Submit your post

Follow Us

जब चुनाव हारने के बाद अटल जी ने आडवाणी से कहा, 'चलो फिल्म देखते हैं'

1.72 K
शेयर्स

अटल बिहारी वाजपेयी. हमारे बीच अब नहीं है. 16 अगस्त की शाम 05:05 बजे उनका दिल्ली में निधन हो गया. कई विशेषण यहां जोड़े जा सकते हैं, लेकिन दुनिया से आज़ाद हो जाने के बाद हम उन्हें इसमें बांधने की कोशिश नहीं करेंगे. अटल जी के बारे में एक किस्सा है, जो राजनीतिक जीवन में उनके साथ 60 साल गुज़ारने वाले लालकृष्ण आडवाणी ने सुनाया था.

कुछ सालों पहले एक प्राइवेट टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू के दौरान आडवाणी जी ने भाजपा, अटल बिहारी वाजपेयी और अपने भविष्य से जुड़ी कई चीज़ों के बारे में बात की थी. लेकिन इस इंटरव्यू में एक बात जो ध्यान आकर्षित करती है, वो है अटल जी से जुड़ा एक मजेदार किस्सा. किस्सा है अटल बिहारी वाजपेयी के चुनाव हारने के बाद सिनेमा देखने जाने का.

अटल बिहारी वाजपेयी तीन बार भारत के प्रधानमंत्री रह चुके हैं, वहीं लालकृष्ण आडवाणी देश के उप-प्रधानमंत्री और गृह मंत्री की कुर्सी संभाल चुके हैं.
अटल बिहारी वाजपेयी तीन बार भारत के प्रधानमंत्री रह चुके हैं, वहीं लालकृष्ण आडवाणी देश के उप-प्रधानमंत्री और गृह मंत्री की कुर्सी संभाल चुके हैं.

आज जो हमारी सत्ताधारी पार्टी है बीजेपी यानी भारतीय जनता पार्टी, इसकी जड़ें आज़ादी के चार साल बाद खड़ी हुई राजनीतिक पार्टी भारतीय जन संघ से जाकर जुड़ती हैं. 1951 में स्थापित हुई जन संघ की उम्र कुल 26 साल रही. 1977 में कांग्रेस का सामना करने के लिए जनसंघ समेत कई पार्टियों को मिलाकर बनी जनता पार्टी. 1980 में ये जनता पार्टी टूटी और बन गई ‘भारतीय जनता पार्टी’. ये किस्सा है जनसंघ के दिनों का.

आडवाणी जी ने बताया कि कैसे उपचुनाव हारने के बाद उन्हें अटल जी ने फिल्म देखने चलने को कहा. आडवाणी जी बताते हैं-

‘जनसंघ के दिनों में हम एक उपचुनाव हार गए थे. इससे हम सब बहुत दुखी थे. निराशा में शांत चुप-चाप बैठे थे. अचानक अटल जी ने ही कहा, चलो कोई फिल्म देखने चलते हैं. पहले तो मैं चौंका लेकिन झट से तैयार हो गया. हम दोनों दिल्ली में इम्पीरियल सिनेमा गए. वहां ‘फिर सुबह होगी’ नाम की फिल्म चल रही थी. हमने टिकट लिया और फिल्म देखने लगे.’

फिल्म 'फिर सुबह होगी' का पोस्टर और फिल्म के एक सीन में राज कपूर और माला सिन्हा.
फिल्म ‘फिर सुबह होगी’ का पोस्टर और फिल्म के एक सीन में राज कपूर और माला सिन्हा.

1958 में आई फिल्म ‘फिर सुबह होगी’ में राज कपूर और माला सिन्हा ने लीड रोल्स निभाए थे. साथ में रहमान और टुनटुन जैसे एक्टर्स भी थे. इसे डायरेक्ट किया था रमेश सहगल ने. ये फिल्म रशियन नॉवेलिस्ट फ्योडोर दोस्तोवोस्की की किताब ‘क्राइम एंड पनिशमेंट’ पर बेस्ड थी. इसकी कहानी एक लड़के की थी, जो किसी की मदद करने में अपनी सारी सेविंग खर्च कर देता है. लेकिन प्रेम के चक्कर में पड़कर वो कुछ गलतियां कर जाता है, जिसकी सज़ा किसी और मिलती है. वो अपनी गलती मान लेना चाहता है लेकिन उतनी हिम्मत नहीं जुटा पाता. आखिर में वो अपनी गलती स्वीकार लेता है, और इसके साथ फिल्म पॉजिटिव नोट पर खत्म होती है.


ये भी पढ़ें:

जब अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि मेरा किसलय मुझे लौटा दो
जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे
जब अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने सबसे अज़ीज़ मंत्री का इस्तीफा लिया
…जब अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा- हराम में भी राम होता है


वीडियो देखें: जब अटल बिहारी वाजपेयी ने श्रीनगर में कहा कश्मीर का हल बात है, बंदूक नहीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
When Atal Bihari Vajpayee along with Lal Krishna Advani went to watch film after defeat in by-election in Jana Sangh days

क्रिकेट के किस्से

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.

टीम इंडिया 245 नहीं बना पाई चौथी पारी में, 1979 में गावस्कर ने अकेले 221 बना दिए थे

आज के दिन ही ये कारनामा हुआ था इंग्लैंड में. 438 का टार्गेट था और गजब का मैच हुआ.

जब 1 गेंद पर 286 रन बन गए, 6 किलोमीटर दौड़ते रहे बल्लेबाज

खुद सोचिए, ऐसा कैसे हुआ होगा.

जब अकेले माइकल होल्डिंग ने इंग्लैंड से बेइज्जती का बदला ले लिया था

आज ही के दिन लिए थे 14 विकेट.