Submit your post

Follow Us

जब अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि मेरा किसलय मुझे लौटा दो

5
शेयर्स

27 जनवरी 2005. बिहार में विधानसभा के चुनाव थे. बिहार के मुजफ्फपुर सैंडिस कंपाउंड में चुनावी सभा आयोजित की गई थी. चुनाव प्रचार करने के लिए खुद अटल बिहारी वाजपेयी आए हुए थे. वाजपेयी मंच पर थे. दूसरे नेता भाषण दे रहे थे और वाजपेयी मंच पर बैठे उस दिन के बिहार के अखबार पढ़ रहे थे.

उस दिन बिहार के अखबार की सुर्खियों में एक बच्चे के अपहरण की कहानी छपी हुई थी. मुजफ्फपुर के डीपीएस स्कूल में पढ़ने वाले छात्र का अपहरण हो गया था. उस वक्त राबड़ी देवी बिहार की मुख्यमंत्री थीं और पटना हाई कोर्ट ने कहा था कि बिहार में तो जंगलराज है. वाजपेयी को इस बात की खबर अखबारों से ही लगी थी. विक्की ठाकुर उर्फ पप्पू ठाकुर इस मामले का मुख्य अभियुक्त था, लेकिन वो फरार था. इस पूरी घटना को अखबारों के जरिए पढ़ने के बाद जब वाजपेयी मंच पर भाषण देने आए, तो दोनों हाथ फैलाकर पूछा कि मेरा किसलय कहां है, कोई मुझे मेरा किसलय लौटा दे.

अपनी मां के साथ किसलय. अपहरण के बाद पुलिस ने उसे छुड़ा लिया था. बाद में अपहरण करने वाले को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया था. (Photo : Getty Images)
अपनी मां के साथ किसलय. अपहरण के बाद पुलिस ने उसे छुड़ा लिया था. बाद में अपहरण करने वाले को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया था. (Photo : Getty Images)

वाजपेयी का भाषण सुनने के लिए उस दिन पूरे बाज़ार के कारोबारी अपनी दुकानें बंद करके पहुंचे थे. बिहार में अपराध चरम पर था और हर रोज अखबारों में अपहरण की खबरें सामान्य बात हो गई थी. किसलय से पहले भी दीपक नाम के एक लड़के का अपहरण हुआ था. वाजपेयी के किसलय को लौटाने वाली बात का ये असर हुआ कि बिहार पुलिस ने 13 दिन बाद किसलय को सकुशल बरामद कर लिया.


ये भी पढ़ें:

उस दिन इतने गुस्से में क्यों थे अटल बिहारी वाजपेयी कि ‘अतिथि देवो भव’ की रवायत तक भूल गए!

अटल ने 90s के बच्चों को दिया था नॉस्टैल्जिया ‘स्कूल चलें हम’

जब केमिकल बम लिए हाईजैकर से 48 लोगों को बचाने प्लेन में घुस गए थे वाजपेयी

जिसने सोमनाथ का मंदिर तोड़ा, उसके गांव जाने की इतनी तमन्ना क्यों थी अटल बिहारी वाजपेयी को?

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता- ‘मौत से ठन गई’

वीडियो में देखिए वो कहानी, जब अटल ने आडवाणी को प्रधानमंत्री नहीं बनने दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में 'मैन ऑफ द मैच' का अवॉर्ड जीता था.

पाकिस्तान आराम से जीत रहा था, फिर गांगुली ने गेंद थामी और गदर मचा दिया

बल्ले से बिल्कुल फेल रहे दादा, फिर भी मैन ऑफ दी मैच.

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.