के बाद अटल जी ने आडवाणी से कहा, ‘चलो फिल्म देखते हैं’

सोनिया ने ऐसा क्या लिखा कि अटल ने कहा- डिक्शनरी से देखकर लिखा है क्या?

जब अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि मेरा किसलय मुझे लौटा दो

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता: मैंने जन्म नहीं मांगा था

लल्लनटॉप वीडियो देखें –

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

उस सीरीज का किस्सा, जिसने ऑस्ट्रेलिया में टीम इंडिया का 71 साल का सूखा खत्म किया

सीरीज के दौरान भी खूब ड्रामे हुए थे.

Vizag में जिन वेणुगोपाल का गेट बना है उन्होंने गुड़गांव में पीटरसन और इंग्लैंड को रुला दिया था

वेणुगोपाल की इस पारी के आगे द्रविड़ की ईडन की पारी भी फीकी थी.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में 'मैन ऑफ द मैच' का अवॉर्ड जीता था.

पाकिस्तान आराम से जीत रहा था, फिर गांगुली ने गेंद थामी और गदर मचा दिया

बल्ले से बिल्कुल फेल रहे दादा, फिर भी मैन ऑफ दी मैच.

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.